राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना कौन थे?...


user

Deepa Misra

volunteers

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की कुल 32 रचना है जिनमें से 18 हिंदी और शेष उर्दू में है इनकी रचनाओं में 14 का 1 छक्का टू दोहा दोहे दोहे दोहे तीन आते हैं

raja shivaprasad sitare hind ki kul 32 rachna hai jinmein se 18 hindi aur shesh urdu mein hai inki rachnaon mein 14 ka 1 chakka to doha dohe dohe dohe teen aate hain

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की कुल 32 रचना है जिनमें से 18 हिंदी और शेष उर्दू में है इनकी र

Romanized Version
Likes  21  Dislikes    views  996
WhatsApp_icon
7 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

shekhar11

Volunteer

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना की बात की जाए तो मैं वह मां मनोरंजन आलसी ओकाकुरा विधान को राजा भोज का सपना इतिहास तुम इतना शक बेताल पच्चीसी जैसे रचनाएं हैं

raja shivaprasad sitare hind ki rachna ki baat ki jaaye toh main vaah maa manoranjan aalsi okakura vidhan ko raja bhoj ka sapna itihas tum itna shak betal pachchisi jaise rachnaye hain

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना की बात की जाए तो मैं वह मां मनोरंजन आलसी ओकाकुरा विधान

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  37
WhatsApp_icon
play
user

Preetisingh

Junior Volunteer

0:24

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना मानव वर्धन वर्धन शर्मा मनोरंजन आल्सो का कूड़ा विधान को राजा भोज का सपना इतिहास के मेल नाशक बेताल पच्चीसी सवाने उमरी चुकी आत्मकथा है और लिपि संबंधित प्रतिवेदन

raja shivaprasad sitare hind ki rachna manav vardhan vardhan sharma manoranjan aalso ka kooda vidhan ko raja bhoj ka sapna itihas ke male naash ak betal pachchisi savane umari chuki atmakatha hai aur lipi sambandhit prativedan

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना मानव वर्धन वर्धन शर्मा मनोरंजन आल्सो का कूड़ा विधान को

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  11
WhatsApp_icon
user

Rahul kumar

Junior Volunteer

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डीके राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना कौन कौन से व्यक्ति में अपनी डीपी में पूरी जानकारी देना चाहूंगा जो सितारे हिंदी और साहित्य काल की शिक्षा विभाग में कार्यरत थे और उन्हें बहुत सारी योजनाओं से बनारस अखबार 2025 में हिंदी पत्र निकला था उसकी रचना की थी और यह जो है फारसी अरबी शब्दों में इसका ज्यादा प्रयोग किया गया था उसके बाद जो उनकी जो इंपॉर्टेंट रचना है उस नाम बता देता हूं मानव धर्म शर्मा मनोरंजन विधान को राज राजा भोज का सपना की साइज है कुछ इंपॉर्टेंट

DK raja shivaprasad sitare hind ki rachna kaun kaunsi vyakti mein apni dipi mein puri jaankari dena chahunga jo sitare hindi aur sahitya kaal ki shiksha vibhag mein karyarat the aur unhe BA hut saree yojnao se BA naras akhbaar 2025 mein hindi patra nikala tha uski rachna ki thi aur yah jo hai farsi rb shabdon mein iska zyada prayog kiya gaya tha uske BA ad jo unki jo important rachna hai us naam BA ta deta hoon manav dharm sharma manoranjan vidhan ko raj raja bhoj ka sapna ki size hai kuch important

डीके राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना कौन कौन से व्यक्ति में अपनी डीपी में पूरी जानकारी

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  288
WhatsApp_icon
user

Sid Malhotra

Volunteer

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद का जन्म 18 से 24 ईसवी में हुआ था खड़ी बोली के विकास में राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद बहुत योगदान दिया है और शिवप्रसाद जब भी बात होती है और इन को याद किया जाता है और उन्हें खड़ी बोली वरना और नागरिक लिपि के अस्तित्व की लड़ाई लड़ी थी उस समय सारा दिन वाला कोई नहीं था उस समय राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद में खड़ी बोली और नगरी के समर्थन में आवाज बुलंद की उन्हीं के योगदान से शिक्षा के मैं कमरे में नागरी लिपि के में लिखा जाने लगा राजा शिवप्रसाद सितारे 1845 में बनारस अखबार निकाला जिसके माध्यम से उन्होंने हिंदी का प्रचार-प्रसार किया यह पत्रिका साप्ताहिक राशिफल सदानंद की कुल 32 रचनाएं जिनमें से 18 हिंदी में और शेष उर्दू में है

raja shivaprasad sitare hind ka janam 18 se 24 isvi mein hua tha khadi boli ke vikas mein raja shivaprasad sitare hind BA hut yogdan diya hai aur shivaprasad jab bhi BA at hoti hai aur in ko yaad kiya jata hai aur unhe khadi boli varna aur nagarik lipi ke astitva ki ladai ladi thi us samay saara din vala koi nahi tha us samay raja shivaprasad sitare hind mein khadi boli aur nagari ke samarthan mein awaaz buland ki unhi ke yogdan se shiksha ke main kamre mein nagri lipi ke mein likha jaane laga raja shivaprasad sitare 1845 mein BA naras akhbaar nikaala jiske madhyam se unhone hindi ka prachar prasaar kiya yah patrika saptaahik rashifal sadanand ki kul 32 rachnaye jinmein se 18 hindi mein aur shesh urdu mein hai

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद का जन्म 18 से 24 ईसवी में हुआ था खड़ी बोली के विकास में राजा शि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  21
WhatsApp_icon
user
0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंदी के रचनाकार कौन थे तभी राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद का जन्म 1824 ईस्वी में हुआ था खड़ी बोली के विकास में राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद ने बहुत योगदान दिया है जब भी बात होती है राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद को याद किया जाता है उन्होंने करीब ओदी व नागरी लिपि के अस्तित्व की लड़ाई लड़ी थी उस समय सहारा देने वाला कोई नहीं था उस समय राजा शिवप्रसाद सितारे नहीं खड़ी बोली और नागरिक के समर्थन में आवाज बुलंद की उनके योगदान सुरक्षा के मामले में नागरी लिपि में लिखा जाने लगा राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद 18 से 45 ईसवी में बनारस अखबार निकाले थे जिसके माध्यम से उन्होंने हिंदी का प्रचार-प्रसार किया और यह जो पत्रिका थी उस वक्त सप्ताहिक प्रसारित की जाती थी

raja shivaprasad sitare hindi ke rachnakar kaun the tabhi raja shivaprasad sitare hind ka janam 1824 isvi mein hua tha khadi boli ke vikas mein raja shivaprasad sitare hind ne BA hut yogdan diya hai jab bhi BA at hoti hai raja shivaprasad sitare hind ko yaad kiya jata hai unhone kareeb odi va nagri lipi ke astitva ki ladai ladi thi us samay sahara dene vala koi nahi tha us samay raja shivaprasad sitare nahi khadi boli aur nagarik ke samarthan mein awaaz buland ki unke yogdan suraksha ke mamle mein nagri lipi mein likha jaane laga raja shivaprasad sitare hind 18 se 45 isvi mein BA naras akhbaar nikale the jiske madhyam se unhone hindi ka prachar prasaar kiya aur yah jo patrika thi us waqt saptahik prasarit ki jaati thi

राजा शिवप्रसाद सितारे हिंदी के रचनाकार कौन थे तभी राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद का जन्म 1824

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
user

Sharmistha

Ops Answerer

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

खड़ी बोली के विकास में जो राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद ने बहुत योगदान दिया राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद को याद किया जाता है उन्होंने खड़ी बोली नागरी लिपि के अस्तित्व की लड़ाई लड़ी थी और उस समय सहारा देने वाला जो कोई नहीं था और उसमें राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद मेरे खड़ी बोली और नागरिक के समर्थन में आवाज बुलंद की और उन्होंने उन्हीं के योगदान से जो है शिक्षा के मक्का में में नागरी लिपि में लिखा जाने लगा और राज्य राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद ई एंजॉय 1845 में बनारस अखबार निकाला इसके माध्यम से जिन्होंने हिंदी का यह प्रचार प्रसार किया और यह पत्रिका सप्ताहिक थी

khadi boli ke vikas mein jo raja shivaprasad sitare hind ne BA hut yogdan diya raja shivaprasad sitare hind ko yaad kiya jata hai unhone khadi boli nagri lipi ke astitva ki ladai ladi thi aur us samay sahara dene vala jo koi nahi tha aur usme raja shivaprasad sitare hind mere khadi boli aur nagarik ke samarthan mein awaaz buland ki aur unhone unhi ke yogdan se jo hai shiksha ke makka mein mein nagri lipi mein likha jaane laga aur rajya raja shivaprasad sitare hind ee enjoy 1845 mein BA naras akhbaar nikaala iske madhyam se jinhone hindi ka yah prachar prasaar kiya aur yah patrika saptahik thi

खड़ी बोली के विकास में जो राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद ने बहुत योगदान दिया राजा शिवप्रसाद सि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  2
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
raja shiv prasad sitare hind ki rachna hai ; राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना है ; raja shiv prasad sitare hind ki rachna ; राजा शिव प्रसाद सितारे हिन्द की रचना है ; raja shiv prasad sitare hind ki rachna kya hai ; राजा शिवप्रसाद सितारे हिन्द की रचना ; raja shiv prasad sitare hind ki rachna kaun si hai ; sitare hind ; राजा शिव प्रसाद सितारे हिन्द की रचना ; राजा शिवप्रसाद सितारे हिंद की रचना का नाम ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!