क्या इंसान पब्जी खेल ने से पागल हो सकता है?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या इंसान पब्जी खेल से पागल हो सकता है देखिए गेम को एक आदमी ने तो खेला नहीं और सभी दुनिया जो खेल रही हो सब पागल नहीं हो रही है तो ऐसा नहीं है यह तो अपनी सोच के ऊपर बात है कि आप पागलपन की सीमा तक जाएंगे तो पागल होंगे खेल को खेल की दृष्टि से लीजिए और खेल की दृष्टि से ही खेली है यदि आप उसको उचित समय पर उचित तरीके से उचित सोच के साथ खेलेगी तो वह खेल है पूरी दे आप उसको पागलपन की तरह से हर समय उसके पीछे पड़े रहेंगे तो फिर वह पागल हो सकता है इसमें कोई दो राय नहीं यह भाव पर खेल नहीं होता है खेल में मन आपका बुद्धि आपका विवेक आपका तुरंत निर्णय लेने की क्षमता यह सब विकसित होते हैं इसलिए किसी खेल को दोषी सिद्ध करना अच्छी बात नहीं है यह व्यक्ति के अपने गुण हैं कुछ लोग सफल होते हैं और कुछ लोग असफल होते हैं और जो असफल होते हैं वह असफलता के कारण हो सकता है इस स्थिति तक पहुंच जाए तो किसी भी चीज की अति ठीक नहीं होती है तो एक कहावत भी पुराना धोखा भी है अति का भला न बोलना अति का भला न चूप अति का भला न बरसना अति का भला न तू तो यार नहीं कि कोई भी चीज की अति गलत होती है और यदि आप इसका आती करेंगे तो पागलपन हो सकता है धन्यवाद

kya insaan PUBG khel se Pagal ho sakta hai dekhiye game ko ek aadmi ne toh khela nahi aur sabhi duniya jo khel rahi ho sab Pagal nahi ho rahi hai toh aisa nahi hai yah toh apni soch ke upar baat hai ki aap pagalpan ki seema tak jaenge toh Pagal honge khel ko khel ki drishti se lijiye aur khel ki drishti se hi kheli hai yadi aap usko uchit samay par uchit tarike se uchit soch ke saath khelegi toh vaah khel hai puri de aap usko pagalpan ki tarah se har samay uske peeche pade rahenge toh phir vaah Pagal ho sakta hai isme koi do rai nahi yah bhav par khel nahi hota hai khel me man aapka buddhi aapka vivek aapka turant nirnay lene ki kshamta yah sab viksit hote hain isliye kisi khel ko doshi siddh karna achi baat nahi hai yah vyakti ke apne gun hain kuch log safal hote hain aur kuch log asafal hote hain aur jo asafal hote hain vaah asafaltaa ke karan ho sakta hai is sthiti tak pohch jaaye toh kisi bhi cheez ki ati theek nahi hoti hai toh ek kahaavat bhi purana dhokha bhi hai ati ka bhala na bolna ati ka bhala na chup ati ka bhala na barasna ati ka bhala na tu toh yaar nahi ki koi bhi cheez ki ati galat hoti hai aur yadi aap iska aati karenge toh pagalpan ho sakta hai dhanyavad

क्या इंसान पब्जी खेल से पागल हो सकता है देखिए गेम को एक आदमी ने तो खेला नहीं और सभी दुनिय

Romanized Version
Likes  71  Dislikes    views  1648
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  160
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  2  Dislikes    views  106
WhatsApp_icon
user

Mithu Jaat

Agriculture. And Ice Cream Business

0:10
Play

Likes  3  Dislikes    views  145
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  133
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!