क्या वास्तु जैसे चीज़ों पर विश्वास करना अच्छा है?...


user

vivek sharma

BANK PO| Astrologer | Mutual Fund Advisor। Career Counselor

1:19
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जिंदगी में जब भी कोई प्रॉब्लम आती है जब हमें समझ में नहीं आता है कि हमारे साथ में लगातार कुछ न कुछ चल ही रहा है कुछ ना कुछ गड़बड़ हो रहा है हमारे लाख प्रयत्न के बाद में भी हम परेशान हैं कभी हेल्थ से पैसे से कभी झगड़ा हो रहा है पति-पत्नी में नहीं बन रही है घरवाली में और हमारे घर वालों में नहीं बन रही है पड़ोसी से झगड़ा हो रहा है या प्रॉपर्टी के बाद आ गया कहीं ना कहीं लगातार कुछ ना कुछ चलता रहता है तब फिर आप विश्वास करें ना करें हमारा दिमाग कुछ ना कुछ ढूंढने लगता है अगर ऐसी जब तक नहीं आई है अभी तक यह क्वेश्चन है कि विश्वास करें या ना करें करना अच्छा है या नहीं लेकिन जब एक बार कभी भी आदमी बत्ती मैसेज करता है तभी इस पर विश्वास होता है तभी लेकिन अगर इस तरह की कोई भी चीज अगर जिंदगी में नहीं आई जिंदगी स्मूच ऐसे लोग बोलते हैं क्या बात सो विश्वास नहीं करते ज्योतिष में विश्वास नहीं करते कई लोगों ने वास्तु का काम करा कर ज्योतिष का काम करा कर अपने जीवन में कई अपने जीवन में दुखों को हटाकर खुशियां पाई है धन्यवाद

zindagi me jab bhi koi problem aati hai jab hamein samajh me nahi aata hai ki hamare saath me lagatar kuch na kuch chal hi raha hai kuch na kuch gadbad ho raha hai hamare lakh prayatn ke baad me bhi hum pareshan hain kabhi health se paise se kabhi jhagda ho raha hai pati patni me nahi ban rahi hai gharwali me aur hamare ghar walon me nahi ban rahi hai padosi se jhagda ho raha hai ya property ke baad aa gaya kahin na kahin lagatar kuch na kuch chalta rehta hai tab phir aap vishwas kare na kare hamara dimag kuch na kuch dhundhne lagta hai agar aisi jab tak nahi I hai abhi tak yah question hai ki vishwas kare ya na kare karna accha hai ya nahi lekin jab ek baar kabhi bhi aadmi batti massage karta hai tabhi is par vishwas hota hai tabhi lekin agar is tarah ki koi bhi cheez agar zindagi me nahi I zindagi smuch aise log bolte hain kya baat so vishwas nahi karte jyotish me vishwas nahi karte kai logo ne vastu ka kaam kara kar jyotish ka kaam kara kar apne jeevan me kai apne jeevan me dukhon ko hatakar khushiya payi hai dhanyavad

जिंदगी में जब भी कोई प्रॉब्लम आती है जब हमें समझ में नहीं आता है कि हमारे साथ में लगातार क

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
8 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

Likes  104  Dislikes    views  1140
WhatsApp_icon
user

Dollie Kashwani

Relationship counselor | Wellness Designer |Energy alchemist |

2:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो मैं हूं लाइफ कोल्ड वाली बात तो कोई पहली बात तो अंधविश्वास नहीं है वास्तु एनर्जी सिस्टम है किसके लिए वस्तु का निर्माण किया गया है समझा गया है हम जिस घर में रहते हैं वही प्रोडक्शन के लिए होता है और वह घर हमारी लाइफ स्टाइल हमारे जो है हमारी अपनी लाइफ के लिए तुम को टर्न पार्ट होता है तो उस घर को सही रखना हमारी जिम्मेदारी होती है कि तक मुखर को सही नहीं रखेंगे उस देश को सही नहीं रखेंगे हमारी लाइफ में बैलेंस नहीं हो पाएगी तो उस घर को सही रखने के लिए मैं वास्तु के कोडिंग चलना होता है अगर वास्तु कोडिंग नहीं चलेंगे तो हम हम लाइफ सरवाइव नहीं कर पाएंगे क्योंकि लाइव जो है सिर्फ मैटेरियलिस्टिक थिंग्स नहीं होती एनर्जी से चलती है और वो एनर्जी तब आती है जब हम सही में मैं चीजों को अरेंज करें आपका आपकी कोई भी चीज आप देखें मैटेस्ट थिंग्स हो या कोई भी चीज होगा वह बैलेंस क्या सही में मैं तब काम करती है जब प्रिंसिपल पर वह काम करती चाहे हम एक स्मार्टफोन की बात कर ले जो टेक्नॉलॉजी बनी है वह प्रिंसिपल्स पर बनी है चाहे हम किसी भी चीज की बात करें चाहे हम फिजिकल जो ऑब्जेक्ट तैयार करते हैं उनको बैलेंस में रखने के लिए उनके लिए सही छोरी का इस्तेमाल किया गया है तो हर चीज में जो है वह प्रिंसिपल पर माल किया गया है वास्तु भी उसी प्रिंसिपल का एक छोटा सा शॉर्ट नेम है जिसमें तारे प्रिंसिपल सोते हैं लाइफ के और जिन प्रिंसिपल्स को मैं अप्लाई करके अपनी लाइफ को बैलेंस कर सकते हैं क्योंकि वह प्रिंसिपल जो होता है हमारे एनर्जी सिस्टम को बैलेंस करने के लिए होता है अगर मोच एनर्जी सिस्टम को गलत वह में करेंगे गलत वह में यूज करेंगे तो हमारी लाइफ जो है वह सही डायरेक्शन में न जाकर दर्शन में जाएगी क्योंकि हमारे लिए सही नहीं होगी वहां पर मारी फिजिकल हेल्थ इमोशनल हेल्थ मेंटल हेल्थ फाइनेंशियल हेल्प सारी चीजें डिस्टर्ब होंगी जिसकी वजह से हम पूरी तरह से डिस्टर्ब हो मित्र इसलिए बस तू बहुत इंपॉर्टेंट चीज होती है इसको आप डिप्ली तब महसूस कर पाएंगे जब आप उसके बाद में जाएंगे तो अंधविश्वास का नाम नहीं है खुद में दिमाग से निकाल दे वास्तविक साइंस और आपको मेरा यंत्र पसंद आया पसंद आया तो लाइक जरूर करना थैंक यू ऑल द बेस्ट

hello main hoon life cold wali baat toh koi pehli baat toh andhavishvas nahi hai vastu energy system hai kiske liye vastu ka nirmaan kiya gaya hai samjha gaya hai hum jis ghar mein rehte hain wahi production ke liye hota hai aur vaah ghar hamari life style hamare jo hai hamari apni life ke liye tum ko turn part hota hai toh us ghar ko sahi rakhna hamari jimmedari hoti hai ki tak mukhar ko sahi nahi rakhenge us desh ko sahi nahi rakhenge hamari life mein balance nahi ho payegi toh us ghar ko sahi rakhne ke liye main vastu ke coding chalna hota hai agar vastu coding nahi chalenge toh hum hum life survive nahi kar payenge kyonki live jo hai sirf materialistic things nahi hoti energy se chalti hai aur vo energy tab aati hai jab hum sahi mein main chijon ko arrange kare aapka aapki koi bhi cheez aap dekhen maitest things ho ya koi bhi cheez hoga vaah balance kya sahi mein main tab kaam karti hai jab principal par vaah kaam karti chahen hum ek smartphone ki baat kar le jo technology bani hai vaah principles par bani hai chahen hum kisi bhi cheez ki baat kare chahen hum physical jo object taiyar karte hain unko balance mein rakhne ke liye unke liye sahi chhori ka istemal kiya gaya hai toh har cheez mein jo hai vaah principal par maal kiya gaya hai vastu bhi usi principal ka ek chota sa short name hai jisme taare principal sote hain life ke aur jin principles ko main apply karke apni life ko balance kar sakte hain kyonki vaah principal jo hota hai hamare energy system ko balance karne ke liye hota hai agar moch energy system ko galat vaah mein karenge galat vaah mein use karenge toh hamari life jo hai vaah sahi direction mein na jaakar darshan mein jayegi kyonki hamare liye sahi nahi hogi wahan par mari physical health emotional health mental health financial help saree cheezen disturb hongi jiski wajah se hum puri tarah se disturb ho mitra isliye bus tu bahut important cheez hoti hai isko aap dipli tab mehsus kar payenge jab aap uske baad mein jaenge toh andhavishvas ka naam nahi hai khud mein dimag se nikaal de vastavik science aur aapko mera yantra pasand aaya pasand aaya toh like zaroor karna thank you all the best

हेलो मैं हूं लाइफ कोल्ड वाली बात तो कोई पहली बात तो अंधविश्वास नहीं है वास्तु एनर्जी सिस्ट

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  236
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

1:36
Play

Likes  43  Dislikes    views  701
WhatsApp_icon
user

Pt. D.K Shastri

Astrologer (Vastu Specialist)

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वास्तु शास्त्र एक समुंद्री विज्ञान है जो कि चाइना में भी माना जाता है और वास्तु शास्त्र भी एक ज्योतिष विज्ञान की तरह शास्त्री वैसे हमारे भारत देश में बहुत ही प्राचीन शास्त्र बहुत सारे हैं जिसमें से वास्तु शास्त्र एक है वास्तुशास्त्र में बस यही चीज बताई गई है कि जो भी जैसे हम सांस लेते हैं तो जो मुख से दो भाइयों अंदर लेते हैं स्वास्थ्य के लिए उसी तरह यह एक मार्ग है जब जब हम भवन निर्माण कराते हैं तो उसके अंदर जो नक्शा है वास्तु के अनुसार बनाना चाहिए और घर में जो इंटीरियर डिजाइनिंग की जाती है वह भी वास्तु के अनुसार करने से हमारे जीवन में होने वाली प्रॉब्लम और जीवन में होने वाले कोई अनुचित कार्य जिससे हमें नुकसान होता है और हमारे कारोबार हमारे स्वास्थ्य को लेकर हमारे पारिवारिक संबंध को लेकर जो प्रॉब्लम्स क्रिएट होते हैं वह वास्तु दोष की वजह से ही होता है इसलिए जब भी भवन निर्माण कराया या घर में कोई इंटीरियर डिजाइनिंग करें तो वास्तु शास्त्र के अनुसार ही करनी चाहिए

vastu shastra ek samundari vigyan hai jo ki china mein bhi mana jata hai aur vastu shastra bhi ek jyotish vigyan ki tarah shastri waise hamare bharat desh mein bahut hi prachin shastra bahut saare hain jisme se vastu shastra ek hai vastushastra mein bus yahi cheez batai gayi hai ki jo bhi jaise hum saans lete hain toh jo mukh se do bhaiyo andar lete hain swasthya ke liye usi tarah yah ek marg hai jab jab hum bhawan nirmaan karate hain toh uske andar jo naksha hai vastu ke anusaar banana chahiye aur ghar mein jo interior designing ki jaati hai vaah bhi vastu ke anusaar karne se hamare jeevan mein hone wali problem aur jeevan mein hone waale koi anuchit karya jisse hamein nuksan hota hai aur hamare karobaar hamare swasthya ko lekar hamare parivarik sambandh ko lekar jo problems create hote hain vaah vastu dosh ki wajah se hi hota hai isliye jab bhi bhawan nirmaan karaya ya ghar mein koi interior designing kare toh vastu shastra ke anusaar hi karni chahiye

वास्तु शास्त्र एक समुंद्री विज्ञान है जो कि चाइना में भी माना जाता है और वास्तु शास्त्र भी

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  101
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यह यह क्वेश्चन इसका आंसर कि आप देखो तो सब्जेक्टिव होएगा हर इंसान का बिलीव अलग रहता है हर लोगों का बिलीव इन कल शिव की सबसे अलग अलग रहते चैटिंग वास्तु का भी आप देखे तो हर कोई बिलीव नहीं करता और बहुत जन है बहुत सारे ज्यादा कैटेगरी के लोग हैं जो बिलीव करते हैं तो बताइए जरूर से माना जाता है कि यह वास्तु यह जैसे फेंगशुई भी उसको बोलते हैं दूसरे कल्चर में बोला जाता है कि एक तरीका होता है जिससे आप अपना घर को घर की शांति बनाए रखें वह भी अपने सारे सामान को ठीक से उसका अरेंजमेंट से 2 वास्तु बेसिकली वही हो गए क्या आपका घर का जो सामान है सादा रूम वह भी है वह सामान है उसका ठीक से अरेंजमेंट होता कि वह जो रहता है वह जो घर के अंदर मुझे एनर्जी रहती है वह डिस्टर्ब नहीं हो बहुत दिन कब मिली है है कि हां मानना चाहिए भोजन का नहीं होता है पड़े थे किंतु यदि यह बस अपने अपने हिसाब से है अपना बिल इसके हिसाब से होता है

dekhiye yah yah question iska answer ki aap dekho toh subjective hoega har insaan ka believe alag rehta hai har logo ka believe in kal shiv ki sabse alag alag rehte chatting vastu ka bhi aap dekhe toh har koi believe nahi karta aur bahut jan hai bahut saare zyada category ke log hain jo believe karte hain toh bataye zaroor se mana jata hai ki yah vastu yah jaise fengashui bhi usko bolte hain dusre culture mein bola jata hai ki ek tarika hota hai jisse aap apna ghar ko ghar ki shanti banaye rakhen vaah bhi apne saare saamaan ko theek se uska arrangement se 2 vastu basically wahi ho gaye kya aapka ghar ka jo saamaan hai saada room vaah bhi hai vaah saamaan hai uska theek se arrangement hota ki vaah jo rehta hai vaah jo ghar ke andar mujhe energy rehti hai vaah disturb nahi ho bahut din kab mili hai hai ki haan manana chahiye bhojan ka nahi hota hai pade the kintu yadi yah bus apne apne hisab se hai apna bill iske hisab se hota hai

देखिए यह यह क्वेश्चन इसका आंसर कि आप देखो तो सब्जेक्टिव होएगा हर इंसान का बिलीव अलग रहता ह

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  159
WhatsApp_icon
user

Ishita Seth

Obstinate Programmer

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मैं इस बात से अपने यूपी में रखना चाहूंगी कि वास्तु जैसी चीजों पर विश्वास करना बिल्कुल अच्छा है पर एक लिमिट तक आप यह नहीं है क्या वह लिमिट क्रॉस कर दे और रूबी वास्तु शास्त्र जो भी कुछ कह रहे हैं आप बिना कुछ सोचे समझे बिना अपना दिमाग लगाएं घर में वास्तु शास्त्र को लेकर आएंगे और बिना दिमाग यूज करें बिना कुछ सोचे समझे उसके कोडिंग कि काम के लिए जाएंगे डेफिनेटली आपके लिए अच्छा होने की वजह उल्टा आप पर भारी पड़ेगा क्योंकि काफी ज्यादा वास्तु वास्तु शास्त्र में सी चीज है कि जो सेट नहीं करनी चाहिए क्योंकि जब इंसान है अगर हम उसको साइंस के साथ केला लॉजिक से देखें तो तो मैसेज भी करना उसे विश्वास के नस में लिखो ना सिर्फ तब तक आता है तब तक आप अपना दिमाग यूज करें आप अपनी सोच को बीच में ना अपने कॉमनसेंस यूज करें करते हैं जिन पर आप अपना उस चीज के बारे में सब कर रहे हैं उसके बारे में नहीं सोचते हैं और आप के लिए वास्तु वास्तु शास्त्र के होते हैं वहां कुछ गड़बड़ हो जाती है आने वाले सब के लिए सब सही जा रहा है और अगर आप वहां से सोच समझकर हरेक हरेक जाग उठा रहे हैं तब तक वास्तु में बिलीव करने से कोई बुराई नहीं है

dekhiye main is baat se apne up mein rakhna chahungi ki vastu jaisi chijon par vishwas karna bilkul accha hai par ek limit tak aap yah nahi hai kya vaah limit cross kar de aur ruby vastu shastra jo bhi kuch keh rahe hain aap bina kuch soche samjhe bina apna dimag lagaye ghar mein vastu shastra ko lekar aayenge aur bina dimag use kare bina kuch soche samjhe uske coding ki kaam ke liye jaenge definetli aapke liye accha hone ki wajah ulta aap par bhari padega kyonki kaafi zyada vastu vastu shastra mein si cheez hai ki jo set nahi karni chahiye kyonki jab insaan hai agar hum usko science ke saath kela logic se dekhen toh toh massage bhi karna use vishwas ke nas mein likho na sirf tab tak aata hai tab tak aap apna dimag use kare aap apni soch ko beech mein na apne commonsense use kare karte hain jin par aap apna us cheez ke bare mein sab kar rahe hain uske bare mein nahi sochte hain aur aap ke liye vastu vastu shastra ke hote hain wahan kuch gadbad ho jaati hai aane waale sab ke liye sab sahi ja raha hai aur agar aap wahan se soch samajhkar harek harek jag utha rahe hain tab tak vastu mein believe karne se koi burayi nahi hai

देखिए मैं इस बात से अपने यूपी में रखना चाहूंगी कि वास्तु जैसी चीजों पर विश्वास करना बिल्कु

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  155
WhatsApp_icon
play
user

Pragati

Aspiring Lawyer

1:45

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से वास्तु जैसी चीजों पर विश्वास करना उतना ही अच्छा है और जब तक आप अपना कॉमनसेंस यूज करके जो वास्तु के हिसाब से उसे सिर्फ एक तरह से वास्तु नामांकन बल्कि सिर्फ एक आपका अच्छा हो गया आपकी लाइफ में अच्छा होगा यह सोचकर नॉर्मल ही उसका उपयोग कर रहे हैं ना कि उसमें अंधविश्वास आप पर यूज कर रहे हैं क्योंकि कई लोग क्या होता है वास्तु का नाम देकर अंधविश्वास में पड़ जाते हैं और हर काम वास्तु के हिसाब से करने का प्रयास करते हैं जो कि कई कई बार लोगों के खुद के लिए भी घातक हो जाता है और कई लोग तो वास्तु के इतना ज्यादा बिलीव करते हैं कि किसी भी कार्य को वास्तु के बिना नहीं करते तो मेरे हिसाब से बोलो अंधविश्वासी बन जाते हैं और उनका जो वास्तु पर विश्वास होता है वह इतना अटल हो जाता है और जब विश्वास टूटता है किसी भी वजह से तुमको वस्तु है जो अब विश्वास हुआ जब भी टूट जाता है उनका तो उनको बहुत अजीब लगता है और वह खुद को दोषी मानने लग जाते हैं जो कि बहुत ही गलत चीज है तो मेरे हिसाब से वास्तु पर उतना ही वश डांस करना चाहिए वास्तु की चीजों पर या वस्तु के द्वारा बताई गई किसी भी चीज पर जितना जितना आप कर सकें और इतना पर कॉमन सेंस कि आपका जो मेंटल स्टेबिलिटी है वह आपको अलाउ कर रही है क्योंकि आपकी तो पढ़ी-लिखी लोग हैं वह तो नॉलेज रखते हैं उनके पास आज कोई चीज क्यों की जाती है कैसे की जाती है उस सबकी नॉलेज होती है तो आप अपनी है जो ज्ञान आपके पास है जो आपकी कॉमन सेंस है उसका प्रयोग करें कुछ भी चीज आपको लगता है कि सही होंगे उतना ही प्रयोग करना चाहिए आगे वास्तु वास्तु के हिसाब से जिलों का अंधविश्वास करना शुरू कर देना चाहिए तो वास्तु उतना ही अच्छा है आपके लिए जितना आपको लग रहा है कि वह सही होगा या आपके कॉमन सेंस आपकी इंटेलिजेंस आपको बोल रहे हैं कि वह सही होगा दे देना बस पर अंधविश्वास के करने लग जाए

mere hisab se vastu jaisi chijon par vishwas karna utana hi accha hai aur jab tak aap apna commonsense use karke jo vastu ke hisab se use sirf ek tarah se vastu namankan balki sirf ek aapka accha ho gaya aapki life mein accha hoga yah sochkar normal hi uska upyog kar rahe hain na ki usme andhavishvas aap par use kar rahe hain kyonki kai log kya hota hai vastu ka naam dekar andhavishvas mein pad jaate hain aur har kaam vastu ke hisab se karne ka prayas karte hain jo ki kai kai baar logo ke khud ke liye bhi ghatak ho jata hai aur kai log toh vastu ke itna zyada believe karte hain ki kisi bhi karya ko vastu ke bina nahi karte toh mere hisab se bolo andhavishvasi ban jaate hain aur unka jo vastu par vishwas hota hai vaah itna atal ho jata hai aur jab vishwas tootata hai kisi bhi wajah se tumko vastu hai jo ab vishwas hua jab bhi toot jata hai unka toh unko bahut ajib lagta hai aur vaah khud ko doshi manne lag jaate hain jo ki bahut hi galat cheez hai toh mere hisab se vastu par utana hi vash dance karna chahiye vastu ki chijon par ya vastu ke dwara batai gayi kisi bhi cheez par jitna jitna aap kar sake aur itna par common sense ki aapka jo mental stability hai vaah aapko alau kar rahi hai kyonki aapki toh padhi likhi log hain vaah toh knowledge rakhte hain unke paas aaj koi cheez kyon ki jaati hai kaise ki jaati hai us sabki knowledge hoti hai toh aap apni hai jo gyaan aapke paas hai jo aapki common sense hai uska prayog kare kuch bhi cheez aapko lagta hai ki sahi honge utana hi prayog karna chahiye aage vastu vastu ke hisab se jilon ka andhavishvas karna shuru kar dena chahiye toh vastu utana hi accha hai aapke liye jitna aapko lag raha hai ki vaah sahi hoga ya aapke common sense aapki intelligence aapko bol rahe hain ki vaah sahi hoga de dena bus par andhavishvas ke karne lag jaaye

मेरे हिसाब से वास्तु जैसी चीजों पर विश्वास करना उतना ही अच्छा है और जब तक आप अपना कॉमनसेंस

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!