क्यों अक्सर नफरत के बाद प्यार और प्यार के बाद नफरत हो जाता है?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:57

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीडीके ऐसा हमेशा तो नहीं होता हालांकि अक्सर बोला गया लेकिन फिर भी मैं अक्सर तो नहीं बोलूंगा कुछ किस चीज में ऐसे हो सकते हैं कई बार ऐसा हो सकता है लेकिन हमेशा ऐसा नहीं होता जिंदगी होता क्या है जो इंसान जब मिलते हैं ना जब उनका आमना सामना होता है तो एक तो होता है उनके इर्द-गिर्द संसार वर्ल्ड एनवायरनमेंट पर वह मिले सिचुएशन या सरकमस्टेंसस में उनका आमना-सामना हुआ जो रियालिटी थी वर्ल्ड की जिसमें वह मिले दूसरा यह कि एक तो वर्ल्ड जिसमें वह मिले दूसरा उनके दिमाग में अपना वर्ल्ड उन्होंने अपना परिचय अपना बिलीव अपना नजरिया बना रखा होता है आपने भी बनाए हैं मैंने भी बनाया अब जब मैं इस रियल वर्ल्ड में अपने बनाए हुए वर्ल्डस के साथ आपके वर्ल्ड के साथ इंटरेक्ट करता हूं तू जरूरी नहीं है कि हम दोनों का जो कम्युनिकेशन हो या हम दोनों का जोबट पता गोभी हे बीआरओ वह हमेशा एक लाए में होगा वह शायद शुरू में हो सकता है कभी अलायंस ना हो कई बार होता है कि फर्स्ट ग्रेड फर्स्ट पर्सन शायद ऐसा लगता है कि नहीं यह देखने में ऐसा लगता है और यह ऐसा होगा तो उस धारणा से आगे बढ़ते हैं लेकिन अब वह धारणा जब टूटती है तो हमें पता लगता नहीं मैं कितना गलत था तो ऐसा हो सकता है ऐसा होता भी है हमें तो ऐसा रहना चाहिए कि वह पर रहना चाहिए इस एनरोलमेंट में सिचुएशन में सरगम सेंस इसमें जो भी मिलता नहीं हम ओपनली उस चीज को उस सब्जेक्ट को उस इंसान के साथ है दूसरे मैनेज करें और देखें कि क्या हो सकता है क्या नहीं हो सकता वेरी ऊपर लिखा दवाई शाम प्रेज्यूडिश ओके बाय सो कर अपनी परसेप्शन बिल्ली के साथ जाएंगे तो काम शायद बिगड़ सकता है इसलिए भी ओपन एंड मोमेंट

GDK aisa hamesha toh nahi hota halaki aksar bola gaya lekin phir bhi main aksar toh nahi boloonga kuch kis cheez mein aise ho sakte hain kai baar aisa ho sakta hai lekin hamesha aisa nahi hota zindagi hota kya hai jo insaan jab milte hain na jab unka aamna samana hota hai toh ek toh hota hai unke ird gird sansar world environment par vaah mile situation ya sarakamastensas mein unka aamna samana hua jo reality thi world ki jisme vaah mile doosra yah ki ek toh world jisme vaah mile doosra unke dimag mein apna world unhone apna parichay apna believe apna najariya bana rakha hota hai aapne bhi banaye hain maine bhi banaya ab jab main is real world mein apne banaye hue varldas ke saath aapke world ke saath intarekt karta hoon tu zaroori nahi hai ki hum dono ka jo communication ho ya hum dono ka jobat pata gobhi hai BRO vaah hamesha ek laye mein hoga vaah shayad shuru mein ho sakta hai kabhi Alliance na ho kai baar hota hai ki first grade first person shayad aisa lagta hai ki nahi yah dekhne mein aisa lagta hai aur yah aisa hoga toh us dharana se aage badhte hain lekin ab vaah dharana jab tootati hai toh hamein pata lagta nahi main kitna galat tha toh aisa ho sakta hai aisa hota bhi hai hamein toh aisa rehna chahiye ki vaah par rehna chahiye is enrollment mein situation mein sargam sense isme jo bhi milta nahi hum openly us cheez ko us subject ko us insaan ke saath hai dusre manage kare aur dekhen ki kya ho sakta hai kya nahi ho sakta very upar likha dawai shaam prejyudish ok bye so kar apni perception billi ke saath jaenge toh kaam shayad bigad sakta hai isliye bhi open and moment

जीडीके ऐसा हमेशा तो नहीं होता हालांकि अक्सर बोला गया लेकिन फिर भी मैं अक्सर तो नहीं बोलूंग

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1920
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Dheeraj Singh

BA & BHM graduate

1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत ही दिलचस्प प्रश्न पूछा है आपने यही धर्म का विज्ञान कहता है कि प्यार और नफरत जो है वह जो है एक ही है वह लग नहीं है ऐसा नहीं हो सकता कि आपको प्यार ही प्यार है नफरत ना रहे अगर आपको प्यार है तो आपको नफरत हो गायी होगा हंड्रेड परसेंट होगा यहां रोल नंबर 21 12 चोर है एक ही दो चोर है मनुष्य के अंदर अलग-अलग भावनाओं का निर्माण होते रहता है और यह सब शरीर में होने वाली रासायनिक प्रक्रियाओं के कारण होता है और यह जायज है कि आप किसी भी चीज से लगाओ ज्यादा रखें कोई भी पुरुष अगर किसी महिला को प्रेम करता है अगर अत्यधिक प्रेम करता है तो उसे नफरत करेगा ही करेगा लेकिन जब नफरत करेगा वह ना रज्जो उस प्यार को और भी गहरा बनाएगा यह परमात्मा का दिया हुआ हमारा शरीर ही कुछ ऐसा है वह चित्र से काम करता है लेकिन चीजों को दिल से लगा दिल से लगाएंगे तो आप बार-बार उसी चीज हो तो सोचते रहेंगे कि पहले ऐसा था वह मुझसे ऐसे करती थी प्यार तो फिर आपके अंदर हीन भावना आ जाएंगे जिस समय आप के अंदर जैसी भावना आ रही है उनको उनको देखो कि समय कैसी भावना आज ही क्यों आज भी है प्यार हमेशा बरकरार रहेगा लेकिन आप प्यार को जो उसी समय के लिए जब नफरत की भावना से मत भूल जाइए देखना पगली पगली प्यार हो जाएगा

bahut hi dilchasp prashna puchha hai aapne yahi dharm ka vigyan kahata hai ki pyar aur nafrat jo hai wah jo hai ek hi hai wah lag nahi hai aisa nahi ho sakta ki aapko pyar hi pyar hai nafrat na rahe agar aapko pyar hai toh aapko nafrat ho gaayi hoga hundred percent hoga yahan roll number 21 12 chor hai ek hi do chor hai manushya ke andar alag alag bhavnao ka nirmaan hote rehta hai aur yeh sab sharir mein hone wali Rasayanik prakriyaon ke kaaran hota hai aur yeh jayaz hai ki aap kisi bhi cheez se lagao zyada rakhen koi bhi purush agar kisi mahila ko prem karta hai agar atyadhik prem karta hai toh use nafrat karega hi karega lekin jab nafrat karega wah na ragzo us pyar ko aur bhi gehra banayega yeh paramatma ka diya hua hamara sharir hi kuch aisa hai wah chitra se kaam karta hai lekin chijon ko dil se laga dil se lagayenge toh aap baar baar usi cheez ho toh sochte rahenge ki pehle aisa tha wah mujhse aise karti thi pyar toh phir aapke andar heen bhavna aa jaenge jis samay aap ke andar jaisi bhavna aa rahi hai unko unko dekho ki samay kaisi bhavna aaj hi kyon aaj bhi hai pyar hamesha barkaraar rahega lekin aap pyar ko jo usi samay ke liye jab nafrat ki bhavna se mat bhul jaiye dekhna pagli pagli pyar ho jayega

बहुत ही दिलचस्प प्रश्न पूछा है आपने यही धर्म का विज्ञान कहता है कि प्यार और नफरत जो है वह

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  440
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
नफरत के बाद ; प्रेज्यूडिश ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!