डॉलर के संदर्भ में रुपए में गिरावट क्यों है?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

डॉलर के संदर्भ में रुपए की गिरावट हो रही है कि अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड बारिश के चलते वैश्विक स्तर पर लोगों का डॉलर पर भरता भरोसा रुपए की इस गिरावट के लिए सबसे बड़ा कारण बताया जा रहे सिक्सर पर स्टेट बोर्ड के चलते लगातार डॉलर में दुनिया का भरोसा बढ़ रहा है और डॉलर की जमकर खरीदारी हो रही है वहीं दुनियाभर में उभरते बाजारों की मुद्राओं को नुकसान उठाना पड़ा तुर्की की मुद्रा लीला में भी गिरावट जारी है और समूचे यूरोप की मुद्राओं के लिए संकट बनी है यूरोप की मुद्राओं में गिरावट से उभरती अर्थव्यवस्थाओं के सामने संकट वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में जो फ्लकचुएशन होता है उसे भी अर्थव्यवस्था मुद्राओं के ऊपर गंभीर चुनौती आती रहती है रुपए की वैश्विक बाजार में कीमत का सीधा असर आम आदमी पर पड़ता है बाजार में सब कुछ महंगा होने लगता है रुपए की कीमत में गिरावट आम आदमी के लिए अगर विदेश में छुट्टियां मनाने जाते हैं जबकि कोरोना की वजह से टूर्स एंड ट्रैवल्स का बिजनेस को बिल्कुल ठप है विदेशी कार खरीदने वह भी पूरी मार्केट इस समय बहुत ही प्रभावित है स्मार्टफोन खरीदने तो वह भी अभी लोग बहुत कमी खरीद रहे हैं विदेश में पढ़ाई करने को महंगा कर देता है यह सब चीजें महंगी होती है लेकिन कोरोना के चलते देश में जो नौकरियां गई हैं उसकी वजह से लोगों की खरीद सकती कम हुई है और इसके चलते देश में महंगाई दस्तक देने लगती है रोजमर्रा की जरूरत दो जो प्रो उत्पाद हैं वह महंगे होने लगते डॉलर के मुकाबले रुपए का लगातार कमजोर होने आम आदमी के लिए रोटी कपड़ा और मकान को महंगा कर लेता है हम धारणा है कि रुपए की छपाई के साथ वैश्विक मुद्रा बाजार में रुपए को टेस्ट कराने में रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया की अहम भूमिका होती डॉलर के मुकाबले रुपए की मौजूदा गिरावट को देखते हुए मुझे सरपंच के पास रुपए की चाल को संभालने के लिए कोई विकल्प नहीं बचा है मौजूदा स्थिति इसलिए भी कोई जीता है क्योंकि इधर बैंक को बचाने के लिए कुछ कदम तो उठाता भी है लेकिन कामयाब नहीं होता क्योंकि रुपया पूरी तरह से व्यक्ति की स्थिति कम होता है जिन पर हमारी यानी आरबीआई या सरकार का कोई नियंत्रण नहीं होता 75 और ₹76 के आसपास आज के चित्र पर 1650 की कीमत और किसी देश की मुद्रा उसकी अर्थव्यवस्था की सेहत को स्पष्ट करती हैं आर्थिक जानकारों का मानना है कि मुद्रा को संचालित करने की सबसे बड़ी जिम्मेदारी उस देश की सरकार की होती है वहीं भारतीय रुपए में जारी गिरावट पर रुपए को ऐसी स्थिति से बचाने के लिए केंद्र सरकार को देश में एक्सपोर्ट को बढ़ाने के साथ-साथ एफडीआई और एपीआई माई जापा करना बहुत जरूरी है और देश में आर्थिक सुस्ती का माहौल बना हुआ है कृपया डॉलर के मुकाबले स्थिति में नहीं फंसा होता मौजूदा स्थिति में रुपए को निकालने के लिए एक्सपोर्ट में बढ़ई जाति के साथ-साथ देश को विदेशी प्रत्यक्ष निवेश एफडीआई और विदेशी पोर्टफोलियो निवेश की जरूरत है अगर यह तीनों फ्रंट पर सरकार कुछ वर्षों के दौरान बेहतर काम करेगी तो रुपए की मौजूदा स्थिति में सुधार हो सकता है क्योंकि हमारा इंपोर्ट सबसे ज्यादा क्रूड हो गई क्या न कि कच्चे तेल का होता है और उसने हमारी विदेशी मुद्रा बहुत ज्यादा खर्च होती है और इसी वजह से इंपोर्ट हमारा ज्यादा होता है और एक्सपोर्ट कम होता है इसीलिए रुपए की कीमत भी जरूर प्रभावित होती है और डॉलर के संदर्भ में रुपए की कीमत में गिरावट होती है धन्यवाद

dollar ke sandarbh me rupaye ki giraavat ho rahi hai ki america aur china ke beech jaari trade barish ke chalte vaishvik sthar par logo ka dollar par bharta bharosa rupaye ki is giraavat ke liye sabse bada karan bataya ja rahe sixer par state board ke chalte lagatar dollar me duniya ka bharosa badh raha hai aur dollar ki jamakar kharidari ho rahi hai wahi duniyabhar me ubharte bazaro ki mudrawon ko nuksan uthana pada turkey ki mudra leela me bhi giraavat jaari hai aur samuche europe ki mudrawon ke liye sankat bani hai europe ki mudrawon me giraavat se ubharti arthavyavasthaon ke saamne sankat vaishvik sthar par kacche tel ki kimton me jo flakachueshan hota hai use bhi arthavyavastha mudrawon ke upar gambhir chunauti aati rehti hai rupaye ki vaishvik bazaar me kimat ka seedha asar aam aadmi par padta hai bazaar me sab kuch mehnga hone lagta hai rupaye ki kimat me giraavat aam aadmi ke liye agar videsh me chhutiyan manane jaate hain jabki corona ki wajah se tours and travels ka business ko bilkul thap hai videshi car kharidne vaah bhi puri market is samay bahut hi prabhavit hai smartphone kharidne toh vaah bhi abhi log bahut kami kharid rahe hain videsh me padhai karne ko mehnga kar deta hai yah sab cheezen mehengi hoti hai lekin corona ke chalte desh me jo naukriyan gayi hain uski wajah se logo ki kharid sakti kam hui hai aur iske chalte desh me mahangai dastak dene lagti hai rozmarra ki zarurat do jo pro utpaad hain vaah mehnge hone lagte dollar ke muqable rupaye ka lagatar kamjor hone aam aadmi ke liye roti kapda aur makan ko mehnga kar leta hai hum dharana hai ki rupaye ki chapai ke saath vaishvik mudra bazaar me rupaye ko test karane me reserve bank of india ki aham bhumika hoti dollar ke muqable rupaye ki maujuda giraavat ko dekhte hue mujhe sarpanch ke paas rupaye ki chaal ko sambhalne ke liye koi vikalp nahi bacha hai maujuda sthiti isliye bhi koi jita hai kyonki idhar bank ko bachane ke liye kuch kadam toh uthaata bhi hai lekin kamyab nahi hota kyonki rupya puri tarah se vyakti ki sthiti kam hota hai jin par hamari yani RBI ya sarkar ka koi niyantran nahi hota 75 aur Rs ke aaspass aaj ke chitra par 1650 ki kimat aur kisi desh ki mudra uski arthavyavastha ki sehat ko spasht karti hain aarthik jankaron ka manana hai ki mudra ko sanchalit karne ki sabse badi jimmedari us desh ki sarkar ki hoti hai wahi bharatiya rupaye me jaari giraavat par rupaye ko aisi sthiti se bachane ke liye kendra sarkar ko desh me export ko badhane ke saath saath IFDI aur API my japa karna bahut zaroori hai aur desh me aarthik susti ka maahaul bana hua hai kripya dollar ke muqable sthiti me nahi fansa hota maujuda sthiti me rupaye ko nikalne ke liye export me badhaii jati ke saath saath desh ko videshi pratyaksh nivesh IFDI aur videshi portfolio nivesh ki zarurat hai agar yah tatvo front par sarkar kuch varshon ke dauran behtar kaam karegi toh rupaye ki maujuda sthiti me sudhaar ho sakta hai kyonki hamara import sabse zyada crude ho gayi kya na ki kacche tel ka hota hai aur usne hamari videshi mudra bahut zyada kharch hoti hai aur isi wajah se import hamara zyada hota hai aur export kam hota hai isliye rupaye ki kimat bhi zaroor prabhavit hoti hai aur dollar ke sandarbh me rupaye ki kimat me giraavat hoti hai dhanyavad

डॉलर के संदर्भ में रुपए की गिरावट हो रही है कि अमेरिका और चीन के बीच जारी ट्रेड बारिश के च

Romanized Version
Likes  427  Dislikes    views  8548
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!