लोग पैसों के लिए इतने पागल क्यों हैं, मैं इससे कैसे बाहर निकल सकता हूँ?...


user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोग पैसों के लिए इतने पागल क्यों में से कैसे पानी कर सकता हूं वास्तव में आज इंसान का जीवन कैसा बन गया है सिर्फ ऐसे केलावा कोई भी इंसान किसी बात को मैं तो नहीं देता है वैसे ही भाग्य विधाता है पैसा ही अन्नदाता है पैसा ही कर्म निर्माता है इतने लोग पैसे के पीछे भागते हैं अशोक पैसे का गुलाम हो गया वशीभूत हो गया तो इंसानियत मानवता धर्म कर्म पुलिया आपका क्यों में से बाहर कैसे निकल सकता हूं कंचना 2 इंसानियत पर ध्यान दो धर्म का परिचय दो और मानवता के लिए सेवा भाव में जुड़ जाओ क्या एक मालवीय व्यक्ति बन गए और कल प्रधानमंत्री बनते ही ऐसे सांप का ध्यान हट गया जबकि काम सारे पैसे से ही होने लेकिन पैसे के पीछे भागने वाला काम नहीं

log paison ke liye itne Pagal kyon me se kaise paani kar sakta hoon vaastav me aaj insaan ka jeevan kaisa ban gaya hai sirf aise kelava koi bhi insaan kisi baat ko main toh nahi deta hai waise hi bhagya vidhata hai paisa hi annadata hai paisa hi karm nirmaata hai itne log paise ke peeche bhagte hain ashok paise ka gulam ho gaya vashibhut ho gaya toh insaniyat manavta dharm karm puliya aapka kyon me se bahar kaise nikal sakta hoon kanchana 2 insaniyat par dhyan do dharm ka parichay do aur manavta ke liye seva bhav me jud jao kya ek malaviya vyakti ban gaye aur kal pradhanmantri bante hi aise saap ka dhyan hut gaya jabki kaam saare paise se hi hone lekin paise ke peeche bhagne vala kaam nahi

लोग पैसों के लिए इतने पागल क्यों में से कैसे पानी कर सकता हूं वास्तव में आज इंसान का जीवन

Romanized Version
Likes  368  Dislikes    views  6693
WhatsApp_icon
12 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

1:03
Play

Likes  174  Dislikes    views  5799
WhatsApp_icon
user

Dr. Shakeel Akhtar

Homeopathy Doctor

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बेटे इंसान हलाल तरीके से कमाए हलाल रास्ते से कम आए तो कोई बुराई नहीं है कितना ही पैसा कमा दे लेकिन आजकल एक फैशन बन गया है किसी का हक मार लेते हैं किसी को धोखा देकर पैसा इकट्ठा करते हैं किसी की आंखों में धूल झोंकने हैं कोई मिलावट करके पैसा इकट्ठा करता है कोई कम तो उनके पैसे इकट्ठा करता है जबकि बिल्कुल गलत है अपराध है गुनाह है मालिक नाराज होता है जब इंसान दुनिया से जाएगा मरने के बाद में पैसा या दोनों साथ में जाएगी कोठी बंगले यार दोस्त घर वाले बीवी बच्चे कोई भी साथ नहीं देगा सिर्फ अपने अच्छे कर्म साथ साथ देंगे इंसान की अम्लता जाएंगे अगर कर्म अच्छे की है तो जन्नत में जाएगी कर्म बुरे की है तो जेल में डाल दिया जाएगा उसको थैंक यू

bete insaan halal tarike se kamaye halal raste se kam aaye toh koi burayi nahi hai kitna hi paisa kama de lekin aajkal ek fashion ban gaya hai kisi ka haq maar lete hain kisi ko dhokha dekar paisa ikattha karte hain kisi ki aakhon me dhul jhonkane hain koi milavat karke paisa ikattha karta hai koi kam toh unke paise ikattha karta hai jabki bilkul galat hai apradh hai gunah hai malik naaraj hota hai jab insaan duniya se jaega marne ke baad me paisa ya dono saath me jayegi kothi bangale yaar dost ghar waale biwi bacche koi bhi saath nahi dega sirf apne acche karm saath saath denge insaan ki amlata jaenge agar karm acche ki hai toh jannat me jayegi karm bure ki hai toh jail me daal diya jaega usko thank you

बेटे इंसान हलाल तरीके से कमाए हलाल रास्ते से कम आए तो कोई बुराई नहीं है कितना ही पैसा कमा

Romanized Version
Likes  210  Dislikes    views  2040
WhatsApp_icon
user

Shubham Saini

Software Engineer

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पैसों के लिए पागल क्यों होते हैं से बाहर कैसे निकला जाता है कहते हैं ना कि ज्यादा लोग मोह माया में कभी डूबने से बाहर निकलना तो आप नहीं आ सकते हो बस आप यह सोचो कि जितना कमाल ही होता बहुत है और बाद में आप आ सकते हो अच्छी बात है पर इतना ज्यादा करना नहीं अच्छी बात है कि आप अपने जीवन को भी भूल जाओ

paison ke liye Pagal kyon hote hain se bahar kaise nikala jata hai kehte hain na ki zyada log moh maya me kabhi dubne se bahar nikalna toh aap nahi aa sakte ho bus aap yah socho ki jitna kamaal hi hota bahut hai aur baad me aap aa sakte ho achi baat hai par itna zyada karna nahi achi baat hai ki aap apne jeevan ko bhi bhool jao

पैसों के लिए पागल क्यों होते हैं से बाहर कैसे निकला जाता है कहते हैं ना कि ज्यादा लोग मोह

Romanized Version
Likes  344  Dislikes    views  3836
WhatsApp_icon
play
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

1:41

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहले आपको यह समझना होगा कि पैसो के लिए जो आपका बिलीफ है वह क्या है आप पैसों के बारे में क्या सोचते हो उसके बाद आप यह जान लो कि कि दिलीप कहां से आया कि लोगों की कौन सी बातें बचपन से लेकर आज तक आपने जो जो सुनी है जिसकी वजह से आपका यह दिल उदास होता है और अब इसको चेंज करने के लिए आप तरह-तरह की बुक्स वाले और खुद को यह समझाओ कि ठीक है पैसा बहुत जरूरी है आज के जमाने में टाइप करने के लिए और हर तरह की लिखित पैसा सब कुछ नहीं है पैसे के बराबर या पैसे से ज्यादा इंपॉर्टेंट बहुत सारी चीजें कल देखो अपनी कुछ लोगों को तो आप कुछ तो लोग आपको मिल ही जाएंगे जिनके पास बहुत पैसा है उन्होंने अपनी जिंदगी में इतना पैसा कमाया कि जब तक वह मरे गी तब तक उनका खर्चा नाम से चलता लेकिन अगर उनके पास खेल नहीं है तो उस पैसे का कोई फायदा नहीं अगर उनके पास रिलेशनशिप नहीं है कोई उनको प्यार करने वाला नहीं है तो उस पैसे का कोई फायदा तो इस तरीके से जवाब चीजों को देखने लगा कि समझने लगे और खुद को समझाने लगे आपसे इस बात से बाहर निकल जाओगी कि पैसे के पीछे पागल को कोई फायदा पैसे कमाने हैं वह जरूरी है लेकिन पागल है और जो लोग हैं वह इसलिए पागल होते हैं क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है कि पैसे से सब कुछ हो जाएगा एक बार मेरे पास खूब सारा पैसा आ जाए फिर बाकी जिसे तो अपने आप आ जाएगी लेकिन मेरे ख्याल से वह सो चुकी थी गलत है

pehle aapko yah samajhna hoga ki paiso ke liye jo aapka belief hai vaah kya hai aap paison ke bare mein kya sochte ho uske baad aap yah jaan lo ki ki dilip kahaan se aaya ki logo ki kaun si batein bachpan se lekar aaj tak aapne jo jo suni hai jiski wajah se aapka yah dil udaas hota hai aur ab isko change karne ke liye aap tarah tarah ki books waale aur khud ko yah samjhao ki theek hai paisa bahut zaroori hai aaj ke jamane mein type karne ke liye aur har tarah ki likhit paisa sab kuch nahi hai paise ke barabar ya paise se zyada important bahut saree cheezen kal dekho apni kuch logo ko toh aap kuch toh log aapko mil hi jaenge jinke paas bahut paisa hai unhone apni zindagi mein itna paisa kamaya ki jab tak vaah mare gi tab tak unka kharcha naam se chalta lekin agar unke paas khel nahi hai toh us paise ka koi fayda nahi agar unke paas Relationship nahi hai koi unko pyar karne vala nahi hai toh us paise ka koi fayda toh is tarike se jawab chijon ko dekhne laga ki samjhne lage aur khud ko samjhane lage aapse is baat se bahar nikal jaogi ki paise ke peeche Pagal ko koi fayda paise kamane hain vaah zaroori hai lekin Pagal hai aur jo log hain vaah isliye Pagal hote hain kyonki unhe aisa lagta hai ki paise se sab kuch ho jaega ek baar mere paas khoob saara paisa aa jaaye phir baki jise toh apne aap aa jayegi lekin mere khayal se vaah so chuki thi galat hai

पहले आपको यह समझना होगा कि पैसो के लिए जो आपका बिलीफ है वह क्या है आप पैसों के बारे में क्

Romanized Version
Likes  96  Dislikes    views  2852
WhatsApp_icon
user

Dr. Chinmaya Behera

Eco.,Fin., Pol.,life.,&career

0:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पैसा एक जरिया है जहां लोगों की चाहत लोगों के बीच फुल फील करता है आप उससे बाहर निकलने सकते क्योंकि आप हर दिन आपके चाहत को ड्रीम्स को फुल प्ले करने के लिए आपको पैसे की जरूरत पड़ेगी हां पर अब ज्यादा डिमांड करने लगेंगे कि जितना जरूरत है उससे ज्यादा पैसा डिमांड करें करने लगेंगे तो शायद वह पागलपन चला जाएगा और उनको बेटी भी कहा जाता है तो उसे उलझन में मत पड़िए पर पर day-to-day सर्वाइवर आपको पैसे की जरूरत है

paisa ek zariya hai jaha logo ki chahat logo ke beech full feel karta hai aap usse bahar nikalne sakte kyonki aap har din aapke chahat ko dreams ko full play karne ke liye aapko paise ki zarurat padegi haan par ab zyada demand karne lagenge ki jitna zarurat hai usse zyada paisa demand kare karne lagenge toh shayad vaah pagalpan chala jaega aur unko beti bhi kaha jata hai toh use uljhan mein mat padiye par par day to day survivor aapko paise ki zarurat hai

पैसा एक जरिया है जहां लोगों की चाहत लोगों के बीच फुल फील करता है आप उससे बाहर निकलने सकते

Romanized Version
Likes  78  Dislikes    views  2349
WhatsApp_icon
user

ravi prakash

Business Owner

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

तू पैसे के लिए इतने पागल क्यों है मैं इसे कैसे बांधे रखने के लिए पैसा की जोड़ी आ जाए अगर आपको ऐसा नहीं लगता है कि पैसे की जरूरत नहीं है आपने दुनिया के लिए पागल होना सही है मैं वह सब बीजेपी का पैसों के लिए पागल नहीं हूं आपको मिलेगा नहीं कि आप अपने अपना हंड्रेड परसेंट साथ नहीं देंगे तो कोई भी काम आप से नहीं होगा इडियट का हंड्रेड परसेंट देंगे कितने परसेंट मिलेगा 982 अपना पागलपन बेमतलब दिवस फ्रॉम

tu paise ke liye itne Pagal kyon hai main ise kaise bandhe rakhne ke liye paisa ki jodi aa jaaye agar aapko aisa nahi lagta hai ki paise ki zarurat nahi hai aapne duniya ke liye Pagal hona sahi hai main vaah sab bjp ka paison ke liye Pagal nahi hoon aapko milega nahi ki aap apne apna hundred percent saath nahi denge toh koi bhi kaam aap se nahi hoga idiot ka hundred percent denge kitne percent milega 982 apna pagalpan bematalab divas from

तू पैसे के लिए इतने पागल क्यों है मैं इसे कैसे बांधे रखने के लिए पैसा की जोड़ी आ जाए अगर आ

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  59
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  25  Dislikes    views  301
WhatsApp_icon
user

santosh Kumar santosh

College Chairman

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देख लो पैसे के लिए इसलिए पागल है क्योंकि आज इंसानियत नहीं है इसी वजह से लोग पैसे के लिए पागल होते हैं पास मिलो हमसे प्यार से बात करो प्यार को एहसास करो फिलिंग्स को साफ करो या अपनी बीवी का फिल्म सुहास करो कि यही पैसे से पैसे की बालकनी से बाहर निकाल सकता है

dekh lo paise ke liye isliye Pagal hai kyonki aaj insaniyat nahi hai isi wajah se log paise ke liye Pagal hote hain paas milo humse pyar se baat karo pyar ko ehsaas karo feelings ko saaf karo ya apni biwi ka film suhas karo ki yahi paise se paise ki balakani se bahar nikaal sakta hai

देख लो पैसे के लिए इसलिए पागल है क्योंकि आज इंसानियत नहीं है इसी वजह से लोग पैसे के लिए पा

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  246
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाहर ना निकले तो ही अच्छा है पैसे के लिए पागल लोग एक दिन अमीर बनते हैं हां पैसा अगर तुम को पागल बना रहा है इस तरह कि तुम घमंडी हो रहे हो तो वह गलत है अगर तुम घमंडी नहीं हो तो पागल होना अच्छा

bahar na nikle toh hi accha hai paise ke liye Pagal log ek din amir bante hain haan paisa agar tum ko Pagal bana raha hai is tarah ki tum ghamandi ho rahe ho toh vaah galat hai agar tum ghamandi nahi ho toh Pagal hona accha

बाहर ना निकले तो ही अच्छा है पैसे के लिए पागल लोग एक दिन अमीर बनते हैं हां पैसा अगर तुम को

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  87
WhatsApp_icon
user

BOB

Teacher

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल दो पैसे के लिए इतनी पागल क्यों है मैं से कैसे बाहर निकल सकता हूं तो देखे पैसे कमाना जो है वह बुरी बात नहीं है क्योंकि अगर आप अच्छा पैसा कमाएंगे तो आप अपने परिवार को अच्छा रहन-सहन दे सकते हैं आपके लिए अच्छी व्यवस्था कर सकते हैं जरूरी है क्या अगर आप जो इस तरह से पैसा कमा रहे हैं तो वह पैसा कमाना ही पास है लेकिन आप पैसा नाजायज तौर से कमा रहे हो कुछ इस तरह से कब आ रहे हो अलग है तो फिर बहुत ही ज्यादा गलत है तो हमेशा आप इस बात का ध्यान रखें कि जो पैसा कमा रहे हो चाहे इस तरह से हमेशा निकल हो वहां से या गलत काम करके पैसा कमाया गया हमेशा नुकसान पहुंचाता है उसकी रेट भी है क्योंकि जब भी आप किसी ऐसे आलो तू यही होगा

aapka sawaal do paise ke liye itni Pagal kyon hai main se kaise bahar nikal sakta hoon toh dekhe paise kamana jo hai vaah buri baat nahi hai kyonki agar aap accha paisa kamayenge toh aap apne parivar ko accha rahan sahan de sakte hain aapke liye achi vyavastha kar sakte hain zaroori hai kya agar aap jo is tarah se paisa kama rahe hain toh vaah paisa kamana hi paas hai lekin aap paisa najayaj taur se kama rahe ho kuch is tarah se kab aa rahe ho alag hai toh phir bahut hi zyada galat hai toh hamesha aap is baat ka dhyan rakhen ki jo paisa kama rahe ho chahen is tarah se hamesha nikal ho wahan se ya galat kaam karke paisa kamaya gaya hamesha nuksan pohchta hai uski rate bhi hai kyonki jab bhi aap kisi aise aloe vera tu yahi hoga

आपका सवाल दो पैसे के लिए इतनी पागल क्यों है मैं से कैसे बाहर निकल सकता हूं तो देखे पैसे कम

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  207
WhatsApp_icon
user

up sharma c

study and aspirant of CSE

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

महान दार्शनिक 200 कहा करते थे कि वर्तमान समाज के समस्त बुराइयों का मूल जड़ सब समाज का कृत्रिम जीवन है आज हम सब प्राकृतिक जीवन जीने से भटक गए हैं रास्ते से भटक गए हैं हमें पता ही नहीं चलता है कि हम मध्यम मार्ग में जा रही हैं या किसी अन्य गिरने या ज्यादा उठने वाला मार्ग में जा रहे हैं लोग अपने वास्तविकता को ही खो बैठे हैं बस उन्हें यही नजर आता है कि मेरे पड़ोसी मेरे अगल बगल के लोग दूसरे लोग क्या कर रहे हैं मैं भी उनकी दौड़ में शामिल हो जा सकता हूं लोग अपने को भूल गए हैं बस दूसरों को फॉलो करने का जो नया चलन भारत में चल रहा है वही सभी समस्याओं का जड़ है बस उन्हें पता ही नहीं चलता है कि उनका स्थिति त्रिस्तरीय है कि उनका मन भी है शरीर भी है और आत्मा भी है बस लोग शरीर के लिए शरीर के सुख के लिए पैसों की पीछे पागल हो गए इससे साफ जाहिर होता है कि उन्होंने अपने आप को ही खो बैठे हैं इसीलिए आपसे विनती है समाज के हर बूथ पर बुद्धिजीवी वर्गों से मेरी विनती है कि आप आगे आइए समाज में सिर्फ अपने अच्छे के लिए नहीं लोगों के अच्छे के लिए सोचिए मानसिक क्रांति लाइए अच्छी अच्छी बुक ओं का लेखन कीजिए लोगों में 1 नैतिकता और आध्यात्मिकता तथा वर्तमान और भविष्य की कल्पना करते हुए सुख जीवन और आनंद जीवन की कल्पना कीजिए स्वरूप सॉलिटेयर एसक्यू कांड अंकित ने दार्शनिक विद्वानों ने यूरोप में एकमात्र शिक्षित नारी वैसे आप भी लाइए अभी से जागरूक देश को नया दिखा दीजिए धन्यवाद

mahaan darshnik 200 kaha karte the ki vartaman samaj ke samast buraiyon ka mul jad sab samaj ka kritrim jeevan hai aaj hum sab prakirtik jeevan jeene se bhatak gaye hain raste se bhatak gaye hain hamein pata hi nahi chalta hai ki hum madhyam marg mein ja rahi hain ya kisi anya girne ya zyada uthane vala marg mein ja rahe hain log apne vastavikta ko hi kho baithe hain bus unhe yahi nazar aata hai ki mere padosi mere agal bagal ke log dusre log kya kar rahe hain main bhi unki daudh mein shaamil ho ja sakta hoon log apne ko bhool gaye hain bus dusro ko follow karne ka jo naya chalan bharat mein chal raha hai wahi sabhi samasyaon ka jad hai bus unhe pata hi nahi chalta hai ki unka sthiti tristariye hai ki unka man bhi hai sharir bhi hai aur aatma bhi hai bus log sharir ke liye sharir ke sukh ke liye paison ki peeche Pagal ho gaye isse saaf jaahir hota hai ki unhone apne aap ko hi kho baithe hain isliye aapse vinati hai samaj ke har booth par buddhijeevi vargon se meri vinati hai ki aap aage aaiye samaj mein sirf apne acche ke liye nahi logo ke acche ke liye sochiye mansik kranti laiye achi achi book on ka lekhan kijiye logo mein 1 naitikta aur aadhyatmikta tatha vartaman aur bhavishya ki kalpana karte hue sukh jeevan aur anand jeevan ki kalpana kijiye swaroop saliteyar SQ kaand ankit ne darshnik vidvaano ne europe mein ekmatra shikshit nari waise aap bhi laiye abhi se jagruk desh ko naya dikha dijiye dhanyavad

महान दार्शनिक 200 कहा करते थे कि वर्तमान समाज के समस्त बुराइयों का मूल जड़ सब समाज का कृत्

Romanized Version
Likes  23  Dislikes    views  509
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!