मंगल पांडे को फाँसी की सज़ा क्यों हुई थी?...


play
user

Rajveer

Career Counselor

0:13

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मंगल पांडे बैरकपुर छावनी का सीमित था उन्होंने बैरकपुर छावनी में विद्रोह कर दिया था तो अंग्रेजों ने उनको फांसी की सजा दी ताकि मंगल पांडेय ने सैनिकों को नए वर्ष की

mangal pandey bairakapur chavani ka simit tha unhone bairakapur chavani mein vidroh kar diya tha toh angrejo ne unko fansi ki saza di taki mangal pandey ne sainikon ko naye varsh ki

मंगल पांडे बैरकपुर छावनी का सीमित था उन्होंने बैरकपुर छावनी में विद्रोह कर दिया था तो अंग्

Romanized Version
Likes  84  Dislikes    views  1512
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Shilpi Kanchan

Assistant Manager at IPPB

1:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए 18 सो 57 के टाइम पर क्या हुआ कि अंग्रेजो ने चर्बी वाले कारतूस ओं का इंट्रोडक्शन किया सैनिकों को और इन करतूतों में सूअर का मांस और गाय का मांस जिसको बीफ और पोर्क कहते हैं वह मिला होता था और यह हमारे जो रिलीज इन थे यानी कि हिंदू और मुस्लिम दोनों के ही धर्म के अगेंस्ट था कि वह उनको मुंह से खोलें ठीक है इसका विद्रोह हुआ और विद्रोह शुरू किया मंगल पांडे ने 29 मार्च 18 सो 57 को मंगल पांडे ने बैरकपुर छावनी की 34 वी नेटिव इन्फेंट्री बटालियन में पोस्टेड थे उन्होंने उसका विद्रोह किया और इसके चलते उनको 8 अप्रैल 19 अट्ठारह सौ सत्तावन को फांसी की सजा दे दी गई परंतु ऐसा नहीं हुआ कि यह विद्रोह कम हो गया इसके बाद जो बदले की ज्वाला जो उठी सैनिकों के मन में राजाओं के मन में रोज इतने भी रियासतें थी वह बहुत ही बड़ा विद्रोह बन कर सामने आया जिसको 18 सो 57 की क्रांति कहते हैं तो मुझे लगता है आपके आंसर आपको मिल गए हैं थैंक यू सो मच

dekhiye 18 so 57 ke time par kya hua ki angrejo ne charbi waale kartoos on ka introduction kiya sainikon ko aur in karatuton mein suar ka maas aur gaay ka maas jisko beef aur Pork kehte hai vaah mila hota tha aur yah hamare jo release in the yani ki hindu aur muslim dono ke hi dharm ke against tha ki vaah unko mooh se kholen theek hai iska vidroh hua aur vidroh shuru kiya mangal pandey ne 29 march 18 so 57 ko mangal pandey ne bairakapur chavani ki 34 va native infentri batalion mein posted the unhone uska vidroh kiya aur iske chalte unko 8 april 19 attharah sau sattawan ko fansi ki saza de di gayi parantu aisa nahi hua ki yah vidroh kam ho gaya iske baad jo badle ki jwala jo uthi sainikon ke man mein rajaon ke man mein roj itne bhi riyasaten thi vaah bahut hi bada vidroh ban kar saamne aaya jisko 18 so 57 ki kranti kehte hai toh mujhe lagta hai aapke answer aapko mil gaye hai thank you so match

देखिए 18 सो 57 के टाइम पर क्या हुआ कि अंग्रेजो ने चर्बी वाले कारतूस ओं का इंट्रोडक्शन किया

Romanized Version
Likes  19  Dislikes    views  481
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!