मेरा बॉयफ़्रेंड बहुत ज़्यादा कंट्रोलिंग हो रहा है। वो हमेशा पूछता है मैं कहाँ जा रहीं हूँ, क्या करती हूँ? क्या ये सामान्य है?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विदेशी कुछ हद तक यह स्वाभाविक हो सकता है ऐसा नेचुरल हो सकता है क्योंकि आप तो जानते ही हैं बचपन से हमारी योनो यह आदत रहती है फितरत होती है कि मैं अपना पेंसिल अपना ज्योमेट्री बॉक्स अपना खिलौना किसी के साथ जल्दी शेयर नहीं करता मैं नहीं चाहूंगा कि वह मैं किसी को दे दूं मैं चाहूंगा कि वह मेरे साथ ही रह मेरे पास ही रहे बगैरा बगैरा तो इसी तरह कुछ हद तक यह समझ आता की चलो ठीक है हो सकता है वह आपकी फिक्र करते हैं आपके बारे में सोचते हैं चिंता करते हैं इसलिए वह थोड़ा जानना चाहते हैं समझना चाहते कि आप क्या कर रहे हैं और हो सकता कुछ सुझाव दे दे मशवरा देने बगैरा बगैरा लेकिन अगर डिग्री डिग्री का हो रहा है या जिस-जिस फ्रीक्वेंसी से हो रहा है कि ऐसा लगता है कि मानो वह चीज जानना चाहते हैं मेरे को ज्यादा परदेसी हो रहे हैं तो फिर यह सोच समझ कर बात करने की बात है उन से बात कीजिए उसको उनको समझा और कोई सा भेज दीजिए लेकिन कहने से कराने से नहीं हो जाएगा फोन के अंदर में फीलिंग जानी पड़ेगी वैसे इसके बारे में बताता हूं उससे पहले एक और पहलू देखते हैं कि आप देखिए कि कहीं आप की तरफ से ऐसी कोई काम या हरकत तो नहीं हो रही है जिसके कारण उनके उनके अंदर यह भावना और प्रबल होती जा रही है कहीं आपने तो आप चैरिटी नहीं देती ऐसी जिसके कारण वह संख्या में आ जाते हैं वह सोचते हैं कि यह क्या कर रही होगी इस समय कई कहीं ऐसा तो नहीं हुआ कि आप कहीं गए बिना बताए और आपने यह मोबाइल स्विच ऑफ है वगैरा-वगैरा या अपनी कॉल रिसीव नहीं की वगैरह भी आशंका पैदा करते बगैर कैसे लाया जाए जब रास्ता जाएगा ऑटोमेटिकली तो काफी हद तक यह चीज है ठीक-ठाक हो जाती है लेकिन जब ट्रस्ट की कमी रहती है ना तब ऐसे होने के चांसेस और ज्यादा रहते तो दोनों पार्टी को यह देखना पड़ेगा कि हम इस रिलेशनशिप को कैसे प्रसन्न करें और वह पेंशन बात करने से नहीं ट्रस्ट से होती है तो आप ट्रस्ट बिल्ड करने की कोशिश कीजिए और फिर बात कीजिए

videshi kuch had tak yah swabhavik ho sakta hai aisa natural ho sakta hai kyonki aap toh jante hi hain bachpan se hamari yono yah aadat rehti hai phitarat hoti hai ki main apna pencil apna Geometry box apna khilona kisi ke saath jaldi share nahi karta main nahi chahunga ki vaah main kisi ko de doon main chahunga ki vaah mere saath hi reh mere paas hi rahe bagaira bagaira toh isi tarah kuch had tak yah samajh aata ki chalo theek hai ho sakta hai vaah aapki fikra karte hain aapke bare mein sochte hain chinta karte hain isliye vaah thoda janana chahte hain samajhna chahte ki aap kya kar rahe hain aur ho sakta kuch sujhaav de de mashwara dene bagaira bagaira lekin agar degree degree ka ho raha hai ya jis jis frequency se ho raha hai ki aisa lagta hai ki maano vaah cheez janana chahte hain mere ko zyada pardesi ho rahe hain toh phir yah soch samajh kar baat karne ki baat hai un se baat kijiye usko unko samjha aur koi sa bhej dijiye lekin kehne se karane se nahi ho jaega phone ke andar mein feeling jani padegi waise iske bare mein batata hoon usse pehle ek aur pahaloo dekhte hain ki aap dekhiye ki kahin aap ki taraf se aisi koi kaam ya harkat toh nahi ho rahi hai jiske karan unke unke andar yah bhavna aur prabal hoti ja rahi hai kahin aapne toh aap charity nahi deti aisi jiske karan vaah sankhya mein aa jaate hain vaah sochte hain ki yah kya kar rahi hogi is samay kai kahin aisa toh nahi hua ki aap kahin gaye bina bataye aur aapne yah mobile switch of hai vagaira vagaira ya apni call receive nahi ki vagairah bhi ashanka paida karte bagair kaise laya jaaye jab rasta jaega atometikli toh kafi had tak yah cheez hai theek thak ho jaati hai lekin jab trust ki kami rehti hai na tab aise hone ke chances aur zyada rehte toh dono party ko yah dekhna padega ki hum is Relationship ko kaise prasann karen aur vaah pension baat karne se nahi trust se hoti hai toh aap trust build karne ki koshish kijiye aur phir baat kijiye

विदेशी कुछ हद तक यह स्वाभाविक हो सकता है ऐसा नेचुरल हो सकता है क्योंकि आप तो जानते ही हैं

Romanized Version
Likes  69  Dislikes    views  1623
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!