जाति और धर्म में क्या अंतर है?...


user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

1:08
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जय राम जी की जाति और धर्म में अंतर यह है कि धर्म का अर्थ होता है धारण करना और धर्म धर्म संसार से ऊपर है धर्म वह है सत्यं वद धर्मं चर यह धर्म के अनुसार चलना सत्य बोलना ही धर्म का पद होता है धर्म में कोई माता अंतर नहीं होता है धर्म किसी जाति से नहीं होता है धर्म किसी भी व्यक्ति विशेष से नहीं होता है धर्म केवल कारणों से होता है और जाति शब्द का अर्थ है माता के गर्भ से जाने के बाद व्यक्ति जैसा कर्म करता है वैसी ही उसकी जाति होती है ब्राह्मण के घर जन्म लेने वाला व्यक्ति कर्म हीन होकर शूद्र हो सकता है परंतु समाज में इस बात को मूल्यांकन नहीं किया जाता है इस बात को ज्यादा फैलाई जाती है कि ब्राह्मण घर में जन्म लेकर हम बड़े हो गए परंतु वास्तविक बात क्या है इस शरीर के जब सभी एक साथ जुड़े हुए हैं अलग अलग होकर नहीं खरीद सकता समाज में चारों वर्ग एक हैं और इनके बिना समाज का उत्थान हो ही नहीं सकता है जय राम जी

jai ram ji ki jati aur dharm me antar yah hai ki dharm ka arth hota hai dharan karna aur dharm dharm sansar se upar hai dharm vaah hai satyan wad dharman char yah dharm ke anusaar chalna satya bolna hi dharm ka pad hota hai dharm me koi mata antar nahi hota hai dharm kisi jati se nahi hota hai dharm kisi bhi vyakti vishesh se nahi hota hai dharm keval karanon se hota hai aur jati shabd ka arth hai mata ke garbh se jaane ke baad vyakti jaisa karm karta hai vaisi hi uski jati hoti hai brahman ke ghar janam lene vala vyakti karm heen hokar shudra ho sakta hai parantu samaj me is baat ko mulyankan nahi kiya jata hai is baat ko zyada failai jaati hai ki brahman ghar me janam lekar hum bade ho gaye parantu vastavik baat kya hai is sharir ke jab sabhi ek saath jude hue hain alag alag hokar nahi kharid sakta samaj me charo varg ek hain aur inke bina samaj ka utthan ho hi nahi sakta hai jai ram ji

जय राम जी की जाति और धर्म में अंतर यह है कि धर्म का अर्थ होता है धारण करना और धर्म धर्म सं

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  2703
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!