जाति धर्म को कैसे नकारें?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

2:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जाति धर्म को कैसे न करें लिखित जाति धर्म को अपना कर रहे हैं तो फिर जवाब क्यों कह रहे हैं कि मैं जाति धर्म को कैसे निकाले आपको जाति धर्म निकालना तो आप जो भी देश के वासी हैं आप उस देश के ही निवासी रहेंगे नागरिकता क्योंकि देश के रहे और जाति और धर्म तो हमारे नाम से कोई भी समझ सकता है जैसे अगर आपका नाम हिंदू नाम के अनुसार है तो हिंदू नाम जो होगा उसके अनुसार होगा आपका मिडल नेम होगा और आपकी सरनेम होगी अगर वह सबको आपको निकालना है तो आप अपना नाम बिल्कुल अलग तरह से लगती आप इंडियन भारतीय लिख सकते हैं लेकिन सानू नहीं धर्म बनाया है और इंसानों ने ही जाती बनाई है इसलिए उस को आगे बढ़ाने वाले भी इंसान हैं और न करने वाले भी इंसान हैं लेकिन जो आइडेंटिटी होती है वह हम जिस घर में जिससे कुटुंब में जिससे संप्रदाय नहीं आ जिस धर्म में पहले से जो फॉलो कर रहे हैं जिस पर उनको उस माता के गर्भ से जन्म लिया है तो हमें अपने आप वह धर्म और और जाति मिल जाती है और उसी तरह हमारा नाम पड़ा होता उस समय तो हमारा कोई दोस्त नहीं चलता हमारा बस नहीं होता कि हम सिर्फ संप्रदाय के शर्मा किस जाति में जन्म लेंगे इसलिए उसको जब आप को न करना चाहते हैं तो आपको अपना नाम बताना पड़ेगा और आपको धर्म की पसंद ना हो पर बदल सकती क्योंकि भारत पर जो है वह बिल्कुल संप्रदाय सभी संप्रदाय के लोग यहां रहते हैं सभी धर्म के लोग रहते तो आज पूर्ण करना है तो यह आपकी इच्छा हो सकती है आप सिर्फ एक भारतीय बन के रहिए एक इंसान बनकर रहें धन्यवाद

jati dharm ko kaise na kare likhit jati dharm ko apna kar rahe hain toh phir jawab kyon keh rahe hain ki main jati dharm ko kaise nikale aapko jati dharm nikalna toh aap jo bhi desh ke waasi hain aap us desh ke hi niwasi rahenge nagarikta kyonki desh ke rahe aur jati aur dharm toh hamare naam se koi bhi samajh sakta hai jaise agar aapka naam hindu naam ke anusaar hai toh hindu naam jo hoga uske anusaar hoga aapka middle name hoga aur aapki surname hogi agar vaah sabko aapko nikalna hai toh aap apna naam bilkul alag tarah se lagti aap indian bharatiya likh sakte hain lekin sanu nahi dharm banaya hai aur insano ne hi jaati banai hai isliye us ko aage badhane waale bhi insaan hain aur na karne waale bhi insaan hain lekin jo identity hoti hai vaah hum jis ghar me jisse kutumb me jisse sampraday nahi aa jis dharm me pehle se jo follow kar rahe hain jis par unko us mata ke garbh se janam liya hai toh hamein apne aap vaah dharm aur aur jati mil jaati hai aur usi tarah hamara naam pada hota us samay toh hamara koi dost nahi chalta hamara bus nahi hota ki hum sirf sampraday ke sharma kis jati me janam lenge isliye usko jab aap ko na karna chahte hain toh aapko apna naam batana padega aur aapko dharm ki pasand na ho par badal sakti kyonki bharat par jo hai vaah bilkul sampraday sabhi sampraday ke log yahan rehte hain sabhi dharm ke log rehte toh aaj purn karna hai toh yah aapki iccha ho sakti hai aap sirf ek bharatiya ban ke rahiye ek insaan bankar rahein dhanyavad

जाति धर्म को कैसे न करें लिखित जाति धर्म को अपना कर रहे हैं तो फिर जवाब क्यों कह रहे हैं

Romanized Version
Likes  341  Dislikes    views  6827
KooApp_icon
WhatsApp_icon
6 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!