बाल मजदूरी एक कानून अपराध है ईसपर प्रकश डाले?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

4:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बाल मजदूरी एक कानून अपराध है इस पर प्रकाश डालें कि भारत में बाल श्रम निषेध और विनियमन अधिनियम 1986 में 14 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति को परिभाषित किया गया और संशोधन ने कहा गया कि 14 से 18 वर्ष की आयु के बच्चों को खतरनाक रूप में निर्धारित किसी भी प्रकार के काम में रोजगार से सख्ती से वह प्रतिबंधित है याने कि ऐसे बच्चों को नौकरी मजबूरी में नहीं लगाना अधिकांश जनसंख्या गरीबी भारत के 2 सामाजिक संस्थाएं 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चे को काम करने और जिंदगी कमाने के लिए मजबूर करती है बाल श्रम वास्तविकता है जिसे हम रोजमर्रा के जीवन में लेकिन इसके परिणाम और प्रभाव को अनदेखा करना उनके पिता के स्वामित्व वाले स्टॉल में चाय की सेवा करने वाले एक बच्चा केवल 6 साल की उम्र में आप के वाहनों के वायु दाब तीजा के बच्चा हो जाता सिग्नल सिग्नल पर उपहार भेजा बाल श्रम का खतरा इतना तकलीफ हो गया कि अधिकतर बेहतर जीवन जीने में उनकी मदद करने के बजाय काम के बजाय उनकी स्थिति को अनदेखा करना चुनते हैं भारत में बाल मजदूरों की संख्या 5 से 14 वर्ष की आयु के बीच करीबन 8 पॉइंट 22 मिलियन थी यह आंकड़ा सुधार का प्रतिनिधित्व करता है क्योंकि वर्षों में संख्या में गिरावट आई है 1991 में भारत में 12 मिलियन की आस्था बाल मजदूर से 2001 की जनगणना के 12:30 मिलियन बाल मजबूत से भारत में बाल श्रम से संबंधित कानून कड़े काम करे नंद के चरण तक नहीं पहुंचता है बाल अधिकार और अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन एक बच्चे को 18 वर्ष से कम आयु के किसी भी व्यक्ति के रूप में परिभाषित करता है अनुच्छेद 32 किसी बच्चे के संगठित होने का अधिकार पहचानता है और आर्थिक शोषण से और किसी भी काम को करने से हानिकारक होने या बच्चे की शिक्षा में हस्तक्षेप करने या बच्चे के स्वास्थ्य शारीरिक मानसिक आध्यात्मिक आर्थिक या सामाजिक विकास के लिए हानिकारक होने की पूरी संभावना है भारत में बाल श्रम निषेध 1986 में 14 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति के रूप में एक बच्चे को बताया गया और संवैधानिक प्रावधान का अनुच्छेद 242 खतरनाक गतिविधियों में रोजगार के खिलाफ 14 वर्ष से कम आयु के बच्चों को सुरक्षा निर्दिष्ट करते अनुच्छेद 23 जो तस्करी और मजदूर श्रम पर रोक लगाता है अनुच्छेद 21a 6 से 14 वर्ष की आयु के सभी बच्चों के लिए शिक्षा का अधिकार प्रदान करता अनुच्छेद 39 जो राज्य सरकारों को यह सुनिश्चित करने के लिए बताता है कि बच्चों को जरूर यार के खिलाफ संरक्षित किया जाए उन्हें ऐसे व्यवसाय में प्रवेश करने के लिए मजबूर नहीं किया गया जिनकी उम्र ताकत के लिए उपयुक्त नहीं अनुच्छेद 15 सरकार को कानूनों और नीतियों को बनाने की शक्ति प्रदान करता है बच्चों के अधिकारों की रक्षा करते हैं और उनको कल्याण सुनिश्चित करते हैं हालांकि मौलिक अधिकार और कर्तव्य के दायरे में पढ़ने वाले बावजूद भारत में बच्चों की स्थिति पर हम जितना प्रभाव चाहते हैं उतना अभी तक तो यह समस्या नहीं पूरी तरह से मिटाई जा सकती है यह एक चुनौती है और बाल श्रम बाल मत एक तरफ से कलंक है और आने वाले भविष्य के लिए यह बहुत बड़ा जिसे कहा जाए खतरा है क्योंकि बच्चे शिक्षा लेने की उम्र में अगर मजदूरी करेंगे और शिक्षा कब लेंगे और शिक्षित कब होंगे और क्या हम अज्ञानता बच्चों में आज डाल रहे हैं और उन्हें मजदूरी करने में सहयोग कर रहे हैं तो आने वाली पीढ़ी कैसे अपना जीवन यापन कर पाएगी अशिक्षित रह जाएगी इसलिए हमें बाल मजदूरी को रोकना और उसे शिक्षा की तरफ मोड़ना एकमात्र उपाय है इसके लिए गरीबी और बढ़ती हुई जनसंख्या बहुत बड़ी चुनौती है बाल मजदूरी को रोकना है तो पहले हमें गरीबी और बेरोजगारी की समस्या से जूझना होगा धन्यवाद

baal mazdoori ek kanoon apradh hai is par prakash Daalein ki bharat me baal shram nishedh aur viniyaman adhiniyam 1986 me 14 varsh se kam umar ke vyakti ko paribhashit kiya gaya aur sanshodhan ne kaha gaya ki 14 se 18 varsh ki aayu ke baccho ko khataranaak roop me nirdharit kisi bhi prakar ke kaam me rojgar se sakhti se vaah pratibandhit hai yane ki aise baccho ko naukri majburi me nahi lagana adhikaansh jansankhya garibi bharat ke 2 samajik sansthayen 14 varsh se kam umar ke bacche ko kaam karne aur zindagi kamane ke liye majboor karti hai baal shram vastavikta hai jise hum rozmarra ke jeevan me lekin iske parinam aur prabhav ko andekha karna unke pita ke swamitwa waale stall me chai ki seva karne waale ek baccha keval 6 saal ki umar me aap ke vahanon ke vayu dab tija ke baccha ho jata signal signal par upahar bheja baal shram ka khatra itna takleef ho gaya ki adhiktar behtar jeevan jeene me unki madad karne ke bajay kaam ke bajay unki sthiti ko andekha karna chunte hain bharat me baal majduro ki sankhya 5 se 14 varsh ki aayu ke beech kariban 8 point 22 million thi yah akanda sudhaar ka pratinidhitva karta hai kyonki varshon me sankhya me giraavat I hai 1991 me bharat me 12 million ki astha baal majdur se 2001 ki janganana ke 12 30 million baal majboot se bharat me baal shram se sambandhit kanoon kade kaam kare nand ke charan tak nahi pahuchta hai baal adhikaar aur antarrashtriya shram sangathan ek bacche ko 18 varsh se kam aayu ke kisi bhi vyakti ke roop me paribhashit karta hai anuched 32 kisi bacche ke sangathit hone ka adhikaar pahachanta hai aur aarthik shoshan se aur kisi bhi kaam ko karne se haanikarak hone ya bacche ki shiksha me hastakshep karne ya bacche ke swasthya sharirik mansik aadhyatmik aarthik ya samajik vikas ke liye haanikarak hone ki puri sambhavna hai bharat me baal shram nishedh 1986 me 14 varsh se kam umar ke vyakti ke roop me ek bacche ko bataya gaya aur samvaidhanik pravadhan ka anuched 242 khataranaak gatividhiyon me rojgar ke khilaf 14 varsh se kam aayu ke baccho ko suraksha nirdisht karte anuched 23 jo taskari aur majdur shram par rok lagaata hai anuched 21a 6 se 14 varsh ki aayu ke sabhi baccho ke liye shiksha ka adhikaar pradan karta anuched 39 jo rajya sarkaro ko yah sunishchit karne ke liye batata hai ki baccho ko zaroor yaar ke khilaf sanrakshit kiya jaaye unhe aise vyavasaya me pravesh karne ke liye majboor nahi kiya gaya jinki umar takat ke liye upyukt nahi anuched 15 sarkar ko kanuno aur nitiyon ko banane ki shakti pradan karta hai baccho ke adhikaaro ki raksha karte hain aur unko kalyan sunishchit karte hain halaki maulik adhikaar aur kartavya ke daayre me padhne waale bawajud bharat me baccho ki sthiti par hum jitna prabhav chahte hain utana abhi tak toh yah samasya nahi puri tarah se mitai ja sakti hai yah ek chunauti hai aur baal shram baal mat ek taraf se kalank hai aur aane waale bhavishya ke liye yah bahut bada jise kaha jaaye khatra hai kyonki bacche shiksha lene ki umar me agar mazdoori karenge aur shiksha kab lenge aur shikshit kab honge aur kya hum agyanata baccho me aaj daal rahe hain aur unhe mazdoori karne me sahyog kar rahe hain toh aane wali peedhi kaise apna jeevan yaapan kar payegi ashikshit reh jayegi isliye hamein baal mazdoori ko rokna aur use shiksha ki taraf modna ekmatra upay hai iske liye garibi aur badhti hui jansankhya bahut badi chunauti hai baal mazdoori ko rokna hai toh pehle hamein garibi aur berojgari ki samasya se jujhna hoga dhanyavad

बाल मजदूरी एक कानून अपराध है इस पर प्रकाश डालें कि भारत में बाल श्रम निषेध और विनियमन अधिन

Romanized Version
Likes  408  Dislikes    views  6535
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Vinay Modi

Advocate

0:40
Play

Likes  84  Dislikes    views  1205
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  58  Dislikes    views  1537
WhatsApp_icon
user

Kanchan RK Sharma

Life Coach, Tarot, Numerology, Healing

1:03
Play

Likes  4  Dislikes    views  92
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  8  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user
0:56
Play

Likes  3  Dislikes    views  153
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!