औरंगजेब का दो बार राज्याभिषेक हुआ कब कब हुआ?...


user
3:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड्स तो आज मैं आपके प्रश्न का उत्तर लेकर आ गया हूं औरंगजेब का दो बार राज्याभिषेक कब कब हुआ तो पहले मैं आपको दो बार राजेश चेक जब हुआ उनकी डेट बता देता हूं उसके बाद मैं आपको औरंगजेब के बारे में थोड़ी जानकारी दे दूंगा तो उसका पहला राज्य अभिषेक 31 जुलाई 1658 ईस्वी में हुआ था पहला राज्य अभिषेक कब हुआ 31 जुलाई 1658 इसका दूसरा राज्य अभिषेक 15 जून 1659 में हुआ कब हुआ 15 जून 1659 में इसका दूसरा राज्य अभिषेक हुआ अब औरंगजेब के बारे में थोड़ी जानकारी दे देता हूं औरंगजेब का जन्म 3 नवंबर 1618 को उज्जैन में हुआ औरंगजेब का जन्म 3 नवंबर 1618 को उज्जैन में हुआ उज्जैन के पास स्थित दोहन जगह दो हन्नान की उज्जैन के पास उस उस में हूं औरंगजेब को जिंदा पीर के नाम से भी जाना जाता था जी हां अगर आपको ज्ञान में कोई क्वेश्चन है कि जिंदा पीर के नाम से किसे जाना जाता था तो औरंगजेब को जिंदा पीर के नाम से भी जाना जाता था औरंगजेब के पिता का नाम शाहजहां था और उनकी माता का नाम ममता था अब क्या हुआ शाहजहां बीमार पड़ गए शाहजहां बीमार होने के बाद उनको गद्दी संभालना मुश्किल पड़ गया तो शाहजहां के चार पुत्र और दो पुत्रियां थी तो अब इन सब में उत्तराधिकारी यों का युद्ध शुरू हो गया या संघर्ष शुरू हो गया कि कौन संभालेगा राजा मैं बनूंगा मैं बनवा सब महत्वकांक्षी हो गई तू औरंगजेब ने सब को हराकर 21 जुलाई 1658 ईस्वी में मुगल साम्राज्य की गद्दी पर अपना कब्जा कर लिया इस डेट को याद रखना दोस्तों 21 कंफ्यूज मत होना जो 2 डेट मैंने पहले बताई थी और एक डेट बता रहा हूं 21 जुलाई 1658 में सिर्फ कब्जा किया है राज्य अभिषेक नहीं हुआ 21 जुलाई 1658 इस बी मैच में कब्जा किया फिर 10 दिनों बाद 31 जुलाई 1658 उसका पहला राज्य से हुआ था इस डेट में कंफ्यूज मत होना उसने अपने पिता शाहजहां को आगरा के किले साहब ब्रज में बंदी बनवा दिया और इसने अपने भाइयों को मृत्यु दंड देकर मरवा दिया दोनों ही राज्य अभिषेक दिल्ली में हुए हैं मुगल साम्राज्य का ताज पहनते ही औरंगजेब को आलमगीर की उपाधि दी गई आपको दोस्तों कन्फ्यूजन हो सकता है इस चीज में कि 21 जुलाई 1658 पर गद्दी पर अपना कब्जा किया इसको याद रखना किक सिर्फ कब्जा किया है राज्य अभिषेक नहीं हुआ 21 जुलाई 1658 में इसका राज्य अभिषेक नहीं हुआ है इसमें गद्दी पर कब्जा किया था इसके 10 दिन बाद करेक्ट 10 दिन बाद इसका पहला राज्य 31 जुलाई 1658 ईस्वी में उसका दूसरा राज्य अभिषेक हुआ 15 जून 1659 में धन्यवाद

hello friends toh aaj main aapke prashna ka uttar lekar aa gaya hoon aurangzeb ka do baar rajyabhishek kab kab hua toh pehle main aapko do baar rajesh check jab hua unki date bata deta hoon uske baad main aapko aurangzeb ke bare me thodi jaankari de dunga toh uska pehla rajya abhishek 31 july 1658 isvi me hua tha pehla rajya abhishek kab hua 31 july 1658 iska doosra rajya abhishek 15 june 1659 me hua kab hua 15 june 1659 me iska doosra rajya abhishek hua ab aurangzeb ke bare me thodi jaankari de deta hoon aurangzeb ka janam 3 november 1618 ko ujjain me hua aurangzeb ka janam 3 november 1618 ko ujjain me hua ujjain ke paas sthit dohan jagah do hannan ki ujjain ke paas us us me hoon aurangzeb ko zinda pir ke naam se bhi jana jata tha ji haan agar aapko gyaan me koi question hai ki zinda pir ke naam se kise jana jata tha toh aurangzeb ko zinda pir ke naam se bhi jana jata tha aurangzeb ke pita ka naam shahjahan tha aur unki mata ka naam mamata tha ab kya hua shahjahan bimar pad gaye shahjahan bimar hone ke baad unko gaddi sambhaalna mushkil pad gaya toh shahjahan ke char putra aur do putriyan thi toh ab in sab me uttradhikari yo ka yudh shuru ho gaya ya sangharsh shuru ho gaya ki kaun sambhalega raja main banunga main banwa sab mahatwakankshi ho gayi tu aurangzeb ne sab ko harakar 21 july 1658 isvi me mughal samrajya ki gaddi par apna kabza kar liya is date ko yaad rakhna doston 21 confuse mat hona jo 2 date maine pehle batai thi aur ek date bata raha hoon 21 july 1658 me sirf kabza kiya hai rajya abhishek nahi hua 21 july 1658 is be match me kabza kiya phir 10 dino baad 31 july 1658 uska pehla rajya se hua tha is date me confuse mat hona usne apne pita shahjahan ko agra ke kile saheb braj me bandi banwa diya aur isne apne bhaiyo ko mrityu dand dekar marava diya dono hi rajya abhishek delhi me hue hain mughal samrajya ka taj pehente hi aurangzeb ko alamgeer ki upadhi di gayi aapko doston confusion ho sakta hai is cheez me ki 21 july 1658 par gaddi par apna kabza kiya isko yaad rakhna kick sirf kabza kiya hai rajya abhishek nahi hua 21 july 1658 me iska rajya abhishek nahi hua hai isme gaddi par kabza kiya tha iske 10 din baad correct 10 din baad iska pehla rajya 31 july 1658 isvi me uska doosra rajya abhishek hua 15 june 1659 me dhanyavad

हेलो फ्रेंड्स तो आज मैं आपके प्रश्न का उत्तर लेकर आ गया हूं औरंगजेब का दो बार राज्याभिषेक

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  137
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!