भगवान शिव को रोली क्यों नहीं चढ़ाते?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भगवान शिव को होली क्यों नहीं चाहते लेकिन भगवान शिव की पूजा में तुलसी का पत्ता प्रयोग नहीं किया जाता है पौराणिक मान्यताओं के अनुसार भगवान शिव ने वृंदा के पति जालंधर का वध किया था इसमें भगवान विष्णु ने जालंधर का रूप धारण करके गोविंदा के पति उस्ताद धाम को थोड़ा सा यह बात जानने पवन दा ने आत्मदाह कर लिया इस जगह पर तुलसी का पौधा उगाने शिव पूजा में तुलसी के नोट शामिल होने की बात कही थी भगवान शिव की पूजा में हल्दी भी वर्जित है मांगलिक और धार्मिक कार्यों में हल्दी को शुभ माना जाता है हल्दी का संदेश प्रशासन में किस थाने के लिंग पुरुष को का प्रतीक है इसलिए भोलेनाथ को हल्दी और किस नहीं किया जाता है भगवान शिव को करने और कमलनाथ लाल रंग के फूल और केतकी केवड़े का फूल भी नहीं चलाते भगवान शिव की पूजा में शंखनाद नहीं किया जाता और ना ही संघ से उनका जलाभिषेक किया जाता है उन्होंने शंख चूर नामक राक्षस का वध किया था इसलिए पूजा में शंख निषेध भगवान शिव को बेलपत्र चढ़ाते हैं नारियल पानी और रोली नारियल के पानी से भगवान शिव को अभिषेक निषेध है उनको रोली भी नहीं लगाई जाती है नारियल को लक्ष्मी का स्वरूप माना जाता है और लक्ष्मी भगवान विष्णु की पत्नी हैं इसलिए नारियल पानी और रोली भगवान शिव को अभिषेक नहीं किया जाता है धन्यवाद

bhagwan shiv ko holi kyon nahi chahte lekin bhagwan shiv ki puja me tulsi ka patta prayog nahi kiya jata hai pouranik manyataon ke anusaar bhagwan shiv ne vrinda ke pati jalandhar ka vadh kiya tha isme bhagwan vishnu ne jalandhar ka roop dharan karke govinda ke pati ustad dhaam ko thoda sa yah baat jaanne pawan the ne aatmadaah kar liya is jagah par tulsi ka paudha ugane shiv puja me tulsi ke note shaamil hone ki baat kahi thi bhagwan shiv ki puja me haldi bhi varjit hai manglik aur dharmik karyo me haldi ko shubha mana jata hai haldi ka sandesh prashasan me kis thane ke ling purush ko ka prateek hai isliye bholenaath ko haldi aur kis nahi kiya jata hai bhagwan shiv ko karne aur kamalnath laal rang ke fool aur ketaki kevade ka fool bhi nahi chalte bhagwan shiv ki puja me shankhanad nahi kiya jata aur na hi sangh se unka jalabhishek kiya jata hai unhone shankh chur namak rakshas ka vadh kiya tha isliye puja me shankh nishedh bhagwan shiv ko bailpatra chadhate hain nariyal paani aur roli nariyal ke paani se bhagwan shiv ko abhishek nishedh hai unko roli bhi nahi lagayi jaati hai nariyal ko laxmi ka swaroop mana jata hai aur laxmi bhagwan vishnu ki patni hain isliye nariyal paani aur roli bhagwan shiv ko abhishek nahi kiya jata hai dhanyavad

भगवान शिव को होली क्यों नहीं चाहते लेकिन भगवान शिव की पूजा में तुलसी का पत्ता प्रयोग नहीं

Romanized Version
Likes  363  Dislikes    views  4789
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

ज्योतिषी झा मेरठ (Pt. K L Shashtri)

Astrologer Jhaमेरठ,झंझारपुर और मुम्बई

0:20
Play

Likes  76  Dislikes    views  1988
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  7  Dislikes    views  169
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!