हमारे क्लास के सभी विद्यार्थी मेंरे दोस्त है?...


user

डॉ दीपेंद्र शर्मा

निदेशक भोज शोध संस्थान

2:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

फर्स्ट करता है विद्यार्थी साथी वह कल के माध्यम से आपने बहुत ही महत्वपूर्ण पोस्ट पूछा है क्या क्लास के सभी विद्यार्थी मेरे दोस्त हैं विद्यार्थी नाते दोस्त की अवधारणा बहुत ही विराट है भूत गंदम भी रे आपकी कक्षा में जितने विद्यार्थी आपके सपा के साथ पढ़ने वाले हैं आपके सारे विद्यार्थी आपके सपाठी हो सकते हैं दोस्त होंगे कि नहीं होंगे यह आपके व्यवहार पर निर्भर करता है कई बार कुछ विद्यार्थी ऐसे में जिले पूरी कक्षा पूरे सभा की साथी तृप्ति का तार के लोक व्यवहार पर आपके सामाजिक व्यवहार पर आपके स्वभाव पर आपके बात करने के तरीके पर गंगे एक्स बराबर नेचर पर निर्भर करता है क्या आपके सपाटी कितने आपके दोस्तों में कितने आपके सपाटी रहेंगे कभी दोस्त मतलब केवल आपके साथ निभाना लगती दोस्त होगा कि आवश्यक नहीं दोस्ती की अवधारणा परम विश्वास परम सहयोग प्रकृति है तो सारे सपाठी आपके दोस्त बन सकते हैं बस सकते आपका नेचर सर्वदा हितावाला हो और आपकी आवश्यकता भी हो कि सारे दोस्त को आज हम देखते कि जब हम बड़े कक्षा में आ गए बड़ी उम्र में आ गए हैं तुम्हारी कक्षाओं के 40 50 विद्यार्थियों में से 45 हमारे संपर्क में आज हमारे सुख-दुख केशवानी हैं इसका मतलब हो 4050 में चार-पांच लोग हमारे दोस्त की परिधि में है गुजरात ताकि आपको दोस्ती की गहराई को समझ गए होंगे दोस्ती के महत्व समझ गए होंगे और साथ पढ़ने वाले विद्यार्थी का महत्व समझते हुए अब आप पर निर्भर करता है कि आपको रिक्शा को से सभी सपाटी को दोस्त बना सकते हैं जब मैं चेंज करके कुछ दोस्तों को अब बना सकते हैं धन्यवाद

first karta hai vidyarthi sathi vaah kal ke madhyam se aapne bahut hi mahatvapurna post poocha hai kya class ke sabhi vidyarthi mere dost hain vidyarthi naate dost ki avdharna bahut hi virat hai bhoot gandam bhi ray aapki kaksha me jitne vidyarthi aapke sapa ke saath padhne waale hain aapke saare vidyarthi aapke sapathi ho sakte hain dost honge ki nahi honge yah aapke vyavhar par nirbhar karta hai kai baar kuch vidyarthi aise me jile puri kaksha poore sabha ki sathi tripti ka taar ke lok vyavhar par aapke samajik vyavhar par aapke swabhav par aapke baat karne ke tarike par gange x barabar nature par nirbhar karta hai kya aapke sapati kitne aapke doston me kitne aapke sapati rahenge kabhi dost matlab keval aapke saath nibhana lagti dost hoga ki aavashyak nahi dosti ki avdharna param vishwas param sahyog prakriti hai toh saare sapathi aapke dost ban sakte hain bus sakte aapka nature sarvada hitavala ho aur aapki avashyakta bhi ho ki saare dost ko aaj hum dekhte ki jab hum bade kaksha me aa gaye badi umar me aa gaye hain tumhari kakshaon ke 40 50 vidyarthiyon me se 45 hamare sampark me aaj hamare sukh dukh keshwani hain iska matlab ho 4050 me char paanch log hamare dost ki paridhi me hai gujarat taki aapko dosti ki gehrai ko samajh gaye honge dosti ke mahatva samajh gaye honge aur saath padhne waale vidyarthi ka mahatva samajhte hue ab aap par nirbhar karta hai ki aapko riksha ko se sabhi sapati ko dost bana sakte hain jab main change karke kuch doston ko ab bana sakte hain dhanyavad

फर्स्ट करता है विद्यार्थी साथी वह कल के माध्यम से आपने बहुत ही महत्वपूर्ण पोस्ट पूछा है क्

Romanized Version
Likes  36  Dislikes    views  281
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!