मैं एक मंदबुद्धि इंसान हूँ। मुझे होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए जिससे की लोग मेरा फ़ायदा ना उठाएँ?...


user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यहां पर आपको यह याद रखना है कि आप जिस चीज को दोहराते हैं वही आपका हकीकत बन जाता है आप जिस चीज को बिलीव करते हैं जिस चीज को आप पावर करते जिस सोच को आप इमोशंस को देते हैं उसको आप बढ़ावा देते हैं वही आपकी जिंदगी की हकीकत बन जाती है तो मैं कहना चाहूंगी कि आप अपने शब्दों को अपनी सोच को काफी सोच-समझकर कहें या फिर अपने मन में रखे क्योंकि जो चीज किस चीज के बारे में हम सोचते हैं और उसके बारे में उसको पावर देते हैं वही हम बन जाते हैं तो आप प्लीज मत सोचिए कि आप मंदबुद्धि है हो सकता है कि आप थोड़े आलसी रहे हो आपने अपने पूरे दिमाग का इस्तेमाल नहीं किया हो तो कभी भी आप कर सकते हैं कभी भी आप अपने मेंटल इंटेलिजेंस को टाइप कर सकते हैं और अपनी असली इंटेलिजेंस को बाहर ला सकते हैं अगर अभी तक आप थोड़े से शुरू हो रहे हैं तो इसका मतलब यह नहीं कि जिंदगी में आप हमेशा ऐसे रहेंगे आपको चाहिए कि आप अपना अटेंशन कंसंट्रेशन और फोकस यह तीन चीजों को इंप्रूव करें अपनी जो ऑब्जर्वेशन की प्रतिक्रिया है आप चीजों पर ध्यान देना या फिर फोकस अटेंशन करना उसको तेज करें और आपको चाहिए भी चाहिए कि आप क्या पूरे दिन चर्या को देखेंगे कहां पर आप टाइम वेस्ट कर रहे हैं कैसे गलत चीजों को आप सीख रहे हैं उन्हें चेतन के बारे में सोचिए करिए या ध्यान दीजिए जो पॉजिटिव है जो आपके लाइफ को अच्छा बनाएंगे बाकी चीजों से परहेज कीजिए क्योंकि जिस चीज को हम अपने दिमाग में लेकर आते हैं उसके बारे में सोचते हैं हम वहीं पर अपना पूरा समय बिताते हैं तो आपको चाहिए कि फिलहाल आप ऐसे इंसान बनी है जहां पर आप अपने पूरे इंटेलिजेंस का फायदा उठाया जहां पर लोग आपका फायदा ना उठाएं आपको बाउंड्री बना लेनी चाहिए और लोगों को उस एक्रॉस नहीं करना चाहिए आपको कहना चाहिए कि आपको क्या पसंद है क्या पसंद नहीं है और उसके मुताबिक आपको अपनी जिंदगी जीनी चाहिए तो भी वेरी क्लियर कि आप की बाउंड्री क्या है और लोगों को यह बात समझ आने चाहिए

yahan par aapko yah yaad rakhna hai ki aap jis cheez ko dohrate hai wahi aapka haqiqat ban jata hai aap jis cheez ko believe karte hai jis cheez ko aap power karte jis soch ko aap emotional ko dete hai usko aap badhawa dete hai wahi aapki zindagi ki haqiqat ban jaati hai toh main kehna chahungi ki aap apne shabdon ko apni soch ko kaafi soch samajhkar kahein ya phir apne man mein rakhe kyonki jo cheez kis cheez ke bare mein hum sochte hai aur uske bare mein usko power dete hai wahi hum ban jaate hai toh aap please mat sochiye ki aap mandbuddhi hai ho sakta hai ki aap thode aalsi rahe ho aapne apne poore dimag ka istemal nahi kiya ho toh kabhi bhi aap kar sakte hai kabhi bhi aap apne mental intelligence ko type kar sakte hai aur apni asli intelligence ko bahar la sakte hai agar abhi tak aap thode se shuru ho rahe hai toh iska matlab yah nahi ki zindagi mein aap hamesha aise rahenge aapko chahiye ki aap apna attention kansantreshan aur focus yah teen chijon ko improve kare apni jo observation ki pratikriya hai aap chijon par dhyan dena ya phir focus attention karna usko tez kare aur aapko chahiye bhi chahiye ki aap kya poore din charya ko dekhenge kahaan par aap time west kar rahe hai kaise galat chijon ko aap seekh rahe hai unhe chetan ke bare mein sochiye kariye ya dhyan dijiye jo positive hai jo aapke life ko accha banayenge baki chijon se parhej kijiye kyonki jis cheez ko hum apne dimag mein lekar aate hai uske bare mein sochte hai hum wahi par apna pura samay Bitate hai toh aapko chahiye ki filhal aap aise insaan bani hai jaha par aap apne poore intelligence ka fayda uthaya jaha par log aapka fayda na uthaye aapko boundary bana leni chahiye aur logo ko us ekras nahi karna chahiye aapko kehna chahiye ki aapko kya pasand hai kya pasand nahi hai aur uske mutabik aapko apni zindagi gini chahiye toh bhi very clear ki aap ki boundary kya hai aur logo ko yah baat samajh aane chahiye

यहां पर आपको यह याद रखना है कि आप जिस चीज को दोहराते हैं वही आपका हकीकत बन जाता है आप जिस

Romanized Version
Likes  75  Dislikes    views  1143
WhatsApp_icon
21 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

1:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं नहीं जानती कि आपको किसने कहा है कि आप मंदबुद्धि हो या फिर आप अपने जीवन के किस क्षेत्र में सफलता नहीं पा पा रहे हो जैसे कि अब पढ़ाई में या करियर में या जॉब में जिसकी वजह से आपको ऐसा लग रहा है कि आप मन बुद्धि हो ठीक है तो पहली बार ही समझने वाली है है कि कोई भी इंसान ऐसा नहीं होता कि वह अगर हम करियर की बात करें तो करियर की हर क्षेत्र में बुरा हो आप अपने हर इंसान को भगवान ने टैलेंट दिया है भगवान ने खूबी भी है जरूरत है उसे खोजने की ओर से निकालने की तो आप देखिए कि आप किस चीज में अच्छे हैं अगर आपका पढ़ाई में आप अच्छे नहीं है तो आप यह देखिए कि आप किसी स्मरण ड्राइंग मैच है पेंटिंग में छह सिंगिंग में 6 डांसिंग में अच्छे हैं और अगर और देखा जाए तो खेतीबाड़ी में अच्छी किस चीज में आप कुकिंग में अच्छे हैं और उसे ही नहीं खा रही है उसे ही अपना करियर बनाई उसे ही अपना आसन बनाई और आपको जैसे ही वह निकलेगा आप अपने आप को आप अपने आप होशियार हो जाएंगे

main nahi jaanti ki aapko kisne kaha hai ki aap mandbuddhi ho ya phir aap apne jeevan ke kis kshetra mein safalta nahi paa paa rahe ho jaise ki ab padhai mein ya career mein ya job mein jiski wajah se aapko aisa lag raha hai ki aap man buddhi ho theek hai toh pehli baar hi samjhne wali hai hai ki koi bhi insaan aisa nahi hota ki vaah agar hum career ki baat kare toh career ki har kshetra mein bura ho aap apne har insaan ko bhagwan ne talent diya hai bhagwan ne khoobi bhi hai zarurat hai use khojne ki aur se nikalne ki toh aap dekhiye ki aap kis cheez mein acche hain agar aapka padhai mein aap acche nahi hai toh aap yah dekhiye ki aap kisi smaran drying match hai painting mein cheh singing mein 6 dancing mein acche hain aur agar aur dekha jaaye toh khetibadi mein achi kis cheez mein aap coocking mein acche hain aur use hi nahi kha rahi hai use hi apna career banai use hi apna aasan banai aur aapko jaise hi vaah niklega aap apne aap ko aap apne aap hoshiyar ho jaenge

मैं नहीं जानती कि आपको किसने कहा है कि आप मंदबुद्धि हो या फिर आप अपने जीवन के किस क्षेत्र

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  537
WhatsApp_icon
user

Dr. Suman Aggarwal

Personal Development Coach

1:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपको पता है आइंस्टाइन को भी लोग मंदबुद्धि कहा करते थे और आज के जमाने में अभी भी जिम क्विक बोल कर एक इंसान है जब वह छोटे थे तो उनके सर पर चोट लग गई थी और सारे स्कूल में टीचर और बच्चे सब उन्हें अ बॉय ऑफ लोकेंद्र इन बोल कर चिड़ाया करते थे एक बच्चा जिसका दिमाग की टूटा हुआ और आज वह इंसान दुनिया में सबसे अच्छी स्टडी टेक्निक्स दिखाने की कोशिश कर आते हैं और उनकी वजह से लाखों लोगों ने लाखों करोड़ों स्टूडेंट्स ने शादी की बहुत सारी टेक्निक सीखी है और अपनी स्कूल लाइफ में कॉलेज लाइफ में सक्सेस कि तुम्हें मेरी आपसे यही विनती है कि आप जो भी करेंगे आप बहुत अच्छा जरूर कर पाएंगे कि अपने आप पर भरोसा रखें और अपने आप को मंदबुद्धि कहना बंद करें आप अपने आप को उसके बदले यह कही कि मेरी बुद्धि औरों से अलग है और यह कहने से ही जैसे ही आप यह सेंटेंस अपने आप से कहेंगे आपको कितना डिलीट फ्री होता और आपको अपने ऊपर प्राउड फील करना आप जैसे भी हैं भगवान ने आपको जैसा भी बनाया है आप अपनी आपकी अपनी एक अपनी अलग पहचान है

aapko pata hai einstein ko bhi log mandbuddhi kaha karte the aur aaj ke jamane mein abhi bhi gym quick bol kar ek insaan hai jab vaah chote the toh unke sir par chot lag gayi thi aur saare school mein teacher aur bacche sab unhe a boy of lokendra in bol kar chidaya karte the ek baccha jiska dimag ki tuta hua aur aaj vaah insaan duniya mein sabse achi study techniques dikhane ki koshish kar aate hain aur unki wajah se laakhon logo ne laakhon karodo students ne shadi ki bahut saree technique sikhi hai aur apni school life mein college life mein success ki tumhe meri aapse yahi vinati hai ki aap jo bhi karenge aap bahut accha zaroor kar payenge ki apne aap par bharosa rakhen aur apne aap ko mandbuddhi kehna band kare aap apne aap ko uske badle yah kahi ki meri buddhi auron se alag hai aur yah kehne se hi jaise hi aap yah sentence apne aap se kahenge aapko kitna delete free hota aur aapko apne upar proud feel karna aap jaise bhi hain bhagwan ne aapko jaisa bhi banaya hai aap apni aapki apni ek apni alag pehchaan hai

आपको पता है आइंस्टाइन को भी लोग मंदबुद्धि कहा करते थे और आज के जमाने में अभी भी जिम क्विक

Romanized Version
Likes  12  Dislikes    views  449
WhatsApp_icon
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन सबसे पहले तो यह जाना जरूरी है कि आपको पता कैसे लगा और अगर सही से इसका डायग्नोसिस नहीं हुआ है तो मेरी राय में आपको चेक करा लीजिए और और दूसरी बात कि रहा सवाल कि आप कुछ अपने आप को अगर मंदबुद्धि समझने लगे हैं तो वह आपको सोचना पड़ेगा आप क्यों समझते हैं देखिए ओवरऑल आप अपने आप को मंदबुद्धि नहीं कर सकते आपको कहना भी नहीं चाहिए मैं बताता हूं क्यों क्या सुबह से लेकर शाम तक रात तक जब तक आप सोते नहीं है क्या आप सारे काम वैसे करते हैं जो कि एकदम बेकार होते हैं क्या कोई भी काम दिन तो ऐसा नहीं होता जो आप ठीक करते हैं मेरे हिसाब से हजार का अमरावठी क्या करते होंगे कुछ काम हो सकते हैं ऐसे जो ठीक नहीं हो रहे हो कुछ फैसले ऐसे होते हैं जो खराब हो गए हो पास में हो सकता है पढ़ाई वैसे ही काबिले तारीफ ना हुई हो नंबर अच्छे ना आए हो सकता है जो आपने स्कूल से खाओ और आप काम करने की कोशिश करते हैं तो रिजल्ट वैसा ना आ रहा हो तो आपको लग रहा है यार यह भी ठीक नहीं हो रहा वह भी ठीक नहीं हो रहा मेरे साथ तो कुछ भी ठीक नहीं हो रहा तू कई सारी चीजें गढ़ हो रही है तो आपको हमारे पास ऐसा कुछ नहीं होता चाहे आप हो जाए मैं हूं या किसी के पास भी कि भाई एक छड़ी है एक दवा है या 10 नुस्खे हैं वह हम कर लेते हैं और यह चीज से ठीक हो जाएगी नहीं इसका सिंपल और सरल तरीका है कि आप आज जो कर रहे हैं उस पर पूरा फोकस कंसंट्रेशन डाली है उसको जस्टिस कीजिए फिर भी जरूरी नहीं है आप और हम जानते हैं कि रिजल्ट जो भी नहीं हमारे पेपर में आएगा लेकिन कोशिश कीजिए आप प्रेजेंट में रहिए उसे काम उसी चीज को पकड़िए उसको ढंग से करिए और फिर धीरे धीरे धीरे धीरे आपका कॉन्फिडेंस लेवल ऐसा बढ़ता चला जाएगा आपको ऐसा प्रतीत नहीं होगा कि आप मंदबुद्धि है ऐसे कुछ प्रॉब्लम है आप अपनी सोच को जरूर पॉजिटिव रखें कि जैसा आप सोचते हैं आप ऐसा ही बनते हैं तो इस बात पर बहुत ख्याल रखना बहुत ज्यादा जरूरी है

lekin sabse pehle toh yah jana zaroori hai ki aapko pata kaise laga aur agar sahi se iska diagnosis nahi hua hai toh meri rai mein aapko check kara lijiye aur aur dusri baat ki raha sawaal ki aap kuch apne aap ko agar mandbuddhi samjhne lage hain toh vaah aapko sochna padega aap kyon samajhte hain dekhiye overall aap apne aap ko mandbuddhi nahi kar sakte aapko kehna bhi nahi chahiye main batata hoon kyon kya subah se lekar shaam tak raat tak jab tak aap sote nahi hai kya aap saare kaam waise karte hain jo ki ekdam bekar hote kya koi bhi kaam din toh aisa nahi hota jo aap theek karte hain mere hisab se hazaar ka amarawathi kya karte honge kuch kaam ho sakte hain aise jo theek nahi ho rahe ho kuch faisle aise hote hain jo kharab ho gaye ho paas mein ho sakta hai padhai waise hi kabile tareef na hui ho number acche na aaye ho sakta hai jo aapne school se khao aur aap kaam karne ki koshish karte hain toh result waisa na aa raha ho toh aapko lag raha hai yaar yah bhi theek nahi ho raha vaah bhi theek nahi ho raha mere saath toh kuch bhi theek nahi ho raha tu kai saree cheezen garh ho rahi hai toh aapko hamare paas aisa kuch nahi hota chahen aap ho jaaye main hoon ya kisi ke paas bhi ki bhai ek chadi hai ek dawa hai ya 10 nuskhe hain vaah hum kar lete hain aur yah cheez se theek ho jayegi nahi iska simple aur saral tarika hai ki aap aaj jo kar rahe hain us par pura focus kansantreshan dali hai usko justice kijiye phir bhi zaroori nahi hai aap aur hum jante hain ki result jo bhi nahi hamare paper mein aayega lekin koshish kijiye aap present mein rahiye use kaam usi cheez ko pakdiye usko dhang se kariye aur phir dhire dhire dhire dhire aapka confidence level aisa badhta chala jaega aapko aisa pratit nahi hoga ki aap mandbuddhi hai aise kuch problem hai aap apni soch ko zaroor positive rakhen ki jaisa aap sochte hain aap aisa hi bante hain toh is baat par bahut khayal rakhna bahut zyada zaroori hai

लेकिन सबसे पहले तो यह जाना जरूरी है कि आपको पता कैसे लगा और अगर सही से इसका डायग्नोसिस नही

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  444
WhatsApp_icon
user

Anuraadha Uboweja

Empowerment Coach & Healer

2:10
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले आप अपने आप को मन बुद्धि के ना छोड़िए क्योंकि हम जैसा सोचते हैं हम वैसे वैसे बनते चले जाते हैं तो आप जितना कहेंगे कि मैं मन बुद्धि हूं हां वैसे ही हो तो चले जाएंगे तो अगर आप को चेंज करना है चलिए मैं तो सबसे पहले यह कहना छोड़ दीजिए आज के बाद इस समय के बाद अपने आप को कभी मत कहिए कि मैं मंदबुद्धि हूं कि जब भी आपको ऐसा थॉट आए जब भी आपको ऐसा भी जा रहा है कि मैं मन बुद्धि हूं उसी का कैरियर पर ही नहीं बहुत इंटेलिजेंट हूं मैं बहुत स्मार्ट हूं मैं बहुत क्रिएटिव हूं मैं कुछ भी कर सकता हूं कुछ भी संभव है मेरे जीवन में इसको करने के दो तीन तरीके हैं जब भी आपको जैसे ही सुबह आप उठते हैं आप यह सारी इनफार्मेशन सिर पीट कर यह पांच से 10 मिनट के लिए मैं बहुत इंटेलिजेंट हूं मैं बहुत क्रिएटिव हूं मैं बहुत स्मार्ट हूं मेरे पास बहुत विशाल बुद्धि है बहुत अच्छे-अच्छे काम कर सकता हूं जैसे ही आप सोने जा रहे हैं उसे 10 मिनट पहले फिर से यह दिखाइए सारी इंफॉर्मेशन ऑफ मिरर वर्क करिए मेरा के सामने खड़े होकर अपने आप को चालू करिए अपने आप को गाली डेट करें अपने आप को बोले आई लव माय सेल आईएफएमएस एक्सेप्ट माय लव आई एम क्रिएट आई एम इंटेलीजेंट एंड स्मार्ट पैसे अपने आपको बार-बार फॉरमेशंस के थ्रू अपने आप को ट्रेन इंकारी अपने आपको विचार अपने विचारों को चेंज करना शुरू करेगा तो आप उससे धीरे-धीरे देखेंगे कि आप में कैसा बेहतरीन चेंज आएगा दिन प्रतिदिन आप और बेहतर और बेहतर होते चले जाएंगे

sabse pehle aap apne aap ko man buddhi ke na chodiye kyonki hum jaisa sochte hain hum waise waise bante chale jaate hain toh aap jitna kahenge ki main man buddhi hoon haan waise hi ho toh chale jaenge toh agar aap ko change karna hai chaliye main toh sabse pehle yah kehna chod dijiye aaj ke baad is samay ke baad apne aap ko kabhi mat kahiye ki main mandbuddhi hoon ki jab bhi aapko aisa thought aaye jab bhi aapko aisa bhi ja raha hai ki main man buddhi hoon usi ka carrier par hi nahi bahut Intelligent hoon main bahut smart hoon main bahut creative hoon main kuch bhi kar sakta hoon kuch bhi sambhav hai mere jeevan mein isko karne ke do teen tarike hain jab bhi aapko jaise hi subah aap uthte hain aap yah saree information sir peat kar yah paanch se 10 minute ke liye main bahut Intelligent hoon main bahut creative hoon main bahut smart hoon mere paas bahut vishal buddhi hai bahut acche acche kaam kar sakta hoon jaise hi aap sone ja rahe hain use 10 minute pehle phir se yah dikhaaiye saree information of mirror work kariye mera ke saamne khade hokar apne aap ko chaalu kariye apne aap ko gaali date kare apne aap ko bole I love my cell IFMS except my love I M create I M intelligent and smart paise apne aapko baar baar farmeshans ke through apne aap ko train inkari apne aapko vichar apne vicharon ko change karna shuru karega toh aap usse dhire dhire dekhenge ki aap mein kaisa behtareen change aayega din pratidin aap aur behtar aur behtar hote chale jaenge

सबसे पहले आप अपने आप को मन बुद्धि के ना छोड़िए क्योंकि हम जैसा सोचते हैं हम वैसे वैसे बनते

Romanized Version
Likes  62  Dislikes    views  1081
WhatsApp_icon
user

Dr. Alpana Rastogi

Psychologist

0:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

i.q. और जो होती है वह पेशे से बेसिकली नेट होती है और जो आपकी क्षमता होती है आप मैक्सिमम अगर वहां तक पहुंच क्षमता तो नहीं बढ़ाई जा सकती लेकिन इमोशनल सैनी संवेगात्मक सेल्फ एक्सेप्टेंस ऑफ दादर एंड अवेयरनेस ऑफ द मोशन इन के बारे में बात करके

i q aur jo hoti hai vaah peshe se basically net hoti hai aur jo aapki kshamta hoti hai aap maximum agar wahan tak pohch kshamta toh nahi badhai ja sakti lekin emotional saini samvegatmak self acceptance of dadar and awareness of the motion in ke bare mein baat karke

i.q. और जो होती है वह पेशे से बेसिकली नेट होती है और जो आपकी क्षमता होती है आप मैक्सिमम अग

Romanized Version
Likes  22  Dislikes    views  294
WhatsApp_icon
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

1:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नहीं आप मन बुद्धि नहीं है यह तो आपके मन में एक सटीक बैठ गई है तुमसे डर गई है नहीं बाकी आप मन बुद्धि नहीं है आप बहुत जीनियस सिर्फ आपको एक विश्वास जगाना होगा क्योंकि दर्शन बंदूक भी कोई नहीं होता है जब आदमी डिप्रेशन में आ जाता है सभी लोगों से मंदबुद्धि मंदबुद्धि मंदबुद्धि कहना चालू कर देते हैं वह व्यक्ति डिप्रेशन में आ जाता है इन सिटी फ्री करता है परिणाम स्वरूप जो कभी उससे गलती नहीं होती तो भी गलती हो जाती है इसलिए कभी से गौर मत करो हमेशा आगे बढ़ने की कोशिश करो सीखने का प्रयास करो ऐसे लोगों से मित्रता करो ऐसे लोगों की संगत करो जो आपको प्रमोटेड करते हो जॉब के लिए बढ़ावा देते हो मॉडिफाई करते हो जो आपके लिए आदर्श हो ऐसे लोगों की संगत मत कीजिए जो आपको उनकी अपील कर आते हैं जो आपको डिप्रेशन में लाते हैं मेरा विचार यह है कि शायद आप ऐसा करेंगे तो आप कुछ दिन के बाद ही ऐसा फील करेंगे कि आप मंदबुद्धि नहीं है और मेरे विचार से मिले जो क्वेश्चन सुनाओ क्या उससे मुझे लगता है कि आप बहुत दिन नहीं है

nahi aap man buddhi nahi hai yah toh aapke man mein ek sateek baith gayi hai tumse dar gayi hai nahi baki aap man buddhi nahi hai aap bahut genius sirf aapko ek vishwas jagaana hoga kyonki darshan bandook bhi koi nahi hota hai jab aadmi depression mein aa jata hai sabhi logo se mandbuddhi mandbuddhi mandbuddhi kehna chaalu kar dete hain vaah vyakti depression mein aa jata hai in city free karta hai parinam swaroop jo kabhi usse galti nahi hoti toh bhi galti ho jaati hai isliye kabhi se gaur mat karo hamesha aage badhne ki koshish karo sikhne ka prayas karo aise logo se mitrata karo aise logo ki sangat karo jo aapko promoted karte ho job ke liye badhawa dete ho madifai karte ho jo aapke liye adarsh ho aise logo ki sangat mat kijiye jo aapko unki appeal kar aate hain jo aapko depression mein laate hain mera vichar yah hai ki shayad aap aisa karenge toh aap kuch din ke baad hi aisa feel karenge ki aap mandbuddhi nahi hai aur mere vichar se mile jo question sunao kya usse mujhe lagta hai ki aap bahut din nahi hai

नहीं आप मन बुद्धि नहीं है यह तो आपके मन में एक सटीक बैठ गई है तुमसे डर गई है नहीं बाकी आप

Romanized Version
Likes  11  Dislikes    views  320
WhatsApp_icon
user

Rakesh Tiwari

Life Coach, Management Trainer

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मैं एक मंदबुद्धि इंसान हूं मुझे होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए जिससे कि वह मेरा फायदा ना उठाएं आपका यह मानना कि मैं एक मंदबुद्धि इंसान हूं इस बात को इंगित करता है कि आप मंदबुद्धि नहीं आप बुद्धिमान आप इंसान हैं बहुत कम लोग अपनी गलतियां कमी स्वीकार करते हैं और जो ऐसी कमी और गलती स्वीकार करते हैं वह महापुरुषों की श्रेणी में आते हैं अच्छे व्यक्तियों की श्रेणी में आते हैं आप ने इस बात को स्वीकार किया है इसका मतलब है कि आप सहज विश्वास विश्वास कर लेते हैं जो लोग आपसे मिले जो काम कहते हैं तो काम करने के पहले या अपनी काम की सहमति देने के पहले आप एक बार उस पर विचार करें और यह विचार करें कि जो काम करने के लिए सामने वाला व्यक्ति कह रहा है उसमें उसका क्या हित हो सकता है और आपका क्या हित हो सकता है या आपका क्या अहित हो सकता है इस पर विचार करके अगर आप काम करेंगे तो तुम लोग आपकी सहरसा का भोलेपन का फायदा नहीं उठाएंगे और आप धीरे-धीरे परिपक्व होते जाएंगे वास्तव में क्या है कि जब दुनियादारी की संसार की जोगिया सूचनाएं कम होती हैं तो इसलिए ऐसा लगता है अगर हम सामान्य मनोविज्ञान का हमारा दिन कमजोर है मानव व्यवहार का दिन कमजोर है तो कई बार ऐसा होता है कि हमारी संस्था संस्था को लोग दुरुपयोग कर लेते हैं लेकिन आप खाली समय में आप रामायण का पोषक ध्यान करिए भगवत गीता की किसी के मंत्री आप किसी की पड़ी है यह आपको मानव व्यवहार को समझने में यह गलत बहुत मदद करें कंदरपुर पक्का आएगी ज्ञान भी बढ़ेगा और आप अपना जीवन परिपक्वता पूर्वी पाएंगे कोई आपका मिस यूज नहीं करेगा थैंक यू

main ek mandbuddhi insaan hoon mujhe hoshiyar banne ke liye kya karna chahiye jisse ki vaah mera fayda na uthaye aapka yah manana ki main ek mandbuddhi insaan hoon is baat ko ingit karta hai ki aap mandbuddhi nahi aap buddhiman aap insaan hain bahut kam log apni galtiya kami sweekar karte hain aur jo aisi kami aur galti sweekar karte hain vaah mahapurushon ki shreni mein aate hain acche vyaktiyon ki shreni mein aate hain aap ne is baat ko sweekar kiya hai iska matlab hai ki aap sehaz vishwas vishwas kar lete hain jo log aapse mile jo kaam kehte hain toh kaam karne ke pehle ya apni kaam ki sahmati dene ke pehle aap ek baar us par vichar kare aur yah vichar kare ki jo kaam karne ke liye saamne vala vyakti keh raha hai usme uska kya hit ho sakta hai aur aapka kya hit ho sakta hai ya aapka kya ahit ho sakta hai is par vichar karke agar aap kaam karenge toh tum log aapki saharsa ka bholepan ka fayda nahi uthayenge aur aap dhire dhire paripakva hote jaenge vaastav mein kya hai ki jab duniyaadaari ki sansar ki jogiya suchnaen kam hoti hain toh isliye aisa lagta hai agar hum samanya manovigyan ka hamara din kamjor hai manav vyavhar ka din kamjor hai toh kai baar aisa hota hai ki hamari sanstha sanstha ko log durupyog kar lete hain lekin aap khaali samay mein aap ramayana ka poshak dhyan kariye bhagwat geeta ki kisi ke mantri aap kisi ki padi hai yah aapko manav vyavhar ko samjhne mein yah galat bahut madad kare kandarapur pakka aayegi gyaan bhi badhega aur aap apna jeevan paripakvata purvi payenge koi aapka miss use nahi karega thank you

मैं एक मंदबुद्धि इंसान हूं मुझे होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए जिससे कि वह मेरा फायदा

Romanized Version
Likes  233  Dislikes    views  1491
WhatsApp_icon
user

Aditi Garg

Meditation Expert

0:47
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप अभी प्रश्न है कि नायक मन बुद्धि इंसान हूं आपको कैसे पता कि आप मन बुद्धि हैं अरे तो मत बोल दिया हो तो कुछ मानता ही नहीं कि मैं मंदबुद्धि हूं आधा संसार जाओ मजबूरियों से भरा भरा पड़ा है और वह बहुत समझदार हूं मैं बहुत इंटेलिजेंट हो इस बात की परवाह करना चाहती है तू जब जिससे दूसरा कोई आपका फायदा ना उठाएं 24 सैंपल से टेक्निक अप्लाई कीजिए मिलन के आगे प्रैक्टिस कीजिए कि मैं इंटेलिजेंट हूं मैं काबिल हूं लोग मेरी इज्जत करते हैं अब इसको बार-बार फोन कीजिए बार-बार मेरठ के आगे खड़े होकर बोलिए अपनी आंखों में आंखें डालकर और इसको खूब प्रेक्टिस कीजिए फिर भी आपके जीवन में क्या फर्क आता है थैंक यू

aap abhi prashna hai ki nayak man buddhi insaan hoon aapko kaise pata ki aap man buddhi hain are toh mat bol diya ho toh kuch manata hi nahi ki main mandbuddhi hoon aadha sansar jao majburiya se bhara bhara pada hai aur vaah bahut samajhdar hoon main bahut Intelligent ho is baat ki parvaah karna chahti hai tu jab jisse doosra koi aapka fayda na uthaye 24 sample se technique apply kijiye milan ke aage practice kijiye ki main Intelligent hoon main kaabil hoon log meri izzat karte hain ab isko baar baar phone kijiye baar baar meerut ke aage khade hokar bolie apni aankho mein aankhen dalkar aur isko khoob practice kijiye phir bhi aapke jeevan mein kya fark aata hai thank you

आप अभी प्रश्न है कि नायक मन बुद्धि इंसान हूं आपको कैसे पता कि आप मन बुद्धि हैं अरे तो मत ब

Romanized Version
Likes  133  Dislikes    views  1297
WhatsApp_icon
user

Dr Anil Shalwa

Life Coach, Past Life Regression Therapist

2:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है में एक मंदबुद्धि इंसान मुझे होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए जिससे लोग मेरा फायदा ना उठाएं तो देखी सबसे पहले किस तो आपको यह करना चाहिए कि आप यह सोचना बंद कर दीजिए क्या आप मंदबुद्धि इंसान सारे इंसान जो पैदा होते हैं तो कोरी स्लेट की तरह होते हैं कोरी कॉपी की तरह होते हैं कोरी नोटबुक की तरह होते हैं उसमें कुछ नहीं लिखा होता है हर इंसान पैदा होने के बाद यहीं पर सीखता है तो सारे लोग आपके बराबर ही है यह चीज सोचना कि मैं मंदबुद्धि हूं यह सबसे खतरनाक है आपके लिए तो होशियार बनने की पहली सीढ़ी तो यह है कि आप यह सोचना छोड़ दें कि मैं मंदबुद्धि जितनी बुद्धि आपकी चलती उतनी सब लोग भी चलती है किसी की अगर थोड़ी ज्यादा चलती है तो उसने प्रेक्टिस करके यह सीखा है प्रैक्टिस कराई उसने दिन दुनिया से समझा है सीखा है तो आप भी इन चीजों को समझने की कोशिश करें कि क्या सही है क्या गलत है आपने कौन सी चीज अपने जीवन में पहले कर ही जिनके परिणाम गलत हुए उनको दोबारा रिपीट नहीं करना है तो गलती सबसे होती है कोई दुनिया में ऐसा नहीं है जो गलती नहीं करता है कोई दुनिया में ऐसा नहीं है जो हर काम सही करता है लेकिन हम उसको होशियार बोलते हैं जो एक गलती को बार-बार नहीं करता है तो इसको सीखे अपने जीवन में किसी भी गलती को दोहराना नहीं है एक बार गलती हो गई नुकसान हो गया ठीक है कोई बात नहीं लेकिन उससे जो आपने सीखा है वह दोबारा नहीं होना चाहिए जिंदगी में तो यह चीज आपको बहुत मदद करेगी क्या आप होशियार अपने आप को समझेंगे और आपका नुकसान नहीं होगा और आपका लोग फायदा नहीं उठा पाएंगे कई बार अगर किसी ने आपका फायदा उठाया किसी ने आप को बेवकूफ बनाने की कोशिश करिए तो आप समझ ही कहां से गलती हुई थी कैसे इंसानों को बेवकूफ बना पाया तो उनको दोबारा नहीं करना है अब जिंदगी में सावधान रहना है कि वह चीज दोबारा नहीं हो तो इस तरीके से प्रैक्टिस कर के अपना कंपटीशन आप अपने आप से रखें कि कल मैं जितना जानता था आज मुझे उससे ज्यादा जानना चाहिए कल मैं जितना जानता था जिंदगी के बारे में दुनिया जीने के तरीके के बारे में आज मुझे उससे एक कदम ज्यादा पता होना चाहिए तो चीजों को सीखे यह चीज में निकाल दें कि आप मंदबुद्धि हैं सारे लोगों की दुनिया में बुद्धि बराबर है सबको ऊपर वाले ने बराबर बुद्धि दिए इसका जो सही इस्तेमाल करता है वह बुद्धिमान हो जाता है तो आप भी अपनी बुद्धि का सही इस्तेमाल करें भाभी बुद्धिमान की कैटेगरी में आने लगेंगे थैंक यू वेरी मच

aapka prashna hai mein ek mandbuddhi insaan mujhe hoshiyar banne ke liye kya karna chahiye jisse log mera fayda na uthaye toh dekhi sabse pehle kis toh aapko yah karna chahiye ki aap yah sochna band kar dijiye kya aap mandbuddhi insaan saare insaan jo paida hote hain toh kori slate ki tarah hote hain kori copy ki tarah hote hain kori notebook ki tarah hote hain usme kuch nahi likha hota hai har insaan paida hone ke baad yahin par sikhata hai toh saare log aapke barabar hi hai yah cheez sochna ki main mandbuddhi hoon yah sabse khataranaak hai aapke liye toh hoshiyar banne ki pehli sidhi toh yah hai ki aap yah sochna chod de ki main mandbuddhi jitni buddhi aapki chalti utani sab log bhi chalti hai kisi ki agar thodi zyada chalti hai toh usne practice karke yah seekha hai practice karai usne din duniya se samjha hai seekha hai toh aap bhi in chijon ko samjhne ki koshish kare ki kya sahi hai kya galat hai aapne kaun si cheez apne jeevan mein pehle kar hi jinke parinam galat hue unko dobara repeat nahi karna hai toh galti sabse hoti hai koi duniya mein aisa nahi hai jo galti nahi karta hai koi duniya mein aisa nahi hai jo har kaam sahi karta hai lekin hum usko hoshiyar bolte hain jo ek galti ko baar baar nahi karta hai toh isko sikhe apne jeevan mein kisi bhi galti ko doharana nahi hai ek baar galti ho gayi nuksan ho gaya theek hai koi baat nahi lekin usse jo aapne seekha hai vaah dobara nahi hona chahiye zindagi mein toh yah cheez aapko bahut madad karegi kya aap hoshiyar apne aap ko samjhenge aur aapka nuksan nahi hoga aur aapka log fayda nahi utha payenge kai baar agar kisi ne aapka fayda uthaya kisi ne aap ko bewakoof banane ki koshish kariye toh aap samajh hi kahaan se galti hui thi kaise insano ko bewakoof bana paya toh unko dobara nahi karna hai ab zindagi mein savdhaan rehna hai ki vaah cheez dobara nahi ho toh is tarike se practice kar ke apna competition aap apne aap se rakhen ki kal main jitna jaanta tha aaj mujhe usse zyada janana chahiye kal main jitna jaanta tha zindagi ke bare mein duniya jeene ke tarike ke bare mein aaj mujhe usse ek kadam zyada pata hona chahiye toh chijon ko sikhe yah cheez mein nikaal de ki aap mandbuddhi hain saare logo ki duniya mein buddhi barabar hai sabko upar waale ne barabar buddhi diye iska jo sahi istemal karta hai vaah buddhiman ho jata hai toh aap bhi apni buddhi ka sahi istemal kare bhabhi buddhiman ki category mein aane lagenge thank you very match

आपका प्रश्न है में एक मंदबुद्धि इंसान मुझे होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए जिससे लोग म

Romanized Version
Likes  60  Dislikes    views  464
WhatsApp_icon
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली बात तो यह है कि आप अपने आप को मंदबुद्धि इंसान मत सोचिए आप केवल इंसान हैं मोदी की परिकल्पना या उसकी जो वैल्यू है उसकी समझिए आप यह मत समझना कि मैं तुम बुद्धिमान हो और कोई और अधिक बुद्धिमान है हां यह हो सकता है कि किसी चीज को समझने में आपको थोड़ा समय लगता होगा यह कह सकते हैं ऐसे मतलब यह नहीं कि आप मंद बुद्धि है बिल्कुल भी ऐसा नहीं है एक चीज और बता दूं कि ऐसा अगर आप सोचते हैं कि मुझे किसी को समझने में अधिक समय लगता है यह भी किसी तरह से प्रूफ नहीं करता कि आप मंद बुद्धि हैं क्योंकि अगर मछली से पेड़ पर चढ़ने के लिए कहेंगे तो मछली पूरी जिंदगी निकाल देगी लेकिन पेड़ पर नहीं चढ़ पाएगी और अगर आप हाथी से बोलेंगे पेड़ पर चढ़ने के लिए तो पूरा पेड़ छोड़ देगा तो हर इंसान अलग-अलग चीजों के लिए बनाया भगवान ने उसको जब बनाया तो एक आदमी को एक्सप्रेस अभी काम करने के लिए बनाया तो आप अपने आपको एक्स्प्लोरर कीजिए खुद से पूछें कि आप क्या करना चाहते हैं लाइफ में होशियार बनना 11 मुझे लगता ही क्वालिटी है ही नहीं यह होशियार होने अपने में कॉल नहीं है उल्टा के घाटे बहुत हैं क्योंकि वह व्यक्ति कोई मेहनत नहीं करता अगर किसी को ऐसा लगता है कि मैं बुद्धी मेरे में थोड़ी कम है या मैं मुझे मेहनत ही करनी पड़ेगी कोई लक्ष्य पाना है तो तो वक्त ही मेहनत करता है और इसकी बहुत एग्जांपल मेरे पास है कि बहुत ज्यादा इंटेलिजेंट लोग जो थी अपने टॉपर ओपन थे वह लोग कुछ नहीं कर पाया जो लोग जिनसे कुछ उम्मीद नहीं की जा सकती वह व्यक्ति आज अच्छी अच्छी जगह जॉब जॉब कर रहे हैं तो इसलिए आप पहले बताइए बिल्कुल मत समझ कि अपने मन में यह बिल्कुल हटा दीजिए कि आप मंदबुद्धि हैं आप यह सोचिए कि आप एक अच्छे इंसान हैं और जैसे हैं वैसे खुद को खुश रखने की कोशिश कीजिए और किताबें पढ़ते रहिए जो भी चीज आपको अच्छी लगी वह कीजिए बस अपने आप को समय के साथ-साथ एक पॉजिटिव एनर्जी देते रहिए धन्यवाद

pehli baat toh yah hai ki aap apne aap ko mandbuddhi insaan mat sochiye aap keval insaan hain modi ki parikalpana ya uski jo value hai uski samjhiye aap yah mat samajhna ki main tum buddhiman ho aur koi aur adhik buddhiman hai haan yah ho sakta hai ki kisi cheez ko samjhne mein aapko thoda samay lagta hoga yah keh sakte hain aise matlab yah nahi ki aap mand buddhi hai bilkul bhi aisa nahi hai ek cheez aur bata doon ki aisa agar aap sochte hain ki mujhe kisi ko samjhne mein adhik samay lagta hai yah bhi kisi tarah se proof nahi karta ki aap mand buddhi hain kyonki agar machli se ped par chadhne ke liye kahenge toh machli puri zindagi nikaal degi lekin ped par nahi chad payegi aur agar aap haathi se bolenge ped par chadhne ke liye toh pura ped chod dega toh har insaan alag alag chijon ke liye banaya bhagwan ne usko jab banaya toh ek aadmi ko express abhi kaam karne ke liye banaya toh aap apne aapko explorer kijiye khud se puchen ki aap kya karna chahte hain life mein hoshiyar banna 11 mujhe lagta hi quality hai hi nahi yah hoshiyar hone apne mein call nahi hai ulta ke ghate bahut hain kyonki vaah vyakti koi mehnat nahi karta agar kisi ko aisa lagta hai ki main buddhi mere mein thodi kam hai ya main mujhe mehnat hi karni padegi koi lakshya paana hai toh toh waqt hi mehnat karta hai aur iski bahut example mere paas hai ki bahut zyada Intelligent log jo thi apne topper open the vaah log kuch nahi kar paya jo log jinse kuch ummid nahi ki ja sakti vaah vyakti aaj achi achi jagah job job kar rahe hain toh isliye aap pehle bataiye bilkul mat samajh ki apne man mein yah bilkul hata dijiye ki aap mandbuddhi hain aap yah sochiye ki aap ek acche insaan hain aur jaise hain waise khud ko khush rakhne ki koshish kijiye aur kitaben padhte rahiye jo bhi cheez aapko achi lagi vaah kijiye bus apne aap ko samay ke saath saath ek positive energy dete rahiye dhanyavad

पहली बात तो यह है कि आप अपने आप को मंदबुद्धि इंसान मत सोचिए आप केवल इंसान हैं मोदी की परिक

Romanized Version
Likes  7  Dislikes    views  288
WhatsApp_icon
user

Ramesh Prajapati

||....Be....Legendary......||

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए अब यह मत सोचिए कि लोग आपका फायदा कैसे उठाया ठीक है आप यह सब जो आपने कहा कि मैं मंदबुद्धि और देखिए मन बुद्धि देखिए आप इतने भी मन बुद्धि नहीं होंगे बात क्या है आप विकसित आपन होगा ठीक आप किसी के काम को मना नहीं करते और इसलिए सब आपका फायदा उठाते हैं किसी को भी आप से कुछ काम होता होगा तो आपके पास आते होंगे काम बताते होंगे और वह आपसे काम निकल पाते होंगे और फायदा उठाते होंगे यह सब किसी के साथ होता है और देखिए आप सोचिए अगर आपको लगता है देखे आप ने बोला है कि जब मेरा फायदा उठाते हैं ठीक है आप को यही करना चाहिए कि आपको तो आप देखिए उनको सपना भी कर सकते हैं क्या किसी बहाने से आप डाल सकते हैं डिग्गी में दोबारा क्यों देखें मन बुद्धि कोई नहीं होता आज की डेट में अगर दिखे हो चाय बनी है अपने आप से बात कीजिए कि यह क्यों होने लगती है ऐसा क्यों कर रहे मेरे साथ और आप ध्यान पूर्वक बस यही देखे आप उनकी मदद कीजिए अब उनका फायदा कीजिए जो आपका फायदा करते हैं और मतलब के लिए आपसे लोग फायदा उठाते हैं ठीक है तो आप उनको एक दूसरे तरीके से मना कर दीजिए बहाने आप भी लगाइए ठीक उन लोगों से ले संस्थान आरके जो आपका फायदा उठाया तो बस यह बातें जो मैंने आपको बताइए वह कल आपको शेयर करें बातें ज्ञान से धन्यवाद

dekhiye ab yah mat sochiye ki log aapka fayda kaise uthaya theek hai aap yah sab jo aapne kaha ki main mandbuddhi aur dekhiye man buddhi dekhiye aap itne bhi man buddhi nahi honge baat kya hai aap viksit apan hoga theek aap kisi ke kaam ko mana nahi karte aur isliye sab aapka fayda uthate hain kisi ko bhi aap se kuch kaam hota hoga toh aapke paas aate honge kaam batatey honge aur vaah aapse kaam nikal paate honge aur fayda uthate honge yah sab kisi ke saath hota hai aur dekhiye aap sochiye agar aapko lagta hai dekhe aap ne bola hai ki jab mera fayda uthate hain theek hai aap ko yahi karna chahiye ki aapko toh aap dekhiye unko sapna bhi kar sakte kya kisi bahaane se aap daal sakte hain diggi mein dobara kyon dekhen man buddhi koi nahi hota aaj ki date mein agar dikhe ho chai bani hai apne aap se baat kijiye ki yah kyon hone lagti hai aisa kyon kar rahe mere saath aur aap dhyan purvak bus yahi dekhe aap unki madad kijiye ab unka fayda kijiye jo aapka fayda karte hain aur matlab ke liye aapse log fayda uthate hain theek hai toh aap unko ek dusre tarike se mana kar dijiye bahaane aap bhi lagaaiye theek un logo se le sansthan RK jo aapka fayda uthaya toh bus yah batein jo maine aapko bataye vaah kal aapko share kare batein gyaan se dhanyavad

देखिए अब यह मत सोचिए कि लोग आपका फायदा कैसे उठाया ठीक है आप यह सब जो आपने कहा कि मैं मंदबु

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  392
WhatsApp_icon
user

Nupur Gupta

( Licensed Clinical Psychologist)

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि आपने अपने आपको मन बुद्धि इंसान बोला है तो मैं डायग्नोसिस एक बार चेक करना पड़ेगा कि कितना लेवल ऑफ फंक्शनिंग है इसमें रेंज होता है माइल से लेकर प्रोफाउंड शो मी टू चेक द ट्रेन और उसके बाद में पता चलेगा कि इस तरीके की एक्टिविटीज जो है हर लेवल में हो पाते हैं तो इसका मतलब यह भी नहीं है कि मंदबुद्धि जो इंसान होता है वह होशियार नहीं बन सकता बिल्कुल बन सकता है हर किसी में टैलेंट होता है कोई किसी में कमजोर होता है कोई किसी में अच्छा होता है पर एग्जांपल आप अगर स्पोर्ट्स में अच्छे हैं तो पढ़ाई में भी हो सकते हैं या आपको अब कुकिंग का शौक है या फिर एग्जांपल आपको पेंटिंग का शौक है तो आप किस में इंटरेस्ट है आपका और टैलेंट है वह आपको एक्सपोर्ट करना है क्या आपको क्या सबसे ज्यादा इंटरेस्टिंग लगता है पढ़ाई में अगर आप कमजोर हैं तो ऐसा नहीं है कि मैं पढ़ाई में लाइफ में हर कुछ अचीव करने को होता है लेकिन बिना उसके भी काफी कुछ अजीब कर सकते हैं आजकल स्कोर हर फील्ड में बहुत सारा है वह टैलेंट आपको एक लोड करना है दूसरी बात आपको अपने अंदर से यह निकाल देना है कि मैं मन बुद्धि हूं जब तक यह लेबल रहेगा आप अपने आपको लेबल करते रहोगे कि मैं मंदबुद्धि मंदबुद्धि हूं तू अब वैसा ही बन जाएंगे तो अपनी सोच में थोड़ा परिवर्तन लाना है और फिर सोचना है जो क्वालिटी साथ में है वह आपको परसों करनी है और उन्हीं को एनहांस करना है उसके लिए आपको एयरपोर्ट करना है आप जो भी अच्छे से अपना बेस्ट कर सकते आपको वही करना

sabse pehle yah janana zaroori hai ki aapne apne aapko man buddhi insaan bola hai toh main diagnosis ek baar check karna padega ki kitna level of functioning hai isme range hota hai mile se lekar profound show me to check the train aur uske baad mein pata chalega ki is tarike ki activities jo hai har level mein ho paate hain toh iska matlab yah bhi nahi hai ki mandbuddhi jo insaan hota hai vaah hoshiyar nahi ban sakta bilkul ban sakta hai har kisi mein talent hota hai koi kisi mein kamjor hota hai koi kisi mein accha hota hai par example aap agar sports mein acche hain toh padhai mein bhi ho sakte hain ya aapko ab coocking ka shauk hai ya phir example aapko painting ka shauk hai toh aap kis mein interest hai aapka aur talent hai vaah aapko export karna hai kya aapko kya sabse zyada interesting lagta hai padhai mein agar aap kamjor hain toh aisa nahi hai ki main padhai mein life mein har kuch achieve karne ko hota hai lekin bina uske bhi kaafi kuch ajib kar sakte hain aajkal score har field mein bahut saara hai vaah talent aapko ek load karna hai dusri baat aapko apne andar se yah nikaal dena hai ki main man buddhi hoon jab tak yah lebal rahega aap apne aapko lebal karte rahoge ki main mandbuddhi mandbuddhi hoon tu ab waisa hi ban jaenge toh apni soch mein thoda parivartan lana hai aur phir sochna hai jo quality saath mein hai vaah aapko parso karni hai aur unhi ko enahans karna hai uske liye aapko airport karna hai aap jo bhi acche se apna best kar sakte aapko wahi karna

सबसे पहले यह जानना जरूरी है कि आपने अपने आपको मन बुद्धि इंसान बोला है तो मैं डायग्नोसिस एक

Romanized Version
Likes  126  Dislikes    views  1612
WhatsApp_icon
user

Arvind Patil

ST karmchari.

1:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपने सवाल ही ऐसा किया है कि उस सवाल में ही आपका जवाब हो आप मन बुद्धि इंसान नहीं हो आपने मानसिक तौर पर आपको खुद को मन बुद्धि इंसान समझ लिया है तो आप तो बहुत होशियार होशियार लोग हैं ऐसे सवाल पूछ सकते हैं तब कभी ना समझे कि आप मन बुद्धि हो तो लोगों को उल्लू बना जाते नहीं आप मन बुद्धि नहीं हो आप पिक नॉर्मल इंसान हो और आपने खुद ने उसको ऐसा कुछ आपके साथ व्यवहार हुआ है क्या आपने खुद को समझ लिया है या किसी ने कुछ आपको बोल दिया क्या आप मन बुद्धि हो इस वजह से आपको मानसिक के हिसाब से आपको ऐसा लग रहा है तो गलत है आपने सवाली सके तो आप बहुत होशियार आदमी हो तो आपको खुद को कमजोर ना समझे और कोई अगर आपके साथ ऐसा कोई गलत और कर रहा है तो आप उसका विरोध करें अप्पू ओसिया रोड

apne sawaal hi aisa kiya hai ki us sawaal mein hi aapka jawab ho aap man buddhi insaan nahi ho aapne mansik taur par aapko khud ko man buddhi insaan samajh liya hai toh aap toh bahut hoshiyar hoshiyar log hain aise sawaal puch sakte hain tab kabhi na samjhe ki aap man buddhi ho toh logo ko ullu bana jaate nahi aap man buddhi nahi ho aap pic normal insaan ho aur aapne khud ne usko aisa kuch aapke saath vyavhar hua hai kya aapne khud ko samajh liya hai ya kisi ne kuch aapko bol diya kya aap man buddhi ho is wajah se aapko mansik ke hisab se aapko aisa lag raha hai toh galat hai aapne savali sake toh aap bahut hoshiyar aadmi ho toh aapko khud ko kamjor na samjhe aur koi agar aapke saath aisa koi galat aur kar raha hai toh aap uska virodh kare appu osia road

अपने सवाल ही ऐसा किया है कि उस सवाल में ही आपका जवाब हो आप मन बुद्धि इंसान नहीं हो आपने मा

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  334
WhatsApp_icon
play
user

Anuj Gupta

Professional & Life Advisor

1:56

Likes  1  Dislikes    views  117
WhatsApp_icon
user

Ahana Bhardwaz

Life Coach | Author

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका सवाल है कि आप एक मजबूत इंसान आप को होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए आप का फायदा ना उठाएं फायदा उठाता कोई मुसीबत प्यार से अपना काम आप से निकलवा लेते हैं तो आप को होशियार बनने के लिए इमोशनल फूल ना बनने के लिए लोगों की चपेट में आने के लिए लुका का फायदा उठाएं इससे बचने के लिए आपको सतर्क रहना होगा और यह किसी भी जल्दी प्रश्न करना होगा उसके बाद उस कार्य को करो या फिर उस पर भरोसा करो आप ही खुशियां रखते हो आप का फायदा कोई नहीं उठा पाएगा

aapka sawaal hai ki aap ek majboot insaan aap ko hoshiyar banne ke liye kya karna chahiye aap ka fayda na uthaye fayda uthaata koi musibat pyar se apna kaam aap se nikalava lete hain toh aap ko hoshiyar banne ke liye emotional fool na banne ke liye logo ki chapet mein aane ke liye luka ka fayda uthaye isse bachne ke liye aapko satark rehna hoga aur yah kisi bhi jaldi prashna karna hoga uske baad us karya ko karo ya phir us par bharosa karo aap hi khushiya rakhte ho aap ka fayda koi nahi utha payega

आपका सवाल है कि आप एक मजबूत इंसान आप को होशियार बनने के लिए क्या करना चाहिए आप का फायदा ना

Romanized Version
Likes  31  Dislikes    views  1342
WhatsApp_icon
user

Ishita Seth

Obstinate Programmer

1:23
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए सबसे पहली बात तो यह कि कोई भी इंसान मजबूर मजबूत इंसान नहीं होता है यह सिर्फ एक तरीका है हम हम लोग ऐसे ही लोगों को क्या डिक्रिस कर देते हैं कि तो बनती है यार हर कोई प्यार होता है अगर वह बनना चाहे तो हम कभी भी यह नहीं कह सकते कि कोई भी इंसान अपने दिमाग को यूज करने का तरीका नहीं आता है अगर आप को यूंही नहीं कर पाते हैं क्योंकि लेकिन दिमाग एक ऐसी चीज है कि आप जिसको जितना ज्यादा यूज करेंगे उतना ज्यादा तेज होगा तो अगर आप कहीं पर दिमाग लगाएंगे नहीं तो फिर आपको कैसे लगे क्या मंदबुद्धि बन चुके हैं और होशियार बनने के लिए करें मीडियम डेकोरेट करें और उसके बाद आपको भेज रहा आपको ऐसा लगेगा कि हां आपका दिमाग वाकई में तेज हो रहा है क्योंकि इससे तो बहुत करते हैं क्योंकि हमें दिमाग में एक चीज तो पता ही है कि हम अगर सहयोग करना बिल्कुल बंद कर देंगे तो चलेगा नहीं और जिसे जितना ही काम करेगा

dekhiye sabse pehli baat toh yah ki koi bhi insaan majboor majboot insaan nahi hota hai yah sirf ek tarika hai hum hum log aise hi logo ko kya dikris kar dete hain ki toh banti hai yaar har koi pyar hota hai agar vaah bana chahen toh hum kabhi bhi yah nahi keh sakte ki koi bhi insaan apne dimag ko use karne ka tarika nahi aata hai agar aap ko yunhi nahi kar paate hain kyonki lekin dimag ek aisi cheez hai ki aap jisko jitna zyada use karenge utana zyada tez hoga toh agar aap kahin par dimag lagayenge nahi toh phir aapko kaise lage kya mandbuddhi ban chuke hain aur hoshiyar banne ke liye kare medium decorate kare aur uske baad aapko bhej raha aapko aisa lagega ki haan aapka dimag vaakai mein tez ho raha hai kyonki isse toh bahut karte hain kyonki hamein dimag mein ek cheez toh pata hi hai ki hum agar sahyog karna bilkul band kar denge toh chalega nahi aur jise jitna hi kaam karega

देखिए सबसे पहली बात तो यह कि कोई भी इंसान मजबूर मजबूत इंसान नहीं होता है यह सिर्फ एक तरीका

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  197
WhatsApp_icon
user

Rajsi

Sports Commentator & Reporter

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मंदबुद्धि तो हम सब होते हैं कहीं ना कहीं हम लोग साबित हो ही जाते हैं तो ऐसा तो नहीं है कि आप हर जगह होंगे अगर आपको ऐसा लगता है तो यह बहुत बड़ी ज्ञान की बात है कि आप इस बात को समझते हो कि दुनिया में भी बहुत कुछ है जो आप को समझना और आप को होशियार बनना है तो इस बात को पहले WhatsApp कीजिए कि आप बहुत बुद्धिमान हैं क्योंकि आप सीखना चाहते हैं वह देखना चाहते हैं और अब आप अपनी मिट्टी को वापस से बनाएंगे आप अपने आप को वापस से बनाएंगे तो होशियार बनने का एक चैप्टर ले चुके हैं वह यह कि आप इस बात को एक्सेप्ट कर चुके हम जान चुके हैं कि अभी होशियार बनना है आपको तो 1 तारीख तक आप बढ़ चुके दोस्त भी होगा कि होशियार बनने के लिए सबसे जरूरी है हमेशा अपनी लाइफ में एक एक्स्ट्रा सेकंड लेना हम लोग कभी कभी किसी से बहुत जल्दी बाजी में करते हैं अगर हम 1 सेकंड और ले ले उस काम को करने में बहुत ही आराम से बहुत ही होशियारी से सोच समझकर करेंगे और हमें किसी याद भी रहेंगी को होशियार बनने का मतलब यह कि आप उसका जवाब भी खुश करने के लिए एक्टिविटीज में तो आप कभी यह गलतियां नहीं करोगे इसके अलावा किताबें पढ़ सकते हैं आप बड़े बुजुर्गों से बातचीत कर सकते हैं अपने दोस्त यारों से बातचीत कर सकते हैं खुद लिखने का जरा फ्रॉक रखेंगे तो आप उसके लिए पढ़ेंगे तो लिखने पढ़ने का शौक रखिए कि आप को होशियार बनने से कोई नहीं रोक सकता

mandbuddhi toh hum sab hote hain kahin na kahin hum log saabit ho hi jaate hain toh aisa toh nahi hai ki aap har jagah honge agar aapko aisa lagta hai toh yah bahut badi gyaan ki baat hai ki aap is baat ko samajhte ho ki duniya mein bhi bahut kuch hai jo aap ko samajhna aur aap ko hoshiyar bana hai toh is baat ko pehle WhatsApp kijiye ki aap bahut buddhiman hain kyonki aap sikhna chahte hain vaah dekhna chahte hain aur ab aap apni mitti ko wapas se banayenge aap apne aap ko wapas se banayenge toh hoshiyar banne ka ek chapter le chuke hain vaah yah ki aap is baat ko except kar chuke hum jaan chuke hain ki abhi hoshiyar bana hai aapko toh 1 tarikh tak aap badh chuke dost bhi hoga ki hoshiyar banne ke liye sabse zaroori hai hamesha apni life mein ek extra second lena hum log kabhi kabhi kisi se bahut jaldi baazi mein karte hain agar hum 1 second aur le le us kaam ko karne mein bahut hi aaram se bahut hi hoshiyaari se soch samajhkar karenge aur hamein kisi yaad bhi rahegi ko hoshiyar banne ka matlab yah ki aap uska jawab bhi khush karne ke liye activities mein toh aap kabhi yah galtiya nahi karoge iske alava kitaben padh sakte hain aap bade bujurgon se batchit kar sakte hain apne dost yaaron se batchit kar sakte hain khud likhne ka zara frock rakhenge toh aap uske liye padhenge toh likhne padhne ka shauk rakhiye ki aap ko hoshiyar banne se koi nahi rok sakta

मंदबुद्धि तो हम सब होते हैं कहीं ना कहीं हम लोग साबित हो ही जाते हैं तो ऐसा तो नहीं है कि

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  178
WhatsApp_icon
play
user

Raman yadhuvansi

UPSC aspirant

1:48

Likes  10  Dislikes    views  398
WhatsApp_icon
user

.

Hhhgnbhh

0:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए पहले तब उसे दिमाग से यह निकाल दीजिए कि आप मंद बुद्धि इंसान है अब बिल्कुल मन बुद्धि इंसान नहीं आ रहा बहुत ही होशियार है वह जो होशियार इंसान जो आपके अंदर छुपा हुआ है आप सारे लोगों को यह बता दीजिए प्रूफ कर दीजिए कि वह होशियार इंसान अब आप बाहर निकल चुका है और अगर आपको ऐसा लगता है कि आप बंद होती है तो ऐसा तो बिल्कुल भी नहीं है पर्दा फिर भी चाहते क्या आप और सब होशियार बने तो मुझे लगता है कि उसके लिए आपको मेरी देश में आप कर सकते हैं आपको ऐसी क्रीम जिससे जनता को दिमाग पड़े जैसे मेमोरी की माफ कर सकता है अपने किसी भी दोस्त के साथ जिसमें क्या होता है कि वह कब बोलेगा आपको जो आपके दोस्त हैं सब बोला वह भी बोलो लेकिन सब दुश्मन है आपका दोस्त है मैं पहले जो सबसे पहले उसने बोला था उसके बाद जो आपने बोला था उसे अपना सब कुछ मिलेगा चलती रहती हो सकता है और आप उसमें काम करिए

dekhiye pehle tab use dimag se yah nikaal dijiye ki aap mand buddhi insaan hai ab bilkul man buddhi insaan nahi aa raha bahut hi hoshiyar hai vaah jo hoshiyar insaan jo aapke andar chupa hua hai aap saare logo ko yah bata dijiye proof kar dijiye ki vaah hoshiyar insaan ab aap bahar nikal chuka hai aur agar aapko aisa lagta hai ki aap band hoti hai toh aisa toh bilkul bhi nahi hai parda phir bhi chahte kya aap aur sab hoshiyar bane toh mujhe lagta hai ki uske liye aapko meri desh mein aap kar sakte hain aapko aisi cream jisse janta ko dimag pade jaise memory ki maaf kar sakta hai apne kisi bhi dost ke saath jisme kya hota hai ki vaah kab bolega aapko jo aapke dost hain sab bola vaah bhi bolo lekin sab dushman hai aapka dost hai pehle jo sabse pehle usne bola tha uske baad jo aapne bola tha use apna sab kuch milega chalti rehti ho sakta hai aur aap usme kaam kariye

देखिए पहले तब उसे दिमाग से यह निकाल दीजिए कि आप मंद बुद्धि इंसान है अब बिल्कुल मन बुद्धि इ

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  217
WhatsApp_icon
user

NotInterested

NotInterested

0:53
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आपको लगता है कि आप एक मंदबुद्धि इंसान और आप को होशियार बनना है तो मेरे हिसाब से लगता है कि आपको पैनल जिंदगी को समझना होगा और इसके लिए आपको पहले खुद को समझने की जरूरत है और ऊपर से अगर आप होशियार लोगों का संगत करो और आपके दोस्त ईमानदार हैं अगर आप होशियार लोगों को अपना दोस्त बनाओ और आकर आपका दोस्त के साथ ईमानदारी से रहते हैं तो उन लोगों का संगत के हिसाब से आज से उन लोगों से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा आपको और आप भी उन लोगों की तरह बन सकते हो और उसके साथ साथ आपको लाइक नॉलेज की भी जरूरत होगी और आपका अगर पेरेंट्स टीचर हुसैन सब कोई आपको हेल्प करते हैं कि आप भी दुश्मन बन जाओ और उसके साथ सोता मेहनत करेंगे तो ऑफिस कि आप बुद्धिमान बन सकते हो

agar aapko lagta hai ki aap ek mandbuddhi insaan aur aap ko hoshiyar banna hai toh mere hisab se lagta hai ki aapko panel zindagi ko samajhna hoga aur iske liye aapko pehle khud ko samjhne ki zarurat hai aur upar se agar aap hoshiyar logo ka sangat karo aur aapke dost imaandaar hain agar aap hoshiyar logo ko apna dost banao aur aakar aapka dost ke saath imaandaari se rehte hain toh un logo ka sangat ke hisab se aaj se un logo se bahut kuch sikhne ko milega aapko aur aap bhi un logo ki tarah ban sakte ho aur uske saath saath aapko like knowledge ki bhi zarurat hogi aur aapka agar parents teacher hussain sab koi aapko help karte hain ki aap bhi dushman ban jao aur uske saath sota mehnat karenge toh office ki aap buddhiman ban sakte ho

अगर आपको लगता है कि आप एक मंदबुद्धि इंसान और आप को होशियार बनना है तो मेरे हिसाब से लगता ह

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  216
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!