रदरफोर्ड का परमाणु मॉडल की व्याख्या कीजिये?...


user
2:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल का वर्णन करिए तो रदरफोर्ड ने अल्फा कणों की बौछार की थी सोने की पतली पन्नी पर कॉल फॉर करो कि जब उसमें बौछार की तो कुछ कर तो सोने की झिल्ली पढ़ने में से बाहर सीधे निकल गए कुछ का 90 डिग्री कानपुर का 180 डिग्री पर मर गए तो 270 पर कर दो अलग अलग अलग अलग अलग अलग से रुद्रपुर ने यह निष्कर्ष निकाले कि जिस प्रकार अगर परमाणु में से अल्फा कण सीधा निकल गया तो उसका मतलब परमाणु के बीच बीच में कहीं न कहीं खाली स्थान है खाली स्थान में जब भी तो कर बाहर निकलेंगे तो यह उसने बताया इस आधार पर रदरफोर्ड ने बताया कि परमाणु खोकला और दूसरी बात दूसरी बात नहीं बताई के कुछ कम सीधे निकलने के बजाय कुछ विशेष कोणों पर मर गए तो इसका यह निष्कर्ष निकाला कि इलेक्ट्रॉन जो होते हैं वह नाभिक के चारों ओर चक्कर लगाते रहते हैं इलेक्ट्रॉन गतिशील होते हैं वही अल्फा कणों को विचलित करते हैं इनको निष्कर्ष जो बताया कि वह 20000 पदों में से एक अल्फा कण वापस 180 डिग्री पर आ गया तो यह तभी मुमकिन है जब उसके सामने कोई धन आवेश पंजा जाए क्योंकि अल्फा कण के धन आवेश होता है तो इस आधार पर रदरफोर्ड ने तीसरा तीसरा निष्कर्ष निकाला कि परमाणु का जो नाभिक है यानी जो परमाणु के ठीक बीच में सारा धन आवेश होता है इस प्रकार रदरफोर्ड ने सोने की पतली झिल्ली पर अल्फा कणों की बौछार कर के अरमानों का एक मॉडल प्रस्तुत किया जिसे परमाणु मॉडल कहते हैं

aapka prashna hai rutherford ke parmanu model ka varnan kariye toh rutherford ne alpha kanon ki bauchar ki thi sone ki patli panni par call for karo ki jab usme bauchar ki toh kuch kar toh sone ki jhilli padhne me se bahar sidhe nikal gaye kuch ka 90 degree kanpur ka 180 degree par mar gaye toh 270 par kar do alag alag alag alag alag alag se rudrapur ne yah nishkarsh nikale ki jis prakar agar parmanu me se alpha kan seedha nikal gaya toh uska matlab parmanu ke beech beech me kahin na kahin khaali sthan hai khaali sthan me jab bhi toh kar bahar nikalenge toh yah usne bataya is aadhar par rutherford ne bataya ki parmanu khokala aur dusri baat dusri baat nahi batai ke kuch kam sidhe nikalne ke bajay kuch vishesh konon par mar gaye toh iska yah nishkarsh nikaala ki electron jo hote hain vaah nabhik ke charo aur chakkar lagate rehte hain electron gatisheel hote hain wahi alpha kanon ko vichalit karte hain inko nishkarsh jo bataya ki vaah 20000 padon me se ek alpha kan wapas 180 degree par aa gaya toh yah tabhi mumkin hai jab uske saamne koi dhan aavesh panja jaaye kyonki alpha kan ke dhan aavesh hota hai toh is aadhar par rutherford ne teesra teesra nishkarsh nikaala ki parmanu ka jo nabhik hai yani jo parmanu ke theek beech me saara dhan aavesh hota hai is prakar rutherford ne sone ki patli jhilli par alpha kanon ki bauchar kar ke aramanon ka ek model prastut kiya jise parmanu model kehte hain

आपका प्रश्न है रदरफोर्ड के परमाणु मॉडल का वर्णन करिए तो रदरफोर्ड ने अल्फा कणों की बौछार की

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  542
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!