क्या आपको लगता है कि जाति प्रथा का विरोध ज़रूरी था?...


user

Sunil Kumar Pandey

Editor & Writer

2:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या आपको लगता है चार प्रथा का विरोध जरूरी था नहीं रहा है नहीं किसी भी देश का विकास 7 वार्षिक अभी संभव नहीं है हमारे देश में भी जातिवाद का फार्म से ही विद्यमान रही है जिसका कारण आश्रम विकास के पथ पर पिछड़ गए हैं अतः भारत में कई भाषा भाषी के लोग निवास करते हैं उनमें हिंदू सिख इसाई तथा अन्य जातियों के लोग हैं हिंदुओं में भी कराया उच्च वर्ग मध्यम व निम्न वर्ग के लोग हैं उच्च वर्ग तथा सामान्य वर्ग के लोग इन नंबरों पर पहले अत्याचार करते थे उन्हें समाज में वसा स्थान प्राप्त होना चाहिए क्योंकि कदापि उचित नहीं है क्योंकि समाज में सभी निवास करने लोग चाहे वक्त उच्चरित ऊंचाई मध्यमवर्ग हूं सब समान है सबको समान अधिकार दिया मेहंदी भी इस बात का स्पष्ट उल्लेख किया गया है कि सब लोग समान रूप से भागीदारी गणित किसी के साथ इस तरह भेदभाव नहीं किया जा सकता पता शिव के धाम में के संविधान में आरक्षण की व्यवस्था की गई थी कि जिससे जाट था पर अंकुश लगाया जाए में जाता था परंतु तभी लगाया जा सकता है जब सभी उच्च जातियां अपने सीने में जातियों या मध्यम जातियों से समानता के बिहार करें उनके साथ भेदभाव ना करें बल्कि उन्हें इस समाज में आगे आने का अवसर दें तभी देश में चार्ज वार्ता समाप्त हो सकती है अभी राय में चौथ माता का व्रत करना आवश्यक था जिनमें अंबेडकर महात्मा ज्योतिबा फुले तथा अन्य राजनेता का महत्वपूर्ण योगदान है उन्होंने जात प्रथा का विरोध किया और पहले की अपेक्षा अब चार्ट उठाने कमीज अवश्य आई है और हमें उम्मीद करना चाहिए कि जैसे हम चुप होंगे ऐसी व्यवस्था में कमी आएगी और सभी लोक समान है अतः सभी को एक दूसरे के साथ मिल मिल बैठकर रहना चाहिए तथा किसी के साथ भेदभाव नहीं करना चाहिए तभी देश का विकास संभव है धन्यवाद

namaskar aapka prashna hai kya aapko lagta hai char pratha ka virodh zaroori tha nahi raha hai nahi kisi bhi desh ka vikas 7 vaarshik abhi sambhav nahi hai hamare desh me bhi jaatiwad ka form se hi vidyaman rahi hai jiska karan ashram vikas ke path par pichad gaye hain atah bharat me kai bhasha bhashi ke log niwas karte hain unmen hindu sikh isai tatha anya jaatiyo ke log hain hinduon me bhi karaya ucch varg madhyam va nimn varg ke log hain ucch varg tatha samanya varg ke log in numberon par pehle atyachar karte the unhe samaj me vasa sthan prapt hona chahiye kyonki kadapi uchit nahi hai kyonki samaj me sabhi niwas karne log chahen waqt uchcharit unchai madhyamavarg hoon sab saman hai sabko saman adhikaar diya mehendi bhi is baat ka spasht ullekh kiya gaya hai ki sab log saman roop se bhagidari ganit kisi ke saath is tarah bhedbhav nahi kiya ja sakta pata shiv ke dhaam me ke samvidhan me aarakshan ki vyavastha ki gayi thi ki jisse jaat tha par ankush lagaya jaaye me jata tha parantu tabhi lagaya ja sakta hai jab sabhi ucch jatiya apne seene me jaatiyo ya madhyam jaatiyo se samanata ke bihar kare unke saath bhedbhav na kare balki unhe is samaj me aage aane ka avsar de tabhi desh me charge varta samapt ho sakti hai abhi rai me chauth mata ka vrat karna aavashyak tha jinmein ambedkar mahatma jyotiba phule tatha anya raajneta ka mahatvapurna yogdan hai unhone jaat pratha ka virodh kiya aur pehle ki apeksha ab chart uthane kamij avashya I hai aur hamein ummid karna chahiye ki jaise hum chup honge aisi vyavastha me kami aayegi aur sabhi lok saman hai atah sabhi ko ek dusre ke saath mil mil baithkar rehna chahiye tatha kisi ke saath bhedbhav nahi karna chahiye tabhi desh ka vikas sambhav hai dhanyavad

नमस्कार आपका प्रश्न है क्या आपको लगता है चार प्रथा का विरोध जरूरी था नहीं रहा है नहीं किसी

Romanized Version
Likes  217  Dislikes    views  2628
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!