मेरा सीधा सवाल सरकार से अगर आप ही प्राइवेट स्कूल को बढ़ावा देंगे, तो सरकारी स्कूल में कौन आएगा?...


play
user

Anumita Dutta

Volunteer

2:01

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप प्राइवेट स्कूल अबे सरकारी स्कूल का अगर प्रोमोशन चल रहा है तो वह और जो होता है उसमें हर एक चीज का फीस भरने पड़ते हैं और वहां पर सब चीज होते हैं वह बहुत ही ज्यादा होते हैं और अगर शेखर सरकारी स्कूलों में शिक्षा देने के लिए जो चीज है वह को बहुत ही कम मात्रा में होते हैं हालांकि देखा जाता है बहुत सारे स्कूलों में जो टीचर है सही तरीका से पर आते नहीं हैं औरों का तरीका जो है वह सही नहीं होते हैं समटाइम पूरा नॉलेज जो है वही उन लोगों के पास नहीं होते हैं तो इसी कारण वे सरकारी स्कूलों में ज्यादातर फिर होते हैं पर अगर हम लोग इसके लिए कुछ सुधार लाते हैं और ऑफिस जो है जो कि हम लोग के कंस्टीटूशन या संविधान में बोला गया है लोकेशन या फिर एजुकेशन जो है यह कांस्टीट्यूशनल राइट है हर एक व्यक्ति का तू अगर हम लोग और अगर अपने काम को ज्यादा महत्वपूर्ण बनाए जैसे कि अगर टीचर और हम लोग का जो छात्र है उन लोगों को अच्छी तरह से शिक्षा देते हैं या फिर ठीक से उन लोगों का अर्थ नॉलेज जो है वह शेयर करते हैं तो जरूर सरकारी स्कूल जो है वह बहुत ही अच्छा होगा और उसके साथ साथ और जो सरकारी स्कूलों में फीस जो है अगर और भी हटा देते हैं तो आप एजुकेशनल क्वालिफिकेशन है भारतीय नागरिक का वह भी बढ़ता रहेगा और आज जरूरत भारत के लोग अशिक्षित होते हैं तो भारत जरूर इसके हिसाब से आगे बढ़ते हैं तो यह सरकार की तरफ से ही लेना रेखा

agar aap private school abe sarkari school ka agar promoshan chal raha hai toh vaah aur jo hota hai usme har ek cheez ka fees bharne padte hain aur wahan par sab cheez hote hain vaah bahut hi zyada hote hain aur agar shekhar sarkari schoolon mein shiksha dene ke liye jo cheez hai vaah ko bahut hi kam matra mein hote hain halaki dekha jata hai bahut saare schoolon mein jo teacher hai sahi tarika se par aate nahi hain auron ka tarika jo hai vaah sahi nahi hote hain sometime pura knowledge jo hai wahi un logo ke paas nahi hote hain toh isi karan ve sarkari schoolon mein jyadatar phir hote hain par agar hum log iske liye kuch sudhaar laate hain aur office jo hai jo ki hum log ke constitution ya samvidhan mein bola gaya hai location ya phir education jo hai yah kanstityushanal right hai har ek vyakti ka tu agar hum log aur agar apne kaam ko zyada mahatvapurna banaye jaise ki agar teacher aur hum log ka jo chatra hai un logo ko achi tarah se shiksha dete hain ya phir theek se un logo ka arth knowledge jo hai vaah share karte hain toh zaroor sarkari school jo hai vaah bahut hi accha hoga aur uske saath saath aur jo sarkari schoolon mein fees jo hai agar aur bhi hata dete hain toh aap educational qualification hai bharatiya nagarik ka vaah bhi badhta rahega aur aaj zarurat bharat ke log ashikshit hote hain toh bharat zaroor iske hisab se aage badhte hain toh yah sarkar ki taraf se hi lena rekha

अगर आप प्राइवेट स्कूल अबे सरकारी स्कूल का अगर प्रोमोशन चल रहा है तो वह और जो होता है उसमें

Romanized Version
Likes  15  Dislikes    views  403
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!