कमल हासन हिंदू विरोधी टिप्पणियों का सामना क्यों कर र है हैं? क्या लोग राजनीति में उनका स्वागत करने के लिए तैयार नहीं हैं?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:55

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कमल हसन जी का विरोध जो हो रहा है वह हिंदी विरोधी टिप्पणियों के, से ज्यादा नहीं हो रहा, वह अरविंद केजरीवाल जी के साथ मिलने से ज्यादा हो रहा है, मुझे लगता है| उनको बहुत ज्यादा ट्रोल किया जा रहा है अरविंद केजरीवाल जी से मिलने के लिए और राजनीति में आने के लिए आपको पता है किसी एक पार्टी के खिलाफ आपको रहना पड़ेगा और एक पार्टी के साथ रहना पड़ेगा| तो जिस पार्टी के साथ आप हैं वह पार्टी की विचारधारा क्या है या वह पार्टी किस विचारधारा को हटाना चाहती है उस विचारधारा को आपको लाना पड़ेगा| भारतीय जनता पार्टी को काम समझते हैं हिंदूवादी पार्टी माना जाता है उसे प्रजेंट किया जाता है हालांकि ऐसा कुछ है नहीं केवल जातिवाद राजनीति में रह गया है और कहीं नहीं है| तो कमल हासन भी शायद राजनीति में आने के लिए इस तरह कदम उठा रहे है| देखिये रजनीकांत जी की यही महानता है कि रजनीकांत जी जब पार्टी बना कराना चाहते थे तो उन्होंने केवल विकास की बात की| उन्होंने नहीं कहा कि मैं हिंदू हूँ, मुस्लिम हूँ, ईसाई हूँ, सिख हूँ या इन लोगो के लिए प्रोटेक्शन करूँगा| उन्होंने बोला कि मैं काम करके दूंगा जो काम मुझसे कहा गया करने नहीं किया साल भर के अंदर पार्टी बंद कर दूंगा, तो यह चीज होनी चाहिए व्यक्ति के अंदर| कमल हासन ने हालांकि बहुत परेशानियां भी झेली है उनकी फिल्म को कई जगह रिलीज़ नहीं होने दिया| विश्वरूपम मूवी को, हिंदूस के चक्कर में, उसमें हालाकि हल्की कुछ दिखाया गया था लेकिन उसको रिलीज नहीं होने दिया| एक्सप्रेस ऑफ फ्रीडम कि उनके साथ कई बार परेशानियां जरूर हुई थी इसलिए वह अपने आप को अपने हिंदू माने ना माने जो भी वह मानते हो इससे कोई फर्क नहीं पड़ता लेकिन कट्टरपंथी अगर किसी भी दल में होंगे तो उनको साथ क्रिटीसिसम तो झेलना ही पड़ेगा, चाहे वह किसी भी धर्म के हो| मुझे लगता है किसी धर्म से परे हम हिंदुस्तानी होना चाहिए और अगर लोगों को राजनीति में आना भी है तो किसी धर्म का इस्तेमाल ना करके अपनी समझदारी का इस्तेमाल कीजिए| जैसे कि रजनीकांत जी ने किया है| उन्होंने विकास की बात की है और उम्मीद करता हूं कि अगर वह राजनीति में आए तो साउथ इंडिया में विकास हो डेवलपमेंट हो धन्यवाद|

kamal hasan ji ka virodh jo ho raha hai vaah hindi virodhi tippaneyon ke se zyada nahi ho raha vaah arvind kejriwal ji ke saath milne se zyada ho raha hai mujhe lagta hai unko bahut zyada troll kiya ja raha hai arvind kejriwal ji se milne ke liye aur raajneeti mein aane ke liye aapko pata hai kisi ek party ke khilaf aapko rehna padega aur ek party ke saath rehna padega toh jis party ke saath aap hai vaah party ki vichardhara kya hai ya vaah party kis vichardhara ko hatana chahti hai us vichardhara ko aapko lana padega bharatiya janta party ko kaam samajhte hai hinduvaadi party mana jata hai use present kiya jata hai halaki aisa kuch hai nahi keval jaatiwad raajneeti mein reh gaya hai aur kahin nahi hai toh kamal hasan bhi shayad raajneeti mein aane ke liye is tarah kadam utha rahe hai dekhiye rajnikant ji ki yahi mahanata hai ki rajnikant ji jab party bana krana chahte the toh unhone keval vikas ki baat ki unhone nahi kaha ki main hindu hoon muslim hoon isai hoon sikh hoon ya in logo ke liye protection karunga unhone bola ki main kaam karke dunga jo kaam mujhse kaha gaya karne nahi kiya saal bhar ke andar party band kar dunga toh yah cheez honi chahiye vyakti ke andar kamal hasan ne halaki bahut pareshaniya bhi jheli hai unki film ko kai jagah release nahi hone diya vishwarupam movie ko hindus ke chakkar mein usme halaki halki kuch dikhaya gaya tha lekin usko release nahi hone diya express of freedom ki unke saath kai baar pareshaniya zaroor hui thi isliye vaah apne aap ko apne hindu maane na maane jo bhi vaah maante ho isse koi fark nahi padta lekin kattarapanthi agar kisi bhi dal mein honge toh unko saath kritisisam toh jhelna hi padega chahen vaah kisi bhi dharm ke ho mujhe lagta hai kisi dharm se pare hum hindustani hona chahiye aur agar logo ko raajneeti mein aana bhi hai toh kisi dharm ka istemal na karke apni samajhdari ka istemal kijiye jaise ki rajnikant ji ne kiya hai unhone vikas ki baat ki hai aur ummid karta hoon ki agar vaah raajneeti mein aaye toh south india mein vikas ho development ho dhanyavad

कमल हसन जी का विरोध जो हो रहा है वह हिंदी विरोधी टिप्पणियों के, से ज्यादा नहीं हो रहा, वह

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  183
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!