मंगलवार को दोपहर में फल फ्रूट खा सकते हैं?...


user

BK Kalyani

Teacher On Rajyoga Spiritual Knowledge

5:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बहुत अच्छी क्वेश्चन हैप्पी मंगलवार को दोपहर में फल फ्रूट खा सकते हैं बिल्कुल आ कर सकते हैं भाई मंगलवार बुधवार गुरुवार शुक्रवार शनिवार रविवार किसने बनाया भगवान ने नहीं यह हमने बनाया संडे मंडे ट्यूजडे वेनसडे थर्सडे फ्राइडे सेटरडे किसने बनाया भगवान हमने बनाया भगवान ने मात्र चार पहर बनानी मंगलवार को दोपहर में फल फ्रूट खा सकते हैं क्योंकि यह 12 दिन हम मनीष ने बनाया भगवान ने तुम्हें बनाया है सुबह दोपहर शाम रात्रि लेकिन भगवान ने कभी भी किसी चीज को खाने से मना नहीं किया कभी भी किसी भी चीज तो खाने से मना नहीं किया फिर भगवान ने खाने को यह चीज बनाया है कि जिसकी हम जीवनदान नहीं कर सकते हैं उसका जीव हत्या भी कर नहीं सकते अपने जीभ के स्वाद के लिए फल फ्रूट खाने से भगवान क्यों मना करेंगे दिन और बार भगवान का नहीं होता हमने दिन वार भगवान के नाम पर रखा है देखता है तो फल और फ्रूट खाते हैं और हम उन्हीं के भक्त हैं और परमात्मा की संतान हैं तो क्यों नहीं कर सकते हैं कोई कार्य के लिए हम निकलते हैं शुभ मुहूर्त बनाकर तो हमें कौन से दुआएं दे जाती है कौन से दुआएं मिलती है आपके हर कार्य मंगलमय हो आपका मंगल कामना हो इस तरह से दवाई मिलती है मंगलवार को हम दोपहर को फल फ्रूट भले क्यों नहीं खा सकते हैं भगवान तो कहा हर दिन खाना हर समय खाना हर पल खाना हर रोज खाना जब तुम खाओगे नहीं तो मुझे याद कैसे करोगे अगर भूख से रोती रहेगी तो मन भगवान पर कभी नहीं टिकेगी भगवान ने कभी दिखाने से मना नहीं किया हमने कहा पेट भर खाओ और मन भर याद करो पेट भर कर मन भर याद करो पेट भरा रहेगा तो मन भी परमात्मा में टिका रहेगा भगवान में टिका रहेगा मेरे हिसाब से तो राज योगा मेडिटेशन के द्वारा बताया गया है की दोपहर को फल फ्रूट खा सकते हैं क्या जैसे क्वेश्चन किए हैं तो भगवान ने ऐसे ही कहा सुबह से उठते के साथ यही परहेज करो कि आज का दिन मेरा शुभ है तो आज की मेरी बानी जी शुभ होना चाहिए आज का संस्कार भी मेरा शुभ होना चाहिए आज की दृष्टि भी मेरी सुबह होना चाहिए सुबह से लेकर आखिरी तक समय बांधा रहना चाहिए कि सुबह से लेकर रात्रि तक सुबह के समय दोपहर के समय शाम के समय रात्रि के समय हमने कितने शुभ विचार और कितने भगवान की याद किए शरीर का भोजन तो हम रोज खाते हैं लेकिन आत्मिक को जन परमात्मा शक्ति का भोजन होती है उसको हमने कितना याद किया उसे हमने कितनी बार ग्रहण किया कितने पहर कितने बार कितने सेकेंड कितने मिनट इसके हिसाब रखी खाने के लिए मंगलवार शनिवार की आवश्यकता नहीं कि फल और दूध इस दिन में खा सकते हैं हर दिन में खा सकते हैं भाई रेप मांस और मछली के लिए ही परमात्मा ने मना किया है कि हम जिसकी जीवनदान नहीं दे सकते उसका जीवन का अधिकार नहीं है हमें देवकूल वाले आत्मा थी देवता हमारे ही जैसे दिखते हैं बस हो सके प्रधान तत्व और हम सब उपप्रधान तमोगुण हो गए हैं और कितनी हो गई है उसमें सत्यता है हमारे में मित्रता पुस्तक के कारण हर किसी से टकरा जाते हैं और हम झूठ के कारण पीछे हटते जाते हैं जो कि हमारे आता बल्कि शक्ति कमजोर हो गई है भ्रष्ट भोजन करके फल कनमोरी यह तो श्रेष्ठ भोजन है शुद्ध भोजन है जिसे देवता ग्रहण करते हैं इसके लिए कोई नियम लागू नहीं है इसके अधिक जानकारी के लिए अपने विद्यालय राज्यों का मेडिटेशन इतनी जाती है

bahut achi question happy mangalwaar ko dopahar me fal fruit kha sakte hain bilkul aa kar sakte hain bhai mangalwaar budhavar guruwaar sukravaar shaniwaar raviwar kisne banaya bhagwan ne nahi yah humne banaya sunday monday tyujade wednesday thursday friday setarade kisne banaya bhagwan humne banaya bhagwan ne matra char pahar banani mangalwaar ko dopahar me fal fruit kha sakte hain kyonki yah 12 din hum manish ne banaya bhagwan ne tumhe banaya hai subah dopahar shaam ratri lekin bhagwan ne kabhi bhi kisi cheez ko khane se mana nahi kiya kabhi bhi kisi bhi cheez toh khane se mana nahi kiya phir bhagwan ne khane ko yah cheez banaya hai ki jiski hum jivanadan nahi kar sakte hain uska jeev hatya bhi kar nahi sakte apne jeebh ke swaad ke liye fal fruit khane se bhagwan kyon mana karenge din aur baar bhagwan ka nahi hota humne din war bhagwan ke naam par rakha hai dekhta hai toh fal aur fruit khate hain aur hum unhi ke bhakt hain aur paramatma ki santan hain toh kyon nahi kar sakte hain koi karya ke liye hum nikalte hain shubha muhurt banakar toh hamein kaun se duaen de jaati hai kaun se duaen milti hai aapke har karya mangalmay ho aapka mangal kamna ho is tarah se dawai milti hai mangalwaar ko hum dopahar ko fal fruit bhale kyon nahi kha sakte hain bhagwan toh kaha har din khana har samay khana har pal khana har roj khana jab tum khaoge nahi toh mujhe yaad kaise karoge agar bhukh se roti rahegi toh man bhagwan par kabhi nahi tikegi bhagwan ne kabhi dikhane se mana nahi kiya humne kaha pet bhar khao aur man bhar yaad karo pet bhar kar man bhar yaad karo pet bhara rahega toh man bhi paramatma me tika rahega bhagwan me tika rahega mere hisab se toh raj yoga meditation ke dwara bataya gaya hai ki dopahar ko fal fruit kha sakte hain kya jaise question kiye hain toh bhagwan ne aise hi kaha subah se uthte ke saath yahi parhej karo ki aaj ka din mera shubha hai toh aaj ki meri bani ji shubha hona chahiye aaj ka sanskar bhi mera shubha hona chahiye aaj ki drishti bhi meri subah hona chahiye subah se lekar aakhiri tak samay bandha rehna chahiye ki subah se lekar ratri tak subah ke samay dopahar ke samay shaam ke samay ratri ke samay humne kitne shubha vichar aur kitne bhagwan ki yaad kiye sharir ka bhojan toh hum roj khate hain lekin atmik ko jan paramatma shakti ka bhojan hoti hai usko humne kitna yaad kiya use humne kitni baar grahan kiya kitne pahar kitne baar kitne second kitne minute iske hisab rakhi khane ke liye mangalwaar shaniwaar ki avashyakta nahi ki fal aur doodh is din me kha sakte hain har din me kha sakte hain bhai rape maas aur machli ke liye hi paramatma ne mana kiya hai ki hum jiski jivanadan nahi de sakte uska jeevan ka adhikaar nahi hai hamein devakul waale aatma thi devta hamare hi jaise dikhte hain bus ho sake pradhan tatva aur hum sab upapradhan tamogun ho gaye hain aur kitni ho gayi hai usme satyata hai hamare me mitrata pustak ke karan har kisi se takara jaate hain aur hum jhuth ke karan peeche hatate jaate hain jo ki hamare aata balki shakti kamjor ho gayi hai bhrasht bhojan karke fal kanmori yah toh shreshtha bhojan hai shudh bhojan hai jise devta grahan karte hain iske liye koi niyam laagu nahi hai iske adhik jaankari ke liye apne vidyalaya rajyo ka meditation itni jaati hai

बहुत अच्छी क्वेश्चन हैप्पी मंगलवार को दोपहर में फल फ्रूट खा सकते हैं बिल्कुल आ कर सकते हैं

Romanized Version
Likes  40  Dislikes    views  949
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!