सूर्य ग्रह ही क्यों दिन में चमकता है बाकि ग्रह क्यों नहीं चमकते?...


user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप कहते सूर्यग्रहण ही क्यों दिन में चमकता बाकी ग्रह क्यों चमकते हैं श्रीमान जी की सूर्य कोई गाड़ी नहीं है बल्कि वह कार है जिसमें स्वयं का प्रकाश सूर्य तारा है और वह बाकी ग्रहण से अलग है ग्रहों में स्वयं का प्रकाश नहीं होता तो हम को रात में देखते हैं उनमें से अधिकांश अधिकांश तारे हैं और उनमें सहन का प्रकाश है गृह जो है जैसे कि बुध शुक्र पृथ्वी मंगल से बिक रहे हैं और यह सूर्य के प्रकाश से प्रकाशित होते हैं तू ही अंतर पहली बात तो यह है अब आप कैसे सूर्य ग्रहण दिन में ही तो चमकता है तू सुना पता इसमें स्वयं के ऊर्जा का स्रोत है इसमें जो हाइड्रोजन है वही लिए में बदलती है और उस क्रिया में बहुत बड़ी मात्रा में ऊर्जा उत्पन्न होती है तो इसकी उम्र तक पहुंचती है हां बाकी दूसरे तारे इतनी दूर हैं हमसे क्योंकि चमक दिन में सूर्य के प्रकाश टाइम से नहीं पहुंच पाती जैसा समझे कि आप किसी कमरे में 78 वाट का बल्ब जल रहा हो तो आप पापा मोमबत्ती आपको समझ में नहीं आएगी क्या उसका प्रकाश आकोली देते तो बिल्कुल वैसे ही होता है तो यही नियम यहां भी लगता है तारे हम को रात में दिखाई पड़ते हैं जो सूरज छुप जाता है

aap kehte surya grahan hi kyon din me chamakta baki grah kyon chamakate hain shriman ji ki surya koi gaadi nahi hai balki vaah car hai jisme swayam ka prakash surya tara hai aur vaah baki grahan se alag hai grahon me swayam ka prakash nahi hota toh hum ko raat me dekhte hain unmen se adhikaansh adhikaansh taare hain aur unmen sahan ka prakash hai grah jo hai jaise ki buddha shukra prithvi mangal se bik rahe hain aur yah surya ke prakash se prakashit hote hain tu hi antar pehli baat toh yah hai ab aap kaise surya grahan din me hi toh chamakta hai tu suna pata isme swayam ke urja ka srot hai isme jo hydrogen hai wahi liye me badalti hai aur us kriya me bahut badi matra me urja utpann hoti hai toh iski umar tak pohchti hai haan baki dusre taare itni dur hain humse kyonki chamak din me surya ke prakash time se nahi pohch pati jaisa samjhe ki aap kisi kamre me 78 watt ka bulb jal raha ho toh aap papa mombatti aapko samajh me nahi aayegi kya uska prakash akoli dete toh bilkul waise hi hota hai toh yahi niyam yahan bhi lagta hai taare hum ko raat me dikhai padate hain jo suraj chup jata hai

आप कहते सूर्यग्रहण ही क्यों दिन में चमकता बाकी ग्रह क्यों चमकते हैं श्रीमान जी की सूर्य को

Romanized Version
Likes  85  Dislikes    views  1509
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

JagratiJain

Motivational Speaker , Experience Of 20 Years as a Teacher

0:27
Play

Likes  57  Dislikes    views  1121
WhatsApp_icon
user
Play

Likes  3  Dislikes    views  136
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!