भक्ति भावना पर प्रकाश डालिए?...


user

arun

teaching

0:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब प्रेम श्रद्धा और समर्पण एक साथ हो जाए तो उसे भक्ति कहते हैं

jab prem shraddha aur samarpan ek saath ho jaaye toh use bhakti kehte hain

जब प्रेम श्रद्धा और समर्पण एक साथ हो जाए तो उसे भक्ति कहते हैं

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
play
user

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भक्ति जो है अपना आत्मविश्वास ही थे और भगवान भगवान पर हमेशा विश्वास से बनाकर रखिएगा तो आत्मा को शांति मिलती है

bhakti jo hai apna aatmvishvaas hi the aur bhagwan bhagwan par hamesha vishwas se banakar rakhiegaa toh aatma ko shanti milti hai

भक्ति जो है अपना आत्मविश्वास ही थे और भगवान भगवान पर हमेशा विश्वास से बनाकर रखिएगा तो आत्म

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  45
WhatsApp_icon
user

Jyoti Rawat

Angnbadi Worker

2:55
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो सर आपने यह क्वेश्चन पूछा है कि भक्ति भावना क्या है इस पर प्रकाश डालिए तो मैं समझती हूं कि भक्ति भावना यह नहीं है कि हमें परमात्मा की पूजा करनी चाहिए भगवान के पास जाकर बैठना चाहिए या फिर उनकी पूजा करनी चाहिए अगर हमें भगवान के पास बैठना है तो क्या फायदा फायदा क्या है क्या जिस व्यक्ति से हम दूसरों की मदद ना कर सके असली भक्ति वही है जिसमें हम निस्वार्थ भाव से चाहे वह कोई भी हो जाए और तुच्छ तुच्छ जी वह चाहे कितना भी हो चाहे वह कोई भी इंसान हो यदि वह जरूरतमंद है और हमने उसकी निस्वार्थ भाव से सेवा की है उसकी जरूरतों को पूरा किया है तो वहीं भक्ति भावना है और किस तरह का होना चाहिए फर्क नहीं पड़ना चाहिए इसका परिणाम क्या होगा इसका परिणाम क्या होगा कि हमें यह सोच कर रहा हूं मैं आ रही हूं इससे मुझे आगे मुझे फल मिलेगा इसका यह सोचकर अगर हमने दूसरों की मदद की ना तो इसका कोई परिणाम नहीं मिलेगा हमें यह तो फिर शांत हो गए एक तरह से इस तरह से स्वार्थ हो गए कि मतलब हम अपने स्वार्थ के लिए दूसरों की मदद कर रहे हैं अरे कभी किसी जानवर को देखना वह भी एक जानवर भी किसी जीव की मदद करने के लिए भी तैयार होता है यह अद्भुत दृश्य कभी कभी देखने को मिलता है यह प्राकृतिक नेसेसरी है आजकल कलयुग आ गया है कि हम दूसरों से कोई मतलब नहीं है उसे क्या कर रहा है क्या कर रहा है बहुत सारे लोग हैं जिसमें लोगों की कतार है डायन पड़ी हुई है शिव जी के शिवलिंग पर हो रहते दूध चढ़ाने के लिए ठीक है तू पर दूध चढ़ाने किसी गरीब को दूध पिला रहे हैं इसे ही भक्ति भावना कहते भगवान यह नहीं कहते कि मुझे मुझे तुम तो कुछ भगवान को कुछ नहीं चाहिए भगवान को स्वार्थ भक्ति चाहिए वह निस्वार्थ भक्ति की शक्ति पूजा पाठ करने बैठ भक्ति वह है जिसमें हम दूसरों की मदद करें जरूरतमंद को इसीलिए मुझसे कहा था कि उसे खिला कर क्या फायदा इसका पेट भरा हो उसे खिलाओ जो वास्तव में भूख है धन्यवाद मेरे हिसाब से तो यही है भक्ति भावना और आपका आंसर जो भी हो मुझे प्लीज रिप्लाई करना

hello sar aapne yeh question puchha hai ki bhakti bhavna kya hai is par prakash daaliye toh main samajhti hoon ki bhakti bhavna yeh nahi hai ki humein paramatma ki puja karni chahiye bhagwan ke paas jaakar baithana chahiye ya phir unki puja karni chahiye agar humein bhagwan ke paas baithana hai toh kya fayda fayda kya hai kya jis vyakti se hum dusro ki madad na kar sake asli bhakti wahi hai jisme hum niswarth bhav se chahe wah koi bhi ho jaye aur tucch tucch ji wah chahe kitna bhi ho chahe wah koi bhi insaan ho yadi wah jaruratmand hai aur humne uski niswarth bhav se seva ki hai uski jaruraton ko pura kiya hai toh wahi bhakti bhavna hai aur kis tarah ka hona chahiye fark nahi padhna chahiye iska parinam kya hoga iska parinam kya hoga ki humein yeh soch kar raha hoon main aa rahi hoon isse mujhe aage mujhe fal milega iska yeh sochkar agar humne dusro ki madad ki na toh iska koi parinam nahi milega humein yeh toh phir shaant ho gaye ek tarah se is tarah se swarth ho gaye ki matlab hum apne swarth ke liye dusro ki madad kar rahe hai are kabhi kisi janwar ko dekhna wah bhi ek janwar bhi kisi jeev ki madad karne ke liye bhi taiyaar hota hai yeh adbhut drishya kabhi kabhi dekhne ko milta hai yeh prakritik necessary hai aajkal kalyug aa gaya hai ki hum dusro se koi matlab nahi hai use kya kar raha hai kya kar raha hai bahut saare log hai jisme logo ki katar hai daayan padi hui hai shiv ji ke shivling par ho rehte doodh chadhane ke liye theek hai tu par doodh chadhane kisi garib ko doodh pila rahe hai ise hi bhakti bhavna kehte bhagwan yeh nahi kehte ki mujhe mujhe tum toh kuch bhagwan ko kuch nahi chahiye bhagwan ko swarth bhakti chahiye wah niswarth bhakti ki shakti puja path karne baith bhakti wah hai jisme hum dusro ki madad karein jaruratmand ko isliye mujhse kaha tha ki use kila kar kya fayda iska pet bhara ho use khilaao jo vaastav mein bhukh hai dhanyavad mere hisab se toh yahi hai bhakti bhavna aur aapka answer jo bhi ho mujhe please reply karna

हेलो सर आपने यह क्वेश्चन पूछा है कि भक्ति भावना क्या है इस पर प्रकाश डालिए तो मैं समझती हू

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  34
WhatsApp_icon
user

Gunjan

Junior Volunteer

0:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भक्ति भावना जो है वह आपके मन में होती है आप जो है जिसको इस मानते हैं उनके आप भक्ति कर सकते हैं आपको जो है वह हमेशा से लगता है कि वह आपका साथ जो है वह हमेशा निभाएंगे यह सब जो है वह आपके आंतरिक सोच ही होती है

bhakti bhavna jo hai vaah aapke man mein hoti hai aap jo hai jisko is maante hain unke aap bhakti kar sakte hain aapko jo hai vaah hamesha se lagta hai ki vaah aapka saath jo hai vaah hamesha nibhaenge yah sab jo hai vaah aapke aantarik soch hi hoti hai

भक्ति भावना जो है वह आपके मन में होती है आप जो है जिसको इस मानते हैं उनके आप भक्ति कर सकते

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  398
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
प्रकाश डालिए ; भक्ति भावना ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!