लोकसभा में सीटों का आवंटन में कौन सा सिद्धांत अपनाया गया?...


user

Ranjeet Singh Uppal

Retired GM ONGC

2:14
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

पहली लोकसभा 1952 में जो चली गई थी उसमें 489 सदस्य थे दो एंग्लो इंडियन मिलाकर और 1952 से 2020 जनवरी तक लोकसभा के 552 अधिकतम सदस्य हो सकते थे दो एंग्लो इंडियन मिलाकर पर जनवरी 2020 से दो इंग्लैंडियन नॉमिनेट करने का प्रावधान राष्ट्रपति द्वारा समाप्त हो गया तो अधिकतम सदस्य संख्या बची 550 प्रैक्टिकली 543 अभी हैं सदस्य इस में से 131 सीटें हैं वह रिजल्ट कैटेगरी के लिए हैं जो करीब 24.03 परसेंट होता है इसमें से शेड्यूल कास्ट के लिए 4 सीट है शेड्यूल ट्राइब के लिए 45 सीट यह जो सीटों का आवंटन है यह 1971 की जनगणना को आधार मानकर किया जाता है 1952 के पश्चात हर बार 10 साल के बाद जो जनगणना होती थी उसके हिसाब से लोकसभा सीटों का आवंटन किया जाता था परंतु इंदिरा गांधी ने 1976 में संशोधन कर सीटों की संख्या फिक्स कर दी थी 1971 की जनगणना के हिसाब से 2001 तक उसके बाद जब अटल बिहारी वाजपेई जी की गवर्नमेंट थी तो उन्होंने भी 84 में संविधान संशोधन द्वारा इस संख्या को सिक्सी रखा और 2026 तक इसमें कोई संशोधन नहीं होगा मतलब 2026 तक जितने भी लोकसभा सीटों का आवंटन होगा को 1971 की जनगणना के हिसाब से ही होगा हालांकि 2001 में जो बाउंड्री थी लोकसभा क्षेत्रों की उस में परिवर्तन किया गया था धन्यवाद

pehli lok sabha 1952 me jo chali gayi thi usme 489 sadasya the do Anglo indian milakar aur 1952 se 2020 january tak lok sabha ke 552 adhiktam sadasya ho sakte the do Anglo indian milakar par january 2020 se do inglaindiyan nominate karne ka pravadhan rashtrapati dwara samapt ho gaya toh adhiktam sadasya sankhya bachi 550 practically 543 abhi hain sadasya is me se 131 seaten hain vaah result category ke liye hain jo kareeb 24 03 percent hota hai isme se schedule caste ke liye 4 seat hai schedule tribe ke liye 45 seat yah jo seaton ka aawantan hai yah 1971 ki janganana ko aadhar maankar kiya jata hai 1952 ke pashchat har baar 10 saal ke baad jo janganana hoti thi uske hisab se lok sabha seaton ka aawantan kiya jata tha parantu indira gandhi ne 1976 me sanshodhan kar seaton ki sankhya fix kar di thi 1971 ki janganana ke hisab se 2001 tak uske baad jab atal bihari vajpayee ji ki government thi toh unhone bhi 84 me samvidhan sanshodhan dwara is sankhya ko siksi rakha aur 2026 tak isme koi sanshodhan nahi hoga matlab 2026 tak jitne bhi lok sabha seaton ka aawantan hoga ko 1971 ki janganana ke hisab se hi hoga halaki 2001 me jo boundary thi lok sabha kshetro ki us me parivartan kiya gaya tha dhanyavad

पहली लोकसभा 1952 में जो चली गई थी उसमें 489 सदस्य थे दो एंग्लो इंडियन मिलाकर और 1952 से 20

Romanized Version
Likes  135  Dislikes    views  1681
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!