क्या सोशल नेटवर्क 18 साल से कम बच्चों के लिए उपलब्ध होना चाहिए?...


play
user

Kavita Panyam

Certified Award Winning Counseling Psychologist

1:58

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवाल कि कहीं पहलू है सबसे पहले हम लेते हैं पढ़ाई का क्षेत्र बच्चों को चाहिए कि स्कूल जाएं और वहां पर जो उनके पोजीशंस है जो नोट्स है जो होमवर्क है स्कूल में कॉपी करें जो स्कूल में उनको व्हाट्सएप ग्रुप तैयार किया स्कूल और कॉलेज में इंपॉर्टेंट चीजें शेयर हो वहां पर दिन के स्कूल और के होमवर्क असाइनमेंट शेर होते हैं कि स्कूल में बच्चे को काम नहीं कर रहे हैं कि घर जाएंगे तो फिर व्हाट्सएप से बोलिए नोट मंगा सकते हैं तो स्कूल में जो काम होना चाहिए वह नहीं हो रहा है और उसे क्या हो रहा है कि टाइम भी काफी व्यस्त हो रहा है दूसरा है हम ले लेते हैं कि इस सोशल मीडिया नेटवर्क के वजह से बच्चों ने बाहर जाती बाहर के गेम खेलना बंद कर दिया है और घर में बैठे रहते हैं पिक्चर देखते रहते हैं गेमिंग करते रहते हैं वीडियोस देखते रहते हैं इसके वजह से उनका हेल्थ है वह काफी खराब होता जा रहा है तीसरा रिश्ते अननेसेसरी ऑनलाइन प्यार के रिश्ते में जो बच्चे जो हैं वह फस जा रहे हैं जिसकी वजह से पढ़ाई में प्रॉब्लम हो रहा है और वह कॉटन प्रिंट नहीं कर पा रहे हैं विकास यह रिश्ता यह हॉट ब्रेड स्टोर का टूटना से काफी डिस्ट्रक्शन सो रहा है उन्हें फैमिली को बता सकते हैं नहीं बता रहे हैं क्योंकि वह सारा टाइम ऑनलाइन बिजी रहते हैं अनजान लोगों के साथ तो घर के लोगों के साथ पास उनके पास भक्ति नहीं है और टाइम वेस्ट लगता है और हम पांच वाले लेते हैं कि उनकी जो ओवरऑल डेवलपमेंट है वह सोशल नेटवर्क के वजह से इतना ज्यादा खोखला हो गया है कि उन्हें सही और गलत में जो फर्क है वह मिली नहीं रहा है और उनका जो मेंटल मानसिक स्थिति है वह काफी कमजोर हो गई है काफी जल्दी उन्हें इमोशनल हो जा रहे हैं और काफी जल्दी अफेक्ट हो रहे डेंजर है पोर्नोग्राफी का जो अश्लील कंटेंट शेर हो रहा है इंटरनेट में सोशल मीडिया नेटवर्क से उससे भी काफी बच्चे भड़क जा रहे हैं एंड उसे भी काफी हानि हो रहा है फैमिली में और पढ़ाई में तुम्हें कहूंगी कि सच बढ़िया नेटवर्क 18 साल के बच्चों से कम लोगों को उपलब्ध नहीं होना चाहिए

sawaal ki kahin pahaloo hai sabse pehle hum lete hain padhai ka kshetra baccho ko chahiye ki school jayen aur wahan par jo unke pojishans hai jo notes hai jo homework hai school mein copy kare jo school mein unko whatsapp group taiyar kiya school aur college mein important cheezen share ho wahan par din ke school aur ke homework assignment sher hote hain ki school mein bacche ko kaam nahi kar rahe hain ki ghar jaenge toh phir whatsapp se bolie note Manga sakte hain toh school mein jo kaam hona chahiye vaah nahi ho raha hai aur use kya ho raha hai ki time bhi kaafi vyast ho raha hai doosra hai hum le lete hain ki is social media network ke wajah se baccho ne bahar jaati bahar ke game khelna band kar diya hai aur ghar mein baithe rehte hain picture dekhte rehte hain gaming karte rehte hain videos dekhte rehte hain iske wajah se unka health hai vaah kaafi kharab hota ja raha hai teesra rishte unnecessary online pyar ke rishte mein jo bacche jo hain vaah fas ja rahe hain jiski wajah se padhai mein problem ho raha hai aur vaah cotton print nahi kar paa rahe hain vikas yah rishta yah hot bread store ka tutana se kaafi destruction so raha hai unhe family ko bata sakte hain nahi bata rahe hain kyonki vaah saara time online busy rehte hain anjaan logo ke saath toh ghar ke logo ke saath paas unke paas bhakti nahi hai aur time west lagta hai aur hum paanch waale lete hain ki unki jo overall development hai vaah social network ke wajah se itna zyada khokhla ho gaya hai ki unhe sahi aur galat mein jo fark hai vaah mili nahi raha hai aur unka jo mental mansik sthiti hai vaah kaafi kamjor ho gayi hai kaafi jaldi unhe emotional ho ja rahe hain aur kaafi jaldi affect ho rahe danger hai pornography ka jo ashleel content sher ho raha hai internet mein social media network se usse bhi kaafi bacche bhadak ja rahe hain and use bhi kaafi hani ho raha hai family mein aur padhai mein tumhe kahungi ki sach badhiya network 18 saal ke baccho se kam logo ko uplabdh nahi hona chahiye

सवाल कि कहीं पहलू है सबसे पहले हम लेते हैं पढ़ाई का क्षेत्र बच्चों को चाहिए कि स्कूल जाएं

Romanized Version
Likes  63  Dislikes    views  1253
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!