जीवन का धर्म क्या है?...


user
1:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपने पोस्ट किया है जीवन धर्म क्या है इस संसार में मानव जीवन का धर्म होता है कि जब भगवान कीचड़ से जुड़े खिलाड़ियों के खोखले के बाद इस जगत में आता है तो उसका जीवन धर्म नहीं होता है कि कुत्ते बिल्ली शुक्र की तरह से चर्चा करते हुए अपने जीवन में अपने प्राणों से कितना मिलता है उद्घाटन करते हुए अपनी पत्नी बच्चों का निर्वाह करते हुए यदि वह भगवान की भक्ति करता है तो जीवन की श्रेष्ठता वही है कृपया करके अपने पुत्र अपने बच्चों को अपनी पत्नी को अपने भाई को भगवान की भक्ति लगाता है तो उसे जीवन धर्म कहा जाता है शास्त्र तो यह भी कहते हैं कि यदि कोई व्यक्ति विवाह करता है यदि वह अपने पुत्र को 32 पुत्र उत्पन्न करने का अधिकारी नहीं है इसलिए मनुष्य जीवन का यही अर्थ काम मोक्ष में मनुष्य फस जाता है धर्म आपके साथ चलेंगे अर्थ भी आपको मिलेगा काम भी आपको मिलेगा लेकिन वह आपको नहीं मिलेगा उस मोक्ष को प्राप्त करने के लिए आपको परमात्मा की शरण में जाना पड़ता है जो व्यक्ति धर्म पर अडिग रहता है भगवान की सेवा करता है भगवान की भक्ति करता है उसे जीवन धन का जाता है जो सदाचारी रहता है सत्य भाषण बोलता है दूसरों से मितवा से बात करता है परोपकार करता है दूसरों की सहायता करता है यही जीवन का लक्ष्य है और मैं आपको एक बात बता दूं कि कोई लड़की किसी फटके को धर्म के विषय में बताता है अपने साथ अंतरंग के विषय में और भगवान कृष्ण ने उसे जान देता है तो वही व्यक्ति का सच्चा जीवन धर्म है

aapne post kiya hai jeevan dharm kya hai is sansar me manav jeevan ka dharm hota hai ki jab bhagwan kichad se jude khiladiyon ke khokle ke baad is jagat me aata hai toh uska jeevan dharm nahi hota hai ki kutte billi shukra ki tarah se charcha karte hue apne jeevan me apne pranon se kitna milta hai udghatan karte hue apni patni baccho ka nirvah karte hue yadi vaah bhagwan ki bhakti karta hai toh jeevan ki shreshthata wahi hai kripya karke apne putra apne baccho ko apni patni ko apne bhai ko bhagwan ki bhakti lagaata hai toh use jeevan dharm kaha jata hai shastra toh yah bhi kehte hain ki yadi koi vyakti vivah karta hai yadi vaah apne putra ko 32 putra utpann karne ka adhikari nahi hai isliye manushya jeevan ka yahi arth kaam moksha me manushya fas jata hai dharm aapke saath chalenge arth bhi aapko milega kaam bhi aapko milega lekin vaah aapko nahi milega us moksha ko prapt karne ke liye aapko paramatma ki sharan me jana padta hai jo vyakti dharm par adig rehta hai bhagwan ki seva karta hai bhagwan ki bhakti karta hai use jeevan dhan ka jata hai jo sadachari rehta hai satya bhashan bolta hai dusro se mitwa se baat karta hai paropkaar karta hai dusro ki sahayta karta hai yahi jeevan ka lakshya hai aur main aapko ek baat bata doon ki koi ladki kisi fatake ko dharm ke vishay me batata hai apne saath antarang ke vishay me aur bhagwan krishna ne use jaan deta hai toh wahi vyakti ka saccha jeevan dharm hai

आपने पोस्ट किया है जीवन धर्म क्या है इस संसार में मानव जीवन का धर्म होता है कि जब भगवान की

Romanized Version
Likes  45  Dislikes    views  716
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!