बच्चे का बचपन एक जैसा नहीं होता, क्यों?...


user

Nirmala

Teacher Counsellor

2:02
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बच्चे का बचपन एक जैसा नहीं होता क्यों क्योंकि अभी इस चीज को नहीं ध्यान में रखा क्या है कि चाहे कुछ भी हो चाहे जहां भी हो अगर बचा है तो उसका बचपन ना होए मान दीजिए परिवार में है तो जहां पर जैसा परिवार है वहां पर बच्चे का बचपन होता है कहीं कहीं आप परिवार ही पूरा नहीं होता दादा-दादी नहीं है या भाई बहन और नहीं है या पिता ही नहीं है जमा ही नहीं है तुम्हारे बचपन लेकिन फिर भी कोशिश करने पर बचपन जो है किसी का बचाया जा सकता है ऐसे ही बचा हो सकता है अनाथालय में पैदा हुआ हूं वहां पर मिला हो तो उसका बचपन घर के बच्चों की तरह बचपन कहां हो पाएगा कहां मिल पाएगा इस तरह से कोई बच्चा बचपन नहीं काफी बीमार हो सीधे तो उसे किसी तरह बचाया गया होगा तो उसका बचपन भी थोड़ा दुख में बीतेगा और बचपन का बचपना नहीं महसूस करेगा लेकिन बच्चे को भोजन पानी उसका स्वाद इन सब चीजों का ध्यान देना है और साथ ही साथ उसके साथ प्रेम का व्यवहार हूं चाहे वह किसी का भी बच्चा हो चाहे वह कहां हो हमें बच्चों के बचपन का को जीने का कोई हक नहीं कोई पौधा होता है हम उसे मिट्टी डालकर के मजबूत बनाने की कोशिश पानी का पेड़ पौधों के साथ ऐसा व्यवहार करते हैं तो हमें इंसान का बच्चा धन्यवाद

bacche ka bachpan ek jaisa nahi hota kyon kyonki abhi is cheez ko nahi dhyan me rakha kya hai ki chahen kuch bhi ho chahen jaha bhi ho agar bacha hai toh uska bachpan na hoe maan dijiye parivar me hai toh jaha par jaisa parivar hai wahan par bacche ka bachpan hota hai kahin kahin aap parivar hi pura nahi hota dada dadi nahi hai ya bhai behen aur nahi hai ya pita hi nahi hai jama hi nahi hai tumhare bachpan lekin phir bhi koshish karne par bachpan jo hai kisi ka bachaya ja sakta hai aise hi bacha ho sakta hai anathalay me paida hua hoon wahan par mila ho toh uska bachpan ghar ke baccho ki tarah bachpan kaha ho payega kaha mil payega is tarah se koi baccha bachpan nahi kaafi bimar ho sidhe toh use kisi tarah bachaya gaya hoga toh uska bachpan bhi thoda dukh me bitegaa aur bachpan ka bachapana nahi mehsus karega lekin bacche ko bhojan paani uska swaad in sab chijon ka dhyan dena hai aur saath hi saath uske saath prem ka vyavhar hoon chahen vaah kisi ka bhi baccha ho chahen vaah kaha ho hamein baccho ke bachpan ka ko jeene ka koi haq nahi koi paudha hota hai hum use mitti dalkar ke majboot banane ki koshish paani ka ped paudho ke saath aisa vyavhar karte hain toh hamein insaan ka baccha dhanyavad

बच्चे का बचपन एक जैसा नहीं होता क्यों क्योंकि अभी इस चीज को नहीं ध्यान में रखा क्या है कि

Romanized Version
Likes  37  Dislikes    views  696
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!