कबीर के उपदेश बताएँ?...


play
user

Roshan Prasad Jaiswal

Junior Volunteer

1:29

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मुझे कभी जी के उपदेश बताना अगर जाऊं तो इसलिए काफी समय लग जाएगा तो इन शॉर्ट मैं आपको बताना चाहूंगा कि कबीरदास जो थे वह बहुत ही फेमस दोहे का वर्णन करते थे तो भारत में सदस्य धर्म परायण देश रहा है तो जीवन निर्वाह के लिए बहुत ही संपत्ति की आवश्यकता पड़ती है पर यहां के लोगों ने उसको कभी सर्वोपरि स्थान नहीं दिया यहां समय-समय पर बराबर ऐसे त्यागी महात्मा होते आए हैं जिन्होंने धन संपत्ति को तो समय कर अपना जीवन परमात्मा के चिंतन और जी के ज्ञान का प्रचार करने में लगा कि शिक्षा की देशी थी यद्यपि वे सर्वदा निरक्षर थे उन्होंने स्वयं कहा कि मसि कागद छुओ नहीं कलम गही नहिं हाथ अर्थात मैंने कभी स्याही और कागज को छुआ भी नहीं और ना कभी हाथ से कलम को पकड़ा और उनकी वाणी ऐसी सारगर्भित है कि लगभग 500 वर्ष जाने पर भी आज तो निरक्षर और साक्षात अब उनको पढ़ कर शिक्षा और आनंद प्राप्त करते हैं उनकी उनकी ऐसी बहुत सी उद्देश्य थी कि लोगों को जो है सही सिद्धांत लोगों को धर्म संबंधी सिद्धांत प्रकट करने तथा जीवन में तरह-तरह के धर्म होते हैं तो किसी भी तरह का भेदभाव ना किया जाए और एक साधारण रूप से आप अपनी जिंदगी जो है जी सकते हैं

mujhe kabhi ji ke updesh bataana agar jaaun toh isliye kaafi samay lag jaega toh in short main aapko bataana chahunga ki kabirdas jo the vaah bahut hi famous dohe ka varnan karte the toh bharat mein sadasya dharm parayan desh raha hai toh jeevan nirvah ke liye bahut hi sampatti ki avashyakta padti hai par yahan ke logo ne usko kabhi sarvopari sthan nahi diya yahan samay samay par barabar aise tyagi mahatma hote aaye hain jinhone dhan sampatti ko toh samay kar apna jeevan paramatma ke chintan aur ji ke gyaan ka prachar karne mein laga ki shiksha ki deshi thi yadyapi ve sarvada nirakshar the unhone swayam kaha ki masi kagad chuo nahi kalam gahi nahin hath arthat maine kabhi syahi aur kagaz ko chhua bhi nahi aur na kabhi hath se kalam ko pakada aur unki vani aisi saragarbhit hai ki lagbhag 500 varsh jaane par bhi aaj toh nirakshar aur sakshat ab unko padh kar shiksha aur anand prapt karte hain unki unki aisi bahut si uddeshya thi ki logo ko jo hai sahi siddhant logo ko dharm sambandhi siddhant prakat karne tatha jeevan mein tarah tarah ke dharm hote hain toh kisi bhi tarah ka bhedbhav na kiya jaaye aur ek sadhaaran roop se aap apni zindagi jo hai ji sakte hain

मुझे कभी जी के उपदेश बताना अगर जाऊं तो इसलिए काफी समय लग जाएगा तो इन शॉर्ट मैं आपको बताना

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  395
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
kabir ke mukhya updesh ; kabir ke updesh ; कबीर के मुख्य उपदेश क्या थे ; कबीर के मुख्य उपदेश ;

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!