हिंदी में पर्यावरण के महत्व क्या है?...


user

विनोद कुमार चौहान

TEACHER , TEACHING EXPERIENCE 30 YEAR'S , ADVISER http://getvokal.com/profile/vinod_74

2:09
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हिंदी में पर्यावरण के महत्व क्या है पर्यावरण का महत्व होता है चारों ओर यानी कि हमारे जो चारों ओर का वातावरण है वहीं पर्यावरण कहलाता है और किस प्रकार से तो मैं तो तो पर्यावरण का ही है सब कुछ जो कि हमें पर्यावरण से ही जो है अपनी सभी आवश्यकताओं की पूर्ति होती है वह यदि शुद्ध होगा तो मैं शुद्ध वस्त्र मिलेगी और यदि शुद्ध होगा तो फिर हमें उनसे बीमारी प्राप्त होगी तो पर्यावरण किसी भी जीव के लिए मनुष्य के लिए नहीं किसी भी जीव के लिए बहुत महत्वपूर्ण है अब आप सोचिए यदि कहीं पर गाड़ियों का दुआ ही दुआ है तो जब आप सांस लेंगे तो आपके अंदर फेफड़ों में सांप जाएगा और फेफड़ों में सांप जाएगा तो आप निश्चित रूप से फेफड़ों की बीमारी से संबंधित हो जाएगी इसी प्रकार से जो हमारे पर्यावरण है इसी से तो मैं सब कुछ आवश्यकता की पूर्ति होती है यदि व स्वच्छ होगा साफ होगा सुंदर होगा तुम्हारे लिए अधिक महत्वपूर्ण होगा और यदि वह प्रदूषित हो जाएगा तो हमारे लिए वह हानिकारक होगा अब हमारी आवश्यकता की सभी पूर्तिया तो पर्यावरण ही करता है आप देखिए भोजन से संबंधित सभी आवश्यकता है पर्यावरण से पूर्ण होती है आपको पेड़ों से लकड़ियां प्राप्त होती जो फर्नीचर में घर काम में आती है और चीजों में भी काम आते हैं इंदौर में भी काम आया था घास आदि चारा दिशा में पर्यावरण से प्राप्त होता है यहां तक कि हमें अनाज भी पर्यावरण से प्राप्त होते पानी हमें पर्यावरण से प्राप्त होता है सबकुछ पर्यावरण का महत्व सीमित है धन्यवाद

hindi me paryavaran ke mahatva kya hai paryavaran ka mahatva hota hai charo aur yani ki hamare jo charo aur ka vatavaran hai wahi paryavaran kehlata hai aur kis prakar se toh main toh toh paryavaran ka hi hai sab kuch jo ki hamein paryavaran se hi jo hai apni sabhi avashayaktaon ki purti hoti hai vaah yadi shudh hoga toh main shudh vastra milegi aur yadi shudh hoga toh phir hamein unse bimari prapt hogi toh paryavaran kisi bhi jeev ke liye manushya ke liye nahi kisi bhi jeev ke liye bahut mahatvapurna hai ab aap sochiye yadi kahin par gadiyon ka dua hi dua hai toh jab aap saans lenge toh aapke andar phephadon me saap jaega aur phephadon me saap jaega toh aap nishchit roop se phephadon ki bimari se sambandhit ho jayegi isi prakar se jo hamare paryavaran hai isi se toh main sab kuch avashyakta ki purti hoti hai yadi va swachh hoga saaf hoga sundar hoga tumhare liye adhik mahatvapurna hoga aur yadi vaah pradushit ho jaega toh hamare liye vaah haanikarak hoga ab hamari avashyakta ki sabhi purtiya toh paryavaran hi karta hai aap dekhiye bhojan se sambandhit sabhi avashyakta hai paryavaran se purn hoti hai aapko pedon se lakdiyan prapt hoti jo furniture me ghar kaam me aati hai aur chijon me bhi kaam aate hain indore me bhi kaam aaya tha ghas aadi chara disha me paryavaran se prapt hota hai yahan tak ki hamein anaaj bhi paryavaran se prapt hote paani hamein paryavaran se prapt hota hai sabkuch paryavaran ka mahatva simit hai dhanyavad

हिंदी में पर्यावरण के महत्व क्या है पर्यावरण का महत्व होता है चारों ओर यानी कि हमारे जो चा

Romanized Version
Likes  81  Dislikes    views  1445
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!