कई लोगों को इतनी ईर्ष्या क्यों महसूस होती है?...


user

Bharti Sharma

Love.. Beauty Tips..Life Tips

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लोगों में वर्षा क्यों होती है उनको जलन इतनी क्यों होती है जलन भावना होती है सामने वाले को देख कर क्यों होती है क्योंकि जो इंसान की जरूरत होती है ना वह पूरी नहीं हो पाती हर इंसान की ऐसी कोई भी इंसानी है जिसकी सारी ख्वाहिशें पूरी हो गई किसी ना किसी के अंदर ख्वाइश बाकि रतिया पर्वत दबा कर रह जाते कि कोई नहीं नहीं पूरी हो रही तो छोड़ो बट हर इंसान के अंदर ख्वाहिश होती है और इंसान में अपने आप ही दोस्तों को देखकर जो इंसान के पास कुछ चीज नहीं है वह दूसरे को देख कर वह ऐसा महसूस करता है किसके पास ही क्यों है मेरे पास नहीं है भले ही उसके पास आपसे ज्यादा हो उसके पास वह चीज नहीं हो जा के पास हो बट उसके पास अगर एक चीज होगी ना आपके पास 10 चीजें तो उसके पास एक है वह भी उसके बहुत पसंद है बट आप बहुत से ऐसा महसूस होगी कि यही एक चीज के लिए इतना खुश क्यों है ठाकुर जी से जलन होगी बट उसे आप से नहीं हो रही क्योंकि कोई बात नहीं आप के लिए 10 अक्टूबर 10:00 में कोई बात नहीं बट आपको उससे उसकी एक चीज से भी उषा बीआर शीशा वाला इंसान यह चाहता है कि बस लोग मेरी तारीफ करें मेरे बारे में बोली और बस मुझे मुझे कह दो कि हम की डिमांड ज्यादा होती है उनकी डिमांड मुझे पैसा चाहिए मुझे वह चाहिए मेरे लिए यह मेरे लिए वह है मेरा ऐसा है मेरा वैसा तू अपने आपको थोड़ा महान समझते हैं थोड़ा कुछ ज्यादा ही समझते हैं जिस वजह से उनको दूसरे के पास कुछ ज्यादा दिख जाता है उनसे ज्यादा दिख जाता है उनके पास नहीं है वह दिख जाता है तू ईईशा की भावना के रोल करते हैं और थोड़ी जलन वाली भावना हो जाती है

logon mein varsha kyon hoti hai unko jalan itni kyon hoti hai jalan bhavna hoti hai saamne waale ko dekh kar kyon hoti hai kyonki jo insaan ki zarurat hoti hai na vaah puri nahi ho pati har insaan ki aisi koi bhi insani hai jiski saree khwahishen puri ho gayi kisi na kisi ke andar khwaish baki ratia parvat daba kar reh jaate ki koi nahi nahi puri ho rahi toh chodo but har insaan ke andar khwaahish hoti hai aur insaan mein apne aap hi doston ko dekhkar jo insaan ke paas kuch cheez nahi hai vaah dusre ko dekh kar vaah aisa mehsus karta hai kiske paas hi kyon hai mere paas nahi hai bhale hi uske paas aapse zyada ho uske paas vaah cheez nahi ho ja ke paas ho but uske paas agar ek cheez hogi na aapke paas 10 cheezen toh uske paas ek hai vaah bhi uske bahut pasand hai but aap bahut se aisa mehsus hogi ki yahi ek cheez ke liye itna khush kyon hai thakur ji se jalan hogi but use aap se nahi ho rahi kyonki koi baat nahi aap ke liye 10 october 10 00 mein koi baat nahi but aapko usse uski ek cheez se bhi usha br shisha vala insaan yah chahta hai ki bus log meri tareef kare mere bare mein boli aur bus mujhe mujhe keh do ki hum ki demand zyada hoti hai unki demand mujhe paisa chahiye mujhe vaah chahiye mere liye yah mere liye vaah hai mera aisa hai mera waisa tu apne aapko thoda mahaan samajhte hain thoda kuch zyada hi samajhte hain jis wajah se unko dusre ke paas kuch zyada dikh jata hai unse zyada dikh jata hai unke paas nahi hai vaah dikh jata hai tu iisha ki bhavna ke roll karte hain aur thodi jalan wali bhavna ho jaati hai

लोगों में वर्षा क्यों होती है उनको जलन इतनी क्यों होती है जलन भावना होती है सामने वाले को

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  414
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anju Dube

Motivational Speaker

3:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कई लोगों को इतनी इच्छा क्यों महसूस होती है सबसे पहले बात तो आपको वही महसूस होगा जो आपके अंदर भरा है आपके अंदर प्यार भरा हुआ है तो सामने वाले कितना भी बुरा व्यवहार कर रहा है आपके अंदर से प्यार ही निकलेगा शायद आप उसे तुरंत क्षमा कर देंगे आपके अंदर बिल्कुल भी गुस्सा नहीं रहेगा यह बहुत ही स्ट्रांग स्थिति होती है जो सबके अंदर नहीं होती है बहुत ऐसे विरले मिलेंगे कब मिलेंगे जो इतने स्पर्म होते हैं कि सामने वाला कुछ भी याद कर रहा है उन्हें कोई फर्क नहीं पड़ता यहां पर आपने जो सवाल पूछा है कि कई लोगों को इतनी इच्छा क्यों महसूस होती है तो उनके अंदर एरिया के सिवा कुछ है नहीं उन्होंने अपने अंदेशा को पाला है उसे उन्होंने पाल पोस कर बड़ा किया है उनके अंदर भरा पड़ा होगा उन्हें वही चीज महसूस होगा जब इंसान दूसरों की खुशियों को देखकर खुश नहीं होता दूसरों की तरक्की को देखकर खुश नहीं होता है तो वह अपने अंदर एक नेगेटिव फीलिंग पैदा कर लेता है वह अपने आप को और नीचे की से लग जाता है और नेगेटिविटी की तरफ से लग जाता है इससे उत्पन्न होती है वह सामने वाले की खुशी नहीं देख सकता इसके तरक्की नहीं देख सकता और लगातार एक विश करता है कि सामने वाला बर्बाद हो जाए या उसमें उसके सारी खुशियां खत्म हो जाए इससे ऐसा करने वालों को तो भी कुछ नहीं मिलता अगर वह ऐसा नहीं करते अगर वह सामने वाले कोई खुशी में खुश होते हैं या उसे कुछ सीखने की कोशिश करते या अगर बढ़ाना है तो अपने आप को आगे बढ़ाने की कोशिश करते ना कि दूसरों की टांग खींचने की कोशिश करते हैं तो उनका खुद का भी भला होता लेकिन शादी व्यक्ति की यह बहुत बड़ी प्रॉब्लम होती है तो खुद भी प्रॉब्लम होते हैं और दूसरों की लाइफ में भी प्रॉब्लम क्रिएट करते हैं वह यह है कि वह किसी की खुशी देखना नहीं चाहते देख भी नहीं सकते और उनकी पूरी लाइफ दूसरों की गुलामी में निकल जाती है गुलामी में कैसे किसी ने किसी को उसने खुश देख लिया तो वह उसके लाइफ के पीछे पड़ जाएगा इसकी खुशी मुझे किसी ना किसी तरह खत्म करनी है इसके अंतर्गत खत्म करनी है इसके लाइफ को बिगाड़ना इसको नीचे कि मैं पकड़ के पूरी लाइफ किसी और की माला जपने में लगा देता है यकीन मानिए जो जिसका बुरा होता है वह सबसे ज्यादा जिसका बुरा होता है वह खुद वह व्यक्ति होता है जो दूसरों से ईर्ष्या करता है जो चालू होता है उसे कुछ भी नसीब नहीं होता हो सकता है वह दूसरे का काम बिगाड़ दे तो सामने वाले को खींचकर विराजे तरक्की के रास्ते से बर्बाद कर देखिए हो सकता है लेकिन वह बिल्कुल नहीं हो सकता सबसे बड़ा जुलूस होता है उसके अंतरात्मा में होता है वह खुद को माफ़ नहीं कर पाता उसे खुद कहीं ना कहीं पता होता है कि गलत मैं हूं अरे चलो व्यक्ति जानता है की प्रॉब्लम मेरी है मैं किसी को खुशी नहीं देख सकता यह हरियाली व्यक्ति जानता है और ज्यादा से ज्यादा ऐसा व्यक्ति है एक्सेप्ट करते हैं कि मुझे ईर्ष्या होती है किसी को देखकर तो कोई सबसे कड़वाहट चीज अगर किसी के मन में हो सकती तो वह ईर्ष्या होती है होती है जब आपके अंदर कड़वाहट है आप हर दूसरे व्यक्ति को पराया समझते हैं और यही मेंटालिटी होती है कि उनकी तरक्की से मैं खराब हो रहा हूं मैं कहीं ना कहीं मेरा बुरा हो रहा है तू जब दूसरों की खुशी में अपनी खुशी नहीं देखता है तो उसे इल्जाम महसूस होती है

kai logo ko itni iccha kyon mehsus hoti hai sabse pehle baat toh aapko wahi mehsus hoga jo aapke andar bhara hai aapke andar pyar bhara hua hai toh saamne waale kitna bhi bura vyavhar kar raha hai aapke andar se pyar hi niklega shayad aap use turant kshama kar denge aapke andar bilkul bhi gussa nahi rahega yah bahut hi strong sthiti hoti hai jo sabke andar nahi hoti hai bahut aise virle milenge kab milenge jo itne sperm hote hain ki saamne vala kuch bhi yaad kar raha hai unhe koi fark nahi padta yahan par aapne jo sawaal poocha hai ki kai logo ko itni iccha kyon mehsus hoti hai toh unke andar area ke siva kuch hai nahi unhone apne andesha ko pala hai use unhone pal pos kar bada kiya hai unke andar bhara pada hoga unhe wahi cheez mehsus hoga jab insaan dusro ki khushiyon ko dekhkar khush nahi hota dusro ki tarakki ko dekhkar khush nahi hota hai toh vaah apne andar ek Negative feeling paida kar leta hai vaah apne aap ko aur niche ki se lag jata hai aur negativity ki taraf se lag jata hai isse utpann hoti hai vaah saamne waale ki khushi nahi dekh sakta iske tarakki nahi dekh sakta aur lagatar ek wish karta hai ki saamne vala barbad ho jaaye ya usme uske saree khushiya khatam ho jaaye isse aisa karne walon ko toh bhi kuch nahi milta agar vaah aisa nahi karte agar vaah saamne waale koi khushi mein khush hote hain ya use kuch sikhne ki koshish karte ya agar badhana hai toh apne aap ko aage badhane ki koshish karte na ki dusro ki taang kheenchne ki koshish karte hain toh unka khud ka bhi bhala hota lekin shadi vyakti ki yah bahut badi problem hoti hai toh khud bhi problem hote hain aur dusro ki life mein bhi problem create karte hain vaah yah hai ki vaah kisi ki khushi dekhna nahi chahte dekh bhi nahi sakte aur unki puri life dusro ki gulaami mein nikal jaati hai gulaami mein kaise kisi ne kisi ko usne khush dekh liya toh vaah uske life ke peeche pad jaega iski khushi mujhe kisi na kisi tarah khatam karni hai iske antargat khatam karni hai iske life ko bigadana isko niche ki main pakad ke puri life kisi aur ki mala japne mein laga deta hai yakin maniye jo jiska bura hota hai vaah sabse zyada jiska bura hota hai vaah khud vaah vyakti hota hai jo dusro se irshya karta hai jo chaalu hota hai use kuch bhi nasib nahi hota ho sakta hai vaah dusre ka kaam bigad de toh saamne waale ko khichkar viraje tarakki ke raste se barbad kar dekhiye ho sakta hai lekin vaah bilkul nahi ho sakta sabse bada jhullus hota hai uske antaraatma mein hota hai vaah khud ko maaf nahi kar pata use khud kahin na kahin pata hota hai ki galat main hoon are chalo vyakti jaanta hai ki problem meri hai kisi ko khushi nahi dekh sakta yah hariyali vyakti jaanta hai aur zyada se zyada aisa vyakti hai except karte hain ki mujhe irshya hoti hai kisi ko dekhkar toh koi sabse kadawahat cheez agar kisi ke man mein ho sakti toh vaah irshya hoti hai hoti hai jab aapke andar kadawahat hai aap har dusre vyakti ko paraaya samajhte hain aur yahi mentalaity hoti hai ki unki tarakki se main kharab ho raha hoon main kahin na kahin mera bura ho raha hai tu jab dusro ki khushi mein apni khushi nahi dekhta hai toh use illajam mehsus hoti hai

कई लोगों को इतनी इच्छा क्यों महसूस होती है सबसे पहले बात तो आपको वही महसूस होगा जो आपके अं

Romanized Version
Likes  28  Dislikes    views  1236
WhatsApp_icon
play
user

Neha

Journalist , Writer

1:14

Likes  16  Dislikes    views  411
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!