क्या कोई तरीक़ा है जिस से एक इंसान को कभी ग़ुस्सा ना आए?...


user

Puja Sood

Tarot reader, numerlogist, car

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गुप्ता ने कहा कि कारण हो सकता है जब अपने आसपास की हर चीज को आप खुद के साथ में लेट कर रहे हैं आपको किसी ने कुछ भी कहा और आपने उसे मान लिया कि हां यह बात मेरे लिए ही कही गई है तू गुस्सा आना बहुत स्वाभाविक है मैं अपनी पर छोटी सी कहानी सुनाती हूं एक बार संभोग के बाद एक उनका शिष्य आना शुरू हुआ तो उसके पिता को बहुत ज्यादा गुस्सा आने लगा कि मेरा बेटा घर बार छोड़कर और बुध के पास जा रहा है तो कैसे अपना परिवार संभालेगा तो मोदी के पास गया और उन्होंने बुध को गाली गलौज की बुद्ध ने उनकी तरफ देखा तक नहीं और वो वापिस आ गए लेकिन वह अंदर से भड़ास नहीं निकल पाई अगले दिन गए हो जाकर बुध के मुंह पर थूक दिया बुधनी तब भी कुछ नहीं कहा लेकिन उनके आसपास के लोग गुस्से में तेल मिला उठे कि उनकी हिम्मत कैसे हुई किनारे हमारे गुरु के ऊपर इस तरह से तो होती है लेकिन वह इंसान फिर जब अपने घर वापस आ गया उसे सोचा कि मैं इतना कुछ करने और कहने के बाद भी सामने बिल्कुल भी अच्छी नहीं दिया बुद्ध के पास माफी मांगने के लिए वापस पहुंचा उसने कहा कि मैं बहुत शर्मिंदा हूं कि मैंने आपके साथ ऐसा बर्ताव किया लेकिन मैं यह जानना चाहता हूं कि आपने मेरी इन सब बातों के बावजूद भी कोई रिएक्शन क्यों नहीं दिया तब उन्होंने जवाब दिया कि जब आप मुझे गालियां दे रहे थे कि आप मेरे ऊपर थूक रहे थे आपका स्वभाव था मेरा उस इस पर याद ना करना मेरा स्वभाव है जब तक आप की कोई चीज मैंने आपसे ली ही नहीं तो वह मेरी कैसे हुई अब आप इस चीज को जरा गौर से सोचेगा कि जब तक आप किसी की कही बात को अपने ऊपर लेते ही नहीं है सिचुएशन को अपने अंदर अब जॉब नहीं करते हैं तब तक आपका उसे कुछ लेना देना नहीं है अपने आसपास होने वाली चीजों को सिर्फ देखें दृष्टा बनी आपको गुस्सा आ जाए ऐसा पॉसिबल ही नहीं है इस गाने को दोबारा गौर से सुनेगा मुझे उम्मीद है कि आप को इससे बहुत मदद मिलेगी

gupta ne kaha ki karan ho sakta hai jab apne aaspass ki har cheez ko aap khud ke saath mein late kar rahe hain aapko kisi ne kuch bhi kaha aur aapne use maan liya ki haan yah baat mere liye hi kahi gayi hai tu gussa aana bahut swabhavik hai apni par choti si kahani sunati hoon ek baar sambhog ke baad ek unka shishya aana shuru hua toh uske pita ko bahut zyada gussa aane laga ki mera beta ghar baar chhodkar aur buddha ke paas ja raha hai toh kaise apna parivar sambhalega toh modi ke paas gaya aur unhone buddha ko gaali galoj ki buddha ne unki taraf dekha tak nahi aur vo vaapas aa gaye lekin vaah andar se bhadas nahi nikal payi agle din gaye ho jaakar buddha ke mooh par thuk diya budhni tab bhi kuch nahi kaha lekin unke aaspass ke log gusse mein tel mila uthe ki unki himmat kaise hui kinare hamare guru ke upar is tarah se toh hoti hai lekin vaah insaan phir jab apne ghar wapas aa gaya use socha ki main itna kuch karne aur kehne ke baad bhi saamne bilkul bhi achi nahi diya buddha ke paas maafi mangne ke liye wapas pohcha usne kaha ki main bahut sharminda hoon ki maine aapke saath aisa bartaav kiya lekin main yah janana chahta hoon ki aapne meri in sab baaton ke bawajud bhi koi reaction kyon nahi diya tab unhone jawab diya ki jab aap mujhe galiya de rahe the ki aap mere upar thuk rahe the aapka swabhav tha mera us is par yaad na karna mera swabhav hai jab tak aap ki koi cheez maine aapse li hi nahi toh vaah meri kaise hui ab aap is cheez ko zara gaur se sochega ki jab tak aap kisi ki kahi baat ko apne upar lete hi nahi hai situation ko apne andar ab job nahi karte hain tab tak aapka use kuch lena dena nahi hai apne aaspass hone wali chijon ko sirf dekhen drishta bani aapko gussa aa jaaye aisa possible hi nahi hai is gaane ko dobara gaur se sunegaa mujhe ummid hai ki aap ko isse bahut madad milegi

गुप्ता ने कहा कि कारण हो सकता है जब अपने आसपास की हर चीज को आप खुद के साथ में लेट कर रहे ह

Romanized Version
Likes  92  Dislikes    views  2741
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!