क्या कोई तरीक़ा है जिस से एक इंसान को कभी ग़ुस्सा ना आए?...


user

Amzad

Coach of Human Power Psychologist, Motivator,Joyotish,Speaker,Life, Relationship,Partner,And you YE SAB ME NEHI HOO LEKIN SAB SE ACCHA HOO \6003876488

3:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या कोई तरीका है जिससे एक इंसान को कभी गुस्सा ना तो गुस्सा ना आने का तरीका तो कहीं आपको मिलने से रहा क्योंकि गुस्सा इंसानों की एक उसी के स्वभाव की परिवर्तन है जो लोगों को जाहिर करना चाहता है या फिर दिखाना चाहते चली गुस्सा कभी इंसान कभी होता ही नहीं गुस्सा इंसान कभी भी नहीं होता यह तो उसी के जो चिंता है उसे चिंता क्यों दोहराने के कारण से उसके मन में जो बिजली बिजली पैदा होती है उसी को लोगों के सामने वह जाहिर करना चाहता है कि हम कितने परेशान हैं हमने कितनी परेशानियों का सामना करना पड़ा है हम क्या करना चाहते आप लोग समझो तो इसी को जाहिर करने का कोई शब्द उसे तुरंत मिलता नहीं तो सारे चीजों को एक साथ बयान करने के लिए कुछ शरीर में कुछ चीज जाहिर कर देता है उसी को हम गुस्से के रूप में दिखाई पड़ता है तो गुस्सा ना कोई होता है और यह तो एक आम चीजें तो लेकिन हां इंसान चाहे तो गुस्सा को कंट्रोल कर सकता वह कैसी बात है आपको जब पता चल जाएगा गुस्सा किस कारण से इंसान तब तब गुस्सा कंट्रोल हो जाएगा हर गुस्से के पीछे कोई ना कोई कारण होती है कोई ना कोई परेशानी होता कोई ना कोई दिक्कत होती है कोई ना कोई ठोस होती है तो अगर हर इंसान गुस्से का मतलब समझ जाएगी गुस्सा हमें इस वजह से आता है तो आप एक बार गुस्से का मतलब समझ जाइए तो आप जिंदगी भर गुस्सा नहीं करेंगे क्योंकि आपको बस समझना है कि गुस्सा कोई चीज है नहीं वह आप प्रकार कुछ चीजें जाहिर करना चाहते कुछ चीज बताना चाहते कुछ चीज आप लोग खूब तब मैसेज पहुंचाना चाहते कि हम परेशान हैं हमें कठिनाइयों का सामना करना पड़ा हम परेशान है तो उसी चीज को जाहिर इकट्ठा करते जाते ही इंसान की जो रूप में दिखाई देती है उसी को हम गुस्सा कहकर टाल देते तो गुस्सा नाम की कोई चीज नहीं है और आप चाहे हमसे हर इंसान गुस्से को कंट्रोल कर सकते हैं क्योंकि वह सब कुछ जानना पड़ेगा तो गुस्सा ही मेरी ही बिना बताए कुछ एक्सप्रेशन है जो मैं लोगों को बताना चाहता इकट्ठा जो कि मुमकिन नहीं तो इसीलिए वह सोचता है कि इतने वक्त गवाने सच्चा कि मैं कुछ अभी जाहिर कर दो ताकि सारा चीज यहीं पर लिपट जाए या फिर आप अपने ही कुछ बातें किसी को बताने से डरते हैं अपने ही कुछ बातें किसी को जाहिर करने से डरते हैं या फिर अपना ही कुछ भूल है जो आप मानने से डरते तो इसी को आप किस तरह से रोके उसी में आपकी गुस्सा एक्सपोज हो जाती तो गुस्सा तो है नहीं फिर या पिकासो आप का प्रतिफल है जो आपको चलना पड़ता है और इसी की वजह से उस एक आपने जो गलती की कि मुझे कुछ बताना नहीं पता कि मुझे कुछ करना है नहीं करके मुझे कुछ दिखाना है नहीं दिखा कर आप शर्म के मारे लात के मारे डर के मारे और अपने ही इज्जत के मारे कुछ चीज छुपाते हो तो उसे छुपाने की वजह से आपकी जो शरीर से जो चीज हमें दिखाई देते हैं उसे हम गुस्सा करता है उसी के कारण आपको बहुत परेशानी है भुगतना पड़ सकता क्योंकि उसे उसके बाद भी दूसरा भी एक्सपोज करेगा कुछ तो कृपया ध्यान दें तो गुस्सा ना करें और गुस्से को समझ लीजिए सबसे पहले तो आप कभी गुस्सा नहीं करेंगे शुक्रिया

kya koi tarika hai jisse ek insaan ko kabhi gussa na toh gussa na aane ka tarika toh kahin aapko milne se raha kyonki gussa insano ki ek usi ke swabhav ki parivartan hai jo logo ko jaahir karna chahta hai ya phir dikhana chahte chali gussa kabhi insaan kabhi hota hi nahi gussa insaan kabhi bhi nahi hota yah toh usi ke jo chinta hai use chinta kyon dohrane ke karan se uske man mein jo bijli bijli paida hoti hai usi ko logo ke saamne vaah jaahir karna chahta hai ki hum kitne pareshan hai humne kitni pareshaniyo ka samana karna pada hai hum kya karna chahte aap log samjho toh isi ko jaahir karne ka koi shabd use turant milta nahi toh saare chijon ko ek saath bayan karne ke liye kuch sharir mein kuch cheez jaahir kar deta hai usi ko hum gusse ke roop mein dikhai padta hai toh gussa na koi hota hai aur yah toh ek aam cheezen toh lekin haan insaan chahen toh gussa ko control kar sakta vaah kaisi baat hai aapko jab pata chal jaega gussa kis karan se insaan tab tab gussa control ho jaega har gusse ke peeche koi na koi karan hoti hai koi na koi pareshani hota koi na koi dikkat hoti hai koi na koi thos hoti hai toh agar har insaan gusse ka matlab samajh jayegi gussa hamein is wajah se aata hai toh aap ek baar gusse ka matlab samajh jaiye toh aap zindagi bhar gussa nahi karenge kyonki aapko bus samajhna hai ki gussa koi cheez hai nahi vaah aap prakar kuch cheezen jaahir karna chahte kuch cheez bataana chahte kuch cheez aap log khoob tab massage pahunchana chahte ki hum pareshan hai hamein kathinaiyon ka samana karna pada hum pareshan hai toh usi cheez ko jaahir ikattha karte jaate hi insaan ki jo roop mein dikhai deti hai usi ko hum gussa kehkar tal dete toh gussa naam ki koi cheez nahi hai aur aap chahen humse har insaan gusse ko control kar sakte hai kyonki vaah sab kuch janana padega toh gussa hi meri hi bina bataye kuch expression hai jo main logo ko bataana chahta ikattha jo ki mumkin nahi toh isliye vaah sochta hai ki itne waqt gavane saccha ki main kuch abhi jaahir kar do taki saara cheez yahin par LIPAT jaaye ya phir aap apne hi kuch batein kisi ko batane se darte hai apne hi kuch batein kisi ko jaahir karne se darte hai ya phir apna hi kuch bhool hai jo aap manne se darte toh isi ko aap kis tarah se roke usi mein aapki gussa eksapoj ho jaati toh gussa toh hai nahi phir ya picasso aap ka pratiphal hai jo aapko chalna padta hai aur isi ki wajah se us ek aapne jo galti ki ki mujhe kuch bataana nahi pata ki mujhe kuch karna hai nahi karke mujhe kuch dikhana hai nahi dikha kar aap sharm ke maare laat ke maare dar ke maare aur apne hi izzat ke maare kuch cheez chhupaate ho toh use chhupaane ki wajah se aapki jo sharir se jo cheez hamein dikhai dete hai use hum gussa karta hai usi ke karan aapko bahut pareshani hai bhugatna pad sakta kyonki use uske baad bhi doosra bhi eksapoj karega kuch toh kripya dhyan de toh gussa na kare aur gusse ko samajh lijiye sabse pehle toh aap kabhi gussa nahi karenge shukriya

क्या कोई तरीका है जिससे एक इंसान को कभी गुस्सा ना तो गुस्सा ना आने का तरीका तो कहीं आपको म

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  106
KooApp_icon
WhatsApp_icon
12 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!