गांधी जी साउथ अफ़्रीका क्यों गए थे?...


play
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

1:14

Likes  114  Dislikes    views  16102
WhatsApp_icon
9 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Anurag Dubey

Director Of Vedas IAS Academy call me @ 9540558037

1:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

बिग गांधीजी साउथ अफ्रीका जाने का उनका मुख्य कारण था तो पेरिस ट्री करने जाएं लेकिन जब वहां पर उन्होंने देखा कि किस तरीके से काले गोरे भी होता है तो सामाजिक तरीके से उन लोगों को सामाजिक बढ़ावा एवं सामाजिक न्याय दिलाने के लिए गांधी जी ने वही लेकर आंदोलन करना शुरू कर दिया हालांकि गांधी जी भारतीय मूल के थे और उसके बाद उस साउथ अफ्रीका पहुंचे तो उनके साथ भी यही सेम प्रोसेस हुआ कि वह उनको ट्रेन से उतार दिया गया उनको ट्रेन से उतार दिया गया तो ऐसे केस में उनको यह बात बहुत आहत कर गई और उन्होंने वहां कर उन लोगों को सत्य अहिंसा के आधार पर उन लोगों को न्याय दिलाने के लिए वहां पर सत्याग्रह करना स्टार्ट कर दिया हालांकि उस सत्याग्रह की फंडिंग पूरे विश्व से हुई जिसमें भारत मुख्य था और गांधी जी ने अपनी मुख्य विचारधारा जो डिवेलप की सत्य अहिंसा की वो साउथ अफ्रीका में कि हालांकि साउथ अफ्रीका एक अंग्रेजी उपनिवेश था तो उनके जाने के पीछे सिर्फ जो कारण था वह कि वहां पर जाकर वह बैटरी करें बाकी वकालत करें लेकिन वह रहने का कारण तो हो सकता है कि आखिर वहां रुके की लेकिन जाने कैसे कोई कारण नहीं हो सकता आज लोग अमेरिका जा रहे हैं ब्रिटेन जा रहे हैं शहर जगह जा रहे लेकिन उन्होंने कर्मों का दर्द समझा और पूरे दुनिया से धन इकट्ठा कर किया और सत्य अहिंसा की राजनीति और उन्होंने अपनी पृष्ठभूमि जो राजनीति जमाई थी वह साउथ अफ्रीका में बड़े पैमाने पर जाएगी भारत में तो वह बाल गंगा तिलक के बाल गंगाधर तिलक की बातें छपते हैं कि गांधीजी

big gandhiji south africa jaane ka unka mukhya karan tha toh paris tree karne jayen lekin jab wahan par unhone dekha ki kis tarike se kaale gore bhi hota hai toh samajik tarike se un logo ko samajik badhawa evam samajik nyay dilaane ke liye gandhi ji ne wahi lekar andolan karna shuru kar diya halaki gandhi ji bharatiya mul ke the aur uske baad us south africa pahuche toh unke saath bhi yahi same process hua ki vaah unko train se utar diya gaya unko train se utar diya gaya toh aise case mein unko yah baat bahut aahat kar gayi aur unhone wahan kar un logo ko satya ahinsa ke aadhaar par un logo ko nyay dilaane ke liye wahan par satyagrah karna start kar diya halaki us satyagrah ki funding poore vishwa se hui jisme bharat mukhya tha aur gandhi ji ne apni mukhya vichardhara jo develop ki satya ahinsa ki vo south africa mein ki halaki south africa ek angrezi upnivesh tha toh unke jaane ke peeche sirf jo karan tha vaah ki wahan par jaakar vaah battery kare baki vakalat kare lekin vaah rehne ka karan toh ho sakta hai ki aakhir wahan ruke ki lekin jaane kaise koi karan nahi ho sakta aaj log america ja rahe hain britain ja rahe hain shehar jagah ja rahe lekin unhone karmon ka dard samjha aur poore duniya se dhan ikattha kar kiya aur satya ahinsa ki raajneeti aur unhone apni prishthbhumi jo raajneeti jamai thi vaah south africa mein bade paimane par jayegi bharat mein toh vaah baal ganga tilak ke baal gangadhar tilak ki batein chupte hain ki gandhiji

बिग गांधीजी साउथ अफ्रीका जाने का उनका मुख्य कारण था तो पेरिस ट्री करने जाएं लेकिन जब वहां

Romanized Version
Likes  105  Dislikes    views  8679
WhatsApp_icon
user

sneha soni

राजनीतिज्ञ,Writer(Antrdhwani)

0:28
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधी जी अपनी वकालत की पढ़ाई के लिए जो है अफ्रीका साउथ अफ्रीका गए थे लेकिन वहां पर उनकी उन्हें उनके साथ जो है गलत भी वीर क्या-क्या काली और गोरी का अंतर होना समझ में आया और इस कारण से जो है उनकी पार्टी चेतना को बहुत ही ज्यादा आघात पहुंचा और एक यही वजह है कि इतने सारे आंदोलन करके जागरूक चेतना के द्वारा गांधी जी ने जो है देश को आजादी दिलाने

gandhi ji apni vakalat ki padhai ke liye jo hai africa south africa gaye the lekin wahan par unki unhe unke saath jo hai galat bhi veer kya kya kali aur gori ka antar hona samajh mein aaya aur is karan se jo hai unki party chetna ko bahut hi zyada aaghat pohcha aur ek yahi wajah hai ki itne saare andolan karke jagruk chetna ke dwara gandhi ji ne jo hai desh ko azadi dilaane

गांधी जी अपनी वकालत की पढ़ाई के लिए जो है अफ्रीका साउथ अफ्रीका गए थे लेकिन वहां पर उनकी उन

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  557
WhatsApp_icon
user

Mehmood Alum

Law Student

0:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधीजी दक्षिण अफ्रीका 1 गुजराती व्यापारी दादा अब्दुल्लाह का मुकदमा लड़ने के लिए गए थे दादा अब्दुल्लाह एक बड़े कारोबारी थे जिनका दक्षिण अफ्रीका में कंपनी थी और वहां उनके अपने एक रिश्तेदार से उनका मुकदमा चल रहा था दादा अब्दुल्लाह अपने एक विशेष जहाज से पानी के रास्ते गांधी जी को दक्षिण अफ्रीका ले गए वहां पर गांधी जी दादा बिल्ला का मुकदमा लड़ा और जीत गए जिसके बाद गांधी जी के नाम की चर्चा पूरे दक्षिण अफ्रीका में फैल गई

gandhiji dakshin africa 1 gujarati vyapaari dada Abdullah ka mukadma ladane ke liye gaye the dada Abdullah ek bade kaarobari the jinka dakshin africa mein company thi aur wahan unke apne ek rishtedar se unka mukadma chal raha tha dada Abdullah apne ek vishesh jahaj se paani ke raste gandhi ji ko dakshin africa le gaye wahan par gandhi ji dada billa ka mukadma lada aur jeet gaye jiske baad gandhi ji ke naam ki charcha poore dakshin africa mein fail gayi

गांधीजी दक्षिण अफ्रीका 1 गुजराती व्यापारी दादा अब्दुल्लाह का मुकदमा लड़ने के लिए गए थे दाद

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  376
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधीजी साउथ अफ्रीका सेठ अब्दुल्लाह के निमंत्रण पर 18 सो 93 ईस्वी में गए थे वहां पर यह भी भाव को देखकर उससे प्रभावित उससे प्रभावित होकर वहां भी भेदभाव खत्म करने की कोशिश की

gandhiji south africa seth Abdullah ke nimantran par 18 so 93 isvi me gaye the wahan par yah bhi bhav ko dekhkar usse prabhavit usse prabhavit hokar wahan bhi bhedbhav khatam karne ki koshish ki

गांधीजी साउथ अफ्रीका सेठ अब्दुल्लाह के निमंत्रण पर 18 सो 93 ईस्वी में गए थे वहां पर यह भी

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
user
0:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आप ने प्रश्न किया गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों जाए थे गांधीजी एक केस के सिलसिले हुए साउथ अफ्रीका गए हुए थे

aap ne prashna kiya gandhiji south africa kyon jaaye the gandhiji ek case ke silsile hue south africa gaye hue the

आप ने प्रश्न किया गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों जाए थे गांधीजी एक केस के सिलसिले हुए साउथ अफ्

Romanized Version
Likes  47  Dislikes    views  457
WhatsApp_icon
user

Masoom

Teacher

0:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों गए थे आपकी जानकारी के लिए बता दें गांधीजी एक केस के सिलसिले में साउथ अफ्रीका गहलोत

gandhiji south africa kyon gaye the aapki jaankari ke liye bata de gandhiji ek case ke silsile me south africa gehlot

गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों गए थे आपकी जानकारी के लिए बता दें गांधीजी एक केस के सिलसिले में

Romanized Version
Likes  46  Dislikes    views  912
WhatsApp_icon
user

Dharmendra

Civil services student

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए आप का सवाल है कि गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों गए थे तो गांधी जी सॉन्ग अफ्रीका जाने का मुख्य कारण यह था कि उन्हें सोते राशि में गांधीजी को दक्षिण अफ्रीका के शेख अब्दुल्ला ने एक मुकदमा के लिए गांधी जी को बुलाया था यही कारण था जो गांधी जी ने साउथ अफ्रीका की यात्रा शुरू की

dekhiye aap ka sawaal hai ki gandhiji south africa kyon gaye the toh gandhi ji song africa jaane ka mukhya karan yah tha ki unhe sote rashi mein gandhiji ko dakshin africa ke shaikh abdullah ne ek mukadma ke liye gandhi ji ko bulaya tha yahi karan tha jo gandhi ji ne south africa ki yatra shuru ki

देखिए आप का सवाल है कि गांधीजी साउथ अफ्रीका क्यों गए थे तो गांधी जी सॉन्ग अफ्रीका जाने का

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  591
WhatsApp_icon
user

Saurabh

Student

0:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

गांधीजी 2893 एस बी में दक्षिण अफ्रीका में व्यापार करने वाले एक भारतीय मुसलमान व्यापारी गधा अब्दुल्लाह का मुकदमा लड़ने के लिए डरबन दक्षिण अफ्रीका चले गए इस मुकदमे उन्होंने सफलता प्राप्त की तथा वहां पर भारतीयों के साथ जो रंगभेद का के साथ भेदभाव किया जाता था उसके लिए भी उन्होंने वहां का प्रतिनिधित्व किया और सफलता प्राप्त की और 1915 ईस्वी में वह आपने स्वदेश भारत लौट आए

gandhiji 2893 s be mein dakshin africa mein vyapar karne waale ek bharatiya musalman vyapaari gadha Abdullah ka mukadma ladane ke liye darban dakshin africa chale gaye is mukadme unhone safalta prapt ki tatha wahan par bharatiyon ke saath jo rangbhed ka ke saath bhedbhav kiya jata tha uske liye bhi unhone wahan ka pratinidhitva kiya aur safalta prapt ki aur 1915 isvi mein vaah aapne swadesh bharat lot aaye

गांधीजी 2893 एस बी में दक्षिण अफ्रीका में व्यापार करने वाले एक भारतीय मुसलमान व्यापारी गधा

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  111
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!