ऐसा क्यों माना जाता है की एक इंसान को शादी कर के बस अपने पार्ट्नर के साथ जीवन भर रहना चाहिए जबकि इंसानों को बहुत बारी प्यार होता है?...


play
user
1:47

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे समाज में जो शादी है उसे एक संस्था माना गया है हम लोग परिवार में रहते हैं परिवार में जीते हैं और परिवार बनाने के लिए आपको स्टेबिलिटी चाहिए ठहरा चाहिए और ठहराव आपको एक ही व्यक्ति को समर्पित होकर मिलता है ओपन कल्चर तो है लिव इन रिलेशनशिप भी है प्यार हमें कई बार कई लोग से होता है लेकिन जब हमें ठहराव चाहिए अपनी जिंदगी में जब हमें एक अपनापन चाहिए तो वहां पर सिर्फ आपका एक डेडीकेटेड पार्टनर ही काम आता है तभी आप परिवार बना सकते हैं तभी आप जो संस्थान है परिवार के नाम पर वह आप उसको खड़ा कर सकते हैं उसको चला सकते हैं दूसरा अगर आपका पार्टनर डेडीकेटेड है और आप भी एक दूसरे के लिए समर्पित है तो बहुत सारी ऐसी बीमारियों से आप बच सकते हैं जो कि सेक्शुअली ट्रांसमिटेड है वह आपको नहीं होगी दूसरा आप अपने बच्चों को अच्छी परवरिश दे पाएंगे उनको एक सिक्योर माहौल मिलेगा आप सोच कर देखे जो बच्चे डिस्टर्ब फैमिली से आते हैं उनका मानसिक विकार ठीक से नहीं होता उनका शारीरिक विकास ठीक से नहीं होता जिन देशों में यह प्रचलन है वहां पर मानसिक रोगी बहुत ज्यादा है जहां मैरिज टेबल नहीं है इसीलिए नालेज में पार्टनर के साथ स्टेबिलिटी बहुत जरूरी है

hamare samaj mein jo shadi hai use ek sanstha mana gaya hai hum log parivar mein rehte hain parivar mein jeete hain aur parivar banane ke liye aapko stability chahiye thahara chahiye aur thahrav aapko ek hi vyakti ko samarpit hokar milta hai open culture toh hai live in Relationship bhi hai pyar hamein kai baar kai log se hota hai lekin jab hamein thahrav chahiye apni zindagi mein jab hamein ek apnapan chahiye toh wahan par sirf aapka ek dediketed partner hi kaam aata hai tabhi aap parivar bana sakte hain tabhi aap jo sansthan hai parivar ke naam par vaah aap usko khada kar sakte hain usko chala sakte hain doosra agar aapka partner dediketed hai aur aap bhi ek dusre ke liye samarpit hai toh bahut saree aisi bimariyon se aap bach sakte hain jo ki sekshuali transmitted hai vaah aapko nahi hogi doosra aap apne baccho ko achi parvarish de payenge unko ek secure maahaul milega aap soch kar dekhe jo bacche disturb family se aate hain unka mansik vikar theek se nahi hota unka sharirik vikas theek se nahi hota jin deshon mein yah prachalan hai wahan par mansik rogi bahut zyada hai jaha marriage table nahi hai isliye knowledge mein partner ke saath stability bahut zaroori hai

हमारे समाज में जो शादी है उसे एक संस्था माना गया है हम लोग परिवार में रहते हैं परिवार में

Romanized Version
Likes  73  Dislikes    views  2243
KooApp_icon
WhatsApp_icon
3 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!