विश्व की समस्यायों को देखकर ऐसा लगता है की UNO भी लीग ऑफ़ नेशन्स की तरह असफल साबित हो रही है। आपके विचार?...


play
user

Jyoti Mehta

Ex-History Teacher

1:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विश्व युद्ध की समाप्ति पर लीग ऑफ नेशंस की स्थापना हुई थी भारत और लीग ऑफ नेशंस 1914 से 1919 ईस्वी तक चलाओ 1945 में द्वितीय विश्व युद्ध की समाप्ति पर पूर्ण विश्व के बड़े नेताओं ने और बड़े देशों ने लीग ऑफ नेशंस की असफलता पर वैश्विक संगठन संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना की थी तब भारत स्वतंत्र आज नहीं था 24 अक्टूबर 1945 को संयुक्त संयुक्त राष्ट्र संघ की स्थापना हुई इसका मुख्यालय निर्यात में है इसकी स्थापना के मुख्य उद्देश्य यह है कि राष्ट्र संघ के उद्देश्यों में रेखांकित किया गया कि आगामी पीढ़ियों को युद्ध की विभीषिका से बचाना मूलभूत मानव अधिकारों को मानवीय कार्यो में गरिमा महिलाओं पुरुषों में राष्ट्र उनके सम्मान अधिकारों में निष्ठा को पुनर्स्थापित करना ऐसी परिस्थितियों का निर्माण करना जिससे न्याय तथा संगीत संधियों या अन्य अंतर्राष्ट्रीय कानूनी स्त्रोतों उत्पन्न प्रतिबद्धताओं के प्रति सम्मान को कायम रखा जा सके व्यापक स्तर पर स्वतंत्रता के अंतर्गत सामाजिक उन्नति और बेहतर जीवन स्तर को बढ़ाना 2015 तक संयुक्त राष्ट्र संघ के सदस्य संख्या 193 थी संयुक्त राष्ट्र संघ का मुख्य उद्देश्य विश्व में शांति स्थापित करना है सभी देशों का आपात स्थितियों में एक दूसरे की मदद करना और उनकी स्थिति को बेहतर बनाना है यह विश्व के सभी देशों के लक्ष्य को पूरा करने में भी उनकी मदद करते हैं समस्या कितनी भी बड़ी हो समाधान अवश्य होते हैं अगर सभी मिलकर शांति चाहते हैं तो अशांति नहीं हो सकती है मुझे विश्वास है कि यूएनओ शांति बनाए रखने में सफल होगा

vishwa yudh ki samapti par league of nations ki sthapna hui thi bharat aur league of nations 1914 se 1919 isvi tak chalao 1945 mein dwitiya vishwa yudh ki samapti par purn vishwa ke bade netaon ne aur bade deshon ne league of nations ki asafaltaa par vaishvik sangathan sanyukt rashtra sangh ki sthapna ki thi tab bharat swatantra aaj nahi tha 24 october 1945 ko sanyukt sanyukt rashtra sangh ki sthapna hui iska mukhyalay niryat mein hai iski sthapna ke mukhya uddeshya yah hai ki rashtra sangh ke udyeshyon mein rekhankit kiya gaya ki aagaami peedhiyon ko yudh ki vibheeshika se bachaana mulbhut manav adhikaaro ko manviya karyon mein garima mahilaon purushon mein rashtra unke sammaan adhikaaro mein nishtha ko punarsthapit karna aisi paristhitiyon ka nirmaan karna jisse nyay tatha sangeet sandhiyon ya anya antarrashtriya kanooni stroton utpann pratibaddhataon ke prati sammaan ko kayam rakha ja sake vyapak sthar par swatantrata ke antargat samajik unnati aur behtar jeevan sthar ko badhana 2015 tak sanyukt rashtra sangh ke sadasya sankhya 193 thi sanyukt rashtra sangh ka mukhya uddeshya vishwa mein shanti sthapit karna hai sabhi deshon ka aapaat sthitiyo mein ek dusre ki madad karna aur unki sthiti ko behtar banana hai yah vishwa ke sabhi deshon ke lakshya ko pura karne mein bhi unki madad karte hain samasya kitni bhi badi ho samadhan avashya hote hain agar sabhi milkar shanti chahte hain toh ashanti nahi ho sakti hai mujhe vishwas hai ki UNO shanti banaye rakhne mein safal hoga

विश्व युद्ध की समाप्ति पर लीग ऑफ नेशंस की स्थापना हुई थी भारत और लीग ऑफ नेशंस 1914 से 1919

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  126
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!