किरण बेदी का राजनीति में आने का उद्देश्य क्या था?...


user

Awdhesh Singh

Former IRS, Top Quora Writer, IAS Educator

1:05
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किरण बेदी को शुरू से ही मीडिया हाईलाइट पसंद है जब वह IPS ऑफिसर थी तब भी जो है वह अक्सर वह मीडिया में न्यूज़ में रहती थी और अपनी IPS में रहते रहते हैं उन्होंने जो अपनी प्रोफाइल कि वह इस तरीके के एक बहुत ही पॉपुलर और हाई फाई IPS ऑफिसर की बनाई थी तो मैं समझता हूं कि किरण बेदी का शुरू से ही जो है राजनीति में आने का प्लान था और उनकी जो सारी प्लानिंग थी वही टाइप से थी कि वह एक न एक दिन राजनीति में जरूर आएंगे और इसीलिए जब रिटायरमेंट के बाद में पहले वाला आंदोलन से जुड़ी रही हूं उसके बाद जैसे ही उनको मौका मिला वह तुरंत बीजेपी के पार्टी को ज्वाइन कर लिया और राजनीति में आ गई तो राजनीति में आने का मैं समझता हूं जो उनका एक का सबसे बड़ा कारण यह है कि वह सोसाइटी को बदलना चाहती हे हा सोसायटी को सही करना चाहती अपने तरीके से ऑनलाइन क्यों उनके अंदर राजनेताओं के गुण नहीं हैं और वह जैसा कि आपने देखा कि वह लक्षण नहीं जीत पाई दिल्ली के अंदर होटल है और वह उनकी अपनी जरूरत है भारतीय राजनीति में

kiran bedi ko shuru se hi media highlight pasand hai jab vaah IPS officer thi tab bhi jo hai vaah aksar vaah media mein news mein rehti thi aur apni IPS mein rehte rehte hain unhone jo apni profile ki vaah is tarike ke ek bahut hi popular aur high fai IPS officer ki banai thi toh main samajhata hoon ki kiran bedi ka shuru se hi jo hai raajneeti mein aane ka plan tha aur unki jo saree planning thi wahi type se thi ki vaah ek na ek din raajneeti mein zaroor aayenge aur isliye jab retirement ke baad mein pehle vala aandolan se judi rahi hoon uske baad jaise hi unko mauka mila vaah turant bjp ke party ko join kar liya aur raajneeti mein aa gayi toh raajneeti mein aane ka main samajhata hoon jo unka ek ka sabse bada karan yah hai ki vaah society ko badalna chahti hai ha sociaty ko sahi karna chahti apne tarike se online kyon unke andar rajnetao ke gun nahi hain aur vaah jaisa ki aapne dekha ki vaah lakshan nahi jeet payi delhi ke andar hotel hai aur vaah unki apni zaroorat hai bharatiya raajneeti mein

किरण बेदी को शुरू से ही मीडिया हाईलाइट पसंद है जब वह IPS ऑफिसर थी तब भी जो है वह अक्सर वह

Romanized Version
Likes  26  Dislikes    views  648
WhatsApp_icon
6 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ravi Sharma

Advocate

2:00
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

किरण बेदी जी का जो इतिहास रहा है उसके अनुसार हमें क्या सकते हैं कि उनका राजनीति में आने का प्रथम उद्देश्य था राजनीति के स्तर को सुधारना परंतु जिस प्रकार से राजनीतिक पार्टी यानी भाजपा ने उन का दुरुपयोग किया उनकी पद व गरिमा का उनके जो गौरवमई इतिहास था उसका दुरूपयोग किया तथा उनको एक मोहरे की तरह दिल्ली के राजनीति में इस्तेमाल किया मुझे नहीं लगता कि उनका राजनीति में आने का उद्देश्य पूरा हो पाया गया था घर अगर हम देखें हैं उन्हें कुछ समय पश्चात पांडिचेरी कहानी पुदुच्चेरी का राज्यपाल बनाकर वहां भेज दिया गया अब बात याद आती है किस प्रकार के सक्षम और योग्य का नेता राजनेता या जनप्रतिनिधि होते हैं जैसे किरण बेदी जी उनका राजनीति में उपयोग किया जा सकता है कि नहीं देखी यदि हम देखे उनके इतिहास की और उनके कार्य शैली की अवस्था में पाएंगे कि उनका काम करने का तरीका आज की जो राजनेता है चाहे वह विपक्ष से हो या सत्ताधारी पक्ष से उन के काम करने से अधिक बेहतर था हालांकि मैं यह भी मानता हूं कि जिस प्रकार का सामंजस्य हम कार्यपालिका न्यायपालिका और विधायिका में स्थापित करके एक अच्छा कुशल शासन प्रदान कर सकते हैं उस प्रकार की कार्य शैली उनकी नहीं थी लीक से हटकर काम करने की जो कार्य शैली थी उसकी वजह से तथा उनका कुछ इतिहास इस प्रकार कर रहा है उनका उनका उनका कार्यकाल रहा है एक IPS ऑफिसर के नाते हैं वह कुछ विवादों से घिरा रहा जिसकी आज आज तक महसूस की जा सकती है विभिन्न वर्गों में विशेष राज्य अधिवक्ता वर्क है यानी लॉयर कम्युनिटी है उसमें तथा अन्य पक्षियों में भी उनका व्यापक विरोध हुआ तथा एक राजनेता होने के नाते वह अपनी जिम्मेदारियों की तरह से नहीं निभा पाया जैसी कि उनसे अपेक्षा की जा सकती की जाती थी तो मैं मानता हूं कि उनका राजनीति में आने का उद्देश्य सफल नहीं हो पाया शुद्ध नहीं हो पाया धन्यवाद

kiran bedi ji ka jo itihas raha hai uske anusaar hamein kya sakte hain ki unka raajneeti mein aane ka pratham uddeshya tha raajneeti ke sthar ko sudharna parantu jis prakar se raajnitik party yani bhajpa ne un ka durupyog kiya unki pad v garima ka unke jo gauravamai itihas tha uska duroopayog kiya tatha unko ek mohare ki tarah delhi ke raajneeti mein istemal kiya mujhe nahi lagta ki unka raajneeti mein aane ka uddeshya pura ho paya gaya tha ghar agar hum dekhen hain unhe kuch samay pashchat pondicherry kahani puducherry ka rajyapal banakar wahan bhej diya gaya ab baat yaad aati hai kis prakar ke saksham aur yogya ka neta raajneta ya janapratinidhi hote hain jaise kiran bedi ji unka raajneeti mein upyog kiya ja sakta hai ki nahi dekhi yadi hum dekhe unke itihas ki aur unke karya shaili ki avastha mein payenge ki unka kaam karne ka tarika aaj ki jo raajneta hai chahen vaah vipaksh se ho ya sattadhari paksh se un ke kaam karne se adhik behtar tha halanki main yah bhi manata hoon ki jis prakar ka samanjasya hum karyapalika nyaypalika aur vidhayika mein sthapit karke ek accha kushal shasan pradan kar sakte hain us prakar ki karya shaili unki nahi thi leak se hatakar kaam karne ki jo karya shaili thi uski wajah se tatha unka kuch itihas is prakar kar raha hai unka unka unka karyakal raha hai ek IPS officer ke naate hain vaah kuch vivadon se ghira raha jiski aaj aaj tak mahsus ki ja sakti hai vibhinn vargon mein vishesh rajya adhivakta work hai yani lawyer community hai usmein tatha anya pakshiyo mein bhi unka vyapak virodh hua tatha ek raajneta hone ke naate vaah apni jimmedariyon ki tarah se nahi nibha paya jaisi ki unse apeksha ki ja sakti ki jaati thi toh main manata hoon ki unka raajneeti mein aane ka uddeshya safal nahi ho paya shudh nahi ho paya dhanyavad

किरण बेदी जी का जो इतिहास रहा है उसके अनुसार हमें क्या सकते हैं कि उनका राजनीति में आने का

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  393
WhatsApp_icon
play
user

Rahul Bharat

राजनैतिक विश्लेषक

0:58

Likes  6  Dislikes    views  361
WhatsApp_icon
play
user

Dr. KRISHNA CHANDRA

Rehabilitation Psychologist

1:59

Likes  1  Dislikes    views  286
WhatsApp_icon
user

Amber Rai

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

ठीक है मैं नहीं समझता की एक किरण बेदी का जो है वह राजनीति में आना चाहिए उनका ट्रेन डिसीजन था यह जैसे दिल्ली में बीजेपी ने जो है उनको अरविंद केजरीवाल के खिलाफ फायदे सीएम कैंडिडेट खड़ा किया था आपने WhatsApp तो कहीं ना कहीं जो है वह BJP के लोग थे वह नेता जो तूने तोड़ पर बहुत ही गुस्सा थे कि कितने साल से काम कर रहे हैं और अंत में जाकर उन्होंने किरण बेदी को सीएम का कैंडिडेट बना दिया तो यह उनके लिए जो है वह नुकसान दे रहा है और BJP बहुत बुरी तरह मार खा गई थी इस बार दिल्ली में तो मैं नहीं समझ एक सरकारी अफसर रह चुके हैं बहुत बढ़िया सा रह चुके हैं बहुत फेमस हो चुके फर्स्ट लेडी आईपीएस अफसर है वह इंडिया के तू जो है मैं नहीं समझता कि राजनीति में आना चाहता क्योंकि पॉलिटिक्स में जो है आज कि आजकल की पॉलिटिक्स बहुत गंदी हो गई और और उस तरह का दिमाग और उस तरह की तेजी भी चाहिए तो जो एक सरकारी है या पुलिस अफसर

theek hai main nahi samajhata ki ek kiran bedi ka jo hai vaah raajneeti mein aana chahiye unka train decision tha yah jaise delhi mein bjp ne jo hai unko arvind kejriwal ke khilaf fayde cm candidate khada kiya tha aapne WhatsApp toh kahin na kahin jo hai vaah BJP ke log the vaah neta jo tune tod par bahut hi gussa the ki kitne saal se kaam kar rahe hain aur ant mein jaakar unhone kiran bedi ko cm ka candidate bana diya toh yah unke liye jo hai vaah nuksan de raha hai aur BJP bahut buri tarah maar kha gayi thi is baar delhi mein toh main nahi samajh ek sarkari afsar reh chuke hain bahut badhiya sa reh chuke hain bahut famous ho chuke first lady ips afsar hai vaah india ke tu jo hai main nahi samajhata ki raajneeti mein aana chahta kyonki politics mein jo hai aaj ki aajkal ki politics bahut gandi ho gayi aur aur us tarah ka dimag aur us tarah ki teji bhi chahiye toh jo ek sarkari hai ya police afsar

ठीक है मैं नहीं समझता की एक किरण बेदी का जो है वह राजनीति में आना चाहिए उनका ट्रेन डिसीजन

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  148
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भाजपा के मुख्यमंत्री किरण बेदी ने जिनका RSS से कभी कोई नाता नहीं रहा है बेदी ने कहा है कि संघ ने देश को एकजुट बना कर रखा है किरण बेदी ने कहा है कि आप के नेता अरविंद केजरीवाल की टक्कर आबकारी राजनीति का जवाब नकारात्मक राजनीति से देने के लिए ही राजनीति में आई हैं उन्होंने कहा है मैं दिल्ली को बचाने के लिए राजनीति में आई हूं

bhajpa ke mukhyamantri kiran bedi ne jinka RSS se kabhi koi nataa nahi raha hai bedi ne kaha hai ki sangh ne desh ko ekjut bana kar rakha hai kiran bedi ne kaha hai ki aap ke neta arvind kejriwal ki takkar aabkari raajneeti ka jawab nakaratmak raajneeti se dene ke liye hi raajneeti mein I hain unhone kaha hai main delhi ko bachane ke liye raajneeti mein I hoon

भाजपा के मुख्यमंत्री किरण बेदी ने जिनका RSS से कभी कोई नाता नहीं रहा है बेदी ने कहा है कि

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  183
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!