क्या भारत को पाकिस्तान के साथ सभी रिश्ते तोर देना चाहिए?...


play
user

Daulat Ram Sharma Shastri

Psychologist | Ex-Senior Teacher

2:56

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जज्बात का पूर्व समर्थक हूं क्योंकि हमें राजनीतिक आर्थिक सामाजिक सभी प्रकार के जो हमारे संबंध हैं सभी प्रकार की हमारे जो व्यवहार हैं वह पाकिस्तान के साथ में समाप्त कर देनी चाहिए पाकिस्तान से में एक ही कंडीशन सकरी चाहिए कि जब तक कि आप लोगों को तुम संरक्षण देना बंद नहीं करोगी पाकिस्तान में पाकिस्तान की छत्रछाया में ही आतंकवाद पर रहा है इनको तुम देना 15 तुमसे किसी प्रकार करना कोई संबंध है ना कोई व्यवहार है ना कोई प्लेन देना है और सुखी पाकिस्तान इसको कभी समाप्त कर सकता है पाकिस्तान इसी के बल पर ही अपना आधिपत्य जमाने की कोशिश कर रहा है इसलिए कश्मीर में तुम देख रहे हो कि बार-बार पप्पन करने की कोशिश करता है और लेकिन दुर्भाग्य इस बात का है कि हमारे जो भारतीय राजनीतिक दिन में भी अब से नहीं यह तो हमारी बहुत पुरानी कमजोरियां भारतीयों की क्या हम लोगों में चाटुकारिता लो अधिक है हम लोग हमेशा से ही दो भागों में गले में बच्चे आए हैं हमारी भारत की रागनी हमेशा से ही कमजोर रही है पहले भी राजा राजा लोग आपस में लड़ा करते थे और आक्रमणकारियों की विपक्षी राजा सहायता करते थे यह सोच हमारी कमी रही अभी हम पर महिलाओं ने राज किया अंग्रेज अंग्रेजों ने राज किया और आज भी वही स्थिति दिखाई दे रही है अभी कुछ पाकिस्तान के चमचे लो राजनीतिज्ञ हैं तुम देखते हो किस प्रकार से व्यवहार कर रहे हैं पिछली बार अखबारों में भी पढ़ा होगा टीवी पर भी पड़ा होगा क्योंकि मेरा मानना यह है कि ऐसी यह लोग ना तो दे नए देश को चाहते हैं ना देश की जनता के हैं इनको तो केवल अपना व्यक्तिगत स्वार्थ प्यारा है प्यारा है और गद्दी से मतलब है यह राजसत्ता प्राप्त करना चाहते हैं ऐसे गंदे लो और दुर्भाग्य इस बात का है कि ईश्वर ने भी बहुत अच्छा कर रखा है ऐसे कह देना कि गंजे को नाखून जाते तो खुदा की नजरों में इकरार कर दिया और मैं तो यहां तक मानता हूं कैसे गंदे राजनीतिज्ञों का सामाजिक बहिष्कार भी कर देना चाहिए क्योंकि जो अपने देश का सगा नहीं हो सका जो मातृभूमि का सगा नहीं है जो वहां की जनता का सगा नहीं है वह किसी का सगा नहीं हो सकते हैं

jazbaat ka purv samarthak hoon kyonki humein raajnitik aarthik samajik sabhi prakar ke jo hamare sambandh hain sabhi prakar ki hamare jo vyavahar hain wah pakistan ke saath mein samapt kar deni chahiye pakistan se mein ek hi condition sakari chahiye ki jab tak ki aap logo ko tum sanrakshan dena band nahi karogi pakistan mein pakistan ki chatrachaya mein hi aatankwad par raha hai inko tum dena 15 tumse kisi prakar karna koi sambandh hai na koi vyavahar hai na koi plane dena hai aur sukhi pakistan isko kabhi samapt kar sakta hai pakistan isi ke bal par hi apna aadhipatya jamane ki koshish kar raha hai isliye kashmir mein tum dekh rahe ho ki baar baar pappan karne ki koshish karta hai aur lekin durbhagya is baat ka hai ki hamare jo bharatiya raajnitik din mein bhi ab se nahi yeh toh hamari bahut purani kamjoriyan bharatiyon ki kya hum logo mein chaatukaarita lo adhik hai hum log hamesha se hi do bhaagon mein gale mein bacche aaye hain hamari bharat ki ragni hamesha se hi kamjor rahi hai pehle bhi raja raja log aapas mein lada karte the aur aakramanakaariyon ki vipakshi raja sahayta karte the yeh soch hamari kami rahi abhi hum par mahilaon ne raaj kiya angrej angrejo ne raaj kiya aur aaj bhi wahi sthiti dikhai de rahi hai abhi kuch pakistan ke chmache lo rajanitigya hain tum dekhte ho kis prakar se vyavahar kar rahe hain pichali baar akhbaro mein bhi padha hoga TV par bhi pada hoga kyonki mera manana yeh hai ki aisi yeh log na toh de naye desh ko chahte hain na desh ki janta ke hain inko toh keval apna vyaktigat swarth pyara hai pyara hai aur gaddi se matlab hai yeh raajsatta prapt karna chahte hain aise gande lo aur durbhagya is baat ka hai ki ishwar ne bhi bahut accha kar rakha hai aise keh dena ki ganje ko nakhun jaate toh khuda ki nazro mein ikaraar kar diya aur main toh yahan tak manata hoon kaise gande rajaneetigyon ka samajik bahishkar bhi kar dena chahiye kyonki jo apne desh ka saga nahi ho saka jo matrubhoomi ka saga nahi hai jo wahan ki janta ka saga nahi hai wah kisi ka saga nahi ho sakte hain

जज्बात का पूर्व समर्थक हूं क्योंकि हमें राजनीतिक आर्थिक सामाजिक सभी प्रकार के जो हमारे संब

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  360
KooApp_icon
WhatsApp_icon
2 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!