भारत में और देशों के बजाए कम भ्रष्टाचार है लेकिन 2014 के चुनाव के बाद में भुखमरी के आंकड़े भी क्या झूठे हैं?...


play
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:07

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भुखमरी के बारे में जो आंकड़े आए हैं वह बिल्कुल भी झूठ नहीं बोलते हैं क्योंकि ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने 118 देशों की सूची जारी की थी जिसमें भारत 97 नंबर पर आता है साल 2000 में भी ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने यह जारी जो किया था आंकड़े उसमें भारत 13 नंबर पर था तो धीरे-धीरे भारत की स्थिति और खराब होते जा रही है या भुखमरी के केस में और अगर हम अपने पड़ोसी देशों की बात करें तो उसमें श्रीलंका बांग्लादेश नेपाल और चाइना भारत से कहीं अच्छी पोजीशन पर हैं नेपाल 72 नंबर पर है जबकि उनकी इकॉनॉमी भारत से काफी कम है तो इसका मेन रीजन यह है कि हमारी सरकार अन्य दूसरे स्कीमों में काफी पैसे लगा रही है लेकिन जो यह बेसिक जरूरत है या बेसिक प्रॉब्लम है भुखमरी की इस पर ध्यान नहीं दिया जा रहा है तो सरकार को यह चाहिए कि वह फालतू के विज्ञापन पर ज्यादा पैसे खर्च ना करें और यह भुखमरी की जो समस्या है इससे लोगों को अ निकालने के प्रयास किए जाएं ताकि लोग का कभी भी भूख के वजह से अपनी जान ना गवाएं

bhukhmari ke bare mein jo aankade aaye hain vaah bilkul bhi jhuth nahi bolte hain kyonki global hunger index ne 118 deshon ki suchi jaari ki thi jisme bharat 97 number par aata hai saal 2000 mein bhi global hunger index ne yah jaari jo kiya tha aankade usme bharat 13 number par tha toh dhire dhire bharat ki sthiti aur kharab hote ja rahi hai ya bhukhmari ke case mein aur agar hum apne padosi deshon ki baat kare toh usme sri lanka bangladesh nepal aur china bharat se kahin achi position par hain nepal 72 number par hai jabki unki ikanami bharat se kaafi kam hai toh iska main reason yah hai ki hamari sarkar anya dusre schemo mein kaafi paise laga rahi hai lekin jo yah basic zarurat hai ya basic problem hai bhukhmari ki is par dhyan nahi diya ja raha hai toh sarkar ko yah chahiye ki vaah faltu ke vigyapan par zyada paise kharch na kare aur yah bhukhmari ki jo samasya hai isse logo ko a nikalne ke prayas kiye jayen taki log ka kabhi bhi bhukh ke wajah se apni jaan na gavaen

भुखमरी के बारे में जो आंकड़े आए हैं वह बिल्कुल भी झूठ नहीं बोलते हैं क्योंकि ग्लोबल हंगर इ

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  171
WhatsApp_icon
1 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
Likes    Dislikes    views  
WhatsApp_icon
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!