यदि आप न्यायाधीश होते, तो लालू को जेल में बहुत ठंडा होने की आशंकाओं पे आप क्या कहते?...


play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

1:01

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

लेकिन मुझे लगता है कि जिस तरह से लालू ने इस तरह की बात की है इस बात का कोई औचित्य नहीं होता कानून की नजर में चाहे लालू प्रसाद यादव हो या एक आम आदमी हो मुजरिम मुजरिम ही होता है उन्होंने करप्शन किया है उन्होंने भ्रष्टाचार किया तो डेफिनेटली वहीं सजा उनको मिलेगी जो एक आम आदमी को मिलती है वही फैसिलिटी जेल के अंदर मिलेगी जो एक आम आदमी को मुझे नहीं लगता किसी आम आदमी ने इस तरह की शिकायत कि योगी कि उसको ज्यादा ठंड लग रही है जिस तरह से लालू प्रसाद यादव स्टेटमेंट दिया गया मुझे लगता है कि लालू प्रसाद यादव के साथ भी उसी तरह का व्यवहार होना चाहिए जो एक आम आदमी के साथ होता है क्योंकि हमने जंगली ऐसा देखा है एक पॉलिटिशन को जेल के अंदर कुछ फैसिलिटीज दी जाती है मुझे नहीं लगता है कि कोई पॉलिटिशियन जिस तरह के करप्शन मैनुअल उत्तर उस व्यक्ति को किसी भी तरह की फैसिलिटी देनी चाहिए चाहे वह किसी भी लेवल का नेता क्यों ना हो उस पर पीपल है तो मुझे लगता है कि 1 भ्रष्टाचारी की तरह उसके साथ ट्रीटमेंट होना चाहिए एक आम आदमी की तरह उसको सुविधाएं दी जानी चाहिए

lekin mujhe lagta hai ki jis tarah se lalu ne is tarah ki baat ki hai is baat ka koi auchitya nahi hota kanoon ki nazar mein chahen lalu prasad yadav ho ya ek aam aadmi ho mujarim mujarim hi hota hai unhone corruption kiya hai unhone bhrashtachar kiya toh definetli wahin saza unko milegi jo ek aam aadmi ko milti hai wahi facility jail ke andar milegi jo ek aam aadmi ko mujhe nahi lagta kisi aam aadmi ne is tarah ki shikayat ki yogi ki usko zyada thand lag rahi hai jis tarah se lalu prasad yadav statement diya gaya mujhe lagta hai ki lalu prasad yadav ke saath bhi usi tarah ka vyavhar hona chahiye jo ek aam aadmi ke saath hota hai kyonki humne jungli aisa dekha hai ek politician ko jail ke andar kuch facilities di jaati hai mujhe nahi lagta hai ki koi politician jis tarah ke corruption manual uttar us vyakti ko kisi bhi tarah ki facility deni chahiye chahen vaah kisi bhi level ka neta kyon na ho us par pipal hai toh mujhe lagta hai ki 1 bhrashtachaari ki tarah uske saath treatment hona chahiye ek aam aadmi ki tarah usko suvidhaen di jani chahiye

लेकिन मुझे लगता है कि जिस तरह से लालू ने इस तरह की बात की है इस बात का कोई औचित्य नहीं होत

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जेल वही लोग ज्यादा जिन्होंने कुछ गलत किया होता है और अगर आपने कुछ गलत किया तो सजा मिलनी लाजमी है और सजा का मतलब यह होगा कि जैसे बाकी लोग रह रहे हैं वैसे आप भी रहिए और जो डिस्काउंट फुटबॉल खेल रहे हैं वह आपको भी झेलना ही पड़ेगा लेकिन लालू प्रसाद यादव ने गलती की है उन्होंने एक बहुत बड़ा घोटाला किया है कई करोड़ों रुपयों का तो आपने चाय ठंड लगे या उन्हें गर्मी लगे तो मैं करना अधिक होती तो मैं तो यूं नहीं यही बोलती कि अगर आप को ठंड से बचना तो आपको गलत काम करना ही नहीं चाहिए था और अगर यह जो बाकी जेल में कह दिया कह दी है अगर आपको हम स्पेशल ट्रीटमेंट देंगे तो फिर इन्हें इनके साथ यह डिस्क्रिमिनेशन क्यों किया जाए और स्पेशल ट्रीटमेंट मिले ही क्यूं बस इसलिए क्योंकि आप एक स्टेट के चीफ में चले चुके हैं आपने चीज गलतियां ज्यादा क्या चीज में चल रहे हैं तो आपके रिस्पॉन्सिबिलिटी तो बढ़ जाती है कुछ ज्यादा जिम्मेदार होना चाहिए था लेकिन आप किस से बनारस की वजह से इतने सारे लोगों का नुकसान हुआ और इतने सारे लोग आए हैं इतने सारे जो पशु है उनकी मृत्यु को जरूर हुई होगी और यह तो सिर्फ घोटाला हुआ जो हमारे सामने आया है क्या बात उन्होंने और घोटाले के रिश्ते इंसानों की मृत्यु भी हुई हो तो मैं तो यही बोलूंगा कि जैसे बाकी लोग रह रहे वैसे तुम को भी रहना ही पड़ेगा और जब तक तुम्हारी सजा चलेगी तब तक तुम जेल में रहोगे जब तुम्हारा खत्म हो जाएगी तब तुम्हें बाहर निकाल दिया जाएगा और जैसे बाकी कहती रहे उनको भी वैसे ही रहने को ही मिलना चाहिए उन 120 मिनट में बिल्कुल देना ही नहीं दूंगी

dekhiye jail wahi log zyada jinhone kuch galat kiya hota hai aur agar aapne kuch galat kiya toh saza milani lajmi hai aur saza ka matlab yah hoga ki jaise baki log reh rahe hain waise aap bhi rahiye aur jo discount football khel rahe hain vaah aapko bhi jhelna hi padega lekin lalu prasad yadav ne galti ki hai unhone ek bahut bada ghotala kiya hai kai karodo rupyon ka toh aapne chai thand lage ya unhe garmi lage toh main karna adhik hoti toh main toh yun nahi yahi bolti ki agar aap ko thand se bachana toh aapko galat kaam karna hi nahi chahiye tha aur agar yah jo baki jail mein keh diya keh di hai agar aapko hum special treatment denge toh phir inhen inke saath yah discrimination kyon kiya jaaye aur special treatment mile hi kyun bus isliye kyonki aap ek state ke chief mein chale chuke hain aapne cheez galtiya zyada kya cheez mein chal rahe hain toh aapke rispansibiliti toh badh jaati hai kuch zyada zimmedar hona chahiye tha lekin aap kis se banaras ki wajah se itne saare logon ka nuksan hua aur itne saare log aaye hain itne saare jo pashu hai unki mrityu ko zaroor hui hogi aur yah toh sirf ghotala hua jo hamare saamne aaya hai kya baat unhone aur ghotale ke rishte insanon ki mrityu bhi hui ho toh main toh yahi boloonga ki jaise baki log reh rahe waise tum ko bhi rehna hi padega aur jab tak tumhari saza chalegi tab tak tum jail mein rahoge jab tumhara khatam ho jayegi tab tumhe bahar nikaal diya jaega aur jaise baki kehti rahe unko bhi waise hi rehne ko hi milna chahiye un 120 minute mein bilkul dena hi nahi dungi

देखिए जेल वही लोग ज्यादा जिन्होंने कुछ गलत किया होता है और अगर आपने कुछ गलत किया तो सजा मि

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  127
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश का कानून सभी लोगों के लिए एक समान हैं तो अगर लालू यादव को जेल में ज्यादा ठंड लगेगी तो उन्हें तो यह बर्दाश्त करना ही पड़ेगा क्योंकि जो जेल में बाकी के कैदी हैं वह भी इसी माहौल में जी रहे हैं तो लालू यादव का यह बयान तो मुझे बहुत ही हास्यास्पद लग रहा है क्योंकि अगर उन्हें जेल में ज्यादा ठंड लगेगी तो उन्होंने कोई अच्छे काम नहीं किए हैं जिसकी वजह से उन्हें जेल जाना पड़ रहे हैं उन्होंने चारा घोटाला किया जिसमें वह दोषी साबित हो गए हैं इसी वजह से उन्हें जेल जाना पड़ रहा है और जेल में आप अच्छी-अच्छी फैसिलिटीज की डिमांड तो नहीं कर सकते हैं और साथ ही साथ ऐसा देखा गया है कि जब बड़े लोग या बड़े नेता जेल जाते हैं तो हमारी जो कानून व्यवस्था और थोड़ी लचर नजर आती है वहां पर उन्हें कई फैसिलिटीज दे दी जाती है जो कि बिल्कुल ही गलत है क्योंकि कानून जो है वह सबके लिए बराबर होना चाहिए चाहे वह आम के आदी हो या फिर कोई खास व्यक्ति जिसने कोई क्राइम किया हो तो यह बात तो बिल्कुल सही नहीं है कि वहां पर उन्हें कोई अच्छी फैसिलिटीज दी जाए क्योंकि यह तो बहुत ही गलत बात होगी

hamare desh ka kanoon sabhi logon ke liye ek saman hain toh agar lalu yadav ko jail mein zyada thand lagegi toh unhe toh yah bardaasht karna hi padega kyonki jo jail mein baki ke kaidi hain vaah bhi isi maahaul mein ji rahe hain toh lalu yadav ka yah bayan toh mujhe bahut hi hasyaspad lag raha hai kyonki agar unhe jail mein zyada thand lagegi toh unhone koi acche kaam nahi kiye hain jiski wajah se unhe jail jana pad rahe hain unhone chara ghotala kiya jisme vaah doshi saabit ho gaye hain isi wajah se unhe jail jana pad raha hai aur jail mein aap achi achi facilities ki demand toh nahi kar sakte hain aur saath hi saath aisa dekha gaya hai ki jab bade log ya bade neta jail jaate hain toh hamari jo kanoon vyavastha aur thodi lachar nazar aati hai wahan par unhe kai facilities de di jaati hai jo ki bilkul hi galat hai kyonki kanoon jo hai vaah sabke liye barabar hona chahiye chahen vaah aam ke adi ho ya phir koi khas vyakti jisne koi crime kiya ho toh yah baat toh bilkul sahi nahi hai ki wahan par unhe koi achi facilities di jaaye kyonki yah toh bahut hi galat baat hogi

हमारे देश का कानून सभी लोगों के लिए एक समान हैं तो अगर लालू यादव को जेल में ज्यादा ठंड लगे

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  211
WhatsApp_icon
user

Pragati

Aspiring Lawyer

0:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर मैं न्यायाधीश होती और लालू जी को जेल में ठंडा होने की आशंका ऊपर क्या कहते हैं तो मैं उन्हें यह जाना पसंद करती के जेल में उनके साथ और भी लोग हैं और बहुत से लोग ऐसे में काफी सालों से रह रहे तू अगर उनको भी ठंड से जुड़ने का और उनको उसी तरह के माहौल में रहने का मौका हो चुका है उनको आदत हो चुकी है तो लालू जी कोई अलग नहीं उनको भी उस सब चीज का सामना करना पड़ेगा जो आप सब लोग कर रहे हैं वहां पर और लालू जी को एक बार जरूर पता होनी चाहिए जेल एक तरह से पनिशमेंट देने की जगह होती है वहां पर हर इंसान सजा काटने के लिए जाता है तो अगर वहां पर भी उसको हर तरह की सुविधा प्राप्त होगी तो वह जेल जेल नहीं रहेगी तो लालू जी को तो ठंड लग रही है उसके लिए जेल में भी कंबल वगैरा दिए जाते हैं तो उसी से अपना गुजारा करें ना कि अपने लिए अलग से प्रदान करने की मांग करें

agar main nyayadhish hoti aur lalu ji ko jail mein thanda hone ki ashanka upar kya kehte hain toh main unhe yah jana pasand karti ke jail mein unke saath aur bhi log hain aur bahut se log aise mein kafi salon se reh rahe tu agar unko bhi thand se judne ka aur unko usi tarah ke maahaul mein rehne ka mauka ho chuka hai unko aadat ho chuki hai toh lalu ji koi alag nahi unko bhi us sab cheez ka samana karna padega jo aap sab log kar rahe hain wahan par aur lalu ji ko ek baar zaroor pata honi chahiye jail ek tarah se punishment dene ki jagah hoti hai wahan par har insaan saza katne ke liye jata hai toh agar wahan par bhi usko har tarah ki suvidha prapt hogi toh vaah jail jail nahi rahegi toh lalu ji ko toh thand lag rahi hai uske liye jail mein bhi kambal vagaira diye jaate hain toh usi se apna gujaara karen na ki apne liye alag se pradan karne ki maang karen

अगर मैं न्यायाधीश होती और लालू जी को जेल में ठंडा होने की आशंका ऊपर क्या कहते हैं तो मैं उ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  179
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!