UP में फिल्म शुरू होने से पहले कुंभ 2019 का लोगो दिखाया जाएगा, आपकी राय?...


play
user

Sachin Bharadwaj

Faculty - Mathematics

0:59

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

विकी मुझे लगता है कि उत्तर प्रदेश सरकार को इस तरह के काम करने की इतनी कोई ज्यादा आवश्यकता नहीं है किस तरह का वादा उन्होंने इलेक्शन से पहले किया था बेरोजगारी को खत्म करने का युवाओं को रोजगार देने का डेवलपमेंट की बात की थी इंफ्रास्ट्रक्चर की बात की थी एंप्लॉयमेंट के तरीकों को जाने दिया जाएगा देश प्रदेश के अंदर तो मुझे लगता है उन चीजों पर ज्यादा काम करना चाहिए राधा दिन के 2019 का लोगो दिखाया जाएगा जो भी मूवी यूपी में रिलीज होती है तो मुझे लगता नहीं है इस चीज की कोई ज्यादा आवश्यकता है यह तो वह गया को जबरदस्ती ठोका जा रहा हूं जिस तरह हमारे देश के अंदर सुप्रीम कोर्ट ने देशभक्ति को ठोक दिया था कहां जब भी कोई मूवी स्टार्ट होगी तो जन गण मन का डूंगा देशभक्ति कैसी चीज होती जो दिल से निकलती है किसी के तो अपने से किसी के इज्जत करने से वह देश भक्ति नहीं आती तो मुझे लगता है इस तरह की चीजों की कोई आवश्यकता ही नहीं देश के अंदर प्रदेश के अंदर सरकार ने जो वादे किए हैं उनको उस पर अमल करें वह ज्यादा बैटर है

vicky mujhe lagta hai ki uttar pradesh sarkar ko is tarah ke kaam karne ki itni koi zyada avashyakta nahi hai kis tarah ka vada unhone election se pehle kiya tha berojgari ko khatam karne ka yuvaon ko rojgar dene ka development ki baat ki thi infrastructure ki baat ki thi employment ke trikon ko jaane diya jaega desh pradesh ke andar toh mujhe lagta hai un chijon par zyada kaam karna chahiye radha din ke 2019 ka logo dikhaya jaega jo bhi movie up mein release hoti hai toh mujhe lagta nahi hai is cheez ki koi zyada avashyakta hai yah toh vaah gaya ko jabardasti thokaa ja raha hoon jis tarah hamare desh ke andar supreme court ne deshbhakti ko thok diya tha kahaan jab bhi koi movie start hogi toh jan gan man ka dunga deshbhakti kaisi cheez hoti jo dil se nikalti hai kisi ke toh apne se kisi ke izzat karne se vaah desh bhakti nahi aati toh mujhe lagta hai is tarah ki chijon ki koi avashyakta hi nahi desh ke andar pradesh ke andar sarkar ne jo waade kiye hain unko us par amal kare vaah zyada better hai

विकी मुझे लगता है कि उत्तर प्रदेश सरकार को इस तरह के काम करने की इतनी कोई ज्यादा आवश्यकता

Romanized Version
Likes  6  Dislikes    views  135
WhatsApp_icon
3 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए यूपी सरकार इस बार कुंभ मेले में जो जनवरी 2019 में इलाहाबाद में होगा उस पर करीबन 500 करोड रुपए खर्च कर रही है और यूनेस्को की तरफ से भी एक कुंभ मेला जो है वह एक हेरिटेज एक मतलब ग्लोबल लेवल पर सेलिब्रेट किया जाने वाला एक फेस्टिवल बन चुका है यूपी सरकार डिसाइड किया है कि मूवी हॉल्स में थिएटर में राष्ट्रगान के बाद यह लोग को दिखाया जाएगा जिसमें कुछ साधु डुबकी लगा रहे हैं मंदिर है पीछे और स्वास्तिक का एक्शन भी है उनका उद्देश्य है कि वह युवाओं को अलग कर सके कि कितना बड़ा यह मेला है और कल चली उसके कितनी इंपोर्टेंस है लेकिन मेरी राय जानना चाहेंगे तुम्हें यह कहूंगी कि यूपी सरकार कुछ ज्यादा ही हो रही है चीजों को लोगों के ऊपर अभी उन्होंने जो बिल्डिंग से उनको भगवा रंग कर दिया अब वह ऐसे लोगों दिखाएंगे या जो भी वहां पर सब चल रहा है मधुर अशोक में भी कंपलसरी छुट्टियां चोर को करवा रहे हैं यह जो भी चीजें वहां हो रही है मुझे लग रहा है कि इस दा धातु पर id कि मैं जरुर जाऊंगी की बहुत सारे लोग उसको मेरे में जाए क्योंकि हमारे देश को रिप्रेजेंट करता है लेकिन ऐसे हर जगह पर वह चीज बार बार कर कर लोगोस दिखाकर बल्कि यह तक आ गए कि जो होल्डिंग्स लगेंगे या जो भी को भी पॉलिटिकल सूची से लगेंगे उन सब पर भी लागू होना चाहिए तो वह लोगों को सपोर्ट कर रहे हैं कि वह आए और देखें कि तेरे से अच्छा भी है कि जो यूथ है वह जगह के बारे में जाने का और अपने देश के बारे में प्राउड फील करेगा पढ़ने से हर जगह दिखाओ कर लोगों को फोन कर कर कि वह उसे देख कर मुझे लगता है कि यह गलत है और इतना ज्यादा नहीं होना चाहिए

dekhiye up sarkar is baar kumbh mele mein jo january 2019 mein allahabad mein hoga us par kariban 500 crore rupaye kharch kar rahi hai aur UNESCO ki taraf se bhi ek kumbh mela jo hai vaah ek heritage ek matlab global level par celebrate kiya jaane vala ek festival ban chuka hai up sarkar decide kiya hai ki movie halls mein theater mein rashtragan ke baad yah log ko dikhaya jaega jisme kuch sadhu dubki laga rahe hain mandir hai peeche aur swastik ka action bhi hai unka uddeshya hai ki vaah yuvaon ko alag kar sake ki kitna bada yah mela hai aur kal chali uske kitni importance hai lekin meri rai janana chahenge tumhe yah kahungi ki up sarkar kuch zyada hi ho rahi hai chijon ko logo ke upar abhi unhone jo building se unko bhagva rang kar diya ab vaah aise logo dikhayenge ya jo bhi wahan par sab chal raha hai madhur ashok mein bhi compulsory chhutiyan chor ko karva rahe hain yah jo bhi cheezen wahan ho rahi hai mujhe lag raha hai ki is the dhatu par id ki main zaroor jaungi ki bahut saare log usko mere mein jaaye kyonki hamare desh ko represent karta hai lekin aise har jagah par vaah cheez baar baar kar kar logos dikhakar balki yah tak aa gaye ki jo holdings lagenge ya jo bhi ko bhi political suchi se lagenge un sab par bhi laagu hona chahiye toh vaah logo ko support kar rahe hain ki vaah aaye aur dekhen ki tere se accha bhi hai ki jo youth hai vaah jagah ke bare mein jaane ka aur apne desh ke bare mein proud feel karega padhne se har jagah dikhaao kar logo ko phone kar kar ki vaah use dekh kar mujhe lagta hai ki yah galat hai aur itna zyada nahi hona chahiye

देखिए यूपी सरकार इस बार कुंभ मेले में जो जनवरी 2019 में इलाहाबाद में होगा उस पर करीबन 500

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  161
WhatsApp_icon
user

Bhaskar Saurabh

Politics Follower | Engineer

1:06
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यूपी सरकार ने जो यह फैसला लिया है मुझे लगता है इसके पीछे की वजह यह है कि जो भी युवा लोग हैं उन्हें अपने कल्चर और कुंभ से जुड़ी परंपराओं के बारे में ज्यादा जागरूक बनाया जाए तो मुझे लगता है कि इसमें कोई बुराई नहीं है अगर 1 लोगों दिखा दिया जाएगा तो औरैया लोगों राष्ट्रगान के बाद दिखाया जाएगा और इस लोगों में ऐसा दिखाया गया है कि साधू और नदी में डुबकी लगा रहे हैं और उसके बैकग्राउंड में कुछ मंदिर दिखाए गए हैं और स्वास्तिक का निशान दिखाया गया है तो वह यह यूपी सरकार की एक नीति है कि किस तरह से टूरिज्म को बढ़ावा दिया जाए और जैसा कि हम जानते हैं कि पिछले वर्ष का मतलब पिछले 2013 में जब कुंभ मेला हुआ था यूपी में तो वहां लगभग 10 करोड़ लोग आए थे और सरकार का मानना है कि इस बार लगभग 12 करोड लोग यहां पर आ सकते हैं जब जनवरी 2019 में इलाहाबाद में कुंभ लगेगा तो इसे प्रमोट करने एक तरीका है और एक एडवर्टाइजमेंट है तो इसमें मेरे हिसाब से तो नहीं कोई बुराई लगती है

up sarkar ne jo yah faisla liya hai mujhe lagta hai iske peeche ki wajah yah hai ki jo bhi yuva log hain unhe apne culture aur kumbh se judi paramparaon ke bare mein zyada jagruk banaya jaaye toh mujhe lagta hai ki isme koi burayi nahi hai agar 1 logo dikha diya jaega toh auraiya logo rashtragan ke baad dikhaya jaega aur is logo mein aisa dikhaya gaya hai ki sadhu aur nadi mein dubki laga rahe hain aur uske background mein kuch mandir dekhiye gaye hain aur swastik ka nishaan dikhaya gaya hai toh vaah yah up sarkar ki ek niti hai ki kis tarah se tourism ko badhawa diya jaaye aur jaisa ki hum jante hain ki pichle varsh ka matlab pichle 2013 mein jab kumbh mela hua tha up mein toh wahan lagbhag 10 crore log aaye the aur sarkar ka manana hai ki is baar lagbhag 12 crore log yahan par aa sakte hain jab january 2019 mein allahabad mein kumbh lagega toh ise promote karne ek tarika hai aur ek advertisement hai toh isme mere hisab se toh nahi koi burayi lagti hai

यूपी सरकार ने जो यह फैसला लिया है मुझे लगता है इसके पीछे की वजह यह है कि जो भी युवा लोग है

Romanized Version
Likes  13  Dislikes    views  200
WhatsApp_icon
qIcon
ask

Related Searches:
movie dikhao ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!