नोबल गैसों को अलग रूप में क्यों रखा जाता है?...


user

Prince Kumar Singh

Career Counsellor, Teacher

2:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नोबल गैस ओ को रखने का कारण है इनका विशिष्ट होना यानी इनका अलग होना जैसे वन हंड्रेड एटी एलिमेंट है हमारे प्रोडक्ट टेबल में जो अभी तक फाउंड किए गए हैं वन हंड्रेड एटी एटी एट नेचुरल है और बाकी सारे संत है ठीक है यानी मैंने मिलता है एक दूसरे को मिलाकर बनाया गया है जिसमें से कुछ थे नोबल गैसेस हैं यानी अक्रिय गैस जिसको अकड़ी है इसलिए बोला जाता है क्योंकि इनका चिड़िया रिएक्शन नहीं होता है और जिनकी विशिष्ट पहचान नहीं होती है इनकी जो मोस्ट आउटर शेल जो होती है यानी बाहरी जो अष्टक होते हैं वह फुल फेल होते हैं जिसके कारण किसी भी एलिमेंट्स के साथ या किसी भी तत्व के साथ या आसानी से रिएक्शन नहीं करता है जैसे ही नियम के हीलियम का आउटर्मोस्ट शेल में दो इलेक्ट्रॉन होते हैं और वह आउटर शेल फुल फील होता है या अदर भी जो जिसने उन्हें आर्गन है क्रिप्टन है जे नाम है या रेडाना है इनके सारे क्रश तक पूरे होते हैं और रिएक्शन नहीं करते हैं जिसके कारण इनको एक अलग समूह यानी एक टीम तो ब्लॉक में प्रयोग केवल के 18वें ब्लॉक में इनको रखा गया है बल्ब में हमारे घर में जो बल्ब का उप जो किया जाता है उसके अंदर इन्हीं सब देशों का उपयोग किया जाता है ताकि फिलामेंट सुरक्षित रहे और दूसरे की किसी एक से रिएक्शन ना करके को टूटे नहीं इसके लिए नोबेल गैसों का उपयोग बल्ब के अंदर किया जाता है

noble gas O ko rakhne ka karan hai inka vishisht hona yani inka alag hona jaise van hundred eighty element hai hamare product table me jo abhi tak found kiye gaye hain van hundred eighty eighty ate natural hai aur baki saare sant hai theek hai yani maine milta hai ek dusre ko milakar banaya gaya hai jisme se kuch the noble gases hain yani akriya gas jisko akadi hai isliye bola jata hai kyonki inka chidiya reaction nahi hota hai aur jinki vishisht pehchaan nahi hoti hai inki jo most outer shell jo hoti hai yani bahri jo ashtak hote hain vaah full fail hote hain jiske karan kisi bhi elements ke saath ya kisi bhi tatva ke saath ya aasani se reaction nahi karta hai jaise hi niyam ke helium ka autarmost shell me do electron hote hain aur vaah outer shell full feel hota hai ya other bhi jo jisne unhe organ hai kriptan hai je naam hai ya redana hai inke saare crush tak poore hote hain aur reaction nahi karte hain jiske karan inko ek alag samuh yani ek team toh block me prayog keval ke ve block me inko rakha gaya hai bulb me hamare ghar me jo bulb ka up jo kiya jata hai uske andar inhin sab deshon ka upyog kiya jata hai taki filament surakshit rahe aur dusre ki kisi ek se reaction na karke ko tute nahi iske liye nobel gases ka upyog bulb ke andar kiya jata hai

नोबल गैस ओ को रखने का कारण है इनका विशिष्ट होना यानी इनका अलग होना जैसे वन हंड्रेड एटी एलि

Romanized Version
Likes  9  Dislikes    views  159
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!