उज्जैन महाकाल मंदिर के बारे में कुछ बताएंगे?...


user

Hemant Priyadarshi

Writer | Philospher| Teacher |

6:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर में स्थित है या महाकालेश्वर भगवान का मंदिर है महाकालेश्वर अर्थात शिव उनका यह मंदिर शिव के महाकालेश्वर रूप का यह मंदिर महाकालेश्वर मंदिर दक्षिण मुखी है या दुनिया का एकमात्र ऐसा हिंदू मंदिर है जो दक्षिण मुख की दिशा में है और इस मंदिर का विवरण उड़ानों में भी है कालिदास की रचनाओं में भी इस मंदिर का वर्णन है मेघदूतम में और बड़ा ही मनोहारी वर्णन है या ऐसा मंदिर है जिसकी मान्यता है कि इसके दर्शन मात्र से मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है यह मोक्षदायिनी मंदिर है 1235 ईस्वी में इस मंदिर का विध्वंस एरिया वनों के शासक इल्तुतमिश ने किया था पूरी तरह से इसे ध्वस्त कर दिया गया था 1235 ईस्वी में इतिहास से पता चलता है कि इस नगर में एक ग्यारह सौ 7 ईसवी से लेकर 1728 ईस्वी तक 600 से अधिक साल तक युवाओं ने शासन किया था और यवनों कि यह नगरी काल आती थी उनके शासनकाल में 45 सौ से अधिक इस तरह के मंदिर और धर्म हिंदू धर्म के और भी जो भी उपाध्याय पाते थे मंदिरिया इस तरह के जो भी मत आदि थे उन सबको गुजारा गया था 1728 ईस्वी में जब मराठों ने आक्रमण किया मालवा पर मालवा यही प्रदेश काला तथा मराठों ने आक्रमण किया और मराठों ने आक्रमण करके इस जगह को जीता और युवाओं को यहां से भगाया मराठा राज्य स्थापित होने के बाद 1728 अभी से लेकर 18 से 9 ईसवी के बीच मराठों ने जो काम किया उसमें दो प्रमुख काम थे पहला इस महाकालेश्वर मंदिर का पुनरुद्धार उन्होंने इस महाकालेश्वर मंदिर को पूरा बनाया बनवाया मराठा शासकों में किसी एक शासक ने नहीं बनाया है इसलिए उसका नाम नहीं कहा जा सकता लेकिन 1728 ईसवी केले के 18 से 9 ईसवी के बीच इसका मतलब है कि 80 वर्षों के बीच मराठा के 23 राजाओं ने मिलकर इस मंदिर को पुनः बनाया और मराठों ने जब तक यहां राज किया तब तक यह मंदिर अपने चरमोत्कर्ष पर था पुणे मराठा राजाओं के पश्चात राजा भोज जब राज्य करते थे तो राजा भोज ने इस मंदिर के निर्माण में अहम भूमिका निभाई और इस मंदिर को और भी भव्य बनवाया पराठा ने अपने राज्य में जो दूसरा महत्वपूर्ण काम किया था वह था सिंह हस्त पर्व की शुरुआत करवाना सिंहस्थ पर्व स्नान होता है उज्जैन महाकाल मंदिर में जाने से पूर्व वर्ष में एक बार आयोजित किया जाता है वह सिंहस्थ पर्व की शुरुआत और मराठों ने ही की थी राजा भोज ने बाद में चलकर इस मंदिर को और भी भव्य बनाया परकोटे के भीतर स्थित मंदिर के गर्भगृह तक जाने के लिए एक घुमावदार सीढ़ी नुमा रास्ता है उसके ठीक ऊपर एक कक्ष है जिसमें ओंकारेश्वर शिवलिंग की प्रतिमा स्थापित है महाशिवरात्रि के अवसर पर एवं सावन मास के चारों सोमवार को यहां सबसे अधिक भीड़ लगती है मंदिर से सटा हुआ एक जल स्रोत है जिसे कोटि तीर्थ कहा जाता है इतिहास बताता है किंतु स्थित इनपुट मिस ने जब इस मंदिर पर आक्रमण करके इसे पूरा था तो मूल जो शिवलिंग था उसे दूर कर इसी कोठी तीर्थ में छपवा दिया था बाद में मराठा ने जब इस मंदिर का पुल उद्धार किया तो पुनः स्कूटी तीर्थ की शुद्धता की और पुणे उस शिवलिंग को पुनर्स्थापित किया फुल उद्धार किया 1980 ईस्वी के सिंहस्थ पर्व के पूर्व बिरला फाउंडेशन की तरफ से एक विशाल सभा मंडप का निर्माण कराया गया इससे पूर्व 1968 के सिंहस्थ के पूर्व ऐसे ही निकासी के लिए एक दूसरे द्वारका द्वारका निर्माण कराया गया था अभी हाल ही में इसके 118 शिखरों पर 16 किलो सोने की परत चढ़ाई मंदिर की भव्यता और आज की आधुनिकता ऐसी है कि अब इंटरनेट के द्वारा भी नेट के माध्यम से भी इसके दर्शन और दान की व्यवस्था चलती है वास्तव में उज्जैन के महाकालेश्वर मंदिर का महत्व अनुपम है जो एकमात्र मंदिर है दक्षिण मुखी और जो एकमात्र मंदिर है सीधे मोक्षदायिनी जिसके दर्शन मात्र से मनुष्य को मोक्ष की प्राप्ति का फल मिल जाता है ऐसा महत्व है महाकालेश्वर मंदिर उज्जैन का

hamare desh ke 12 jyotirlingon me se ek mahakaleshwar mandir madhya pradesh ke ujjain shehar me sthit hai ya mahakaleshwar bhagwan ka mandir hai mahakaleshwar arthat shiv unka yah mandir shiv ke mahakaleshwar roop ka yah mandir mahakaleshwar mandir dakshin mukhi hai ya duniya ka ekmatra aisa hindu mandir hai jo dakshin mukh ki disha me hai aur is mandir ka vivran udaanon me bhi hai kalidas ki rachnaon me bhi is mandir ka varnan hai meghdutam me aur bada hi manohari varnan hai ya aisa mandir hai jiski manyata hai ki iske darshan matra se moksha ki prapti ho jaati hai yah mokshadayini mandir hai 1235 isvi me is mandir ka vidhawanse area vano ke shasak iltutmish ne kiya tha puri tarah se ise dhwast kar diya gaya tha 1235 isvi me itihas se pata chalta hai ki is nagar me ek gyarah sau 7 isvi se lekar 1728 isvi tak 600 se adhik saal tak yuvaon ne shasan kiya tha aur yavnon ki yah nagari kaal aati thi unke shasankal me 45 sau se adhik is tarah ke mandir aur dharm hindu dharm ke aur bhi jo bhi upadhyay paate the mandiriya is tarah ke jo bhi mat aadi the un sabko gujara gaya tha 1728 isvi me jab marathon ne aakraman kiya malawa par malawa yahi pradesh kaala tatha marathon ne aakraman kiya aur marathon ne aakraman karke is jagah ko jita aur yuvaon ko yahan se bhagaya maratha rajya sthapit hone ke baad 1728 abhi se lekar 18 se 9 isvi ke beech marathon ne jo kaam kiya usme do pramukh kaam the pehla is mahakaleshwar mandir ka punruddhar unhone is mahakaleshwar mandir ko pura banaya banwaya maratha shaasakon me kisi ek shasak ne nahi banaya hai isliye uska naam nahi kaha ja sakta lekin 1728 isvi kele ke 18 se 9 isvi ke beech iska matlab hai ki 80 varshon ke beech maratha ke 23 rajaon ne milkar is mandir ko punh banaya aur marathon ne jab tak yahan raj kiya tab tak yah mandir apne charamotkarsh par tha pune maratha rajaon ke pashchat raja bhoj jab rajya karte the toh raja bhoj ne is mandir ke nirmaan me aham bhumika nibhaai aur is mandir ko aur bhi bhavya banwaya paratha ne apne rajya me jo doosra mahatvapurna kaam kiya tha vaah tha Singh hast parv ki shuruat karwana sinhasth parv snan hota hai ujjain mahakal mandir me jaane se purv varsh me ek baar ayojit kiya jata hai vaah sinhasth parv ki shuruat aur marathon ne hi ki thi raja bhoj ne baad me chalkar is mandir ko aur bhi bhavya banaya parkote ke bheetar sthit mandir ke garbhagrih tak jaane ke liye ek ghumavadar sidhi numa rasta hai uske theek upar ek kaksh hai jisme onkareshwar shivling ki pratima sthapit hai mahashivaratri ke avsar par evam sawan mass ke charo somwar ko yahan sabse adhik bheed lagti hai mandir se sata hua ek jal srot hai jise koti tirth kaha jata hai itihas batata hai kintu sthit input miss ne jab is mandir par aakraman karke ise pura tha toh mul jo shivling tha use dur kar isi kothi tirth me chapava diya tha baad me maratha ne jab is mandir ka pool uddhar kiya toh punh scooty tirth ki shuddhta ki aur pune us shivling ko punarsthapit kiya full uddhar kiya 1980 isvi ke sinhasth parv ke purv birala foundation ki taraf se ek vishal sabha mandap ka nirmaan karaya gaya isse purv 1968 ke sinhasth ke purv aise hi nikasi ke liye ek dusre dwarka dwarka nirmaan karaya gaya tha abhi haal hi me iske 118 shikharon par 16 kilo sone ki parat chadhai mandir ki bhavyata aur aaj ki adhunikata aisi hai ki ab internet ke dwara bhi net ke madhyam se bhi iske darshan aur daan ki vyavastha chalti hai vaastav me ujjain ke mahakaleshwar mandir ka mahatva anupam hai jo ekmatra mandir hai dakshin mukhi aur jo ekmatra mandir hai sidhe mokshadayini jiske darshan matra se manushya ko moksha ki prapti ka fal mil jata hai aisa mahatva hai mahakaleshwar mandir ujjain ka

हमारे देश के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक महाकालेश्वर मंदिर मध्य प्रदेश के उज्जैन शहर में स

Romanized Version
Likes  55  Dislikes    views  1082
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!