नाबालिक लड़का, नाबालिक लड़की के साथ सेक्स करता है, तो उसको क्या सज़ा होती है?...


user

Hemant Priyadarshi

Writer | Philospher| Teacher |

5:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

चाहे नाबालिग हो या बालिक हो सेक्स करने से कोई सजा नहीं मिलती है सेक्स करने से सजा कैसे मिल सकती है मामला जब तक अदालत में नहीं जाता तब तक सजा का कोई प्रावधान ही नहीं है मामला जब तक फायर तक नहीं पहुंचता पुलिस तक तब तक कोई सजा का प्रावधान ही नहीं है पुलिस तक जब बात पहुंचती है फिर एफ आई आर दर्ज होता है और पुलिस फिर उसे किस में जब दर्द करती है तो मामला अदालत पहुंचता है फिर सुनवाई की होती है और फिर उस सबूतों के बिना पर बयानात पर फिर डिसीजन हो पाता है तो यूं ही तो किसी को सजा नहीं हो जाता चाहे वह कुछ भी कर बैठे ऐसे ही सजा नहीं मिल जाती सजा मिलने के लिए f.i.r. सोना चाहिए और एफ आई आर के बाद मामला अदालत में जाना चाहिए सजा तो अदालत देती है ऐसे ही सजा तो मिल नहीं जाती अदालत घूम घूम कर किसी को सजा तो देती नहीं पहली बार दूसरी बात है कि आपने पूछा है कि लड़का और लड़की अगर नाबालिक हो या कोई एक भी नाबालिक हो दोनों नाबालिक हो या कोई एक नाबालिक हो तो विभिन्न तरह के विभिन्न कानून के तहत विभिन्न सजा का प्रावधान है मैं उसे विस्तार से आपको बताता हूं 2012 में हुए निर्भया गैंग रेप कांड के बाद पहले से जो पॉक्सो एक्ट तथा पॉक्सो कानून जिसके तहत यह था कि 18 साल से कम उम्र के जो भी बच्चे हैं उन्हें नाबालिग माना जाता था उनके साथ ऐसा करने पर 7 साल की सजा का प्रावधान था उस कानून में संशोधन किया गया 2013 में और केंद्र सरकार ने नया जो अध्यादेश जारी किया उसके अनुसार 12 साल निर्धारित किया गया लड़की की उम्र अगर 12 साल या उससे कम है तो उसके साथ किसी भी तरह का छेड़छाड़ उसके किसी प्राइवेट पार्ट से छेड़छाड़ या उसके द्वारा अपने शरीर के किसी प्राइवेट पार्ट को छुआ ना या अपना प्राइवेट पार्ट उसके शरीर में टच कराना या पोर्नोग्राफी कराना या सेक्सुअल एसॉल्ट करना इस तरह का जो अलग-अलग बिंदु है उस सब में अलग-अलग तरह के सजा का प्रावधान है पोक्सो एक्ट की धारा 4 के अंतर्गत जब किसी लड़की के किसी प्राइवेट पार्ट में पुरुष अपना प्राइवेट पार्ट डाल देता है तो इसके तहत कानून यह सजा देता है कि कम से कम 7 साल और अधिकतम उसे आजीवन उम्र कैद की सजा मिलती है अगर यही चीज उस लड़के ने दोबारा किया अपने जीवन में सजा भुगतने के बाद अगर दोबारा किया या पहले से ही 2 बार यह काम और कर चुका है तो फांसी की सजा का प्रावधान दूसरा है कि अगर बच्ची के साथ तो प्राइवेट पार्ट्स अपने प्राइवेट पार्ट को छू आने पर पॉक्सो एक्ट की धारा 8 के अंतर्गत 5 से 7 साल तक की सजा का प्रावधान है उसी तरह पोर्नोग्राफी संबंधी अगर किसी नाबालिक बच्चे के साथ पॉर्नोग्राफिक के लिए जबरदस्ती किया जाता है उसके साथ पोर्नोग्राफी की जाती है तो उसके लिए 10 साल तक की सजा का प्रावधान है इस पूरे मामले में दो चीज महत्वपूर्ण है पहला की पोक्सो एक्ट में बदलाव के बाद यह नियम लागू कर दिया गया कि 12 साल से कम उम्र 12 साल या 12 साल से कम उम्र की बच्ची के साथ कुछ भी सेक्सुअल एसॉल्ट करना या पॉर्नोग्राफी संबंधी कुछ भी करना कानूनन जुर्म जुर्म तय किया गया है और उसमें 5 से 7 साल की मिनिमम सजा है आगे 10 साल और उम्र कैद तक की सजा है दूसरी बात है कि दोबारा अगर वही अपराध दोबारा किया गया तो फांसी की सजा है और एक और महत्वपूर्ण बात है कि ऐसा कोई भी कृत्य इस तरह से सेक्स लड़की के साथ करना की लड़की मरणासन्न अवस्था में पहुंच जाए जिस तरह निर्भया कांड में हुआ था वही सी अवस्था में सीधे फांसी का प्रावधान है पॉक्सो एक्ट के तहत यही इस कानून की विभिन्न विभिन्न विभिन्न बिंदुओं और सजा का प्रावधान है

chahen nabalik ho ya baalik ho sex karne se koi saza nahi milti hai sex karne se saza kaise mil sakti hai maamla jab tak adalat me nahi jata tab tak saza ka koi pravadhan hi nahi hai maamla jab tak fire tak nahi pahuchta police tak tab tak koi saza ka pravadhan hi nahi hai police tak jab baat pohchti hai phir f I R darj hota hai aur police phir use kis me jab dard karti hai toh maamla adalat pahuchta hai phir sunvai ki hoti hai aur phir us sabuton ke bina par bayanat par phir decision ho pata hai toh yun hi toh kisi ko saza nahi ho jata chahen vaah kuch bhi kar baithe aise hi saza nahi mil jaati saza milne ke liye f i r sona chahiye aur f I R ke baad maamla adalat me jana chahiye saza toh adalat deti hai aise hi saza toh mil nahi jaati adalat ghum ghum kar kisi ko saza toh deti nahi pehli baar dusri baat hai ki aapne poocha hai ki ladka aur ladki agar nabalik ho ya koi ek bhi nabalik ho dono nabalik ho ya koi ek nabalik ho toh vibhinn tarah ke vibhinn kanoon ke tahat vibhinn saza ka pravadhan hai main use vistaar se aapko batata hoon 2012 me hue Nirbhaya gang rape kaand ke baad pehle se jo pakso act tatha pakso kanoon jiske tahat yah tha ki 18 saal se kam umar ke jo bhi bacche hain unhe nabalik mana jata tha unke saath aisa karne par 7 saal ki saza ka pravadhan tha us kanoon me sanshodhan kiya gaya 2013 me aur kendra sarkar ne naya jo adhyadesh jaari kiya uske anusaar 12 saal nirdharit kiya gaya ladki ki umar agar 12 saal ya usse kam hai toh uske saath kisi bhi tarah ka chedchad uske kisi private part se chedchad ya uske dwara apne sharir ke kisi private part ko chhua na ya apna private part uske sharir me touch krana ya pornography krana ya sexual esalt karna is tarah ka jo alag alag bindu hai us sab me alag alag tarah ke saza ka pravadhan hai pocso act ki dhara 4 ke antargat jab kisi ladki ke kisi private part me purush apna private part daal deta hai toh iske tahat kanoon yah saza deta hai ki kam se kam 7 saal aur adhiktam use aajivan umar kaid ki saza milti hai agar yahi cheez us ladke ne dobara kiya apne jeevan me saza bhugatane ke baad agar dobara kiya ya pehle se hi 2 baar yah kaam aur kar chuka hai toh fansi ki saza ka pravadhan doosra hai ki agar bachi ke saath toh private parts apne private part ko chu aane par pakso act ki dhara 8 ke antargat 5 se 7 saal tak ki saza ka pravadhan hai usi tarah pornography sambandhi agar kisi nabalik bacche ke saath pornographic ke liye jabardasti kiya jata hai uske saath pornography ki jaati hai toh uske liye 10 saal tak ki saza ka pravadhan hai is poore mamle me do cheez mahatvapurna hai pehla ki pocso act me badlav ke baad yah niyam laagu kar diya gaya ki 12 saal se kam umar 12 saal ya 12 saal se kam umar ki bachi ke saath kuch bhi sexual esalt karna ya parnografi sambandhi kuch bhi karna kanunan jurm jurm tay kiya gaya hai aur usme 5 se 7 saal ki minimum saza hai aage 10 saal aur umar kaid tak ki saza hai dusri baat hai ki dobara agar wahi apradh dobara kiya gaya toh fansi ki saza hai aur ek aur mahatvapurna baat hai ki aisa koi bhi kritya is tarah se sex ladki ke saath karna ki ladki maranasann avastha me pohch jaaye jis tarah Nirbhaya kaand me hua tha wahi si avastha me sidhe fansi ka pravadhan hai pakso act ke tahat yahi is kanoon ki vibhinn vibhinn vibhinn binduon aur saza ka pravadhan hai

चाहे नाबालिग हो या बालिक हो सेक्स करने से कोई सजा नहीं मिलती है सेक्स करने से सजा कैसे मिल

Romanized Version
Likes  61  Dislikes    views  1239
KooApp_icon
WhatsApp_icon
1 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!