भारत में जो फ़िल्में बनती है वो ऑस्कर के लिए नॉमिनेट तो होती है पर जीत नहीं पाती। ऐसा क्यों है?...


play
user

Ravi Sharma

Advocate

2:00

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिये यह प्रश्न बहुत ही आवश्यक है कि भारत में फिल्मों का स्तर उठ क्यों नहीं पा रहा है| परंतु मैं मानता हूं कि भारत में बनी बहुत सी फिल्में जो है ऑस्कर में नॉमिनेट होने वाली यानी ऑस्कर में जाने वाली तथा उसको जीतने वाली कई फिल्मों से बेहतर होती है| पश्चिमी देशों द्वारा विशेषकर ऑस्कर एकेडमी द्वारा जिस प्रकार से भारत की फिल्मों के साथ पिछले कुछ दशकों से भेदभाव होता रहा है| मुझे लगता है कि भारत की फिल्मों को आगे बढ़ने का तथा आगे आने का अंतर्राष्ट्रीय मंच पर इतना मौका नहीं मिल पाता जितना कि यूरोपियन देश की फिल्मों को या अमेरिकी फिल्मों को मिलता है| इसका एक कारण है कि अभी भी पक्षपात की भावना वह लोग रखते हैं| हालांकि मैं यह भी मानता हूं कि भारत में बनने वाली अधिकतर फिल्में औसत दर्जे की होती है| जिसमें एक चाहे छायांकन हो, चाहे निर्देशन हो बहुत ही औसत दर्जे का होता है| परंतु आज भी भारत में बहुत सी ऐसी फिल्में है जो अंतरराष्ट्रीय स्तर की होती हैं तथा कुछ फिल्में तो अंतरराष्ट्रीय स्तर से भी ऊपर के स्तर की होती हैं| जिनको शायद उतनी तवज्जो, शायद उतना महत्व नहीं मिल पाता जितना की इन फिल्मों को मिलता है जो कि ऑस्कर के लिए या तो नोमिनेट होती है या उसका अवार्ड जीतती है| इसके लिए जो संस्थाएं व अन्य एजेंसियों जो इसके लिए जिम्मेदार है, जिनका यह दायित्व बनता है कि भारत में फिल्मों के स्तर को सुधारे वह आंतरिक राजनीति में लगी रहती है| अच्छे और काबिल जो निर्माता, निर्देशक और अभिनेता है उनको इतना तवज्जो नहीं दिया है| और हम भारत के लोग मसाला फिल्मों को ज्यादा तवज्जो देते हैं क्योंकि हमारी नजर में फिल्म जो है मनोरंजन का एक साधन होती है ना की कला का अथवा संस्कृति को दर्शाने का एक माध्यम, इस सोच को बदलना जरूरी है| तथा बहुत से ऐसे निर्माता निर्देशक अभिनेता पिछले कुछ दशकों में उभर कर आए हैं जो कि भारत को अंतरराष्ट्रीय मंच पर पहचान दिला सकते हैं, तो यह कुल विचारधारा में बदलाव लाने की आवश्यकता है हमें धन्यवाद|

dekhiye yah prashna bahut hi aavashyak hai ki bharat mein filmo ka sthar uth kyon nahi paa raha hai parantu main manata hoon ki bharat mein bani bahut si filme jo hai oscar mein nominate hone wali yani oscar mein jaane wali tatha usko jitne wali kai filmo se behtar hoti hai pashchimi deshon dwara visheshkar oscar academy dwara jis prakar se bharat ki filmo ke saath pichle kuch dashakon se bhedbhav hota raha hai mujhe lagta hai ki bharat ki filmo ko aage badhne ka tatha aage aane ka antarrashtriya manch par itna mauka nahi mil pata jitna ki european desh ki filmo ko ya american filmo ko milta hai iska ek karan hai ki abhi bhi pakshapat ki bhavna vaah log rakhte hain halaki main yah bhi manata hoon ki bharat mein banne wali adhiktar filme ausat darje ki hoti hai jisme ek chahen chayankan ho chahen nirdeshan ho bahut hi ausat darje ka hota hai parantu aaj bhi bharat mein bahut si aisi filme hai jo antararashtriya sthar ki hoti hain tatha kuch filme toh antararashtriya sthar se bhi upar ke sthar ki hoti hain jinako shayad utani tavajjo shayad utana mahatva nahi mil pata jitna ki in filmo ko milta hai jo ki oscar ke liye ya toh nominate hoti hai ya uska award jeetati hai iske liye jo sansthayen va anya Agencyon jo iske liye zimmedar hai jinka yah dayitva baata hai ki bharat mein filmo ke sthar ko sudhare vaah aantarik raajneeti mein lagi rehti hai acche aur kaabil jo nirmaata nirdeshak aur abhineta hai unko itna tavajjo nahi diya hai aur hum bharat ke log masala filmo ko zyada tavajjo dete hain kyonki hamari nazar mein film jo hai manoranjan ka ek sadhan hoti hai na ki kala ka athva sanskriti ko darshane ka ek madhyam is soch ko badalna zaroori hai tatha bahut se aise nirmaata nirdeshak abhineta pichle kuch dashakon mein ubhar kar aaye hain jo ki bharat ko antararashtriya manch par pehchaan dila sakte hain toh yah kul vichardhara mein badlav lane ki avashyakta hai hamein dhanyavad

देखिये यह प्रश्न बहुत ही आवश्यक है कि भारत में फिल्मों का स्तर उठ क्यों नहीं पा रहा है| पर

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  287
KooApp_icon
WhatsApp_icon
5 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

Related Searches:
sholay film ka gana sunaiye ; जीत ;

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!