क्या ज़िंदगी में हमेशा खुश रह सकते हैं नहीं तो क्यों?...


user

Mohit

Legal Expert/ Career Guide/ Motivational Speaker/Enterpreneur Coach

3:04
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो फ्रेंड मेरा नाम मोहित है और मैं आपके सवाल का जवाब दे रहा हूं आप का सवाल है क्या जिंदगी में हमेशा खुश रह सकते हैं अगर नहीं तो क्यों दोस्तों यह बात बहुत अच्छे से हम सभी को जान लेनी चाहिए कि जिंदगी में उतार-चढ़ाव तो सबके लगे रहते अगर हम सोचे हमेशा मुंह जिंदगी रहे या हमेशा परेशान वाली जिंदगी किसी की रहे ऐसा नहीं हो सकता है अच्छा टाइम भी हमेशा नहीं रहता और खराब टाइम भी हमेशा नहीं रहता लेकिन एक बात और जानी बहुत जरूरी है खुश रहना या दुखी रहना यह मानसिक स्थिति होती है समझने यानी कि आप यह बात तय करते हैं कि आप खुश रहेंगे या नहीं रहेंगे कभी भी परिस्थितियां यह डिसाइड नहीं करती हैं दोस्त देखिए जैसे एक परिवार है वह कमाता ₹10000 बहुत ज्यादा गरीबी में पला पड़ा और जब उसकी ₹10000 महीना किस की नौकरी लग गई तो देखिए वह खुश होगा क्योंकि क्यों बहुत गरीब परिवार से निकलकर आए दूसरी तरफ एक ऐसे परिवार की बात करता हूं जिसकी महीने की इनकम 50000 है यह बहुत बढ़िया जॉब में है कोई आदमी महीने के 50,000 मिलते हैं उसे लेकिन किसी वजह से उसकी नौकरी चली जाती है और जिसको दूसरी नौकरी मिलती है वह ₹10000 महीने की मिलती है अब यह बताएं आप की इन दोनों में से कौन खुश रहेगा कौन दुखी रहेगा बिल्कुल सही है जो आदमी गरीबी से उठकर के ₹10000 की जॉब लगी है वह खुश है लेकिन जो दूसरा व्यक्ति जो 50 साल से गिरकर 10000 पर आए वह दुखी है बिल्कुल जाएगा कि दोनों की मानसिकता अलग अलग है मजे की बात है कि दोनों को 10 साल को नहीं ना ही मिल रहे हैं लेकिन दोनों का प्रसिद्ध लेवल अलग-अलग है यही मैं आपको बताना चारों खुश रहना दुखी रहना यह हमारा आपका खुद का चुनाव होता है मैं यह नहीं कहूंगा कि किसी की मां पर या में डेथ भी हो जाए तो हम बड़े खुश हो नहीं खुशी का मतलब है डिप्रेशन में आ जाए और लाइफ के चैलेंज इसको खुलकर एक्सेप्ट करें जो भी परिस्थितियां होती है उन्हें स्वीकार ना एक बहुत बड़ा काम होता है असली खुशी वही होती है असली खुशी दांत निकाल कर खुश हो ना खुशी नहीं होती है असली खुशी होती है जब आप लाइफ के बुरा वक्त होता है उसको भी आप एक्सेप्ट करके तसल्ली से रहते हैं अपना टेंपल नहीं खोते अपना दिमागी संतुलन नहीं होते वह है खुशी अगर आप धीरे-धीरे इस तरह का नेचर ऑफ डेवलप कर लेंगे एक अच्छी है वे डिवेलप कर लेंगे क्योंकि देखें समय तो लगता है ऐसी आवे डिवेलप करने में लेकिन यह पूरी लाइफ काम आती है अगर आप ऐसा कर लेंगे तो आप यकीन मानिए आप जिंदगी में हमेशा हमेशा खुश रह सकेंगे धन्यवाद

hello friend mera naam mohit hai aur main aapke sawaal ka jawab de raha hoon aap ka sawaal hai kya zindagi me hamesha khush reh sakte hain agar nahi toh kyon doston yah baat bahut acche se hum sabhi ko jaan leni chahiye ki zindagi me utar chadhav toh sabke lage rehte agar hum soche hamesha mooh zindagi rahe ya hamesha pareshan wali zindagi kisi ki rahe aisa nahi ho sakta hai accha time bhi hamesha nahi rehta aur kharab time bhi hamesha nahi rehta lekin ek baat aur jani bahut zaroori hai khush rehna ya dukhi rehna yah mansik sthiti hoti hai samjhne yani ki aap yah baat tay karte hain ki aap khush rahenge ya nahi rahenge kabhi bhi paristhiyaann yah decide nahi karti hain dost dekhiye jaise ek parivar hai vaah kamata Rs bahut zyada garibi me pala pada aur jab uski Rs mahina kis ki naukri lag gayi toh dekhiye vaah khush hoga kyonki kyon bahut garib parivar se nikalkar aaye dusri taraf ek aise parivar ki baat karta hoon jiski mahine ki income 50000 hai yah bahut badhiya job me hai koi aadmi mahine ke 50 000 milte hain use lekin kisi wajah se uski naukri chali jaati hai aur jisko dusri naukri milti hai vaah Rs mahine ki milti hai ab yah bataye aap ki in dono me se kaun khush rahega kaun dukhi rahega bilkul sahi hai jo aadmi garibi se uthakar ke Rs ki job lagi hai vaah khush hai lekin jo doosra vyakti jo 50 saal se girkar 10000 par aaye vaah dukhi hai bilkul jaega ki dono ki mansikta alag alag hai maje ki baat hai ki dono ko 10 saal ko nahi na hi mil rahe hain lekin dono ka prasiddh level alag alag hai yahi main aapko batana charo khush rehna dukhi rehna yah hamara aapka khud ka chunav hota hai main yah nahi kahunga ki kisi ki maa par ya me death bhi ho jaaye toh hum bade khush ho nahi khushi ka matlab hai depression me aa jaaye aur life ke challenge isko khulkar except kare jo bhi paristhiyaann hoti hai unhe sweekar na ek bahut bada kaam hota hai asli khushi wahi hoti hai asli khushi dant nikaal kar khush ho na khushi nahi hoti hai asli khushi hoti hai jab aap life ke bura waqt hota hai usko bhi aap except karke tasalli se rehte hain apna temple nahi khote apna dimagi santulan nahi hote vaah hai khushi agar aap dhire dhire is tarah ka nature of develop kar lenge ek achi hai ve develop kar lenge kyonki dekhen samay toh lagta hai aisi aawe develop karne me lekin yah puri life kaam aati hai agar aap aisa kar lenge toh aap yakin maniye aap zindagi me hamesha hamesha khush reh sakenge dhanyavad

हेलो फ्रेंड मेरा नाम मोहित है और मैं आपके सवाल का जवाब दे रहा हूं आप का सवाल है क्या जिंदग

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  654
KooApp_icon
WhatsApp_icon
4 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!