बोधगया में बम मिलने के बाद, वियतनाम के प्रधान मंत्री की बोधगया यात्रा को रद्द कर दिया गया, क्या भारत वास्तव में बाहरी लोगों के लिए एक सुरक्षित स्थान है?...


play
user

Abhishek Sharma

Forest Range Officer, MP

1:27

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

वियतनाम के प्रधानमंत्री बोधगया नहीं जाएंगे पर भारत तो जरुर आएंगे क्योंकि आसियान की सभी देशों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 26 जनवरी के दिन इनवाइट किया है मुझे लगता है कि वह बम मिलने की वजह से यात्रा रद्द करना बिल्कुल ठीक है क्योंकि यह सिक्योरिटी कल शाम की बातें आती हैं ऐसा कहीं से कहीं तक नहीं है कि भारी लोगों को लेकर उचित स्थान एक है क्योंकि अगर ऐसा होता तो फिर आतंकवादी घटनाएं जो जिसमें कमी होती जा रही है लगातार वह नहीं होती और और इसके अलावा बाहर के आसन के जैसे मैंने बोला कि पहली बार ऐसा हो रहा है 10 नेता आ रहे हैं वियतनाम लाओस कंबोडिया म्यानमार सिंगापुर थाईलैंड मलेशिया इतने सारे लोगों की देश की राष्ट्रीय अध्यक्षा रहे हैं तो इनकी सुरक्षा की जिम्मेदारी भी भारत सरकार के पास है तो ऐसा कहीं से नहीं है कि एक सुरक्षित स्थान नहीं है लेकिन हां यह जरूर है कि हमें सिक्योरिटी क्वेश्चन वाली चीजों पर थोड़ा ध्यान देना चाहिए जो चीज की रिपोर्ट मिलनी चाहिए कैसे रखा गया कहां रखा गया दोषियों पर कार्रवाई होनी चाहिए यह बात पक्की है कि बोधगया जो है वह नेपाल के पास लगता है और हमें पता है कि पाकिस्तान से नेपाल जाने कितना आसान अभी इस बारे में बिल्कुल क्लियर करना तो कुछ भी पॉसिबल नहीं है लेकिन जहां तक समझ में आता है यह जानबूझकर इंटरेस्ट नहीं रखा गया है ताकि की यात्रा ना हो सके तो इसमें कोई बड़ी बात नहीं है हमारी कंट्री से है और कोई बात नहीं कर सकता है

vietnam ke pradhanmantri bodhgaya nahi jaenge par bharat toh zaroor aayenge kyonki aasiyan ki sabhi deshon ko pradhanmantri narendra modi ne 26 january ke din invite kiya hai mujhe lagta hai ki vaah bomb milne ki wajah se yatra radd karna bilkul theek hai kyonki yah Security kal shaam ki batein aati hain aisa kahin se kahin tak nahi hai ki bhari logo ko lekar uchit sthan ek hai kyonki agar aisa hota toh phir aatankwadi ghatnaye jo jisme kami hoti ja rahi hai lagatar vaah nahi hoti aur aur iske alava bahar ke aasan ke jaise maine bola ki pehli baar aisa ho raha hai 10 neta aa rahe hain vietnam laos cambodia myanmar singapore thailand malaysia itne saare logo ki desh ki rashtriya adhyaksha rahe hain toh inki suraksha ki jimmedari bhi bharat sarkar ke paas hai toh aisa kahin se nahi hai ki ek surakshit sthan nahi hai lekin haan yah zaroor hai ki hamein Security question wali chijon par thoda dhyan dena chahiye jo cheez ki report milani chahiye kaise rakha gaya kahaan rakha gaya doshiyon par karyawahi honi chahiye yah baat pakki hai ki bodhgaya jo hai vaah nepal ke paas lagta hai aur hamein pata hai ki pakistan se nepal jaane kitna aasaan abhi is bare mein bilkul clear karna toh kuch bhi possible nahi hai lekin jaha tak samajh mein aata hai yah janbujhkar interest nahi rakha gaya hai taki ki yatra na ho sake toh isme koi badi baat nahi hai hamari country se hai aur koi baat nahi kar sakta hai

वियतनाम के प्रधानमंत्री बोधगया नहीं जाएंगे पर भारत तो जरुर आएंगे क्योंकि आसियान की सभी देश

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  187
WhatsApp_icon
2 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Sameer Tripathy

Political Critic

1:32
Play

Likes    Dislikes    views  7
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!