क्या मेरी शादी की ज़िंदगी पूरी होगी या नहीं होगी? मेरा जीवन साथी मुझसे दूर जाएगा या नहीं?...


user

Ajay Sinh Pawar

Founder & M.D. Of Radiant Group Of Industries

6:31
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या मेरी शादी की जिंदगी पूरी होगी या नहीं होगी मेरा जीवन साथी मुझसे दूर जाएगा यह तो निर्भर करता है आप दोनों के ऊपर पहले जो कपल होते हैं यानी कि लड़के और लड़की होते हैं पहले उनको यह चिंता होती है कि भाई मेरी शादी कब होगी अपने पैर पर खड़े भी हो जाते हैं कमाने भी लगते हैं फिर भी उन्होंने लड़की खोजने की बहुत जल्द हो जाए करनी पड़ती है पर लड़कियों को भी बहुत ही देखना ताकना पड़ता है सब कुछ इंक्वायरी भी करनी पड़ती है लड़की के माता-पिता को तब जाकर कोई एक ऐसा लड़का मिलता है कि जिस पर विश्वास किया जा सके उस परिवार पर उस लड़के का विवाह हो जाता है फिर बाद में चिंता होती है कि हम हमारा जो दांपत्य जीवन है ऐसा रहेगा अच्छा जाएगा या नहीं जाएगा हम अलग तो नहीं हो जाएंगे हमेशा ही भय बना रहता है लेकिन दोस्त की बात यह है कि हम सदैव अगर ध्यान रखें कि हम एक दूसरे के बीच में आपसी रिश्तो में अगर ट्रांसफरेंस ही रखें एक दूसरे के ऊपर विश्वास रखें एक दूसरे को बधाई हो प्रेम करते रहे एक दूसरे के ऊपर विश्वास हो एक दूसरे को भेज दें और छोटी-छोटी बातों को हम बड़ा स्वरूप ना दे तो जरूर दांपत्य युगल पूरी जिंदगी निपटा आपके माता-पिता कोई उदाहरण के रूप में आप ले लीजिए आपके माता-पिता भी अभी तक साथ में रहते हो तो जब वह रह सकते हैं तो हम क्यों नहीं करते जिंदगी में उतार-चढ़ाव आते हैं कभी पैसों की कमी होती है कभी बीमारी आती है कभी तकलीफ होता है कभी दुख आता है और कभी खुशी के मुखिया लेकिन सबको हमें बैलेंस करना पड़ता है आपकी एक तो में अहम का टकराव कभी नहीं होना चाहिए फ्री को अपने घर की पत्नी को सदैव इज्जत देनी चाहिए इज्जत देने का तात्पर्य यह है कि आपको यह नहीं करना है क्या आपको हार पहना कर पूजा करनी है लेकिन आपको उसका सम्मान रखना है और जिंदगी में कभी भूल कर के भी उसके ऊपर हाथ नहीं उठाना चाहे कितना भी आप गुस्से में आ गए लेकिन कभी भी अपनी पत्नी के ऊपर हाथ मत होइए क्योंकि फ्री जो टिकट की पत्नी जो होती है वह घर की लक्ष्मी होती है जिस घर में पत्नी के ऊपर हाथ उठाया जाता है उस घर में बरकत नहीं आती लक्ष्मी जी रूठ जाती है यह मान कर चलिए एक तरह से वह दुर्गालक्ष्मी भी है एक तरह से वह माता अन्नपूर्णा दिया और एक तरफ से वह आपके लिए गम भाभी सब गुण से सर्वगुण संपन्न हमारी पत्नी होती है इसलिए सदैव पत्नी के ना कर जीवन एकदम विगत तक हो जाता है जब पत्नी होती है तो वह मिलने के घर को घर बनाती है वरना वह मकान कहलाता है हमें पूरे दिन भर काम करते हैं लेकिन हमें घर जाने की जल्दी होती है उसे किसी लिए कि हमारी पत्नी हमारे बच्चे घर पर हमारा इंतजार कर रहे हो कई किस समय पत्नियां भी काम करती तो उनका भी हमें हाथ बताना चाहिए घर के सामने क्योंकि वह भी फकीरा दी होती उनके भी बहुत पर चलने वालों से मेहनत करनी पड़ती है जो घर एक मंदिर है और पति-पत्नी उस मंदिर के दो आधार स्तंभ और माता पिता है तो वह समझ लीजिए कि परिवार की जड़ वही परिवार खुशी बटोट सकता है अपने सभी सदस्यों के बीच में जहां पर एक दूसरे के प्रति बड़े का छोटे के प्रति सम्मान और आदर हो ऐसी कोई भाषा का इस्तेमाल ना करें कि जो आप खुद के लिए पसंद ना करते हैं इस तरह से दोनों एक दूसरे से मिलजुल कर रहते हैं एक दूसरे से दोस्त बनकर रहते हैं तो प्रश्न में दांपत्य जीवन पूरी जिंदगी इंसान का रहता है पति और पत्नी दोनों ही के ऊपर निर्भर करता है कि वह खुशी पूर्वक रहना चाहते हैं तो एक दूसरे का जरूर ध्यान रखें कि खुशियां बटोरे अपने परिवार में छोटी-छोटी खुशियां मनाएं परिवार के सदस्यों के लिए आप कम से कम एक बार को साथ में बैठकर खाना खाए और वही जो साथ में जो खाना खाते हैं उसे बहुत कुछ होता है इस तरह से आती है मन में कभी नेगेटिव की नाल हम पति-पत्नी पूरी हिंदी साथ में रहेंगे या नहीं रहेंगे क्यों नहीं साथ में एक दूसरे का साथ देंगे वफा के लिए एक दूसरे का साथ देने के लिए लिखे सुख में दुख में बीमारी ने सभी चीज में एक दूसरे का साथ निभाना ही हमारे जीवन का लक्ष्य होना चाहिए जब कभी पत्नी ज्यादा गुस्सा हो कोई भी को तो पति को शांत रहना चाहिए और जब पति अत्यधिक गुस्सा हो तब पत्नी को शांत रहना चाहिए फिर बाद में वह मसले पर डिस्कशन करते मामला शांति से सो जा सकता है जब दोनों एक साथ गुस्सा होते हैं तो बात बढ़ जाती है और फिर बाद में झगड़ा और बढ़ा दो रूप ले लेता है इसलिए इस बात का हमेशा ध्यान रखिए तो आपको कोई भी समस्या नहीं आए बहुत-बहुत शुभकामनाएं

kya meri shaadi ki zindagi puri hogi ya nahi hogi mera jeevan sathi mujhse dur jaega yah toh nirbhar karta hai aap dono ke upar pehle jo couple hote hain yani ki ladke aur ladki hote hain pehle unko yah chinta hoti hai ki bhai meri shaadi kab hogi apne pair par khade bhi ho jaate hain kamane bhi lagte hain phir bhi unhone ladki khojne ki bahut jald ho jaaye karni padti hai par ladkiyon ko bhi bahut hi dekhna takna padta hai sab kuch enquiry bhi karni padti hai ladki ke mata pita ko tab jaakar koi ek aisa ladka milta hai ki jis par vishwas kiya ja sake us parivar par us ladke ka vivah ho jata hai phir baad me chinta hoti hai ki hum hamara jo danpatya jeevan hai aisa rahega accha jaega ya nahi jaega hum alag toh nahi ho jaenge hamesha hi bhay bana rehta hai lekin dost ki baat yah hai ki hum sadaiv agar dhyan rakhen ki hum ek dusre ke beech me aapasi rishto me agar transafarens hi rakhen ek dusre ke upar vishwas rakhen ek dusre ko badhai ho prem karte rahe ek dusre ke upar vishwas ho ek dusre ko bhej de aur choti choti baaton ko hum bada swaroop na de toh zaroor danpatya yugal puri zindagi nipta aapke mata pita koi udaharan ke roop me aap le lijiye aapke mata pita bhi abhi tak saath me rehte ho toh jab vaah reh sakte hain toh hum kyon nahi karte zindagi me utar chadhav aate hain kabhi paison ki kami hoti hai kabhi bimari aati hai kabhi takleef hota hai kabhi dukh aata hai aur kabhi khushi ke mukhiya lekin sabko hamein balance karna padta hai aapki ek toh me aham ka takraav kabhi nahi hona chahiye free ko apne ghar ki patni ko sadaiv izzat deni chahiye izzat dene ka tatparya yah hai ki aapko yah nahi karna hai kya aapko haar pehna kar puja karni hai lekin aapko uska sammaan rakhna hai aur zindagi me kabhi bhool kar ke bhi uske upar hath nahi uthana chahen kitna bhi aap gusse me aa gaye lekin kabhi bhi apni patni ke upar hath mat hoiye kyonki free jo ticket ki patni jo hoti hai vaah ghar ki laxmi hoti hai jis ghar me patni ke upar hath uthaya jata hai us ghar me barkat nahi aati laxmi ji rooth jaati hai yah maan kar chaliye ek tarah se vaah durgalakshmi bhi hai ek tarah se vaah mata annpurna diya aur ek taraf se vaah aapke liye gum bhabhi sab gun se sarvagun sampann hamari patni hoti hai isliye sadaiv patni ke na kar jeevan ekdam vigat tak ho jata hai jab patni hoti hai toh vaah milne ke ghar ko ghar banati hai varna vaah makan kehlata hai hamein poore din bhar kaam karte hain lekin hamein ghar jaane ki jaldi hoti hai use kisi liye ki hamari patni hamare bacche ghar par hamara intejar kar rahe ho kai kis samay patniya bhi kaam karti toh unka bhi hamein hath batana chahiye ghar ke saamne kyonki vaah bhi fakira di hoti unke bhi bahut par chalne walon se mehnat karni padti hai jo ghar ek mandir hai aur pati patni us mandir ke do aadhar stambh aur mata pita hai toh vaah samajh lijiye ki parivar ki jad wahi parivar khushi batot sakta hai apne sabhi sadasyon ke beech me jaha par ek dusre ke prati bade ka chote ke prati sammaan aur aadar ho aisi koi bhasha ka istemal na kare ki jo aap khud ke liye pasand na karte hain is tarah se dono ek dusre se miljul kar rehte hain ek dusre se dost bankar rehte hain toh prashna me danpatya jeevan puri zindagi insaan ka rehta hai pati aur patni dono hi ke upar nirbhar karta hai ki vaah khushi purvak rehna chahte hain toh ek dusre ka zaroor dhyan rakhen ki khushiya batore apne parivar me choti choti khushiya manaaye parivar ke sadasyon ke liye aap kam se kam ek baar ko saath me baithkar khana khaye aur wahi jo saath me jo khana khate hain use bahut kuch hota hai is tarah se aati hai man me kabhi Negative ki naal hum pati patni puri hindi saath me rahenge ya nahi rahenge kyon nahi saath me ek dusre ka saath denge wafa ke liye ek dusre ka saath dene ke liye likhe sukh me dukh me bimari ne sabhi cheez me ek dusre ka saath nibhana hi hamare jeevan ka lakshya hona chahiye jab kabhi patni zyada gussa ho koi bhi ko toh pati ko shaant rehna chahiye aur jab pati atyadhik gussa ho tab patni ko shaant rehna chahiye phir baad me vaah masle par discussion karte maamla shanti se so ja sakta hai jab dono ek saath gussa hote hain toh baat badh jaati hai aur phir baad me jhagda aur badha do roop le leta hai isliye is baat ka hamesha dhyan rakhiye toh aapko koi bhi samasya nahi aaye bahut bahut subhkamnaayain

क्या मेरी शादी की जिंदगी पूरी होगी या नहीं होगी मेरा जीवन साथी मुझसे दूर जाएगा यह तो निर्भ

Romanized Version
Likes  413  Dislikes    views  6614
WhatsApp_icon
4 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Harsh Goyal

Chemical Engineer

0:41
Play

Likes  72  Dislikes    views  1386
WhatsApp_icon
user

Purushottam Choudhary

ब्राह्मण Next IAS institute गार्ड

1:07
Play

Likes  59  Dislikes    views  574
WhatsApp_icon
user

Shibu Sharma

Business Owner

0:16
Play

Likes  4  Dislikes    views  131
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!