मैं जब हार जाता हूँ तो मेरे दिमाग़ में काफ़ी ज़्यादा नकारात्मक विचार आने लगते है। मैं ऐसे विचार को उत्पन्न होने से कैसे रोकूँ?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:44

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सवारिया मेरे भाग जाता हूं तो मेरे दिमाग में काफी ज्यादा नकारात्मक विचार आने लगते हैं मैं से विचार को उत्पन्न होने से कैसे रुकूं लेकर आना स्वाभाविक है ऐसा हो सकता है आप उसको रोक नहीं सकते आपको क्या करना चाहिए आपको उस को बढ़ावा देने के बजाय आप कैसे बढ़ावा देते हैं विचार को आप उसके बारे में चिंतन करते करते रहते हैं और करते करते करते आप उसको बढ़ावा दे रहे हैं आप उसको महसूस करने लगते हैं और आप उस को स्ट्रांग बनाने बनाते रहते हैं तो बताएं इसके आपको क्या करें आपको अपनी सोच आपको अपना कर्म किसी और दिशा में डालना पड़ेगा ताकि क्या होगा आप इसके बारे में सोचना बंद कर दे अब जो होना था हो गया या जो होने वाला है उसके लिए अभी चिंता करने की क्या जरूरत है आप यह देखिए कि आप मुझे क्या करना है इससे मुझे क्या सीख मिली है आप मुझे आगे क्या करना है तो वह कैसे बजाए यह सोचने के किस को कैसे रोका जाए रोकने का तरीका नहीं है इसका यही तरीका है क्या कुछ और मैं अपना मन लगाए कहीं और दिमाग लगाएं तैयार रखना तो इससे क्या होगा आपको से छुटकारा मिल जाएगा तो आपको अपना प्रेम सिर्फ माइंड बदलना पड़ेगा जब माइंड से आपका बदलेगा तो आपको थोड़ा बैटर फील होगा आपकी थिंकिंग थोड़ी सी अलग होगी और किसी और काम में एक बार हो जाए तो कैसे करने से आंखों इस चीज से थोड़ी राहत मिल सकती है

savariya mere bhag jata hoon toh mere dimag mein kaafi zyada nakaratmak vichar aane lagte hai se vichar ko utpann hone se kaise rukun lekar aana swabhavik hai aisa ho sakta hai aap usko rok nahi sakte aapko kya karna chahiye aapko us ko badhawa dene ke bajay aap kaise badhawa dete hai vichar ko aap uske bare mein chintan karte karte rehte hai aur karte karte karte aap usko badhawa de rahe hai aap usko mehsus karne lagte hai aur aap us ko strong banane banate rehte hai toh bataye iske aapko kya kare aapko apni soch aapko apna karm kisi aur disha mein dalna padega taki kya hoga aap iske bare mein sochna band kar de ab jo hona tha ho gaya ya jo hone vala hai uske liye abhi chinta karne ki kya zarurat hai aap yah dekhiye ki aap mujhe kya karna hai isse mujhe kya seekh mili hai aap mujhe aage kya karna hai toh vaah kaise bajaye yah sochne ke kis ko kaise roka jaaye rokne ka tarika nahi hai iska yahi tarika hai kya kuch aur main apna man lagaye kahin aur dimag lagaye taiyar rakhna toh isse kya hoga aapko se chhutkara mil jaega toh aapko apna prem sirf mind badalna padega jab mind se aapka badlega toh aapko thoda better feel hoga aapki thinking thodi si alag hogi aur kisi aur kaam mein ek baar ho jaaye toh kaise karne se aankho is cheez se thodi rahat mil sakti hai

सवारिया मेरे भाग जाता हूं तो मेरे दिमाग में काफी ज्यादा नकारात्मक विचार आने लगते हैं मैं स

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  339
KooApp_icon
WhatsApp_icon
10 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!