आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है? जीवन में कुछ सच ऐसे भी होते है जिसे सुन कर या जान कर हमें दुःख होता है। उस सच्चाई का सामना हम कैसे करे?...


user

Ranjita Arya

Engineer

0:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई है कि जो चीज जैसी है या इंसान है आप उसको वैसे एक्सेप्ट कर लीजिए अगर वह आपको पसंद नहीं भी है कुछ ऐसी सच्चाई तो भी आप उसको बदल नहीं सकते जो है वह जो हो चुका है उसको तो आप बदल नहीं पाओगे लेकिन हां जो जैसा है उसको एक्सेप्ट कर लो और आज मैं जियो

jeevan ki sacchai hai ki jo cheez jaisi hai ya insaan hai aap usko waise except kar lijiye agar vaah aapko pasand nahi bhi hai kuch aisi sacchai toh bhi aap usko badal nahi sakte jo hai vaah jo ho chuka hai usko toh aap badal nahi paoge lekin haan jo jaisa hai usko except kar lo aur aaj main jio

जीवन की सच्चाई है कि जो चीज जैसी है या इंसान है आप उसको वैसे एक्सेप्ट कर लीजिए अगर वह आपको

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  95
WhatsApp_icon
30 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Tej Sahu

Author | Journalist

1:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई क्या है इस पर न जाने कितने शोध हुए हैं वैज्ञानिक और उन्होंने जीवन को शुद्ध करने का प्रयत्न किया है मेरे अनुसार जीवन दोस्तों आज है जीवन हर उस पल में है हर उस कार्य सिद्धि में है जिसे आप मुकम्मल करना चाहते हैं जीवन में कुछ सच ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर या जानकर हमें दुख होता है वाकई ऐसा होता है आपका प्रश्न जो है और बाकी है इसमें मैं समर्थन करता हूं कि ऐसे कुछ घटनाएं जिसे हम जान रहे हैं और जान रहे कि यह सब हो जाना कितना भयावह होगा मृत्यु सदैव सत्य है उसको दिन सूट लाया नहीं जा सकता उस सच्चाई का सामना हम सब को करना ही पड़ेगा लेकिन हम बहुत ज्यादा आगे की ना सोच कर वर्तमान में जिए वर्तमान में जीना ही सर्वोत्तम अजय जीवन जीने की कुंजी है तो इस बात को हम को समझना होगा और प्रयास करना होगा कि सदैव हम खुश रहे और सच्चाई यही है कि हर पल को जीना ही जीवन में सच्चाई है और ऐसे आप कार्य करें कि आज नहीं हमेशा आपके कार्य को सराहा जाए आपके कार्य आपकी जीवन एक दर्शन हो आपका जीवन एक मिसाल हो तो यही आपके जीवन की सच्चाई है कि आप अपने जीवन को सार्थक बनाएं डरे नहीं धन्यवाद

jeevan ki sacchai kya hai is par na jaane kitne shodh hue hain vaigyanik aur unhone jeevan ko shudh karne ka prayatn kiya hai mere anusaar jeevan doston aaj hai jeevan har us pal me hai har us karya siddhi me hai jise aap mukammal karna chahte hain jeevan me kuch sach aise bhi hote hain jise sunkar ya jaankar hamein dukh hota hai vaakai aisa hota hai aapka prashna jo hai aur baki hai isme main samarthan karta hoon ki aise kuch ghatnaye jise hum jaan rahe hain aur jaan rahe ki yah sab ho jana kitna bhyavah hoga mrityu sadaiv satya hai usko din suit laya nahi ja sakta us sacchai ka samana hum sab ko karna hi padega lekin hum bahut zyada aage ki na soch kar vartaman me jiye vartaman me jeena hi sarvottam ajay jeevan jeene ki kunji hai toh is baat ko hum ko samajhna hoga aur prayas karna hoga ki sadaiv hum khush rahe aur sacchai yahi hai ki har pal ko jeena hi jeevan me sacchai hai aur aise aap karya kare ki aaj nahi hamesha aapke karya ko saraha jaaye aapke karya aapki jeevan ek darshan ho aapka jeevan ek misal ho toh yahi aapke jeevan ki sacchai hai ki aap apne jeevan ko sarthak banaye dare nahi dhanyavad

जीवन की सच्चाई क्या है इस पर न जाने कितने शोध हुए हैं वैज्ञानिक और उन्होंने जीवन को शुद्ध

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  114
WhatsApp_icon
user

Praveen Tripathi

Financial Expert GST & Income Tax Adviser

0:26
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई मेरे अनुसार जीवन की सच्चाई यह है कि आप अपने कर्म के अनुसार समर्थ कार्य करें बड़ों का आदर करो तो प्यार कर पड़ोसी के सुख दुख में हाथ बताएं और अगर घर पर कोई आ जाए तो उसका

jeevan ki sacchai mere anusaar jeevan ki sacchai yah hai ki aap apne karm ke anusaar samarth karya kare badon ka aadar karo toh pyar kar padosi ke sukh dukh me hath bataye aur agar ghar par koi aa jaaye toh uska

जीवन की सच्चाई मेरे अनुसार जीवन की सच्चाई यह है कि आप अपने कर्म के अनुसार समर्थ कार्य करें

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  65
WhatsApp_icon
user

Samreen Fatma

Principal

0:58
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो आज का सवाल है आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है यह सच्चाई का सामना हम कैसे करें ठीक है आज का आपका यह सवाल है तो मैं बता दूं ऐसे लाइफ में बहुत सारे सच होते हैं कि कपूर आपने कोई गलती की है ठीक है आपने उसे छिपा लिया व्हाट्सएप जानता है उसको क्या आपने वह गलती की है और कहीं ना कहीं जवाबदेही से गुजरते जाते हैं आप कोई काम किया जाता है इसलिए काम किया था आपको उसका सामना करना पड़ रहा है आपने अगर गलती की है तो आपको उसका शांत रहकर और इग्नोर करके उसका सामना करना है थैंक यू

hello aaj ka sawaal hai aapke anusaar jeevan ki sacchai kya hai jeevan me kuch aise bhi hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai yah sacchai ka samana hum kaise kare theek hai aaj ka aapka yah sawaal hai toh main bata doon aise life me bahut saare sach hote hain ki kapur aapne koi galti ki hai theek hai aapne use chhipa liya whatsapp jaanta hai usko kya aapne vaah galti ki hai aur kahin na kahin javabdehi se gujarate jaate hain aap koi kaam kiya jata hai isliye kaam kiya tha aapko uska samana karna pad raha hai aapne agar galti ki hai toh aapko uska shaant rahkar aur ignore karke uska samana karna hai thank you

हेलो आज का सवाल है आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सु

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  71
WhatsApp_icon
user

Dr. J.Singh

Financial Expert || Ayurvedic Doctor

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सत्य का सामना करना ही जीवन की सच्चाई है आप स्वयं में अपने आपको सच्चाई की करीब लेख जितनी ले करके आएंगे उतना ही आप अच्छे से अच्छे सामने कर सकते हैं कुछ बहुत सारा जीवन में आती हैं ऐसी चीज जो आपके जीवन से किसी दूसरे के जीवन से जुड़ी होती है यह जानकर या सुनकर बहुत दुख होता है लेकिन उसका सामना आप सीपीसी कर सकते हैं कि जो हुआ वह हमारे कनवर था और उस अनुभव से हम अपने भविष्य में सुधार कर सकते हैं भविष्य के लिए धन्यवाद

satya ka samana karna hi jeevan ki sacchai hai aap swayam me apne aapko sacchai ki kareeb lekh jitni le karke aayenge utana hi aap acche se acche saamne kar sakte hain kuch bahut saara jeevan me aati hain aisi cheez jo aapke jeevan se kisi dusre ke jeevan se judi hoti hai yah jaankar ya sunkar bahut dukh hota hai lekin uska samana aap CPC kar sakte hain ki jo hua vaah hamare kanvar tha aur us anubhav se hum apne bhavishya me sudhaar kar sakte hain bhavishya ke liye dhanyavad

सत्य का सामना करना ही जीवन की सच्चाई है आप स्वयं में अपने आपको सच्चाई की करीब लेख जितनी ले

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon
user

मीनाक्षी शर्मा

Enterpreneur, Author, Teacher, Motivational Speaker, Career Counsellor.

0:40
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जब हमें भगवान पर पूर्ण विश्वास होता है तब जीवन की हर सच्चाई हमें ईश्वर का ही स्वरुप प्रतीत होती है जीवन में कुछ ऐसे शब्द भी होते हैं जिन्हें सुनकर या जानकर हमें दुख होता है किंतु अगर उस समय पर हम अपने आप को पूर्णतया ईश्वर की समर्पित कर दें तो हमें उस सच्चाई का सामना करने में जरा भी कठिनाई काम नहीं होगा

jab hamein bhagwan par purn vishwas hota hai tab jeevan ki har sacchai hamein ishwar ka hi swarup pratit hoti hai jeevan me kuch aise shabd bhi hote hain jinhen sunkar ya jaankar hamein dukh hota hai kintu agar us samay par hum apne aap ko purnataya ishwar ki samarpit kar de toh hamein us sacchai ka samana karne me zara bhi kathinai kaam nahi hoga

जब हमें भगवान पर पूर्ण विश्वास होता है तब जीवन की हर सच्चाई हमें ईश्वर का ही स्वरुप प्रती

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  115
WhatsApp_icon
user

Jiwan Dongre

Engineer

0:48
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमने किए हुए कर्मों के दो प्रकार के फल हमें मिलते हैं एक सुविधाएं और दूसरा दुखता है किसी भी कर्म के दो ही फल होते हैं अब आप उसमें से सुखदाई वाला बड़े उत्साह से जी लेते हैं और दुखदाई वाला बड़े कठिनता से जिस वक्त आप फल की चिंता नहीं करेंगे उस वक्त सही मायने में आपको उस फल के बारे में कुछ लेना-देना नहीं रहेगा और सिर्फ कर्म ही आपकी पूजा है

humne kiye hue karmon ke do prakar ke fal hamein milte hain ek suvidhaen aur doosra dukhata hai kisi bhi karm ke do hi fal hote hain ab aap usme se sukhdayi vala bade utsaah se ji lete hain aur dukhdai vala bade kathinata se jis waqt aap fal ki chinta nahi karenge us waqt sahi maayne me aapko us fal ke bare me kuch lena dena nahi rahega aur sirf karm hi aapki puja hai

हमने किए हुए कर्मों के दो प्रकार के फल हमें मिलते हैं एक सुविधाएं और दूसरा दुखता है किसी

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Mr. Arihant Jain 9730047488

A Counsellor, Life-coach, Inspirational, Motivational, Spiritual speaker, A Pragmatic Eye-opener

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जन्म और मृत्यु के बीच में जो रहता है उसे हम जीवन कहते हैं उज्जैन मृत्यु की ही जीवन की सच्चाई है जीवन में कुछ ऐसे भी तरह होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है आपने आगे पूछा ही है और हम इस सच्चाई का सामना कैसे करें हमें जीवन में दुख तब होता है जब कोई चीज हमारे अनुसार नहीं चलते हैं हमारे अनुरूप नहीं होती है तो हमें लग तो हमें उचित दुख पहुंचाती है जो भी चीज हमारे रूप नहीं चलती है कोई इस तरह से जाओ खुद को बचाते हैं कहीं ना कि हमें यह समझना चाहिए कि वह चीज पर स्थिति है वह चीज बाहर है जो मेरे कंट्रोल में नहीं है और साथ में यह भी समझना चाहिए कि इस दुनिया में जो कुछ भी हो रहा है बाहर जैसा भी हो रहा है जो जैसा कर रहा है वह अपने अनुसार उचित कर रहा है कहीं ना कहीं में समझना चाहिए दिस वर्ल्ड इज नॉट गोइंग टू अकॉर्डिंग टू मी इन विच वे जो चीज है जो मेरे अनुसार नहीं लेंगे सिर्फ एक ही चीज हमें यह समझना चाहिए और यह ऐसा करते हमें अपनी स्थिति को धीरे-धीरे संभालना चाहिए उसे परिस्थिति को परिस्थिति के रूप में ही देखकर अपनी स्थिति को संभाल सकेंगे उसका सामना कर पाएंगे को अच्छी तरह उसको समझ पाएंगे

aapke anusaar jeevan ki sacchai kya hai janam aur mrityu ke beech me jo rehta hai use hum jeevan kehte hain ujjain mrityu ki hi jeevan ki sacchai hai jeevan me kuch aise bhi tarah hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai aapne aage poocha hi hai aur hum is sacchai ka samana kaise kare hamein jeevan me dukh tab hota hai jab koi cheez hamare anusaar nahi chalte hain hamare anurup nahi hoti hai toh hamein lag toh hamein uchit dukh pahunchati hai jo bhi cheez hamare roop nahi chalti hai koi is tarah se jao khud ko bachate hain kahin na ki hamein yah samajhna chahiye ki vaah cheez par sthiti hai vaah cheez bahar hai jo mere control me nahi hai aur saath me yah bhi samajhna chahiye ki is duniya me jo kuch bhi ho raha hai bahar jaisa bhi ho raha hai jo jaisa kar raha hai vaah apne anusaar uchit kar raha hai kahin na kahin me samajhna chahiye this world is not going to according to me in which ve jo cheez hai jo mere anusaar nahi lenge sirf ek hi cheez hamein yah samajhna chahiye aur yah aisa karte hamein apni sthiti ko dhire dhire sambhaalna chahiye use paristhiti ko paristhiti ke roop me hi dekhkar apni sthiti ko sambhaal sakenge uska samana kar payenge ko achi tarah usko samajh payenge

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जन्म और मृत्यु के बीच में जो रहता है उसे हम जीवन कहते

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  112
WhatsApp_icon
user

Thaker Nilesh

Financial consultant,Brand Management,Sales & Marketing, Promotional activities

3:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी नमस्ते ओम नमस्ते रचना बहुत सही है आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है पहला प्रश्न और जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई को हम कैसे करें जीवन की सच्चाई जीवन जिस तरह से चल रहा है वर्तमान स्थिति में हड़ताल की स्थिति में और भविष्य केवल की स्थिति में उसको जैसे हैं इस प्रकार ही स्वीकार करने की और समझ करने की कोशिश करना प्रयत्न करना वही सच्चाई है वही जीवन की सच्चाई है मतलब जो दिख रही है जो चीज अपील कर रहे हैं महसूस कर रहे हैं उस चीज को आप को स्वीकार भी करना है समझना भी है और साथ में सलमान भी देना है तो यह सबसे महत्वपूर्ण है जीवन की सच्चाई और जब कोई ऐसी चीज हो जाती है कि जिसे सुनकर दुख होता है तो उस सच्चाई को कैसे स्वीकार करें सच्चाई का सामना नहीं करना होता है सच्चाई का स्वीकार करना चाहिए सच्चाई को सम्मान देना चाहिए सच्चाई को आप को स्वीकार करके सम्मान देकर उसकी संजू थी को आगे बढ़ाना चाहिए कि कैसे आप उसको स्वीकार करते हैं कैसे उसको आप सम्मान करते हैं क्योंकि यह तो बाद में करेंगे जब पहले आप किसी की वास्तविकता किसी भी सच्चाई को सुनेंगे जानेंगे सुनकर सुनना समझना स्वीकार करना और सलमान देना 14 अगर आप प्राथमिक तत्व के उपयोग कर लेते हैं जीवन में जो सच्चाई का सामना करने की बात नहीं होगी यह स्वीकार करने वाली सहज बात हो जाएगी सहज क्रिया हो जाएगी तो इस व्यवस्था को चार डायमेंशन कह सकते हो कि बात दूसरी बात है उनको सलमान दीजिए की बातें उनको सुनिए चौथी बात है समझ यार हम हमारे जीवन में प्राथमिक तो स्क्रीन की तरह हमारी लाइफ की फॉरमेशन की तरह हम अगर कर लेते हैं तो यह स्टेप बहुत ही सरल हो जाएंगे और कोई भी व्यवस्था तो कोई भी चीज को सामना करने की याद चैलेंज करने की या परेशान होने की कोई व्यवस्था नहीं होगी आपकी एक सहज सरल प्राकृतिक व्यवस्था हो जाए तो आशा करता हूं यह उत्तर आपको क्लेरिटी देने में मदद रूप हो हुआ होगा धन्यवाद आपका थैंक यू वेरी मच

ji namaste om namaste rachna bahut sahi hai aapke anusaar jeevan ki sacchai kya hai pehla prashna aur jeevan me kuch aise bhi hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai us sacchai ko hum kaise kare jeevan ki sacchai jeevan jis tarah se chal raha hai vartaman sthiti me hartal ki sthiti me aur bhavishya keval ki sthiti me usko jaise hain is prakar hi sweekar karne ki aur samajh karne ki koshish karna prayatn karna wahi sacchai hai wahi jeevan ki sacchai hai matlab jo dikh rahi hai jo cheez appeal kar rahe hain mehsus kar rahe hain us cheez ko aap ko sweekar bhi karna hai samajhna bhi hai aur saath me salman bhi dena hai toh yah sabse mahatvapurna hai jeevan ki sacchai aur jab koi aisi cheez ho jaati hai ki jise sunkar dukh hota hai toh us sacchai ko kaise sweekar kare sacchai ka samana nahi karna hota hai sacchai ka sweekar karna chahiye sacchai ko sammaan dena chahiye sacchai ko aap ko sweekar karke sammaan dekar uski sanju thi ko aage badhana chahiye ki kaise aap usko sweekar karte hain kaise usko aap sammaan karte hain kyonki yah toh baad me karenge jab pehle aap kisi ki vastavikta kisi bhi sacchai ko sunenge jaanege sunkar sunana samajhna sweekar karna aur salman dena 14 agar aap prathmik tatva ke upyog kar lete hain jeevan me jo sacchai ka samana karne ki baat nahi hogi yah sweekar karne wali sehaz baat ho jayegi sehaz kriya ho jayegi toh is vyavastha ko char dimension keh sakte ho ki baat dusri baat hai unko salman dijiye ki batein unko suniye chauthi baat hai samajh yaar hum hamare jeevan me prathmik toh screen ki tarah hamari life ki formation ki tarah hum agar kar lete hain toh yah step bahut hi saral ho jaenge aur koi bhi vyavastha toh koi bhi cheez ko samana karne ki yaad challenge karne ki ya pareshan hone ki koi vyavastha nahi hogi aapki ek sehaz saral prakirtik vyavastha ho jaaye toh asha karta hoon yah uttar aapko kleriti dene me madad roop ho hua hoga dhanyavad aapka thank you very match

जी नमस्ते ओम नमस्ते रचना बहुत सही है आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है पहला प्रश्न और जीव

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  105
WhatsApp_icon
user

Madan Nanda Haral patil

Soft Skill Trainer

2:21
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरा नाम मिस्टर मदन हरण पाटिल है मैं अमर नगर का रहने वाला हूं और मैं आपके सवाल का जवाब भी नहीं जा रहा हूं आपने मुझे पूछा है कि आप के अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जो उन्हें कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर का जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई का सामना हम कैसे करें बहुत ही अहम सवाल है मेरे अनुसार जीवन की सच्चाई यह है कि जीवन में हमें संत भी मिलेगा आरक्षण मिलेगा संत के साथ संत दीवार करो और जो राक्षस से उनके साथ बर्ताव करते वक्त आर्य चाणक्य नीति का इस्तेमाल करो अब सीधे रहेंगे तो लोग आपको दुख तकलीफ देते रहेंगे थोड़ा सा टेढ़ा भी रहना पड़ता है जीवन में कभी कठोर भी रखना पड़ता है अच्छे लोग हैं उनके साथ अच्छे बर्ताव करो जो बुरे लोग हैं उनसे संपर्क मत करो दूसरी बात यह है कि कई कई बार हम जिस पर भरोसा करते हुए हमें भरोसा तोड़ डाल देते हैं वह माफी के लायक भी नहीं रहते लेकिन एक बात है कि जो भी गहरे रिश्ते वाले ने आपको धोखा दिया होगा उसको चोट मत पहुंचाओ उसको दुख तकलीफ मत दो इतना उनको कहो सिर्फ कि मैं आपके साथ इतना अच्छी रिश्ते से रिश्ता निभा रहा हूं तो फिर भी आपने मेरे साथ ऐसा क्यों किया जब आप उनसे ऐसे बातें करेंगे तो वह शर्म जाएंगे कि कई लोग क्या करते हैं कि उनको पीड़ा देने के लिए उनको मारते हैं उनका जीवन बर्बाद कर दे देते हैं स्त्री को जीवन बर्बाद करने से हमारा भी जीवन बर्बाद हो जाता है उन्हें छोड़ दो उनके हाल पर उनको छोड़ दो अपना रास्ता बना हूं अपना जीवन की घड़ी फिर अच्छी बनाओ और आगे चले जाओ आपको काम है रुकना नहीं आगे जाना है धन्यवाद

mera naam mister madan haran patil hai main amar nagar ka rehne vala hoon aur main aapke sawaal ka jawab bhi nahi ja raha hoon aapne mujhe poocha hai ki aap ke anusaar jeevan ki sacchai kya hai jo unhe kuch aise bhi hote hain jise sunkar ka jaankar hamein dukh hota hai us sacchai ka samana hum kaise kare bahut hi aham sawaal hai mere anusaar jeevan ki sacchai yah hai ki jeevan me hamein sant bhi milega aarakshan milega sant ke saath sant deewaar karo aur jo rakshas se unke saath bartaav karte waqt arya chanakya niti ka istemal karo ab sidhe rahenge toh log aapko dukh takleef dete rahenge thoda sa tedha bhi rehna padta hai jeevan me kabhi kathor bhi rakhna padta hai acche log hain unke saath acche bartaav karo jo bure log hain unse sampark mat karo dusri baat yah hai ki kai kai baar hum jis par bharosa karte hue hamein bharosa tod daal dete hain vaah maafi ke layak bhi nahi rehte lekin ek baat hai ki jo bhi gehre rishte waale ne aapko dhokha diya hoga usko chot mat pahunchao usko dukh takleef mat do itna unko kaho sirf ki main aapke saath itna achi rishte se rishta nibha raha hoon toh phir bhi aapne mere saath aisa kyon kiya jab aap unse aise batein karenge toh vaah sharm jaenge ki kai log kya karte hain ki unko peeda dene ke liye unko marte hain unka jeevan barbad kar de dete hain stree ko jeevan barbad karne se hamara bhi jeevan barbad ho jata hai unhe chhod do unke haal par unko chhod do apna rasta bana hoon apna jeevan ki ghadi phir achi banao aur aage chale jao aapko kaam hai rukna nahi aage jana hai dhanyavad

मेरा नाम मिस्टर मदन हरण पाटिल है मैं अमर नगर का रहने वाला हूं और मैं आपके सवाल का जवाब भी

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  107
WhatsApp_icon

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आज के प्रश्नों के मुताबिक जीवन की सच्चाई है वह बस परमात्मा का नाम है और कुछ नहीं बाकी सब मोह माया है क्योंकि जीवन में जो सांसारिक जीवन में सुख और दुख का बराबर का समावेश हिस्सेदारी होती है इसलिए विशेष ध्यान रखें सुख में भगवान के भजन के दशक के पीछे सुख आता है वैसे ही सुख के पीछे लोग आता है आता जरूर है बस यही बात है और सामान बलवान होना चाहिए मतलब बलवान शरीर से नहीं बुद्धि से होना चाहिए जय श्री राम

aaj ke prashnon ke mutabik jeevan ki sacchai hai vaah bus paramatma ka naam hai aur kuch nahi baki sab moh maya hai kyonki jeevan me jo sansarik jeevan me sukh aur dukh ka barabar ka samavesh hissedaari hoti hai isliye vishesh dhyan rakhen sukh me bhagwan ke bhajan ke dashak ke peeche sukh aata hai waise hi sukh ke peeche log aata hai aata zaroor hai bus yahi baat hai aur saamaan balwan hona chahiye matlab balwan sharir se nahi buddhi se hona chahiye jai shri ram

आज के प्रश्नों के मुताबिक जीवन की सच्चाई है वह बस परमात्मा का नाम है और कुछ नहीं बाकी सब म

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  74
WhatsApp_icon
user

Manish Dev

Motivational Speaker, Yoga-Meditation Guide, Spiritualist, Psycho-analyst, Astrologer, Spiritual Healer, Life Coach

4:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है मित्र मैं यह कहना चाहूंगा कि आपने जो प्रश्न किया है एक तो जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं इसे सुनकर यह सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई का सामना हम कैसे करें अब मैं आपको एक तो जीवन की जो सबसे बड़ी सच्चाई है वह यह है कि जीवन शाश्वत जीवन कभी नष्ट नहीं होता ठीक ही जीवन है किस चीज से जीवन आपके शरीर से नहीं है जीवन आपके विचारों से जीवन आप के संस्कारों से है इसलिए मृत्यु शरीर की हो जाएगी लेकिन मृत्यु के बाद भी जीवन रहेगा हां शरीर के साथ नहीं रहेगा वह जीवन शरीर के साथ नहीं रहेगा इसलिए हमारे जो शास्त्र हैं वह कहते हैं कि जीवन शाश्वत है आत्मा कभी मरती श्रीमद्भागवत गीता क्या कह रही है वासांसि जीर्णानि यथा विहाय नवानी ग्रहण आनंद रूप रानी जीवन तो तुम्हारा शाश्वत है क्योंकि जीव अविनाशी है ईश्वर अंश जीव अविनाशी ईश्वर का अंश जीव अविनाशी है उसका विनाश नहीं होता शरीर मरता है सर तो जब जीव नहीं मरता तो जीवन कैसे नष्ट हो जाएगा जीवन की सबसे बड़ी सच्चाई यह है कि यह शाश्वत है यह कभी नष्ट नहीं होगा हां इसकी मुक्ति हो सकती है इसका मोक्ष हो सकता है का क्या बल्ले हो सकता है इसका लाए हो सकता है लेकिन इसकी इसकी मृत्यु नहीं होती है मृत्यु मात्र इस स्थूल शरीर की होती है अब दूसरी बात कि जीवन में कुछ शब्द ऐसे भी होते हैं बिल्कुल ऐसे भी होते हैं जिनको जानकर हमें दुख होगा और जीवन का सबसे बड़ा सत्य क्या है किस प्रकृति के वशीभूत जीवन चलता है पर अवश्य जीवन कहते ही उसी को है जो प्रकृति के भूतिया प्रकृति के वशीभूत नहीं रहेगा तो फिर जीवन भी नहीं रहेगा जीवन का लायक होगा तो इसलिए जीवन पर्वत है पर्वत होने के कारण ही जीवन जीवन है पर अवश्य होना उसकी सच्चाई है बस यहां पर पर्वत कहने का तात्पर्य की प्रकृति के मशहूर और प्रकृति की प्रतिक्रिया जो है वह दायित्व है बकरियां प्रतिक्रिया से आच्छादित है कभी सुख है तो कभी दुख है जीवन कैसा है जैसे एक शरबत हो जो ऊपर से तो बहुत मीठा हो लेकिन बीच में आधा पीने के बाद कड़वा महसूस होगा लेकिन एक बार मुंह लगा दिया तो छोड़ नहीं पाओगे पीना है आप समझना चाहते हैं जीवन क्या है हमारे यूट्यूब चैनल पर आई है आप उसमें बहुत सारे व्याख्यान पड़ेगी क्या गूगल में तो सीमित एक समय होता है कोई भी तथ्य को बताने का वहां पर कई व्याख्यान पड़े हैं कि दुख सुख के बाद दुख का हार क्यों आता है दुख कैसे पैदा होते हैं दुख के विषय में ऐसे कई g1s के समस्याओं का समाधान करते हुए कई वीडियोस वहां पर हैं जीवन का यह सकते हैं आप सुख भोगो गे आपको बिना मांगे दुख मिलेगा इस जीवन को जीना है तो सुख की तलाश बंद कर दो जीवन को अच्छे से जीना है तो जीवन में सुख नहीं संतुलन को स्थापित करो जीवन में संतुलन लाइए और जब संतुलन आएगा तो सुख भी आएगा लेकिन आप सुख के पीछे भागते हैं इसलिए दुखी रहते हैं जीवन का सबसे बड़ा सत्य यह है कि कोई भी वस्तु घर परिवार रिश्ते नाते पुत्र पत्नी आदि सारे और जो है वस्तुएं हो गई जो कितनी वस्तुएं हैं हमारे पास वह सब के सब जो हमें सुख प्रदान करते हैं अंत में वही दुख प्रदान करना शुरू कर देते हैं बाद में वह दुख का भी कारण बन रन शुरू कर देते इसलिए जीवन की यह प्रकृति ध्वस्त भाई है वह उस शरबत की तरह है जो शुरुआत में जम्मू लगाओगे तो मीठा प्रतीत होगा लेकिन थोड़ा पी ले पी लेने के बाद फिर वह अपने आप ऐसा लगा कि वही शरबत अब कड़वा लग रहा है वह कड़वा लगने लगेगा तो सुख के कारण है वही दुख का कारण बनना शुरू कर देते हैं यह वह सत्य है इसका कुछ किया नहीं कर सकता इसका उपाय यही है कि सुख के पीछे मत भागो जीवन में संतुलन पैदा करो एक ऐसा संतुलन कैसे पैदा हो उसको समझने की आवश्यकता है हमारे चैनल दिव्य सृजन स्प्रिचुअल टॉक्स पर यूट्यूब चैनल पर आप जरूर जाकर ऐसे कई व्याख्यान आप देख सकते हैं सुन सकते

aapke anusaar jeevan ki sacchai kya hai mitra main yah kehna chahunga ki aapne jo prashna kiya hai ek toh jeevan ki sacchai kya hai jeevan me kuch aise bhi hote hain ise sunkar yah sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai us sacchai ka samana hum kaise kare ab main aapko ek toh jeevan ki jo sabse badi sacchai hai vaah yah hai ki jeevan shashvat jeevan kabhi nasht nahi hota theek hi jeevan hai kis cheez se jeevan aapke sharir se nahi hai jeevan aapke vicharon se jeevan aap ke sanskaron se hai isliye mrityu sharir ki ho jayegi lekin mrityu ke baad bhi jeevan rahega haan sharir ke saath nahi rahega vaah jeevan sharir ke saath nahi rahega isliye hamare jo shastra hain vaah kehte hain ki jeevan shashvat hai aatma kabhi marti shrimadbhagavat geeta kya keh rahi hai vasansi jirnani yatha vihay nawani grahan anand roop rani jeevan toh tumhara shashvat hai kyonki jeev avinashi hai ishwar ansh jeev avinashi ishwar ka ansh jeev avinashi hai uska vinash nahi hota sharir marta hai sir toh jab jeev nahi marta toh jeevan kaise nasht ho jaega jeevan ki sabse badi sacchai yah hai ki yah shashvat hai yah kabhi nasht nahi hoga haan iski mukti ho sakti hai iska moksha ho sakta hai ka kya balle ho sakta hai iska laye ho sakta hai lekin iski iski mrityu nahi hoti hai mrityu matra is sthool sharir ki hoti hai ab dusri baat ki jeevan me kuch shabd aise bhi hote hain bilkul aise bhi hote hain jinako jaankar hamein dukh hoga aur jeevan ka sabse bada satya kya hai kis prakriti ke vashibhut jeevan chalta hai par avashya jeevan kehte hi usi ko hai jo prakriti ke bhutiya prakriti ke vashibhut nahi rahega toh phir jeevan bhi nahi rahega jeevan ka layak hoga toh isliye jeevan parvat hai parvat hone ke karan hi jeevan jeevan hai par avashya hona uski sacchai hai bus yahan par parvat kehne ka tatparya ki prakriti ke mashoor aur prakriti ki pratikriya jo hai vaah dayitva hai bakriyan pratikriya se aachchadit hai kabhi sukh hai toh kabhi dukh hai jeevan kaisa hai jaise ek sharbat ho jo upar se toh bahut meetha ho lekin beech me aadha peene ke baad kadwa mehsus hoga lekin ek baar mooh laga diya toh chhod nahi paoge peena hai aap samajhna chahte hain jeevan kya hai hamare youtube channel par I hai aap usme bahut saare vyakhyan padegi kya google me toh simit ek samay hota hai koi bhi tathya ko batane ka wahan par kai vyakhyan pade hain ki dukh sukh ke baad dukh ka haar kyon aata hai dukh kaise paida hote hain dukh ke vishay me aise kai g1s ke samasyaon ka samadhan karte hue kai videos wahan par hain jeevan ka yah sakte hain aap sukh bhogo gay aapko bina mange dukh milega is jeevan ko jeena hai toh sukh ki talash band kar do jeevan ko acche se jeena hai toh jeevan me sukh nahi santulan ko sthapit karo jeevan me santulan laiye aur jab santulan aayega toh sukh bhi aayega lekin aap sukh ke peeche bhagte hain isliye dukhi rehte hain jeevan ka sabse bada satya yah hai ki koi bhi vastu ghar parivar rishte naate putra patni aadi saare aur jo hai vastuyen ho gayi jo kitni vastuyen hain hamare paas vaah sab ke sab jo hamein sukh pradan karte hain ant me wahi dukh pradan karna shuru kar dete hain baad me vaah dukh ka bhi karan ban run shuru kar dete isliye jeevan ki yah prakriti dhwast bhai hai vaah us sharbat ki tarah hai jo shuruat me jammu lagaoge toh meetha pratit hoga lekin thoda p le p lene ke baad phir vaah apne aap aisa laga ki wahi sharbat ab kadwa lag raha hai vaah kadwa lagne lagega toh sukh ke karan hai wahi dukh ka karan banna shuru kar dete hain yah vaah satya hai iska kuch kiya nahi kar sakta iska upay yahi hai ki sukh ke peeche mat bhago jeevan me santulan paida karo ek aisa santulan kaise paida ho usko samjhne ki avashyakta hai hamare channel divya srijan sprichual talks par youtube channel par aap zaroor jaakar aise kai vyakhyan aap dekh sakte hain sun sakte

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है मित्र मैं यह कहना चाहूंगा कि आपने जो प्रश्न किया है एक

Romanized Version
Likes  8  Dislikes    views  138
WhatsApp_icon
user

Dr JP Verma, Swami Jagteswer Anand

जगतेश्वर आनंद धाम एवं कल्पांत हिलिंग सेंटर फिजियोथैरेपी, नेचुरोपैथी, एक्युप्रेशर, योग, प्राणायाम, ध्यान साधनाए, रेंकी, स्प्रीचुअल हीलिंग, अहार एवं नेचुरल व हर्बल थैरेपी (ट्रीटमेंन्ट एवं ट्रेनिंग सेंन्टर)

1:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई है स्वयंवर आनंद जीवन में जब कभी भी ऐसे सजाते हैं और सुनकर हम उस पर दुख व्यक्त करते हैं तो इसका मतलब है कि हमने उसको स्वीकार कर लिया कोई भी भावना जब हमारे अंदर प्रवेश करती है तो इस भावना का प्रभाव दुख के रूप में व्यक्त होता है जब तक हम उस भावना को स्वीकार नहीं करते तब तक कोई भी दुख में दुखी नहीं कर सकता हम जब भी किसी भावना को स्वीकार कर लेते हैं कि मेरे लिए प्रगट हो रही है तभी वह दुख का कारण बन जाती है इसलिए प्रत्येक भावना को स्वयं के अनुरूप न समझकर सामने वाले का न्यूज़ समझें सामने वाला जो कह रहा है वह अपने भाव के अनुसार अपने मान्यताओं के अनुसार अपने संस्कार करने का सही कह रहा है लेकिन हो सकता है कि हमारी मान्यताओं और हमारे संस्कार उसको स्वीकार नहीं करते इसलिए हम अपनी मान्यताओं संस्कारों के आधार पर ना देखें बल्कि सामने वाले के विचार को विजय के जूस ने जो बात कही है उसका क्या भाव है जो हम उसके भाव को देखेंगे तो हम दुखी होना बंद कर देंगे और हम प्रत्येक सच्चाई का सामना करने में सक्षम हो जाएंगे

jeevan ki sacchai hai sawamber anand jeevan me jab kabhi bhi aise sajate hain aur sunkar hum us par dukh vyakt karte hain toh iska matlab hai ki humne usko sweekar kar liya koi bhi bhavna jab hamare andar pravesh karti hai toh is bhavna ka prabhav dukh ke roop me vyakt hota hai jab tak hum us bhavna ko sweekar nahi karte tab tak koi bhi dukh me dukhi nahi kar sakta hum jab bhi kisi bhavna ko sweekar kar lete hain ki mere liye pragat ho rahi hai tabhi vaah dukh ka karan ban jaati hai isliye pratyek bhavna ko swayam ke anurup na samajhkar saamne waale ka news samajhe saamne vala jo keh raha hai vaah apne bhav ke anusaar apne manyataon ke anusaar apne sanskar karne ka sahi keh raha hai lekin ho sakta hai ki hamari manyataon aur hamare sanskar usko sweekar nahi karte isliye hum apni manyataon sanskaron ke aadhar par na dekhen balki saamne waale ke vichar ko vijay ke juice ne jo baat kahi hai uska kya bhav hai jo hum uske bhav ko dekhenge toh hum dukhi hona band kar denge aur hum pratyek sacchai ka samana karne me saksham ho jaenge

जीवन की सच्चाई है स्वयंवर आनंद जीवन में जब कभी भी ऐसे सजाते हैं और सुनकर हम उस पर दुख व्यक

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  86
WhatsApp_icon
user

Rajesh Chawla

Business Owner

2:11
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हमारे भारत में एक बहुत पुरानी बात प्रचलित है जागो जैसी भावना वैसी मुहूर्त नजर आए तो हम जीवन को अपने हिसाब से देखते हैं अपने हिसाब से उसमें डालना चाहते हैं हर व्यक्ति के अपने अपनी आदतें होती हैं अपनी अपनी अभिलाषा होती हैं और उनको पूर्ण करना ही हम सबसे अधिक मांगते हैं बाकी जहां तक रही बात जो मैं अंतिम सच्चाई की बात करते हैं जैसे कि मोक्ष कहा जाता है उस बॉक्स के बारे में आज तक कोई साइंटिफिक एविडेंस तो है नहीं तो बोक्स चौकी सच्चाई की जब बारी आती है जीवन की सचाई की तो हम उसको मोक्षदा हिंदू उसको हम लोग से जोड़ लेते हैं या किसी भी धर्म के लोग जहां पर धर्म की बात आए तो गॉड विल टेक केयर अपना बेस्ट करें किसी को दुख ना दें जो भी आपकी इच्छा है अभिलाषा है उसको मोरल लीगल और सोशल ब्लू पर कॉल कर आगे बड़े उत्साह से जी तो अगर मोक्ष को जैसी कोई चीज होगी तो प्रभु अपने आप ही आपको दे देगा और जहां तक के बाद आई के जीवन में कुछ ऐसे शब्द भी होते हैं जिन्हें सुनकर या जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई का सामना कैसे करें देखिए जहां पर मृत्यु की बात आती है अपनी अपने प्रिय जनों की तो वहां पर उस दुख से उबर पाना काफी मुश्किल होता है लेकिन यदि जीवन की सच्चाई है क्योंकि हर व्यक्ति मृत्यु को अपने अंदर ही लेकर पैदा होता है उसके अलावा आप उससे भी जीत सकते हैं प्रयास करें तो कभी सच्चाई है उसके अलावा हमेशा अपने आपको खुश रखे जीवन अपने आपको आनंद में रखना किसी भी रुप से लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि सोशल लीगल मोरल वैल्यू से कंप्रोमाइज ना करें धन्यवाद

hamare bharat me ek bahut purani baat prachalit hai jaago jaisi bhavna vaisi muhurt nazar aaye toh hum jeevan ko apne hisab se dekhte hain apne hisab se usme dalna chahte hain har vyakti ke apne apni aadatein hoti hain apni apni abhilasha hoti hain aur unko purn karna hi hum sabse adhik mangate hain baki jaha tak rahi baat jo main antim sacchai ki baat karte hain jaise ki moksha kaha jata hai us box ke bare me aaj tak koi scientific evidence toh hai nahi toh boks chowki sacchai ki jab baari aati hai jeevan ki sachai ki toh hum usko mokshada hindu usko hum log se jod lete hain ya kisi bhi dharm ke log jaha par dharm ki baat aaye toh god will take care apna best kare kisi ko dukh na de jo bhi aapki iccha hai abhilasha hai usko moral legal aur social blue par call kar aage bade utsaah se ji toh agar moksha ko jaisi koi cheez hogi toh prabhu apne aap hi aapko de dega aur jaha tak ke baad I ke jeevan me kuch aise shabd bhi hote hain jinhen sunkar ya jaankar hamein dukh hota hai us sacchai ka samana kaise kare dekhiye jaha par mrityu ki baat aati hai apni apne priya jano ki toh wahan par us dukh se ubar paana kaafi mushkil hota hai lekin yadi jeevan ki sacchai hai kyonki har vyakti mrityu ko apne andar hi lekar paida hota hai uske alava aap usse bhi jeet sakte hain prayas kare toh kabhi sacchai hai uske alava hamesha apne aapko khush rakhe jeevan apne aapko anand me rakhna kisi bhi roop se lekin is baat ka dhyan rakhen ki social legal moral value se compromise na kare dhanyavad

हमारे भारत में एक बहुत पुरानी बात प्रचलित है जागो जैसी भावना वैसी मुहूर्त नजर आए तो हम जीव

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  90
WhatsApp_icon
user

DR OM PRAKASH SHARMA

Principal, Education Counselor, Best Experience in Professional and Vocational Education cum Training Skills and 25 years experience of Competitive Exams. 9212159179. dsopsharma@gmail.com

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अपनी दुकान ठीक है जीवन में कुछ सच है सिर्फ दो-तीन दिन के विषय में सुनकर या देखकर क्या सामना करने पर मन में चूक खटास जलगांव पैदा हुआ कि नहीं हमें यह भी सोचना चाहिए कि यह सुनिश्चित क्यों में यह सब घटित हुआ होगा अब क्यों कबीर सच कटा किन्हीं स्थितियों का सामना नानी ने किया होगा जिसके विषय में आपको जानकारी मिली इंसान सिर्फ देखकर सुनकर यकीन पंडित है लेकिन दूसरे पहलू पर ध्यान नहीं देता यही कारण है कि इंसान को सच्चाई का सामना करने के लिए अपने आपको क्या लगता है जो दुख आपको दूसरों की सच्चाई का पता लगाने के लिए क्या आज तक आपने सच्चाई छुपाई में या आपकी बहुत सी चीजें किधर है इसमें कोई और नहीं जानता लेकिन जब वह किसी के सामने आए तो सही प्रभाव पड़ेगा जो आप पर पढ़ाई तो कल्पना कीजिए कि आप के मन पर अगर इस तरह का झोपड़ा तुमसे ज्यादा पढ़े मसीही चीज इंसान को समझने का सामान्य का सामना करने का ऑप्शन

apni dukaan theek hai jeevan me kuch sach hai sirf do teen din ke vishay me sunkar ya dekhkar kya samana karne par man me chuk khatas jalgaon paida hua ki nahi hamein yah bhi sochna chahiye ki yah sunishchit kyon me yah sab ghatit hua hoga ab kyon kabir sach kata kinhi sthitiyo ka samana naani ne kiya hoga jiske vishay me aapko jaankari mili insaan sirf dekhkar sunkar yakin pandit hai lekin dusre pahaloo par dhyan nahi deta yahi karan hai ki insaan ko sacchai ka samana karne ke liye apne aapko kya lagta hai jo dukh aapko dusro ki sacchai ka pata lagane ke liye kya aaj tak aapne sacchai chupai me ya aapki bahut si cheezen kidhar hai isme koi aur nahi jaanta lekin jab vaah kisi ke saamne aaye toh sahi prabhav padega jo aap par padhai toh kalpana kijiye ki aap ke man par agar is tarah ka jhopada tumse zyada padhe masihi cheez insaan ko samjhne ka samanya ka samana karne ka option

अपनी दुकान ठीक है जीवन में कुछ सच है सिर्फ दो-तीन दिन के विषय में सुनकर या देखकर क्या सामन

Romanized Version
Likes  422  Dislikes    views  5071
WhatsApp_icon
user

Babin Mukherjee Arup Kumar Mukherjee

Artist (Vocal Music) And IT professional

1:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार मेरा नाम अरुण कुमार मुखर्जी और बॉबी मुखर्जी है मैं पश्चिम बंगाल इंडिया से हूं देखिए सच्चाई से इंसान को कभी भागना नहीं चाहिए अगर अच्छे कामों के लिए अगर झूठ भी बोलना पड़े जिससे कि लोगों का भलाई हो तो वह झूठ भी पाप नहीं होता है सच्चाई जीवन का एक जो घटता है उसको और बेहतर बनाना चाहिए सच्चाई दो तरह के होते किसी का नुकसान नहीं करना चाहिए अपने किसी स्वार्थ के लिए निजी स्वार्थ के लिए किसी भी जीव या इंसान का नुकसान नहीं करना चाहिए अगर इंसान खुद की नजर से गिर जाता है उसे कोई नहीं उठा सकता अपना self-respect को हमेशा बनाए रखना चाहिए बुराई का अंत करना चाहिए बुराई से जो करना चाहिए सुधारना चाहिए अगर सच्चाई का पोटेंशियल है उस सच्चाई को स्वीकार कर लेना चाहिए और उसके अनुसार से अपनी अगली रणनीति को बनाना चाहिए नमस्कार

namaskar mera naam arun kumar mukherjee aur bobby mukherjee hai main paschim bengal india se hoon dekhiye sacchai se insaan ko kabhi bhaagna nahi chahiye agar acche kaamo ke liye agar jhuth bhi bolna pade jisse ki logo ka bhalai ho toh vaah jhuth bhi paap nahi hota hai sacchai jeevan ka ek jo ghatata hai usko aur behtar banana chahiye sacchai do tarah ke hote kisi ka nuksan nahi karna chahiye apne kisi swarth ke liye niji swarth ke liye kisi bhi jeev ya insaan ka nuksan nahi karna chahiye agar insaan khud ki nazar se gir jata hai use koi nahi utha sakta apna self respect ko hamesha banaye rakhna chahiye burayi ka ant karna chahiye burayi se jo karna chahiye sudharna chahiye agar sacchai ka potential hai us sacchai ko sweekar kar lena chahiye aur uske anusaar se apni agli rananiti ko banana chahiye namaskar

नमस्कार मेरा नाम अरुण कुमार मुखर्जी और बॉबी मुखर्जी है मैं पश्चिम बंगाल इंडिया से हूं देखि

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  83
WhatsApp_icon
user

Mayank

Philosopher

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन हमारे कर्मों के अनुसार प्रारब्ध का निर्माण करता है स्क्रीन क्लब में पुत्री के जीवन को समझ सकते हैं एक तो यह कि हम दोबारा पैदा होंगे यह सोचकर भी हंगरी भी नहीं पाप तुम भी ना करें क्योंकि यदि हम बात करेंगे तू इसका नुकसान हमें आगे चलकर होगा जब तक मैं मैगी चीज नहीं होगी तो हम रहेंगे ने बोला भी जाता है एक दो बातों को भूल मत दो चाहे कल्याण नारायण की मौत को तो श्री भगवान दूसरा तरीका यह है कि हम द्वारा जानने का तरीका है और ऐसा भी करें ऐसा सोचा नहीं होगा जिसमें है उसमें कुछ नहीं होनी चाहिए और कोई गलत हम काम न करें जितना हो सके परमार्थ सेवा करें बिना कर्म किए इंसान नहीं रह सकता यह जीवन गलत कर्म करेंगे उसका कल पाएंगे अच्छा काम करेंगे उसका फल

jeevan hamare karmon ke anusaar prarabdh ka nirmaan karta hai screen club me putri ke jeevan ko samajh sakte hain ek toh yah ki hum dobara paida honge yah sochkar bhi hungry bhi nahi paap tum bhi na kare kyonki yadi hum baat karenge tu iska nuksan hamein aage chalkar hoga jab tak main maggi cheez nahi hogi toh hum rahenge ne bola bhi jata hai ek do baaton ko bhool mat do chahen kalyan narayan ki maut ko toh shri bhagwan doosra tarika yah hai ki hum dwara jaanne ka tarika hai aur aisa bhi kare aisa socha nahi hoga jisme hai usme kuch nahi honi chahiye aur koi galat hum kaam na kare jitna ho sake parmaarth seva kare bina karm kiye insaan nahi reh sakta yah jeevan galat karm karenge uska kal payenge accha kaam karenge uska fal

जीवन हमारे कर्मों के अनुसार प्रारब्ध का निर्माण करता है स्क्रीन क्लब में पुत्री के जीवन क

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  103
WhatsApp_icon
user

Gopal Srivastava

Acupressure Acupuncture Sujok Therapist

0:38
Play

Likes  181  Dislikes    views  6207
WhatsApp_icon
user

अशोक गुप्ता

Founder of Vision Commercial Services.

1:12
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई एक ऐसा शब्द आपने प्रयोग किया है जीवन अनादि अनंत है इसका कोई ओर छोर नहीं इसकी पूरी सच्चाई को आज तक कोई नहीं जान पाया अविगत गति कछु कहत ना आवे जो गूंगे मीठे फल पोरस मन ही मन भावे इसलिए कोई आज तक में जान सके ना कोई जान पाएगा लिक जीवन जैसा मिला है उसको ऐसे ढंग से जीना चाहिए कि हमारा जीवन सुख में रहें और हम दूसरों को भी उसको दे सके सबके जीवन में हम खुशी बांट सके ऐसा करने से आप जीवन की सच्चाई के करीब हो जाएंगे और जीवन के बारे में बुद्धि से बहुत थोड़ा जाना जा सकता है इतना अगर आप अपने जीवन से दूसरों को और अपने को सुखी रखते हैं तो आप जीवन की सच्चाई की करीब अपने को पाएगा को मेरा स्नेह स्वीकार करें

jeevan ki sacchai ek aisa shabd aapne prayog kiya hai jeevan anadi anant hai iska koi aur chhor nahi iski puri sacchai ko aaj tak koi nahi jaan paya avigat gati kachu kaha na aawe jo gunge meethe fal porous man hi man bhave isliye koi aaj tak me jaan sake na koi jaan payega lick jeevan jaisa mila hai usko aise dhang se jeena chahiye ki hamara jeevan sukh me rahein aur hum dusro ko bhi usko de sake sabke jeevan me hum khushi baant sake aisa karne se aap jeevan ki sacchai ke kareeb ho jaenge aur jeevan ke bare me buddhi se bahut thoda jana ja sakta hai itna agar aap apne jeevan se dusro ko aur apne ko sukhi rakhte hain toh aap jeevan ki sacchai ki kareeb apne ko payega ko mera sneh sweekar kare

जीवन की सच्चाई एक ऐसा शब्द आपने प्रयोग किया है जीवन अनादि अनंत है इसका कोई ओर छोर नहीं इ

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  170
WhatsApp_icon
user

Harender Kumar Yadav

Career Counsellor.

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में कुछ शब्द ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है और सच्चाई का सामना भी हर सच्चाई का सामना जीवन की सच्चाई यह है कि हमारा शरीर नश्वर है हमें नष्ट होना है इसलिए इस धरती पर जब भी रहे हम ना कुछ अर्जित करें बल्कि अपने चरित्र निर्माण अपने एसकेपी पर ध्यान दें जिससे लोग यूपोलो तक याद रखें लेकिन इस सच्चाई को जानते हुए भी इंसान तरह-तरह के जतन करता तरह-तरह के यत्न करता है झूठ बोलता है पाप करता है बे विचार करता है कौन-कौन सी अंतर नहीं प्रचार करता है झूठ बोलता है उसे जानता है कि वह सब कुछ है जितना भी काम कर रहा हूं इतने गलत कर रहा हूं निश्चित तौर पर हम सब कुछ छोड़कर जाएगा और यह जो पाप कर रहा उसका भागीदार मैं ही हूं मैं ही उसको भुक्तभोगी हूं लेकिन फिर भी सब कर्म करता चला जाता है तो इस बात को दिए और मुझे कोई इस तरह की सच का सामना हम तो हमेशा करते रहें और हमेशा मैं कभी घबराता नहीं कोई कैसा भी हो किस लेवल कभी डरा नहीं अपनी मंजिल को अपने सिस्को पाता हूं और मेहनत मस्ती में चलता हूं और बच्चों को अपने स्टूडेंट को भी यही करता हूं हमेशा सच का सामना कर कैसी भी परिस्थितियां हो डटकर मुकाबला करो जिस दिन का लॉक डाउनलोड हर दिन में बच्चों से मिलता हूं प्रेरित करता वीडियो कॉलिंग करता हूं अपने टीचर को बोलता हूं घर में बैठे मत रहो कुछ ना कुछ करते रहो लोगों को अच्छी बातें बताओ और क्या हुआ घर से बाहर नहीं निकल जाते टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करो

aapke anusaar jeevan ki sacchai kya hai jeevan me kuch shabd aise bhi hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai aur sacchai ka samana bhi har sacchai ka samana jeevan ki sacchai yah hai ki hamara sharir nashwar hai hamein nasht hona hai isliye is dharti par jab bhi rahe hum na kuch arjit kare balki apne charitra nirmaan apne SKP par dhyan de jisse log yupolo tak yaad rakhen lekin is sacchai ko jante hue bhi insaan tarah tarah ke jatan karta tarah tarah ke yatn karta hai jhuth bolta hai paap karta hai be vichar karta hai kaun kaun si antar nahi prachar karta hai jhuth bolta hai use jaanta hai ki vaah sab kuch hai jitna bhi kaam kar raha hoon itne galat kar raha hoon nishchit taur par hum sab kuch chhodkar jaega aur yah jo paap kar raha uska bhagidaar main hi hoon main hi usko bhuktabhogi hoon lekin phir bhi sab karm karta chala jata hai toh is baat ko diye aur mujhe koi is tarah ki sach ka samana hum toh hamesha karte rahein aur hamesha main kabhi ghabrata nahi koi kaisa bhi ho kis level kabhi dara nahi apni manjil ko apne Cisco pata hoon aur mehnat masti me chalta hoon aur baccho ko apne student ko bhi yahi karta hoon hamesha sach ka samana kar kaisi bhi paristhiyaann ho dantkar muqabla karo jis din ka lock download har din me baccho se milta hoon prerit karta video Calling karta hoon apne teacher ko bolta hoon ghar me baithe mat raho kuch na kuch karte raho logo ko achi batein batao aur kya hua ghar se bahar nahi nikal jaate technology ka istemal karo

आपके अनुसार जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में कुछ शब्द ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर ह

Romanized Version
Likes  418  Dislikes    views  3170
WhatsApp_icon
user

ADV. JIVAN LADHI

Advocate, Financial Advisior And Online Bussiness Coach

2:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सर गुड मॉर्निंग जीवन का सच क्या है जीवन का सच तो प्रेजेंटेशन जैसे बीरबल और अकबर की कहानियां बीरबल कोहबर पूछता है कि कोई एक ऐसा सेंटेंस बताओ कि जो हर समय में परफेक्ट हो तो बीरबल सोच समझकर उसका जवाब देता है बोलता है कि यह कैसा सेंटेंस है कि जो अगर हम सुख में भी इसको बोलेंगे और दुख में भी अगर इसको बोलेंगे तो हर जगह भी यह परफेक्ट होगा तूने बोला था कि यह समय गुजर जाएगा तो जीवन का सत्य यही है कि कोई भी मतलब ना तो दुख परमिट है ना तो सुपर बंटी अगर आपको सुखी चाहिए लाइफ में तो क्या आपकी लाइफ में अगर दुख नहीं होगा तो उसका मजा आएगा मतलब अनियारा अगर होता नहीं तो क्या प्रकाश को जान पाते हैं वो रात में होती तो क्या दिन का मजा ले पाते हम उसी हिसाब से जीवन में जो भी है वह सब कुछ अच्छा ही है जैसे हमारे कृष्ण भगवान बोलते हैं जो होता है वह अच्छे के लिए होता है जो भी होता है अच्छे के लिए होता है तो सभी कुछ सामान के चली हो सकता है पूरी दुनिया इस खुराना वायरस को नेगेटिव लीले आप यह सोचे कि जो दुख है इसके बाद एक बहुत अच्छे दिन अच्छा समय हम सब मानव जाति के लिए आने वाला है तो जो भी समय मिला है हमें अपना चिंतन करने के लिए तो आत्म चिंतन कीजिए देखिए अपने अंदर के इंसान को शायद हो सकता है कि आपके हर एक सवाल का जवाब हमारे अंदर छिपा है तो थैंक यू

sir good morning jeevan ka sach kya hai jeevan ka sach toh presentation jaise birbal aur akbar ki kahaniya birbal kohabar poochta hai ki koi ek aisa sentence batao ki jo har samay me perfect ho toh birbal soch samajhkar uska jawab deta hai bolta hai ki yah kaisa sentence hai ki jo agar hum sukh me bhi isko bolenge aur dukh me bhi agar isko bolenge toh har jagah bhi yah perfect hoga tune bola tha ki yah samay gujar jaega toh jeevan ka satya yahi hai ki koi bhi matlab na toh dukh permit hai na toh super bunty agar aapko sukhi chahiye life me toh kya aapki life me agar dukh nahi hoga toh uska maza aayega matlab aniyara agar hota nahi toh kya prakash ko jaan paate hain vo raat me hoti toh kya din ka maza le paate hum usi hisab se jeevan me jo bhi hai vaah sab kuch accha hi hai jaise hamare krishna bhagwan bolte hain jo hota hai vaah acche ke liye hota hai jo bhi hota hai acche ke liye hota hai toh sabhi kuch saamaan ke chali ho sakta hai puri duniya is khurana virus ko Negative lile aap yah soche ki jo dukh hai iske baad ek bahut acche din accha samay hum sab manav jati ke liye aane vala hai toh jo bhi samay mila hai hamein apna chintan karne ke liye toh aatm chintan kijiye dekhiye apne andar ke insaan ko shayad ho sakta hai ki aapke har ek sawaal ka jawab hamare andar chhipa hai toh thank you

सर गुड मॉर्निंग जीवन का सच क्या है जीवन का सच तो प्रेजेंटेशन जैसे बीरबल और अकबर की कहानिया

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
user

Best Astrologer Anju Sharma

Astrologer Consultant

1:03
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आकाशवाणी है कि जीवन की सच्चाई क्या है जीवन की सच्चाई तो मृत्यु है जीवन में कुछ ऐसे सच होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है तो जिस बात से दुख हो उसे जानना ही नहीं चाहिए दूसरा क्वेश्चन आप तो है कि उस सच्चाई का हम सामना कैसे कर सकते हैं देखिए आप सब जानते हैं हर इंसान अपने आपको स्वयं बहुत अच्छे से जानता है और उसे जानना भी चाहिए अगर तो आप सच्चाई का सामना अपनी दिल पावर से अपनी आत्मशक्ति से कर सकते हैं और उस इंसान के लिए उससे उससे उस इंसान की मनोदशा को समझकर उसके साथ न्याय कर सकते हैं तू ही उस सच्चाई को जानिए अगर ना चाहते हुए भी आपको सच्चाई पता चल चुकी है फिर भी हमेशा अपने आप को दूसरे की जगह पर रख कर सोचेंगे तो आपसे जिंदगी में कभी गलत फैसला नहीं होगा थैंक यू

aakashwani hai ki jeevan ki sacchai kya hai jeevan ki sacchai toh mrityu hai jeevan me kuch aise sach hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai toh jis baat se dukh ho use janana hi nahi chahiye doosra question aap toh hai ki us sacchai ka hum samana kaise kar sakte hain dekhiye aap sab jante hain har insaan apne aapko swayam bahut acche se jaanta hai aur use janana bhi chahiye agar toh aap sacchai ka samana apni dil power se apni atmashakti se kar sakte hain aur us insaan ke liye usse usse us insaan ki manodasha ko samajhkar uske saath nyay kar sakte hain tu hi us sacchai ko janiye agar na chahte hue bhi aapko sacchai pata chal chuki hai phir bhi hamesha apne aap ko dusre ki jagah par rakh kar sochenge toh aapse zindagi me kabhi galat faisla nahi hoga thank you

आकाशवाणी है कि जीवन की सच्चाई क्या है जीवन की सच्चाई तो मृत्यु है जीवन में कुछ ऐसे सच होते

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  43
WhatsApp_icon
user

Govind Saraf

Entrepreneur

0:37
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई यही है कि जो हो गया उसे जाने दे और जो होने वाला है उस पर ध्यान दे कुछ गलती है तो उसे सीखे और आपको लग रहा है कि आप किसके बहुत ही ज्यादा बुरा किया है तो उसे क्षमा मांगे की संभावना कभी गलत नहीं है समावेशन कराया गया है असंभव से छोटा नहीं होता और सारे दुख दर्द दूर हो गया दूर हो जाते हैं उसे आगे ध्यान रखना किसी को अपनी ना हो जाए कि सामने वाला आपको सबके सामने वाला आपको बद्दुआ दे कि हम जुब्बल फलते बढ़ते सब दुआ से बढ़ते हैं और यह किसी की बद्दुआ ना

jeevan ki sacchai yahi hai ki jo ho gaya use jaane de aur jo hone vala hai us par dhyan de kuch galti hai toh use sikhe aur aapko lag raha hai ki aap kiske bahut hi zyada bura kiya hai toh use kshama mange ki sambhavna kabhi galat nahi hai samaveshan karaya gaya hai asambhav se chota nahi hota aur saare dukh dard dur ho gaya dur ho jaate hain use aage dhyan rakhna kisi ko apni na ho jaaye ki saamne vala aapko sabke saamne vala aapko baddua de ki hum jubbal falate badhte sab dua se badhte hain aur yah kisi ki baddua na

जीवन की सच्चाई यही है कि जो हो गया उसे जाने दे और जो होने वाला है उस पर ध्यान दे कुछ गलती

Romanized Version
Likes  634  Dislikes    views  6972
WhatsApp_icon
user

Harsh Goyal

Chemical Engineer

0:51
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई का सामना कैसे करें उस सच्चाई का सामना हम करें साक्षी भाव से दृष्टा भाव से उसे लिफ्ट ना होकर सुख क्या है और दुख क्या है सुख में होता है जो हमारे मन के अनुकूल होता है दुख में होता है जो हमारे मन के अनुकूल नहीं होता है जो दुख आपके सामने आ रहा है आने वाला है उसको साक्षी भाव से दीजिए उसको अपने दिल पर मत लीजिए

jeevan me kuch aise bhi hote hain jise sunkar yah jaankar hamein dukh hota hai us sacchai ka samana kaise kare us sacchai ka samana hum kare sakshi bhav se drishta bhav se use lift na hokar sukh kya hai aur dukh kya hai sukh me hota hai jo hamare man ke anukul hota hai dukh me hota hai jo hamare man ke anukul nahi hota hai jo dukh aapke saamne aa raha hai aane vala hai usko sakshi bhav se dijiye usko apne dil par mat lijiye

जीवन में कुछ ऐसे भी होते हैं जिसे सुनकर यह जानकर हमें दुख होता है उस सच्चाई का सामना कैसे

Romanized Version
Likes  17  Dislikes    views  336
WhatsApp_icon
Likes  252  Dislikes    views  2146
WhatsApp_icon
user

Agrim Gupta - Motivational Speaker

Motivational Speaker | Business Coach

3:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है प्रेम गुप्ता यह जो सवाल है कि जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में ऐसी कई चीजें हैं जिन्हें जानकर हमें दुख होता है लेकिन जीवन का यही है अनमोल सत्य है कि दुख और सुख इंसान को बराबर की मिलता है ऊपर वाले ने जितना बनाया है ना उससे ज्यादा ना उस पर 1 दिन का कम हमें सुख दुख की प्राप्ति होगी यह तो देखिए हमारे कर्मों का भगत मान है जो हम लोग देंगे और हमें इसी जन्म में भगत के जाना है यही सच है हमने जो भी कर्म किए हैं उन सब का भगत मान हमें भुगतना ही पड़ता है हम इस तथ्य को टाल नहीं सकते यह सत्य हमारे जीवन से अनमोल कड़ी की तरह जुड़ा हुआ है हमारे कर्म हमें फल जरूर देते हैं यह आप याद रखिए 90% कर्मों का 10 परसेंट किस्मत कभी रोल रहता है कभी-कभी कुछ लोग बहुत मेहनत करते हैं लेकिन किस्मत उन्हें वहां कि नहीं पहुंचा बाकी जाने जाना चाहिए यह जहां जाना था कुछ लोग मेहनत करना छोड़ देते हैं कुछ लोग ऊपर वाले की कृपा कुछ लोगों पर नहीं रहती लेकिन कृपा तो ऊपर वाले की सबके ही रहती है लेकिन कभी-कभी हमारी किस्मत था इसीलिए तो दोस्तों मैं अग्रिम गुप्ता आपसे यही चाहूंगा कि आपका पॉजिटिव जीवन व्यतीत करें जीवन एक नली की तरह है जिसके दो मुंह है जिरयान की नली में आधा दुख और आधा से भरा हुआ है अगर हम चाहें तो इस सुख और दुख की जो नली है उसमें अगर हम दुख की तरफ ध्यान देंगे तो हम दुख पर ही जीवन को ज्यादा समझेंगे और उसमें ही ज्यादा व्यतीत करेंगे लेकिन अगर हम दुख की तरफ ध्यान ही ना दें अम्मा ने ही ना दुख है तो जीवन में नली जीवन की इस नली में सिर्फ एक ही समझ आता है वह सुख तो जब हम से सुख की तरफ ध्यान देते हैं हमें किस चीज में आनंद आ रहा है किस चीज से हमें बहुत अच्छा लग रहा है प्रेरणा मिल रही है हमसे उन चीजों के जो अच्छाई है लोगों में वह देखे जो अच्छाई है प्रगति में वह देखें सिर्फ उन चीजों पे ध्यान दें तो दुख अपने आप अपने आप उस नदी से बाहर निकलता चला जाता है और सुख अपने आप हमारे जीवन में बढ़ता चला जाता है अगर हम ऐसा कर लेते हैं और इसमें हमें कामयाबी बहुत अच्छे से मिल जाती है तो हम जीवन में कभी दुखी नहीं होंगे मेरे दोस्तों यह बात याद रखिएगा मैं अग्रिम गुप्ता आपको इतना ही कहना चाहता हूं धन्यवाद

namaskar doston mera naam hai prem gupta yah jo sawaal hai ki jeevan ki sacchai kya hai jeevan me aisi kai cheezen hain jinhen jaankar hamein dukh hota hai lekin jeevan ka yahi hai anmol satya hai ki dukh aur sukh insaan ko barabar ki milta hai upar waale ne jitna banaya hai na usse zyada na us par 1 din ka kam hamein sukh dukh ki prapti hogi yah toh dekhiye hamare karmon ka bhagat maan hai jo hum log denge aur hamein isi janam me bhagat ke jana hai yahi sach hai humne jo bhi karm kiye hain un sab ka bhagat maan hamein bhugatna hi padta hai hum is tathya ko tal nahi sakte yah satya hamare jeevan se anmol kadi ki tarah juda hua hai hamare karm hamein fal zaroor dete hain yah aap yaad rakhiye 90 karmon ka 10 percent kismat kabhi roll rehta hai kabhi kabhi kuch log bahut mehnat karte hain lekin kismat unhe wahan ki nahi pohcha baki jaane jana chahiye yah jaha jana tha kuch log mehnat karna chhod dete hain kuch log upar waale ki kripa kuch logo par nahi rehti lekin kripa toh upar waale ki sabke hi rehti hai lekin kabhi kabhi hamari kismat tha isliye toh doston main agrim gupta aapse yahi chahunga ki aapka positive jeevan vyatit kare jeevan ek nali ki tarah hai jiske do mooh hai jirayan ki nali me aadha dukh aur aadha se bhara hua hai agar hum chahain toh is sukh aur dukh ki jo nali hai usme agar hum dukh ki taraf dhyan denge toh hum dukh par hi jeevan ko zyada samjhenge aur usme hi zyada vyatit karenge lekin agar hum dukh ki taraf dhyan hi na de amma ne hi na dukh hai toh jeevan me nali jeevan ki is nali me sirf ek hi samajh aata hai vaah sukh toh jab hum se sukh ki taraf dhyan dete hain hamein kis cheez me anand aa raha hai kis cheez se hamein bahut accha lag raha hai prerna mil rahi hai humse un chijon ke jo acchai hai logo me vaah dekhe jo acchai hai pragati me vaah dekhen sirf un chijon pe dhyan de toh dukh apne aap apne aap us nadi se bahar nikalta chala jata hai aur sukh apne aap hamare jeevan me badhta chala jata hai agar hum aisa kar lete hain aur isme hamein kamyabi bahut acche se mil jaati hai toh hum jeevan me kabhi dukhi nahi honge mere doston yah baat yaad rakhiega main agrim gupta aapko itna hi kehna chahta hoon dhanyavad

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम है प्रेम गुप्ता यह जो सवाल है कि जीवन की सच्चाई क्या है जीवन में

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  75
WhatsApp_icon
user

bhaand's Theatre and Acting Classes

Acting And drama Coach Casting director Drama Director

1:42
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए जीवन में कुछ सच ऐसे होते हैं जिसे सुनकर आपको दुख होता है तकलीफ होता है होती है विकी उसको एक घटना कर दीजिए आपके जीवन में घटित हुई घटना कर दीजिए और उससे अपने सीख लेकर कुछ नया किया अब उनसे सीखो और कुछ अलग करो तब आपको उस घटना से दुख नहीं होगा यह जो जीवन में घटित हो चुका है उसके बाद आपके जीवन में क्या परिवर्तन आया है उस परिवर्तन को देखो क्या सीख लिया आपने उन घटनाओं से जो दुख हो रहा है वह दुख का कारण क्या था और उस दुख को पाटने के लिए आपने ऐसी क्या चीज ताकि क्या कोशिश की उस कोशिश के बारे में सोचिए तो आपको उन बातों को कभी दुख नहीं होगा वह एक मोमेंट चले गए वह सिर्फ यादों में उन्हें याद करके दुखी ना हो उन्हें याद करके लोगों को उनको इस तरह से किससे बना लो कि लोगों को प्रेरणा मिले उससे और अगर उनके जीवन में ऐसी घटना हो तो वह कैसे समझ लेंगे वह कैसे सुलझाए अब उसके लिए उपयोग करो ऐसे मोमेंट को अब आपको उन मोमेंट से दुख नहीं होगा उन मोमेंट तो खुशी मिलेगी कि मैंने कुछ सीखा और किसी और का जीवन सुधारा धन्यवाद

dekhiye jeevan me kuch sach aise hote hain jise sunkar aapko dukh hota hai takleef hota hai hoti hai vicky usko ek ghatna kar dijiye aapke jeevan me ghatit hui ghatna kar dijiye aur usse apne seekh lekar kuch naya kiya ab unse sikho aur kuch alag karo tab aapko us ghatna se dukh nahi hoga yah jo jeevan me ghatit ho chuka hai uske baad aapke jeevan me kya parivartan aaya hai us parivartan ko dekho kya seekh liya aapne un ghatnaon se jo dukh ho raha hai vaah dukh ka karan kya tha aur us dukh ko patne ke liye aapne aisi kya cheez taki kya koshish ki us koshish ke bare me sochiye toh aapko un baaton ko kabhi dukh nahi hoga vaah ek moment chale gaye vaah sirf yaadon me unhe yaad karke dukhi na ho unhe yaad karke logo ko unko is tarah se kisse bana lo ki logo ko prerna mile usse aur agar unke jeevan me aisi ghatna ho toh vaah kaise samajh lenge vaah kaise suljhaye ab uske liye upyog karo aise moment ko ab aapko un moment se dukh nahi hoga un moment toh khushi milegi ki maine kuch seekha aur kisi aur ka jeevan sudhara dhanyavad

देखिए जीवन में कुछ सच ऐसे होते हैं जिसे सुनकर आपको दुख होता है तकलीफ होता है होती है विकी

Romanized Version
Likes  10  Dislikes    views  116
WhatsApp_icon
user

Tanya

Beautician & The modelling

0:43
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सच्चाई का सामना अब तक कर सकते हो जब आप झूठ से वाक्य थे अगर आपको छूट पता है झूठ को अगर आप एहसास कर लिया तो सच्चाई तो खुद-ब-खुद सामने आ जाती है तो सच्चाई का सामना यही होगा कि आप सच्चाई इसके साथ चलो आज सच्चाई के साथ रहो तो हर तौर पर आपको खुशी मिलेगी और सच्चाई आपके साथ रहेगी तो झूठ का सहारा मत लो और सच्चाई का साथी सच्चाई का सामना है

sacchai ka samana ab tak kar sakte ho jab aap jhuth se vakya the agar aapko chhut pata hai jhuth ko agar aap ehsaas kar liya toh sacchai toh khud bsp khud saamne aa jaati hai toh sacchai ka samana yahi hoga ki aap sacchai iske saath chalo aaj sacchai ke saath raho toh har taur par aapko khushi milegi aur sacchai aapke saath rahegi toh jhuth ka sahara mat lo aur sacchai ka sathi sacchai ka samana hai

सच्चाई का सामना अब तक कर सकते हो जब आप झूठ से वाक्य थे अगर आपको छूट पता है झूठ को अगर आप ए

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user

Bk Arun Kaushik

Youth Counselor Motivational Speaker

1:56
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

नमस्कार जीवन की सच्चाई वास्तव में स्वयं को ही जानना है व्यक्ति जीवन भर औरों को ही जानने में लगा देता है उज्जैन के बारे में जाने अनजाने में संसार से चला जाता है लेकिन समझ ही नहीं पाता कि वह संसार में किस लिए आया पैदा हुआ पढ़ा लिखा परिवार बनाया और उनका पालन पोषण किया और चला गया यह तो उसका संसार में आने का साधन था सच्चाई तो वह ढूंढ ही नहीं पाता कई बार अपनी सच्चाई दूसरों के व्यक्तियों से मुख से सुनकर हमें परेशानी होने लगती है दुख होता है परंतु याद रखना उसी समय तो हमें शैंपू समझने का मौका मिलता है उस समय कुछ पल के लिए शांत हो जाए अकेले में बैठ जाएं और अपने अंदर की तरफ चिंतन शुरू करें झांकी वह सच्चाई मुस्कुरा रही होती है तो उसे स्वीकार कीजिए और नया कदम बढ़ा कर आगे बढ़ेंगे तो आपको संतोष मिलेगा इसमें कोई शक नहीं सच्चाई जानकर हमारा अहंकार हमें रोकता है हम उस से दुखी होते हैं परंतु कुछ समय पश्चात यदि उसे हम समझ जाएं तो हम अपनी खुशी को खुद ही स्थापित कर सकते हैं यह सच्चाई हमारी जीवन का आधार बन जाती है थैंक यू

namaskar jeevan ki sacchai vaastav me swayam ko hi janana hai vyakti jeevan bhar auron ko hi jaanne me laga deta hai ujjain ke bare me jaane anjaane me sansar se chala jata hai lekin samajh hi nahi pata ki vaah sansar me kis liye aaya paida hua padha likha parivar banaya aur unka palan poshan kiya aur chala gaya yah toh uska sansar me aane ka sadhan tha sacchai toh vaah dhundh hi nahi pata kai baar apni sacchai dusro ke vyaktiyon se mukh se sunkar hamein pareshani hone lagti hai dukh hota hai parantu yaad rakhna usi samay toh hamein shampoo samjhne ka mauka milta hai us samay kuch pal ke liye shaant ho jaaye akele me baith jayen aur apne andar ki taraf chintan shuru kare jhanki vaah sacchai muskura rahi hoti hai toh use sweekar kijiye aur naya kadam badha kar aage badhenge toh aapko santosh milega isme koi shak nahi sacchai jaankar hamara ahankar hamein rokta hai hum us se dukhi hote hain parantu kuch samay pashchat yadi use hum samajh jayen toh hum apni khushi ko khud hi sthapit kar sakte hain yah sacchai hamari jeevan ka aadhar ban jaati hai thank you

नमस्कार जीवन की सच्चाई वास्तव में स्वयं को ही जानना है व्यक्ति जीवन भर औरों को ही जानने मे

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  84
WhatsApp_icon
user

Dr. Swapnil Patel

Ayurvedic Doctor

1:07
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जीवन की सच्चाई कुछ भी नहीं होती है वह परिस्थिति की सच्चाई होती है जो आपके सामने प्रत्यक्ष होता है जो आपको प्रत्यक्ष अवगत करा था और कुछ ऐसा है नहीं जो कि यह सुनकर आप दुखी हैं क्योंकि वह सामान्य अवस्था जीवन में सच्चाई का सामना करने के लिए मैं धैर्य की बात ही नहीं करूंगा क्योंकि दर्द तो होता ही है व्यक्ति के अंदर क्योंकि वह छोटा सा सामान्य जीवन यापन हो उसमें भी अधीर हो जाएगा तो जीवन यापन करना संभव नहीं रही बात सच्चाई की तो सच्चाई परिस्थिति पर निर्भर करती है तो परिस्थितियों के अनुकूल जो है उसका सामना करें और ऐसी परिस्थिति ना बनने दें कि आपको सामना करने में कठिनाई हो

jeevan ki sacchai kuch bhi nahi hoti hai vaah paristhiti ki sacchai hoti hai jo aapke saamne pratyaksh hota hai jo aapko pratyaksh avgat kara tha aur kuch aisa hai nahi jo ki yah sunkar aap dukhi hain kyonki vaah samanya avastha jeevan me sacchai ka samana karne ke liye main dhairya ki baat hi nahi karunga kyonki dard toh hota hi hai vyakti ke andar kyonki vaah chota sa samanya jeevan yaapan ho usme bhi adhir ho jaega toh jeevan yaapan karna sambhav nahi rahi baat sacchai ki toh sacchai paristhiti par nirbhar karti hai toh paristhitiyon ke anukul jo hai uska samana kare aur aisi paristhiti na banne de ki aapko samana karne me kathinai ho

जीवन की सच्चाई कुछ भी नहीं होती है वह परिस्थिति की सच्चाई होती है जो आपके सामने प्रत्यक्ष

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  55
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!