यह हम सब जानते है की सुख दुःख जीवन के दो पहलू है। पर क्या आप मुझे बता सकते है की मैं सुख को परिभाषित कैसे करूँ? अगर आप यह सवाल पढ़ रहे हैं तो क्या आप बता सकते हैं की आपके लिए ख़ुशी का मतलब क्या है?...


play
user

Umesh Upaadyay

Life Coach | Motivational Speaker

1:60

Likes  13  Dislikes    views  375
WhatsApp_icon
5 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

Ruchi Garg

Counsellor and Psychologist(Gold MEDALIST)

0:38
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

सुख वही है जो आपके चेहरे पर मुस्कान ले आए आप जो अपने जीवन में जो चाह रही हैं अगर उसमें से कुछ भी होता है आप चाहते हैं कि आपको एक नई साइकिल मिल जाए और आपको मिल जाती है तो वह यह आपके लिए सुख है तो आप अपने दोस्त को अचीव कर पाए आप और आपके आपके आपको अपने परिवार परिवार जन से खूब सारा प्यार मिले तो यही सुख है इसके अलावा जब आप किसी की मदद करती हैं और उस इंसान को बहुत अच्छा महसूस होता है उससे आपको खुशी मिलती है तो वह भी जो है सुख रही है

sukh wahi hai jo aapke chehre par muskaan le aaye aap jo apne jeevan mein jo chah rahi hain agar usme se kuch bhi hota hai aap chahte hain ki aapko ek nayi cycle mil jaaye aur aapko mil jaati hai toh vaah yah aapke liye sukh hai toh aap apne dost ko achieve kar paye aap aur aapke aapke aapko apne parivar parivar jan se khoob saara pyar mile toh yahi sukh hai iske alava jab aap kisi ki madad karti hain aur us insaan ko bahut accha mehsus hota hai usse aapko khushi milti hai toh vaah bhi jo hai sukh rahi hai

सुख वही है जो आपके चेहरे पर मुस्कान ले आए आप जो अपने जीवन में जो चाह रही हैं अगर उसमें से

Romanized Version
Likes  675  Dislikes    views  8436
WhatsApp_icon
user
1:45
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हैप्पीनेस की डेफिनेशन हर किसी के अलग-अलग होती है कोई पैसों को हैप्पीनेस कहता है कोई पृथ्वी को कहता है कोई कहता है कि मेरे पास बंगला हो गया है पीने का कोई कहता है कि मैं पी न्यूज़ की कोइ पर्टिकुलर एक निशानी होती है आप अगर कोई चीज क्यों करना चाहते हो आपको खुशी लॉन्ग टर्म के लिए नहीं होती आ जाता है कि 1 दिन की खुशी चाहिए आपको तो सही पर आपको एक महीने की चाहिए तो आप एक लॉन्ग टूर कर देंगे अगर आपको 1 साल की कोशिश चाहिए शादी कर ली थी अगर आपको जिंदगी भर की खुशी चाहिए तो आप जो काम करते हो काम को हमेशा के लिए प्यार करो क्योंकि जो हम करते हैं उसी से गरम ऊब चुके दे चुके हम काम करते हैं उससे प्यार करते रहे बिल पेमेंट के साथ करेंगे तो मैं खुशी मिलती लेकिन मुझे मेरी जिंदगी में यह गीत चाहिए और वह मैंने अचीव कर लिए तो मुझे खुशी मिलती का मतलब यह नहीं होता कि आप करोड़पति बनोगे तो खुशी मिलेगी जिसके देखने से इंसान की अलग अलग होती है आप अपने तरीके से

Happiness ki definition har kisi ke alag alag hoti hai koi paison ko Happiness kahata hai koi prithvi ko kahata hai koi kahata hai ki mere paas bangla ho gaya hai peene ka koi kahata hai ki main p news ki koi particular ek nishani hoti hai aap agar koi cheez kyon karna chahte ho aapko khushi long term ke liye nahi hoti aa jata hai ki 1 din ki khushi chahiye aapko toh sahi par aapko ek mahine ki chahiye toh aap ek long tour kar denge agar aapko 1 saal ki koshish chahiye shadi kar li thi agar aapko zindagi bhar ki khushi chahiye toh aap jo kaam karte ho kaam ko hamesha ke liye pyar karo kyonki jo hum karte hai usi se garam ub chuke de chuke hum kaam karte hai usse pyar karte rahe bill payment ke saath karenge toh main khushi milti lekin mujhe meri zindagi mein yah geet chahiye aur vaah maine achieve kar liye toh mujhe khushi milti ka matlab yah nahi hota ki aap crorepati banogey toh khushi milegi jiske dekhne se insaan ki alag alag hoti hai aap apne tarike se

हैप्पीनेस की डेफिनेशन हर किसी के अलग-अलग होती है कोई पैसों को हैप्पीनेस कहता है कोई पृथ्वी

Romanized Version
Likes  42  Dislikes    views  1402
WhatsApp_icon
user

Vikas Singh

Political Analyst

1:15
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

यह सत्य है कि जीवन के दो पहलू होते हैं एक का नाम है सुख एक का नाम दुख हेड और टेल सिक्के के दो पहलू होते हैं वैसे जीवन के भी दो पहलू होते हैं तो देखिए सुख का असली मतलब होता है कि सुख की प्राप्ति सुख की प्राप्ति का अनुभव कैसे करते हैं सपोर्ट करिए आपका जन्म किसी गरीब परिवार में हुआ है आपने जीवन में बहुत स्ट्रगल किया आपको पढ़ने के लिए पैसे नहीं है आपके पापा रिक्शा चला कर खेती करके आप को पढ़ाते हैं फिर आप आईएस की तैयारी करने के लिए बोलते हो फिर पापा बोलते हैं कि अरे यार मेरे पास इतने पैसे नहीं है फिर भी आपके पापा कहते हैं कि ठीक है बेटा तुम पढ़ाई करो मैं कोशिश करूंगा फिर यहां तक कि वह पूरा जमीन पे हैं मम्मी आपकी पूरा कहना भेज देती हैं उसके बाद रिजल्ट आता है जब यूपीएससी का तो आप का बैंक खाता है आईएस में यूपीएससी में फर्स्ट सेकंड उत्तर असली सुख की प्राप्ति होती है आपके माता पिता की आंखों में आंसू होता है आपकी आंखों में आंसू होता है वह सुख का शुभ होता है तो सुख का असली मतलब यही होता है धन्यवाद

yah satya hai ki jeevan ke do pahaloo hote hain ek ka naam hai sukh ek ka naam dukh head aur tell sikke ke do pahaloo hote hain waise jeevan ke bhi do pahaloo hote hain toh dekhiye sukh ka asli matlab hota hai ki sukh ki prapti sukh ki prapti ka anubhav kaise karte hain support kariye aapka janam kisi garib parivar mein hua hai aapne jeevan mein bahut struggle kiya aapko padhne ke liye paise nahi hai aapke papa riksha chala kar kheti karke aap ko padhate hain phir aap ias ki taiyari karne ke liye bolte ho phir papa bolte hain ki are yaar mere paas itne paise nahi hai phir bhi aapke papa kehte hain ki theek hai beta tum padhai karo main koshish karunga phir yahan tak ki vaah pura jameen pe hain mummy aapki pura kehna bhej deti hain uske baad result aata hai jab upsc ka toh aap ka bank khaata hai ias mein upsc mein first second uttar asli sukh ki prapti hoti hai aapke mata pita ki aankho mein aasu hota hai aapki aankho mein aasu hota hai vaah sukh ka shubha hota hai toh sukh ka asli matlab yahi hota hai dhanyavad

यह सत्य है कि जीवन के दो पहलू होते हैं एक का नाम है सुख एक का नाम दुख हेड और टेल सिक्के के

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  371
WhatsApp_icon
user

N. K. SINGH 'Nitesh'

Educator, Life Coach, Writer and Expert in British English Language, Author of Book/Fiction Lucky Girl (Love vs Marriage)

2:33
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपकी छुट्टी तो आप सभी परिभाषित कर सकते हैं खुशी हर व्यक्ति के लिए अलग अलग हो सकता है जैसे एक छोटा सा बच्चा है उसमें खेल रहा होता है और आप उसे पढ़ने के लिए करते हैं आप अच्छे नहीं लगते हैं उसे लगता है कि आप उस में बाधक बन रहे होंगे तो उसकी खुशी के लेकिन वही बच्चा जब बड़ा हो जाता और उसका बोर्ड का एग्जाम आता है तो उसमें आप उसको खेलने के लिए भी करते हैं तो वह नहीं खेलता है क्योंकि पढ़ाई करती है सर उसके ऊपर काम कर रहा होता है और उसको मैच खेलने नहीं खुशी मिलती है ना पढ़ने में खुशी मिलती है वही दबाव की तरह काम करता है तू वहां वह बिल्कुल खुशी से कट जाता हुआ फिर आगे बढ़ने लगता है खुशी की तलाश में तो फिर वह दोस्तों से बात करके खुश होता है अंत में इतना कह सकते हैं कि हमें अपने जीवन में संतुष्ट रहना सीखना होगा हम संतुष्ट रहना सीख जाएंगे उस दिन से खुश रहना भी सीख जाएंगे बिना संतुष्ट रहना सीखें कोई भी व्यक्ति दुनिया में खुश नहीं रह सकता यह जो ऊपर से दिखाया जा रहा है कि एक खुशी है उस व्यक्ति के पास बहुत ज्यादा पैसा है बहुत ज्यादा गाड़ियां है बंगले है तू खुश है उसकी अपनी खुशियां खुशी का हैप्पीनेस इंडेक्स किया है उसके दोनों टाइम की रोटी का जुगाड़ हो जाए उसे मिल जाए तो बहुत खुश होता है जब हम भी जाते हैं हमारी पॉकेट में पैसा होता है और हमें बहुत भूख लगी होती है वहां कोई दुकान नहीं होती मार्केट नहीं है जान खाना खा सकें लेकिन हमको यदि कहीं आगे चलकर भोजन हो जाता तो हम वहां सबसे अधिक खुश हो जाते हैं हम अपने घर परिवार में बेचैन हैं बाहर ही बेचैन है कोई प्यार ही नहीं करता सबको ऐसे ही जब कोई प्यार करने वाला व्यक्ति मिलता है तो आप खुश हो जाते हैं तो इस तरह खुशी की परिभाषा समय-समय पर बदलती रहती है लेकिन सारी खुशियों के पीछे आपकी संतुष्टि है कि आपने कोशिश करके अपने आप को संतुष्ट किया है या नहीं किया जो संतुष्ट करना सीख लेते हैं तो आप खुश होना भी देते हैं

aapki chhutti toh aap sabhi paribhashit kar sakte hain khushi har vyakti ke liye alag alag ho sakta hai jaise ek chota sa baccha hai usme khel raha hota hai aur aap use padhne ke liye karte hain aap acche nahi lagte hain use lagta hai ki aap us mein badhak ban rahe honge toh uski khushi ke lekin wahi baccha jab bada ho jata aur uska board ka exam aata hai toh usme aap usko khelne ke liye bhi karte hain toh vaah nahi khelta hai kyonki padhai karti hai sir uske upar kaam kar raha hota hai aur usko match khelne nahi khushi milti hai na padhne mein khushi milti hai wahi dabaav ki tarah kaam karta hai tu wahan vaah bilkul khushi se cut jata hua phir aage badhne lagta hai khushi ki talash mein toh phir vaah doston se baat karke khush hota hai ant mein itna keh sakte hain ki hamein apne jeevan mein santusht rehna sikhna hoga hum santusht rehna seekh jaenge us din se khush rehna bhi seekh jaenge bina santusht rehna sikhe koi bhi vyakti duniya mein khush nahi reh sakta yah jo upar se dikhaya ja raha hai ki ek khushi hai us vyakti ke paas bahut zyada paisa hai bahut zyada gadiyan hai bangale hai tu khush hai uski apni khushiya khushi ka Happiness index kiya hai uske dono time ki roti ka jugaad ho jaaye use mil jaaye toh bahut khush hota hai jab hum bhi jaate hain hamari pocket mein paisa hota hai aur hamein bahut bhukh lagi hoti hai wahan koi dukaan nahi hoti market nahi hai jaan khana kha sake lekin hamko yadi kahin aage chalkar bhojan ho jata toh hum wahan sabse adhik khush ho jaate hain hum apne ghar parivar mein bechain hain bahar hi bechain hai koi pyar hi nahi karta sabko aise hi jab koi pyar karne vala vyakti milta hai toh aap khush ho jaate hain toh is tarah khushi ki paribhasha samay samay par badalti rehti hai lekin saree khushiyon ke peeche aapki santushti hai ki aapne koshish karke apne aap ko santusht kiya hai ya nahi kiya jo santusht karna seekh lete hain toh aap khush hona bhi dete hain

आपकी छुट्टी तो आप सभी परिभाषित कर सकते हैं खुशी हर व्यक्ति के लिए अलग अलग हो सकता है जैसे

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  1
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!