क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है?...


user

Abhishek Vikram Singh

IT Administrator

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्लास्टिक पर बैन लगाना इसलिए जरूरी है क्योंकि प्लास्टिक से पर्यावरण को नुकसान हो रहा है इंसानों को नुकसान हो रहा है जानवरों को सबसे ज्यादा नुकसान होता है जो थे या जो प्लास्टिक के पनिया आज जानवर खा रहे हैं उनके पेट में जा रहा है उसकी वजह से उनकी बहुत बड़ी मात्रा में मृत्यु हो रही है और दूसरी बात यह है जहां तक वाहन लगा पाना संभव है कि नहीं बिल्कुल संभव है थोड़ा इसमें जनता के जागरूक होने की भी आवश्यकता है यदि जनता अगर जागरूक होगी तो यह चीज ज्यादा आसानी से और ज्यादा सफलतापूर्वक लागू किया जा सकता है मैन किया जा सकता है

plastic par ban lagana isliye zaroori hai kyonki plastic se paryavaran ko nuksan ho raha hai insano ko nuksan ho raha hai jaanvaro ko sabse zyada nuksan hota hai jo the ya jo plastic ke paniya aaj janwar kha rahe hain unke pet me ja raha hai uski wajah se unki bahut badi matra me mrityu ho rahi hai aur dusri baat yah hai jaha tak vaahan laga paana sambhav hai ki nahi bilkul sambhav hai thoda isme janta ke jagruk hone ki bhi avashyakta hai yadi janta agar jagruk hogi toh yah cheez zyada aasani se aur zyada safaltaapurvak laagu kiya ja sakta hai man kiya ja sakta hai

प्लास्टिक पर बैन लगाना इसलिए जरूरी है क्योंकि प्लास्टिक से पर्यावरण को नुकसान हो रहा है इं

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  63
WhatsApp_icon
22 जवाब
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
user

साकेत कुमार

Senior Software Developer

1:59
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे ख्याल से अपने प्लास्टिक के बहन को गलत समझ लिया प्लास्टिक के बैग से हमारा मतलब क्या है सबसे पहले को समझिए जब हम प्लास्टिक की बैंक की बात करते तो हम हंड्रेड परसेंट प्लास्टिक अपने मन की बात नहीं करते हम एक खास मूसा की पॉलिथीन बैग की बात करते हैं अष्ट की बात कहते चोरी साइकिल ही हो सकती या तो उनको रिसाइकल करना फिजूल नहीं है कि मुझे कॉस्ट आएगा उसे जो बने हुए पदार्थ मिलेंगे उनके बीच में ब्रेक इवन नहीं होगा तो वह घाटे का सौदा है तो वैसे पार्टी की बात करते हो 500 साल हजार साल लग जाते हैं उन्हें छोड़ने में और साइकिल होने में नेचुरल हम अगर आप देखेंगे प्लास्टिक की बात तो प्लास्टिक तो हर जगह यूज़ हो रहा है आप आज आपके बाइक की बॉडी फाइबर की बनी है भाभी पौष्टिक है आज आपके बोरिंग में जो पिक्चर है वह भी प्लास्टिक है हम उसको हम उसको बंद नहीं करना चाहते हैं अगर वह बंद कर देंगे तो जो प्राइसेज आज है उसका पैसे स्त्री टाइम छोटा चले जाएंगे कल की बात करें तो वह फिजिकल भी नहीं है आप जो स्पेस शटल भेज रहे हैं वह भी कारण है पर का बना हुआ है उसमें भी प्लास्टिक है हम पार्टी की बात नहीं करते हमें खास प्लास्टिक की बात करते हैं खास मिठाई के प्लास्टिक की बात करते हैं जो काफी हमारी इनरोलमेंट को डैमेज कर रहा है और उसको बंद करना क्या विकासशील देश के लिए आसान होगा देखिए मुश्किल है उसके बाद इस तरह के मुंह हम देख सकते हैं लेकिन फिर भी कुछ स्टेट थे जो सिलेक्टिव बन कर रहे हैं जैसे महाराष्ट्र है और B12 स्टेट हैं जिन्होंने सिलेक्टिव बैंक कर रखा है प्लास्टिक के पॉलीथिन बैग्स

mere khayal se apne plastic ke behen ko galat samajh liya plastic ke bag se hamara matlab kya hai sabse pehle ko samjhiye jab hum plastic ki bank ki baat karte toh hum hundred percent plastic apne man ki baat nahi karte hum ek khas musa ki polythene bag ki baat karte hain asht ki baat kehte chori cycle hi ho sakti ya toh unko recycle karna fizool nahi hai ki mujhe cost aayega use jo bane hue padarth milenge unke beech mein break even nahi hoga toh vaah ghate ka sauda hai toh waise party ki baat karte ho 500 saal hazaar saal lag jaate hain unhe chodne mein aur cycle hone mein natural hum agar aap dekhenge plastic ki baat toh plastic toh har jagah use ho raha hai aap aaj aapke bike ki body fiber ki bani hai bhabhi पौष्टिक hai aaj aapke boaring mein jo picture hai vaah bhi plastic hai hum usko hum usko band nahi karna chahte hain agar vaah band kar denge toh jo prices aaj hai uska paise stree time chota chale jaenge kal ki baat karen toh vaah physical bhi nahi hai aap jo space shatal bhej rahe hain vaah bhi karan hai par ka bana hua hai usmein bhi plastic hai hum party ki baat nahi karte hamein khas plastic ki baat karte hain khas mithai ke plastic ki baat karte hain jo kafi hamari enrollment ko damage kar raha hai aur usko band karna kya vikasshil desh ke liye aasaan hoga dekhiye mushkil hai uske baad is tarah ke mooh hum dekh sakte hain lekin phir bhi kuch state the jo selective ban kar rahe hain jaise maharashtra hai aur B12 state hain jinhone selective bank kar rakha hai plastic ke polythene bags

मेरे ख्याल से अपने प्लास्टिक के बहन को गलत समझ लिया प्लास्टिक के बैग से हमारा मतलब क्या है

Romanized Version
Likes  65  Dislikes    views  1004
WhatsApp_icon
user

Hima Agarwal

Journalist

0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है प्रतिबंधित में 2 तरीके से लगाया जा सकता है सबसे पहली बात अगर हम करेंगे तो सामाजिक चेतना समाजिक चेतना कौन लेकर आएगा जो हमारे हैं छोटे-छोटे समूह चलते हैं जो एनजीओस चल रहे हैं उनकी मदद के द्वारा हम इस पर बैन लगा सकते हैं दूसरा जो मरी राजनेताओं की राजनीतिक इच्छाशक्ति है उनके द्वारा जब राजनीतिकरण हो जाएगा तो कुछ भी संभव नहीं है

plastic par ban lagana sambhav hai pratibandhit mein 2 tarike se lagaya ja sakta hai sabse pehli baat agar hum karenge toh samajik chetna samajik chetna kaun lekar aayega jo hamare hain chhote chhote samuh chalte hain jo enajios chal rahe hain unki madad ke dwara hum is par ban laga sakte hain doosra jo mari rajnetao ki raajnitik ichchhaashakti hai unke dwara jab rajneetikaran ho jaega toh kuch bhi sambhav nahi hai

प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है प्रतिबंधित में 2 तरीके से लगाया जा सकता है सबसे पहली बात अग

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  521
WhatsApp_icon
play
user

Vimal

Engineer

0:50

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

एकदम कम करो खूब बड़े-बड़े उसको हैं उनमें कितनी बार कर चुके है जो भी उन लोग यूज़ करना चाहते हैं

ekdam kam karo khoob bade bade usko hain unmen kitni baar kar chuke hai jo bhi un log use karna chahte hain

एकदम कम करो खूब बड़े-बड़े उसको हैं उनमें कितनी बार कर चुके है जो भी उन लोग यूज़ करना चाहते

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  4
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्योंकि जो बैग लगाने वाले हैं उनकी पॉलिसी है वह साफ नहीं है किसी के लिए कुछ क्वालिटी है किसी के लिए अलग कॉलेज की एक लड़की थी एक एक पॉलिथीन बैग पर जानकारी करता है पहले वाला उसके लिए पॉलिसी अलग है क्लास कंपनी उनके लिए पॉलिसी अलग है अपना कैरी कर सकते हैं सबसे बड़ी कंप्यूटर

kyonki jo bag lagane waale hain unki policy hai vaah saaf nahi hai kisi ke liye kuch quality hai kisi ke liye alag college ki ek ladki thi ek ek polythene bag par jaankari karta hai pehle vala uske liye policy alag hai class company unke liye policy alag hai apna carry kar sakte hain sabse badi computer

क्योंकि जो बैग लगाने वाले हैं उनकी पॉलिसी है वह साफ नहीं है किसी के लिए कुछ क्वालिटी है कि

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  295
WhatsApp_icon
user

Parminder Ahuja

Journalist

0:26
Play

Likes  14  Dislikes    views  544
WhatsApp_icon
user
1:24
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

अगर आप सही एडमिस्ट्रेशन का रिकॉर्ड देखें तो उसमें डिप्टी कमिश्नर होते हैं डिस्ट्रिक्ट होते हैं जो इंपॉर्टेंट प्रॉपर तरीके से पहले हमने चंडीगढ़ में कोई बिना बेल्ट से गाड़ी निकल आता क्यों छुट्टी है कि जब तक कि नहीं होगी उसके लिए एक इच्छा शक्ति चाहिए पावर चाहिए इसको हम करके दिखाएंगे बंद करना है तो बंद करना है तो क्यों बहुत सारी है तो उसकी दसवीं के पेपर पेपर आते हैं कम से कम अगर शक्ति से बहन हुआ पेपर बैग चलेंगे तो कम से कम लोगों को रोजगार मिलेगा और महिलाएं

agar aap sahi edamistreshan ka record dekhen toh usmein deputy commissioner hote hain district hote hain jo important proper tarike se pehle humne chandigarh mein koi bina belt se gaadi nikal aata kyon chhutti hai ki jab tak ki nahi hogi uske liye ek iccha shakti chahiye power chahiye isko hum karke dikhayenge band karna hai toh band karna hai toh kyon bahut saree hai toh uski dasavi ke paper paper aate hain kam se kam agar shakti se behen hua paper bag chalenge toh kam se kam logon ko rojgar milega aur mahilaen

अगर आप सही एडमिस्ट्रेशन का रिकॉर्ड देखें तो उसमें डिप्टी कमिश्नर होते हैं डिस्ट्रिक्ट होते

Romanized Version
Likes  14  Dislikes    views  422
WhatsApp_icon
user

Abhishek Shekher Gaur

Civil Engineer

2:57
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक बैन लगा पाना संभव है देखिए सरकार अगर चाहे तो बैन लग सकता है लेकिन बात यह है कि जब भी बैन लगाया जाता है तू किसी भी चीज पर बैन लगाया जाएगा कोई भी चीज इरेस्पेक्टिव में पॉलिसी पहले दिन के बाद नहीं कर रहा किसी भी चीज का अगर बहन लगाया जाए किसी प्लास्टिक पर या किसी चीज पर उसमें सबसे बड़ी चीज होती है आप हर थोड़े दिन में या फिर हर उस की रेगुलर जांच होती है कहीं यह फिर से मार्केट में चलो तो नहीं करने लग गया यह चीज इंडिया में होती नहीं है इस वजह से हमारे यहां कुछ भी बैन करना मुश्किल हो जाता है लोग दूसरे तरीके निकाल लेते हैं और या फिर जो लोग पुलिस पुलिस उनके हाथ में काम होता हमको पैसे खिलाने लगते हैं उनका काम चलने लगता है जैसे कि देखिए प्लास्टिक बैन हुई थी आ जाएगी आप आपको बहुत सारी जगह मिल जाएगी बहुत सारी जगह नहीं मिलेगी जहां स्ट्रिक्ट है एडमिनिस्ट्रेशन वहां पे नहीं मिल रही है लेकिन बहुत सारी जगह मिल गई है मैंने देखा है बहुत सारी जगह मिल रही है आज भी तो इससे पता चलता है कि जब तक लगातार जांच नहीं होती रहेगी मार्केट फिर से पॉलिथीन तो नहीं आ गई है फिर से प्लास्टिकली उस प्लास्टिक तो नहीं आ गया है तब तक यह सब सही नहीं हो सकता और जो सिंगरी उस प्लास्टिक वाली फैक्ट्री से पहले उन पर वह करना चाहिए उनसे को बंद करना चाहिए ताकि यह बनना बंद हो तो अब सोचिए आप अगर उस इंग्लिश प्लास्टिक लगातार बंद तो मार्केट में वह आएगा चाहे वह लिली के लिए चोरी छुपे मार्केट में आएगा ही आएगा क्योंकि उसके मार्केट बनी हुई है अगर आपको उसकी मार्केट बंद करनी है तो या तो लोग ब्लॉक लेना बंद कर दें या तुझे बना रहा है उसको ही रोक दिया जाए तो लोग तो लेना बंद करते नहीं है क्योंकि हमें तो वही चीज है जो आसानी से हो जाए हमें नीति नहीं चलना में से कोई फर्क पड़ता नहीं है देखिए ब्रूटल यहां तो बोल रहा हूं हम इंडियंस को हम भारतीयों को ज्यादातर फर्क पड़ता है नहीं कि नेचर को क्या हो रहा है सच बात यही है इसलिए हम लोग कूड़ा पर लात नहीं इसीलिए हम लोग कुछ भी करते हैं ना बहुत कम मैंने रिस्पांसिबल लोग देखे हैं जो अगर 10 कदम 12 कदम दूर कूड़ादन दिख जाएगा तो वह उतना चल के कूड़ेदान में डालेंगे वरना लोग इधर-उधर फेंक देते हैं उनको फर्क नहीं पड़ता है तो ऐसे में यहां पर यही जरूरी हो जाता है कि या तो जनता शुद्ध या तो सरकार ऐसी फैक्ट्री बंद करें सही बात है जो फैक्ट या तो डिमांड आना बंद हो जाएगा तो सप्लाई आना बंद हो जाना बंद हो जाएगी तो डर जाएगी लेकिन इन दोनों में से कुछ भी मन नहीं हो रहा तो यह चोरी चुपे मार्केट में प्लास्टिक आती जा रही है थैंक यू

kya bharat jaise vikasshil desh mein plastic ban laga paana sambhav hai dekhiye sarkar agar chahen toh ban lag sakta hai lekin baat yah hai ki jab bhi ban lagaya jata hai tu kisi bhi cheez par ban lagaya jaega koi bhi cheez irrespective mein policy pehle din ke baad nahi kar raha kisi bhi cheez ka agar behen lagaya jaaye kisi plastic par ya kisi cheez par usme sabse badi cheez hoti hai aap har thode din mein ya phir har us ki regular jaanch hoti hai kahin yah phir se market mein chalo toh nahi karne lag gaya yah cheez india mein hoti nahi hai is wajah se hamare yahan kuch bhi ban karna mushkil ho jata hai log dusre tarike nikaal lete hain aur ya phir jo log police police unke hath mein kaam hota hamko paise khilane lagte hain unka kaam chalne lagta hai jaise ki dekhiye plastic ban hui thi aa jayegi aap aapko bahut saari jagah mil jayegi bahut saari jagah nahi milegi jahan strict hai administration wahan pe nahi mil rahi hai lekin bahut saari jagah mil gayi hai maine dekha hai bahut saari jagah mil rahi hai aaj bhi toh isse pata chalta hai ki jab tak lagatar jaanch nahi hoti rahegi market phir se polythene toh nahi aa gayi hai phir se plastikali us plastic toh nahi aa gaya hai tab tak yah sab sahi nahi ho sakta aur jo singari us plastic waali factory se pehle un par vaah karna chahiye unse ko band karna chahiye taki yah banna band ho toh ab sochiye aap agar us english plastic lagatar band toh market mein vaah aayega chahen vaah lily ke liye chori chhupe market mein aayega hi aayega kyonki uske market bani hui hai agar aapko uski market band karni hai toh ya toh log block lena band kar dein ya tujhe bana raha hai usko hi rok diya jaaye toh log toh lena band karte nahi hai kyonki hamein toh wahi cheez hai jo aasani se ho jaaye hamein niti nahi chalna mein se koi fark padta nahi hai dekhiye brutal yahan toh bol raha hoon hum indians ko hum bharatiyon ko jyadatar fark padta hai nahi ki nature ko kya ho raha hai sach baat yahi hai isliye hum log kooda par laat nahi isliye hum log kuch bhi karte hain na bahut kam maine rispansibal log dekhe hain jo agar 10 kadam 12 kadam dur kudadan dikh jaega toh vaah utana chal ke koodedaan mein daalenge varana log idhar udhar fenk dete hain unko fark nahi padta hai toh aise mein yahan par yahi zaroori ho jata hai ki ya toh janta shudh ya toh sarkar aisi factory band karen sahi baat hai jo fact ya toh demand aana band ho jaega toh supply aana band ho jana band ho jayegi toh dar jayegi lekin in dono mein se kuch bhi man nahi ho raha toh yah chori chupe market mein plastic aati ja rahi hai thank you

क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक बैन लगा पाना संभव है देखिए सरकार अगर चाहे तो बैन

Romanized Version
Likes  74  Dislikes    views  2259
WhatsApp_icon
user

Sachin Sinha

Journalist

3:16
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

क्या भारत जैसे विकसित देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है जनाब आप सभी भक्तों से कमीशन खाइए गा मेन रोड प्लास्टिक प्लास्टिक उद्योग जो हमें बहुत फल-फूल रहा है आप लोग कल फल वाले और सब्जी वालों से अगर आपको प्लास्टिक को जमा करके उनसे पैसा नहीं करवाते हैं कि आपका तानाशाही रवैया है जिंदगी में बैन नहीं लग सकता जब तक कि आप प्लास्टिक उद्योगों पर नकेल कसें यह तो वही हो गया उल्टा चोर कोतवाल को डांटे टाइप हो गया काम आज मैं ₹1 का सामान दाल के आपको देता हूं धान के बिया अपमान दीजिए कि आप मेरे पास आए हुए हैं एक व्यापारी हूं और आप मेरे यहां आए हुए जितना टाइम पास कर इंडस्ट्रीज है उसका रेट हमको बाकी से बाकी बैग से हम अगर आपको उसका रेट भी जोड़ कर बताते तो आपको दर्द होता है आदमी जब मार्केट हो निकलता तो यह सोचा कि कौन सी चीज हमको बहुत ज्यादा कम रेट में खासकर महिलाओं में ही है बहुत कम रेट में मिलनी चाहिए हमको तुम पार्क में जो करते हैं उसमें अगर आपको पता नहीं था माय छोड़ करके आपको इसका दाम 15 से ₹20 तो उसको मैनेज कहां कर पाएगा और सबसे बड़ी बात सबसे पहले शुरुआत की गई थी लघु उद्योग की लघु उद्योग से आप कब कपड़े पर उधारी छोटे-छोटे उद्योग थे जो हैंडबैग हो घर बनाते थे या ऐसा प्रोडक्ट बनाते थे पुट्ठे का पहले दोनों समान रखने के लिए मना करता था उठेगा वह सबूत दो बंद हो चुके हैं उस पर इतना टैक्स लगा दिया गया और लगातार छूट दी गई होती तो उस पर वही अभी चला होता पहले दूध शक्कर सच्ची जोशी क्या बोलते हम को उस में डाल कर दिया जाता था उसके बाद ज्यादा कमाने के चक्कर में और हम बालकनी के चक्कर में रह गए हम फुल बाजार निकलते हैं तो कई पैसा हमारे पास पहुंचने चाहिए तो उससे उनके पास भी है कि आए दिन सामान का रेट ऑफ दिन पड़ रहा है डीजल पेट्रोल बड़ा गैस के दाम बढ़े राशन के दाम बढ़े तो उनका नंबर ने भी जरूरी है और उनको ग्राहक भी संभालना है तो वह सीधा प्लास्टिक का उपयोग करने लगे तो मैंने आप जब तक प्लास्टिक उद्योग छोटे उद्योग में पड़े उद्योग हूं वह कहते हैं लेकिन आपको मुद्दों को बंद करना है तभी जाकर के क्या बंद हो पाएगा और भारत में जिस हिसाब से प्लास्टिक बैन की बात की जाती है उससे तो आप जीवन भर लगा दीजिए 900 साल भी लगा लीजिए तो हजार साल में भी आप बंद नहीं करा पाएंगे

kya bharat jaise viksit desh mein plastic par ban laga paana sambhav hai janab aap sabhi bhakton se commision khaiye jaayega main road plastic plastic udyog jo hamein bahut fal fool raha hai aap log kal fal waale aur sabzi walon se agar aapko plastic ko jama karke unse paisa nahi karwaate hain ki aapka tanashahi ravaiya hai zindagi mein ban nahi lag sakta jab tak ki aap plastic udyogon par nakel kasen yah toh wahi ho gaya ulta chor kotwal ko Dante type ho gaya kaam aaj main Rs ka saamaan daal ke aapko deta hoon dhaan ke biya apman dijiye ki aap mere paas aaye hue hain ek vyapaari hoon aur aap mere yahan aaye hue jitna time paas kar industries hai uska rate hamko baki se baki bag se hum agar aapko uska rate bhi jod kar batatey toh aapko dard hota hai aadmi jab market ho nikalta toh yah socha ki kaun si cheez hamko bahut zyada kam rate mein khaskar mahilaon mein hi hai bahut kam rate mein milani chahiye hamko tum park mein jo karte hain usmein agar aapko pata nahi tha my chhod karke aapko iska daam 15 se Rs toh usko manage kahaan kar payega aur sabse badi baat sabse pehle shuruaat ki gayi thi laghu udyog ki laghu udyog se aap kab kapde par udhari chhote chhote udyog the jo haindabaig ho ghar banate the ya aisa product banate the putthe ka pehle dono saman rakhne ke liye mana karta tha uthega vaah sabut do band ho chuke hain us par itna tax laga diya gaya aur lagatar chhut di gayi hoti toh us par wahi abhi chala hota pehle doodh shakkar sachi joshi kya bolte hum ko us mein daal kar diya jata tha uske baad zyada kamane ke chakkar mein aur hum balakani ke chakkar mein reh gaye hum full bazaar nikalte hain toh kai paisa hamare paas pahuchne chahiye toh usse unke paas bhi hai ki aaye din saamaan ka rate of din pad raha hai diesel petrol bada gas ke daam badhe raashan ke daam badhe toh unka number ne bhi zaroori hai aur unko grahak bhi sambhaalna hai toh vaah seedha plastic ka upyog karne lage toh maine aap jab tak plastic udyog chhote udyog mein pade udyog hoon vaah kehte hain lekin aapko muddon ko band karna hai tabhi jaakar ke kya band ho payega aur bharat mein jis hisab se plastic ban ki baat ki jaati hai usse toh aap jeevan bhar laga dijiye 900 saal bhi laga lijiye toh hazaar saal mein bhi aap band nahi kara payenge

क्या भारत जैसे विकसित देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है जनाब आप सभी भक्तों से कमीश

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  63
WhatsApp_icon
user

Rishi Tiwari

Journalist

0:17
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत जैसे विकासशील देशों पर देशों में प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है लेकिन यह संभव तभी होगा जब हम सब लोग खुद स्तर पर लगाने की कोशिश करेंगे और कोशिश करेंगे तब कुछ भी असंभव संभव हो सकता है

bharat jaise vikasshil deshon par deshon mein plastic par ban lagana sambhav hai lekin yah sambhav tabhi hoga jab hum sab log khud sthar par lagane ki koshish karenge aur koshish karenge tab kuch bhi asambhav sambhav ho sakta hai

भारत जैसे विकासशील देशों पर देशों में प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है लेकिन यह संभव तभी होग

Romanized Version
Likes  18  Dislikes    views  200
WhatsApp_icon
user

Sa Sha

Journalist since 1986

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत में प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध पूरी तरह से संभव नहीं लगता वैसे भी अदालतों और सरकार की तरफ से प्लास्टिक संस्कृति पर विराम लगाने के लिए कई फैसले आदेश आदेश जारी किए गए लेकिन उनका कोई खास असर नजर नहीं आता है देखा जाए तो भारत में प्लास्टिक का प्रवेश लगभग साठ के दशक में शुरू हुआ था और आज जीती या हो गई हे पहाड़ की शक्ल में तब्दील हो गया है 2 साल पहले भारत में अकेले ऑटो उद्योग में 5000 टन सालाना इसका उपयोग होता था हर रोज हमारे यहां 1000 टन प्लास्टिक का कचरा जमा होता है बताया जाता है कि इसका 75201 कम मूल्य की चप्पलों और प्लास्टिक के सामान के निर्माण में खर्च आता है पर रीसाइक्लिंग प्लास्टिक और भी खतरनाक होता है तमाम जद्दोजहद के बाद यह साफ हो गया है कि पूरी तरह से प्रतिबंध तो मुमकिन नहीं है पर इसके उपयोग के प्रति लोगों में जागरूकता लाकर नियंत्रण जरूर हो सकता है इसके अलावा नई संभावनाएं भी तलाशी जानी चाहिए जैसे कि कुछ समय पहले बेंगलुरु में ही इज रीसायकल प्लास्टिक का उपयोग सड़क बनाने में किया जाने लगा है और इसका से अहमद खान नाम के एक उद्योगपति को जाता है जिन्होंने बंगलुरु की कई सड़कों का नेपाल इन प्लास्टिक के क्या है किसे मिला रोड कनिंघम रोड ओल्ड मद्रास रोड मैसूर रोड लालबाग जयनगर कनकपुरा की सड़कें इन हिंदी साइकिल प्लास्टिक बताइए

bharat mein plastic ke upyog par pratibandh puri tarah se sambhav nahi lagta waise bhi adalaton aur sarkar ki taraf se plastic sanskriti par viraam lagane ke liye kai faisle aadesh aadesh jaari kiye gaye lekin unka koi khas asar nazar nahi aata hai dekha jaaye toh bharat mein plastic ka pravesh lagbhag saath ke dashak mein shuru hua tha aur aaj jeeti ya ho gayi hai pahad ki shakl mein tabdil ho gaya hai 2 saal pehle bharat mein akele auto udyog mein 5000 ton salana iska upyog hota tha har roj hamare yahan 1000 ton plastic ka kachra jama hota hai bataya jata hai ki iska 75201 kam mulya ki chappalon aur plastic ke saamaan ke nirmaan mein kharch aata hai par recycling plastic aur bhi khataranaak hota hai tamaam jaddojahad ke baad yah saaf ho gaya hai ki puri tarah se pratibandh toh mumkin nahi hai par iske upyog ke prati logon mein jagrukta lakar niyantran zaroor ho sakta hai iske alava nayi sambhavnayen bhi talashi jani chahiye jaise ki kuch samay pehle bengaluru mein hi is risayakal plastic ka upyog sadak banaane mein kiya jaane laga hai aur iska se ahmad khan naam ke ek udyogpati ko jata hai jinhone bengaluru ki kai sadkon ka nepal in plastic ke kya hai kise mila road kaningham road old madras road mysore road lalbag jayanagar kanakpura ki sadaken in hindi cycle plastic bataiye

भारत में प्लास्टिक के उपयोग पर प्रतिबंध पूरी तरह से संभव नहीं लगता वैसे भी अदालतों और सरका

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
user

Kush Goswami

Business Consultant

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हेलो भाई यह कोई बड़ी प्रॉब्लम नहीं है कोई भी डेवलप कंट्री होती है अगर वह चाहे वहां कंट्री के जो भी लोग रहते हैं वहां पर अगर वह चाहें उन्हें वार्मिंग से प्यार हो जाए या फिर कोई उन्हें समझाया कि प्रकृति में मतलब कितनी सारी चीजें चुकी है उसका सौंदर्य कैसे होगा ब्यूटी जो होती है वह कि वह कैसे मेंटेन रहेगी लोग जब धीरे-धीरे समझते जाएंगे कि प्लास्टिक से मुझको देख तो यह भी नहीं होती है और फिर बाद में कहीं भी कोई भी एनिमल हमारी गौ माता को बोलते हम बहुत ज्यादा उनकी पूजा करते हैं यह करते हैं मैंने बहुत बार देखा है कि रास्तों में 10 दिन में जाकर वह खाते रहती है सब्जियां और साथियों प्लास्टिक बैग भी खा जाती हैं तो फिर पॉलिथीन बैग खा जाती है तो अगर हम चाहे तो खुद ब खुद हम प्लास्टिक बैन कर सकते हैं हम अगर खुद से शुरू करें कि भाई आज से प्लास्टिक का कोई भी यूज भी कर लूंगा पैकेट मिलूंगा कोशिश करूंगा जितना हो सके घर से बैग लेकर जाऊंगा तो वहीं पर ही लाऊं कि आज से पहले 50 साल पहले 20 साल पहले 25 साल पहले प्लास्टिक नहीं होती थी पॉलिथीन बैग नहीं होता था अभी ज्यादा यूज़ करने लग गया क्योंकि हमें सब कुछ खा लिया जाना है वहां से वापस आना है हम ज्यादा विश्वसनीय नहीं जा सकते घर से क्यों कोई हमें कैसा लगेगा अच्छा नहीं लगेगा बैठ जाएंगे पर हम कुछ अलग ही नजरिया लेकर शुरू करें यह एक मुहिम शुरू करें कि भाई अब से प्लास्टिक का यूज नहीं करना और पॉलिथीन पैकिंग करना है तो फिर यह बहुत जल्दी खत्म हो जाएगा एक दिन आपको देखते देखते थे

hello bhai yah koi badi problem nahi hai koi bhi develop country hoti hai agar vaah chahen wahan country ke jo bhi log rehte hain wahan par agar vaah chahain unhe warming se pyar ho jaaye ya phir koi unhe samjhaya ki prakriti me matlab kitni saari cheezen chuki hai uska saundarya kaise hoga beauty jo hoti hai vaah ki vaah kaise maintain rahegi log jab dhire dhire samajhte jaenge ki plastic se mujhko dekh toh yah bhi nahi hoti hai aur phir baad me kahin bhi koi bhi animal hamari gau mata ko bolte hum bahut zyada unki puja karte hain yah karte hain maine bahut baar dekha hai ki raston me 10 din me jaakar vaah khate rehti hai sabjiyan aur sathiyo plastic bag bhi kha jaati hain toh phir polythene bag kha jaati hai toh agar hum chahen toh khud bsp khud hum plastic ban kar sakte hain hum agar khud se shuru kare ki bhai aaj se plastic ka koi bhi use bhi kar lunga packet milunga koshish karunga jitna ho sake ghar se bag lekar jaunga toh wahi par hi laun ki aaj se pehle 50 saal pehle 20 saal pehle 25 saal pehle plastic nahi hoti thi polythene bag nahi hota tha abhi zyada use karne lag gaya kyonki hamein sab kuch kha liya jana hai wahan se wapas aana hai hum zyada viswasniya nahi ja sakte ghar se kyon koi hamein kaisa lagega accha nahi lagega baith jaenge par hum kuch alag hi najariya lekar shuru kare yah ek muhim shuru kare ki bhai ab se plastic ka use nahi karna aur polythene packing karna hai toh phir yah bahut jaldi khatam ho jaega ek din aapko dekhte dekhte the

हेलो भाई यह कोई बड़ी प्रॉब्लम नहीं है कोई भी डेवलप कंट्री होती है अगर वह चाहे वहां कंट्री

Romanized Version
Likes  5  Dislikes    views  36
WhatsApp_icon
user
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

हाय आप का सवाल है क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है ग्रीन देश में प्लास्टिक बैन लगा पाना संभव है कहीं यह तो पहले से बने हुए हैं कि जो भगवान मैंने पहले से बना रखी है कुछ है कानून जो लोगों को फॉलो करने चाहिए लेकिन क्या है कि लोगों की यह सरकार की सख्ती से नहीं होगा यह प्लास्टिक बैन यह लोगों की अवेयरनेस और जागरूकता होना जरूरी है अगर लोग जागरूक हो गए उनको अच्छे से पता जानते हुए भी लोग अनजान बनते को किस सभी जानते कि हमारी प्लास्टिक है डेली रूटीन में जो वन टाइम यूज़ प्लास्टिक है वह कितनी हार्मफुल हमारे लिए हमारे समाज के लिए वह हमारे देश के लिए आनेवाले फ्यूचर वाली पीढ़ियों के लिए बहुत ही ज्यादा यह हार्मफुल होने वाली है होने वाली है प्लास्टिक बैन तो हमारे देश में है ही लेकिन उनकी सरकार ने बस यह लोगों को जागरूक करने की जरूरत है और यह जागरूक हो गए तो समझो हमारी देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना बहुत ही सरल होगा थैंक यू

hi aap ka sawaal hai kya bharat jaise vikasshil desh me plastic par ban laga paana sambhav hai green desh me plastic ban laga paana sambhav hai kahin yah toh pehle se bane hue hain ki jo bhagwan maine pehle se bana rakhi hai kuch hai kanoon jo logo ko follow karne chahiye lekin kya hai ki logo ki yah sarkar ki sakhti se nahi hoga yah plastic ban yah logo ki awareness aur jagrukta hona zaroori hai agar log jagruk ho gaye unko acche se pata jante hue bhi log anjaan bante ko kis sabhi jante ki hamari plastic hai daily routine me jo van time use plastic hai vaah kitni harmful hamare liye hamare samaj ke liye vaah hamare desh ke liye anewale future wali peedhiyon ke liye bahut hi zyada yah harmful hone wali hai hone wali hai plastic ban toh hamare desh me hai hi lekin unki sarkar ne bus yah logo ko jagruk karne ki zarurat hai aur yah jagruk ho gaye toh samjho hamari desh me plastic par ban laga paana bahut hi saral hoga thank you

हाय आप का सवाल है क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है ग्रीन

Romanized Version
Likes  4  Dislikes    views  82
WhatsApp_icon
user
0:29
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

आपका प्रश्न है क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव क्यों नहीं संभव है कोई भी चीज संभव नहीं होता एक लोगों की प्यास करने से कोई भी चीज संभव नहीं हो सकती है एक प्रयास करें उनके साथ दो प्रयास करें मिलकर सभी प्रयास करेंगे तब जरूर प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव आएगा

aapka prashna hai kya bharat jaise vikasshil desh mein plastic par ban laga paana sambhav kyon nahi sambhav hai koi bhi cheez sambhav nahi hota ek logo ki pyaas karne se koi bhi cheez sambhav nahi ho sakti hai ek prayas karen unke saath do prayas karen milkar sabhi prayas karenge tab zaroor plastic par ban lagana sambhav aayega

आपका प्रश्न है क्या भारत जैसे विकासशील देश में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव क्यों नहीं स

Romanized Version
Likes  3  Dislikes    views  68
WhatsApp_icon
user

Kunjansinh Rajput

Aspiring Journalist

1:36
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

मेरे हिसाब से भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है परंतु इसके लिए हमें बहुत सारी चीजें भारत में पहले लोगों को बतानी पड़ेगी पहली चीजों में भारत के लोगों को बतानी पड़ेगी वह यह है कि प्लास्टिक हमारी जिंदगी के लिए हानिकारक है सिर्फ हमारी जिंदगी के लिए नहीं प्लास्टिक पर्यावरण के लिए भी हानिकारक है और वह जानवरों के लिए भी हानिकारक हमने देखा है ऐसी कई सरकारी रिपोर्ट आई है जिसके हमें पता चला है कि गर्म प्लास्टिक को जलाते हैं तो वह पर्यावरण को नुकसान पहुंचाता है और अगर वही प्लास्टिक कोई गायक ही अलग जानवर खाता है तो वह मर सकता है या उसे जानलेवा बीमारी भी हो सकती तो सबसे पहले हम लोगों को ही बताना पड़ेगा कि प्लास्टिक हानिकारक है दूसरा में ही बताना पड़ेगा कि प्लास्टिक लोगों को नहीं उपयोग करना चाहिए और उसके देखो पर पेपर बैग से ऐसे कई सारे युवा मंडल फ्रेंडली बाइक से जो कि पर्यावरण को इतना हानिकारक नहीं पहुंच जाएंगे और हमारे लिए भी उतना हानिकारक नहीं है और सबसे पहले यह होगा कि हमें कानून लगाना पड़ेगा कि किस तरीके से जरूरत प्लास्टिक उपयोग कर रहे हो पर हमें बैन लगाना पड़ेगा कि फिर जब तक हम कानून नहीं बनाएंगे तब तक लोग प्लास्टिक का उपयोग करते ही रहेंगे करते ही रहेंगे और अगर हम प्लास्टिक को बंद कर दे प्लास्टिक पर कड़क कड़क कानून बना उसके जगह पर अगर हम लोगों में पेपर का पेपर बैग है जाओ और इन्वायरमेंटल फ्रेंडली बाइक है उसको नॉलेज अकरम पेट अगर हम लोगों को दे तो इस से संभव है कि भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में भी प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है

mere hisab se bharat jaise vikasshil arthavyavastha mein plastic par ban laga paana sambhav hai parantu iske liye hamein bahut saree cheezen bharat mein pehle logon ko batani padegi pehli chijon mein bharat ke logon ko batani padegi vaah yah hai ki plastic hamari zindagi ke liye haanikarak hai sirf hamari zindagi ke liye nahi plastic paryaavaran ke liye bhi haanikarak hai aur vaah jaanvaro ke liye bhi haanikarak humne dekha hai aisi kai sarkari report I hai jiske hamein pata chala hai ki garam plastic ko jalate hain toh vaah paryaavaran ko nuksan pahunchata hai aur agar wahi plastic koi gayak hi alag janwar khaata hai toh vaah mar sakta hai ya use janleva bimari bhi ho sakti toh sabse pehle hum logon ko hi bataana padega ki plastic haanikarak hai doosra mein hi bataana padega ki plastic logon ko nahi upyog karna chahiye aur uske dekho par paper bag se aise kai saare yuva mandal friendly bike se jo ki paryaavaran ko itna haanikarak nahi pahunch jaenge aur hamare liye bhi utana haanikarak nahi hai aur sabse pehle yah hoga ki hamein kanoon lagana padega ki kis tarike se zaroorat plastic upyog kar rahe ho par hamein ban lagana padega ki phir jab tak hum kanoon nahi banayenge tab tak log plastic ka upyog karte hi rahenge karte hi rahenge aur agar hum plastic ko band kar de plastic par kadak kadak kanoon bana uske jagah par agar hum logon mein paper ka paper bag hai jao aur inwayaramental friendly bike hai usko knowledge akaram pet agar hum logon ko de toh is se sambhav hai ki bharat jaise vikasshil arthavyavastha mein bhi plastic par ban laga paana sambhav hai

मेरे हिसाब से भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक पर बैन लगा पाना संभव है परंतु

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user

amitkul

CA student,pursuing bcom too

1:22
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत जैसे देश में प्लास्टिक बैग पर बैन लगाना थोड़ा सा संभव है क्योंकि लोगों को अक्सर आदत नहीं होती है कि घर से कपड़े का बैग लेकर निकले अभी प्लास्टिक की अगर यहां पर बात की जाए आ जाए वह डर डर तो प्लास्टिक तो एक बहुत जरुरी महत्वपूर्ण आविष्कार जो बहुत सारी जगह पर लगता है पॉलीमर प्लास्टिक जैसे कि जिससे बहुत सारे उपयोगी वस्तु बनती है तो वैसे प्लास्टिक पर बैन नहीं लग सकता पर प्लास्टिक बैग की बात की जाए तो यह कोशिश तो बहुत अच्छी होगी पर पूरी तरह से इसे बंद करना थोड़ा सा संभव है कपड़े की थैली की आखिरी अगर देखी जाए तो इतनी सारी कपड़ों की थैली होती ही नहीं है जो तो सोचो शॉप की पर भेजो बिजनेसमैन है दुकान वाले वह अगर कपड़ों की थैली रखने लगे तो उनके अर्थ थोड़ा नुकसान हो सकता है तो इसलिए वह लोग कपड़ों की थैली रखती नहीं है प्लास्टिक बैग से काफी सस्ते आते हैं इसके लिए वह लोग उस दर्द को यूज करते हैं अगर जनता जनता जनार्दन जो है खुद का खुद एक सच लेकर कपड़ों की थैली का इस्तेमाल को एक्सेप्ट करेगी वह मान लेगी तो ही यह संभव है वरना मेरे है तो यह संभव नहीं है

bharat jaise desh mein plastic bag par ban lagana thoda sa sambhav hai kyonki logon ko aksar aadat nahi hoti hai ki ghar se kapde ka bag lekar nikle abhi plastic ki agar yahan par baat ki jaaye aa jaaye vaah dar dar toh plastic toh ek bahut zaroori mahatvapurna avishkar jo bahut saree jagah par lagta hai Polymer plastic jaise ki jisse bahut saare upyogi vastu banti hai toh waise plastic par ban nahi lag sakta par plastic bag ki baat ki jaaye toh yah koshish toh bahut achi hogi par puri tarah se ise band karna thoda sa sambhav hai kapde ki thaili ki aakhiri agar dekhi jaaye toh itni saree kapdo ki thaili hoti hi nahi hai jo toh socho shop ki par bhejo bussinessmen hai dukaan waale vaah agar kapdo ki thaili rakhne lage toh unke arth thoda nuksan ho sakta hai toh isliye vaah log kapdo ki thaili rakhti nahi hai plastic bag se kafi saste aate hain iske liye vaah log us dard ko use karte hain agar janta janta Janardan jo hai khud ka khud ek sach lekar kapdo ki thaili ka istemal ko except karegi vaah maan legi toh hi yah sambhav hai varana mere hai toh yah sambhav nahi hai

भारत जैसे देश में प्लास्टिक बैग पर बैन लगाना थोड़ा सा संभव है क्योंकि लोगों को अक्सर आदत

Romanized Version
Likes  2  Dislikes    views  15
WhatsApp_icon
user

Bari khan

Practicing journalist

0:18
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

काफी सवाल किसी से भी पूछते हैं तो मेरे ख्याल से आपको एक सीधा सा जवाब मिलेगा कि नहीं बैन लगाना तो बिल्कुल पॉसिबल नहीं है क्योंकि यह आदत बन चुका है इसको आप किस तरह कुछ हद तक कम कर सकते हैं लेकिन पूरी तरह से बंद करना बिल्कुल नामुमकिन है मेरे ख्याल से

kafi sawaal kisi se bhi poochhte hain toh mere khayal se aapko ek seedha sa jawab milega ki nahi ban lagana toh bilkul possible nahi hai kyonki yah aadat ban chuka hai isko aap kis tarah kuch had tak kam kar sakte hain lekin puri tarah se band karna bilkul namumkin hai mere khayal se

काफी सवाल किसी से भी पूछते हैं तो मेरे ख्याल से आपको एक सीधा सा जवाब मिलेगा कि नहीं बैन लग

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  8
WhatsApp_icon
user

Ridhima

Mass Communications Student

0:52
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है या नहीं है इसलिए थोड़ा मुश्किल है बोलना क्योंकि इंदीयन वह जो सिटीजन से पूरे कंट्री के उनके उनके माइंड सेट पर डिपेंड होएगा देशों में छोटे छोटे शहरों में और कई बड़े शहरों में भी प्लास्टिक बैन कर दिए गए हैं या आगे सुपर मार्केट में प्लास्टिकचा ज्यादा बढ़ा दिया ताकि सिटीजंस उसको कम यूज़ करे हिंदी एंड वह है कि सिटीजन को खुद को वह कदम उठाना पड़ेगा कि हां प्लास्टिक बुरा है जो 1 डिग्री डबल है तू ओ एनवायरनमेंट के लिए बुरा है लाइन के लिए बुरा है तू जब तक वह इंसान एक सिटीजन को खुद से मिस्टेक नहीं ले कि हम प्लास्टिक यूज़ करना छोड़ दें और कम करे तब तक यह पॉसिबल नहीं होएगा

bharat jaise vikasshil arthavyavastha mein plastic par ban lagana sambhav hai ya nahi hai isliye thoda mushkil hai bolna kyonki indiyan vaah jo citizen se poore country ke unke unke mind set par depend hoega deshon mein chhote chhote shaharon mein aur kai bade shaharon mein bhi plastic ban kar diye gaye hain ya aage super market mein plastikacha zyada badha diya taki sitijans usko kam use kare hindi and vaah hai ki citizen ko khud ko vaah kadam uthaana padega ki haan plastic bura hai jo 1 degree double hai tu o environment ke liye bura hai line ke liye bura hai tu jab tak vaah insaan ek citizen ko khud se mistake nahi le ki hum plastic use karna chhod dein aur kam kare tab tak yah possible nahi hoega

भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक पर बैन लगाना संभव है या नहीं है इसलिए थोड़ा

Romanized Version
Likes  1  Dislikes    views  9
WhatsApp_icon
user

Swati

सुनो ..सुनाओ..सीखो!

1:35
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

PK भारत एक विकासशील देश है और एक दम से प्लास्टिक पर बैन लगाना भारत के लिए पॉसिबल नहीं है लेकिन जरूरी जरूर है चपरासी के वोट सोप फॉर पॉलिटिक्स में आता है पूरे पूरे दुनिया में पूरे वर्ल्ड में प्लास्टिक का उपयोग ऐसे ही होता रहा तो प्लास्टिक कर्तव्य के लिए नॉन बायोडिग्रेडेबल खेलता नहीं है और इसे जलाएं तो भी वातावरण को बहुत नुकसान पहुंचता है तो इसे खत्म करना जरूरी है लेकिन इंडिया एक विकासशील देश जैसे कि मैंने पहले कहा तो प्लास्टिक को एकदम से बंद कर देना पॉसिबल नहीं होगा अगर गवर्नमेंट करती भी है तो वह लोग Chupke और बचपन की प्लास्टिक का यूज़ तो करेंगे ही अभी दिल्ली में कुछ महीनों पहले प्लास्टिक कंप्लीटली पान किया गया है चंडीगढ़ में कंप्लीटली बैन किया गया है लेकिन कैसे ना कैसे पैदा प्लास्टिक का यूज़ तो हार चुके होता है हमे अक्सर करना पड़ेगा कि वह प्लास्टिक का एक सबसे क्यूट लेकर आए उसका एक रिप्लेसमेंट लेकर आए ताकि लोगों को प्रॉब्लम ही ना हो उस को रिप्लेस करने में इच्छुक रिप्लेसमेंट होगा सस्ता होना चाहिए और किफायती होना चाहिए ताकि लोग उस चीज को बढ़ावा मिले और प्लास्टिक को कम दूसरों सरकार को लोगों को एजुकेट करना पड़ेगा और प्लास्टिक के दुष्परिणामों के बारे में तब जाकर प्लास्टिक का जो बैन है वह हमारे कंट्री में पॉसिबल हो पाएगा

PK bharat ek vikasshil desh hai aur ek dum se plastic par ban lagana bharat ke liye possible nahi hai lekin zaroori zaroor hai chaprasi ke vote soap for politics mein aata hai poore poore duniya mein poore world mein plastic ka upyog aise hi hota raha toh plastic kartavya ke liye non biodegradable khelta nahi hai aur ise jalaen toh bhi vatavaran ko bahut nuksan pahunchta hai toh ise khatam karna zaroori hai lekin india ek vikasshil desh jaise ki maine pehle kaha toh plastic ko ekdam se band kar dena possible nahi hoga agar government karti bhi hai toh vaah log Chupke aur bachpan ki plastic ka use toh karenge hi abhi delhi mein kuch mahinon pehle plastic completely pan kiya gaya hai chandigarh mein completely ban kiya gaya hai lekin kaise na kaise paida plastic ka use toh haar chuke hota hai hume aksar karna padega ki vaah plastic ka ek sabse cute lekar aaye uska ek replacement lekar aaye taki logon ko problem hi na ho us ko replace karne mein icchhuk replacement hoga sasta hona chahiye aur kifayati hona chahiye taki log us cheez ko badhawa mile aur plastic ko kam dusron sarkar ko logon ko educate karna padega aur plastic ke dushparinamon ke bare mein tab jaakar plastic ka jo ban hai vaah hamare country mein possible ho payega

PK भारत एक विकासशील देश है और एक दम से प्लास्टिक पर बैन लगाना भारत के लिए पॉसिबल नहीं है ल

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  13
WhatsApp_icon
user

Apurva D

Optimistic Coder

1:13
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

देखिए मेरे हिसाब से अगर प्लास्टिक बैग पर 100 से 2 लोगों ने यह भी सेटिंग लेना चालू किया है कि प्लास्टिक बैग पर बैन लगाया जाए और कपड़े की बैग में उसके जाए हां यह जरुर है कि लोगों को उसकी आदत नहीं है लोग प्लास्टिक पैक यूज करते हैं लेकिन अगर हम कापड़ की वाइफ की यूज़ करने का इनिशिएटिव चालू रहे जो छोटे काल से ही क्यों ना हो पूरे शहर में या पूरे देश तक लोग का पेड़ की बात ज़ी यूज़ करेंगे मगर अगर हम बाकी प्लास्टिक वस्तुओं के बारे में अगर आप बोल रहे हैं भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में यह पॉसिबल नहीं है कि पूरी तरह से प्लास्टिक पर बैन लगाना यह संभव ही नहीं हो सकता क्योंकि हम बहुत सारी चीजें हर दिन में हो या यूज़ करते हैं क्योंकि जैसे हमारे यहां पर खुशियां हो या गम कबर्ड हो बहुत सारी चीजें प्लास्टिक की आती है तो प्लास्टिक बैग के बारे में सोच तू हां यह संभव है कि हम उस पर 5 बार लगा सकता है मगर पूरी तरह से हर किसी प्लास्टिक की चीज पर बैन लगाना यह बिल्कुल भी संभव नहीं हो

dekhiye mere hisab se agar plastic bag par 100 se 2 logon ne yah bhi setting lena chaalu kiya hai ki plastic bag par ban lagaya jaaye aur kapde ki bag mein uske jaaye haan yah zaroor hai ki logon ko uski aadat nahi hai log plastic pack use karte hain lekin agar hum kapad ki wife ki use karne ka innitiative chaalu rahe jo chhote kaal se hi kyon na ho poore shehar mein ya poore desh tak log ka ped ki baat zee use karenge magar agar hum baki plastic vastuon ke bare mein agar aap bol rahe hain bharat jaise vikasshil arthavyavastha mein yah possible nahi hai ki puri tarah se plastic par ban lagana yah sambhav hi nahi ho sakta kyonki hum bahut saree cheezen har din mein ho ya use karte hain kyonki jaise hamare yahan par khushiyan ho ya gum kabard ho bahut saree cheezen plastic ki aati hai toh plastic bag ke bare mein soch tu haan yah sambhav hai ki hum us par 5 baar laga sakta hai magar puri tarah se har kisi plastic ki cheez par ban lagana yah bilkul bhi sambhav nahi ho

देखिए मेरे हिसाब से अगर प्लास्टिक बैग पर 100 से 2 लोगों ने यह भी सेटिंग लेना चालू किया है

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  3
WhatsApp_icon
user

Janak

An Enthusiastic Entrepreneur.

1:39
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक का बयान करना डिफिकल्ट है क्योंकि प्लास्टिक ऐसी चीज है जो आजकल हर एक जगह पीयूष हो रही है और कुछ हद तक यह हो सकता है कुछ और चीजों तक हो सकता है प्लास्टिक पर बैन लग सकता है अगर एक सरकारी - 1 फॉर्म लेट बनाए और जो जनता है वह अकेली होने सपोर्ट करें तो अगर तुझे देखा जाए तो हम प्लास्टिक हर जगह से तो बात नहीं कर सकते हम प्लास्टिक यूज़ करना बंद तो कर ही नहीं सकते कर ही नहीं सकते क्योंकि प्लास्टिक की थैलियों पर बैन लग जाएगा प्लास्टिक के बोतल से बाहर लग जाएगा बट प्लास्टिक जहा जहा यूज़ होता है इंडस्ट्री में यूज होता है फिर कई सारी अलग-अलग मैनुफैक्चरिंग में यूज होता है कई सारे अलग-अलग इंडस्ट्रीज नहीं होता तो वहां पर बैन लगाना काफी मुश्किल होगा क्योंकि एक अच्छा सबक मिला प्लास्टिक केले का पेड़ विकल्प है तो बट ऐसा हो सकता है कि हम प्लास्टिक बैग्स पर बैन लगा दे जो जो मार्केट में यूज होती है जो शॉपिंग जब करते है तब जो यूज होती है वहां पर हम बाहर लगा सकते हैं उसकी छूट में कपड़े की थैली या पेपर बैग यूज कर सकते हैं तो वह संभव है लेकिन एक कंप्लीट कंट्री का सपोर्ट चाहिए कंप्लीट जो पॉपुलेशन है हमारी जो जितने भी लोग हैं हमारे उनका इक्वल सपोर्ट चाहिए और गवर्नमेंट के पास एक ही कोई रूल सेट ऑफ़ रूल्स होना चाहिए और लोगों से फॉलो करें तो संभव हो सकता है

bharat jaise vikasshil arthavyavastha mein plastic ka bayan karna difficult hai kyonki plastic aisi cheez hai jo aajkal har ek jagah piyush ho rahi hai aur kuch had tak yah ho sakta hai kuch aur chijon tak ho sakta hai plastic par ban lag sakta hai agar ek sarkari 1 form let banaye aur jo janta hai vaah akeli hone support karen toh agar tujhe dekha jaaye toh hum plastic har jagah se toh baat nahi kar sakte hum plastic use karna band toh kar hi nahi sakte kar hi nahi sakte kyonki plastic ki thailiyon par ban lag jaega plastic ke bottle se bahar lag jaega but plastic jahaan jahaan use hota hai industry mein use hota hai phir kai saree alag alag mainufaikcharing mein use hota hai kai saare alag alag industries nahi hota toh wahan par ban lagana kafi mushkil hoga kyonki ek accha sabak mila plastic kele ka ped vikalp hai toh but aisa ho sakta hai ki hum plastic bags par ban laga de jo jo market mein use hoti hai jo shopping jab karte hai tab jo use hoti hai wahan par hum bahar laga sakte hain uski chhut mein kapde ki thaili ya paper bag use kar sakte hain toh vaah sambhav hai lekin ek complete country ka support chahiye complete jo population hai hamari jo jitne bhi log hain hamare unka equal support chahiye aur government ke paas ek hi koi rule set of rules hona chahiye aur logon se follow karen toh sambhav ho sakta hai

भारत जैसे विकासशील अर्थव्यवस्था में प्लास्टिक का बयान करना डिफिकल्ट है क्योंकि प्लास्टिक ऐ

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  25
WhatsApp_icon
user

Anukrati

Journalism Graduate

0:46
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

जी हां मुझे लगता है कि असंभव कुछ भी नहीं है और भारत जैसे विकासशील देश के लिए तो बहुत आवश्यक है कि वह इस खतरनाक चीज को बंद करें जो इंसान ही नहीं अपितु जानवरों के लिए भी हानिकारक है हालांकि यह असंभव प्रतीत होता है लेकिन यह संभव हो सकता है हमें इसके लिए कुछ नए साधन खोजने पड़ेंगे हमें लगता है कि हम घर से कपड़े का बैग ले जाना भूल जाते हैं तो यह तो कोई एक्सक्यूज़ नहीं है कई शहरों में प्लास्टिक को बैन किया गया है यह सफल भी हुआ है बस जनता को थोड़ा जागरूक होना होगा सरकार अपनी ओर से कोशिश करती है लेकिन सरकार को भी जनता का सहयोग चाहिए अगर जनता सरकार का सहयोग करेगी तो यह संभव होगा

ji haan mujhe lagta hai ki asambhav kuch bhi nahi hai aur bharat jaise vikasshil desh ke liye toh bahut aavashyak hai ki vaah is khataranaak cheez ko band karen jo insaan hi nahi apitu jaanvaro ke liye bhi haanikarak hai halanki yah asambhav pratit hota hai lekin yah sambhav ho sakta hai hamein iske liye kuch naye sadhan khojne padenge hamein lagta hai ki hum ghar se kapde ka bag le jana bhool jaate hain toh yah toh koi eksakyuz nahi hai kai shaharon mein plastic ko ban kiya gaya hai yah safal bhi hua hai bus janta ko thoda jaagruk hona hoga sarkar apni aur se koshish karti hai lekin sarkar ko bhi janta ka sahyog chahiye agar janta sarkar ka sahyog karegi toh yah sambhav hoga

जी हां मुझे लगता है कि असंभव कुछ भी नहीं है और भारत जैसे विकासशील देश के लिए तो बहुत आवश्य

Romanized Version
Likes    Dislikes    views  119
WhatsApp_icon
qIcon
ask
QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!