कश्मीरी पंडितों का मुद्दा क्या है? कश्मीरी पंडितो ने जम्मू कश्मीर क्यों छोड़ा था?...


user

Ravi Sharma

Advocate

1:50
Play

चेतावनी: इस टेक्स्ट में गलतियाँ हो सकती हैं। सॉफ्टवेर के द्वारा ऑडियो को टेक्स्ट में बदला गया है। ऑडियो सुन्ना चाहिये।

कम शब्दों में कश्मीरी पंडितों का मुख्य मुद्दा है इस्लामिक कट्टरपंथ और गंदी राजनीति की वजह से उनको उनके ही ग्रह प्रदेश यानी कि कश्मीर से अलग कर देना वंचित कर देना राजनीति से प्रेरित यह कार्यवाही जिसने लाखों कश्मीरी पंडितों को कश्मीर से बेघर कर दिया भारत के स्वाधीनता के बाद से ही प्रारंभ हो गई थी पर इस में तेजी आई 1980 के दशक में सभी राज्य सरकारों ने उन को दरकिनार कर दिया केंद्र सरकारों ने भी उनके खिलाफ हो रहे हमलों हिंसा और शोषण पर चुप्पी साध रखी और वह अपनी जमीन पर खेती व्यवसाय छोड़कर पूरे भारत में मारे मारे फिरते रहे बंजारों की तरह कश्मीरी पंडितों पर हो रहे अत्याचारों पर आधारित न जाने कितनी ही रिपोर्ट नष्ट कर दी गई मीडिया नहीं सो ज्यादा ध्यान नहीं दिया और 90 के अंतिम वर्षों में तो उनकी आवादी कश्मीर में बहुत ही कम हो गई है इसे भाग्य का लिखा कहें या कुछ और पर आधारित प्रश्न श्री पंडितों ने भी इस समस्या पर हाथ खड़े कर दिए हैं और वापस अपने घर पर दिए जाने की आस लगभग छोड़ दिया है न जाने कितने ही कमीशन आयोग इसके लिए गठित हुए उन्होंने अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार को सबमिट करें लेकिन उस पर एक कॉन्क्रीट कार्यवाही एक मूलभूत जो कार्यवाही होती है उसके नाम पर कुछ भी नहीं निकल पाया हम केंद्र सरकार से तत्कालीन केंद्र सरकार यानी मोदी सरकार से यह गुजारिश करते हैं कि कश्मीरी पंडितों को कुछ हद तक केंद्र व राज्य सरकारों में आरक्षण भी दिया जाए तथा उनको उनके गृह राज्य में स्थापित स्थापित करने की कार्यवाही शीघ्रातिशीघ्र शुरू करी जाएं जय हिंद

kam shabdon mein kashmiri pandito ka mukhya mudda hai islamic kattarapanth aur gandi raajneeti ki wajah se unko unke hi grah pradesh yani ki kashmir se alag kar dena vanchit kar dena raajneeti se prerit yah karyavahi jisne laakhon kashmiri pandito ko kashmir se beghar kar diya bharat ke swadheenta ke baad se hi prarambh ho gayi thi par is mein teji I 1980 ke dashak mein sabhi rajya sarkaro ne un ko darakinar kar diya kendra sarkaro ne bhi unke khilaf ho rahe hamlo hinsa aur shoshan par chuppi saadh rakhi aur vaah apni jameen par kheti vyavasaya chhodkar poore bharat mein maare maare phirte rahe banjaron ki tarah kashmiri pandito par ho rahe atyacharo par aadharit na jaane kitni hi report nasht kar di gayi media nahi so zyada dhyan nahi diya aur 90 ke antim varshon mein toh unki aavadi kashmir mein bahut hi kam ho gayi hai ise bhagya ka likha kahein ya kuch aur par aadharit prashna shri pandito ne bhi is samasya par hath khade kar diye hain aur wapas apne ghar par diye jaane ki aas lagbhag chod diya hai na jaane kitne hi commision aayog iske liye gathit hue unhone apni report kendra sarkar ko submit kare lekin us par ek kankrit karyavahi ek mulbhut jo karyavahi hoti hai uske naam par kuch bhi nahi nikal paya hum kendra sarkar se tatkalin kendra sarkar yani modi sarkar se yah gujarish karte hain ki kashmiri pandito ko kuch had tak kendra va rajya sarkaro mein aarakshan bhi diya jaaye tatha unko unke grah rajya mein sthapit sthapit karne ki karyavahi shighratishighra shuru kari jayen jai hind

कम शब्दों में कश्मीरी पंडितों का मुख्य मुद्दा है इस्लामिक कट्टरपंथ और गंदी राजनीति की वजह

Romanized Version
Likes  25  Dislikes    views  232
KooApp_icon
WhatsApp_icon
7 जवाब
no img
qIcon
ask
ऐसे और सवाल
Loading...
Loading...
qIcon
ask

This Question Also Answers:

QuestionsProfiles

Vokal App bridges the knowledge gap in India in Indian languages by getting the best minds to answer questions of the common man. The Vokal App is available in 11 Indian languages. Users ask questions on 100s of topics related to love, life, career, politics, religion, sports, personal care etc. We have 1000s of experts from different walks of life answering questions on the Vokal App. People can also ask questions directly to experts apart from posting a question to the entire answering community. If you are an expert or are great at something, we invite you to join this knowledge sharing revolution and help India grow. Download the Vokal App!